Advertisement

वेलनेस

दालचीनी के फायदे, नुकसान और उपयोग – Dalchini ke Fayde in Hindi

Megha SharmaMegha Sharma  |  Apr 22, 2021
Dalchini ke Fayde in Hindi

Advertisement

आमतौर पर दालचीनी (dalchini ke fayde in hindi) भारत के सभी घरों में मिलती हैं। यह एक प्रकार का मसाला है और इसका कई तरह की सब्जियां या अन्य चीजें बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, इसके अलावा भी यह कई प्रकार से मनुष्य के शरीर के लिए फायदेमंद होती है। यहां तक कि  इस वजह से आज हम अपने इस लेख में आपको दालचीनी के लाभ (dalchini khane ke fayde), उपयोग और नुकसान बताने वाले हैं।                      कीवी के फायदे और नुकसान 

दालचीनी कितने प्रकार की होती है? – Dalchini ke Prakar

– ट्रू दालचीनी या फिर सीलोन दालचीनी और मैक्सिकन दालचीनी
– इंडोनेशिया दालचीनी
– वियतनामी दालचीनी
– कैसिया दालचीनी या चाइनीज दालचीनी
इनमें से सीलोन दालचीनी को सबसे अच्छा माना जाता है। यह दालचीनी भले ही बाकियों से थोड़ी अधिक महंगी होती है लेकिन इसके स्वाद और गुणवत्ता के कारण लोग इसे खरीदना पसंद करते हैं। 

दालचीनी के फायदे – Dalchini Khane ke Fayde

दालचीनी (dalchini benefits in hindi) को स्वास्थ्य के लिए कई तरह से लाभकारी माना जाता है और ये कई प्रकार से आपके लिए फायदेमंद होती है। दालचीनी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लामेटरी प्रॉपर्टी होती हैं, जो आपके शरीर के लिए बहुत ही अच्छी होती हैं। यह हृदय, पेट की समस्या को दूर करने, सिर दर्द, पाचन तंत्रिका आदि के लिए बहुत ही लाभकारी होती है। तो चलिए बिना कोई देरी किए आपको इसके फायदे (दालचीनी और जीरा के फायदे) बताते हैं। 

महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे

हिचकी के लिए दालचीनी

वैसे तो हिचकी आना बहुत ही सामान्य सी परेशानी है और हिचकी आने के कई कारण है। हालांकि, कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें रोज किसी न किसी समय हिचकी आती है। ऐसे में वो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए दालचीनी का प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए वो दालचीनी का काढ़ा बना सकते हैं और दिन में एक बार इसका सेवन कर सकते हैं।

भूख बढ़ाने के लिए

यदि आपको भूख नहीं लगती है या फिर बहुत ही कम भूख लगती है तो भी आप अपनी भूख को बढ़ाने के लिए दालचीनी का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आपको 500 मिग्रा शुंठी चूर्ण, 500 मिग्रा इलायची और 500 मिग्रा दालचीनी को पीस लेना चाहिए और रोज सुबह-शाम खाना खाने से पहले इसका सेवन करना चाहिए। इससे आपकी भूख बढ़ेगी।

आंखों के रोग के लिए

कई लोगों को आंख फड़कने की समस्या होती है। यदि आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं और इसके लिए आपको कोई भी इलाज नहीं मिल रहा है तो आप दालचीनी के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस तेल को अपनी आंखों पर लगाएं। ऐसा करने से आपकी आंखों का फड़कना बंद हो जाएगा।

दांत दर्द में आराम पाने के लिए

यदि आपके दांतों में अचानक दर्द होने लगता है या फिर आपके मसूड़ों में दर्द हो रहा है तो दालचीनी आपके बहुत काम आ सकती है। आप दांत के दर्द के लिए दालचीनी के तेल को रुई की मदद से दर्द वाली जगह पर लगा सकते हैं। इससे आपको दर्द में आराम मिलेगा। इसके अलावा दालचीनी की कुछ पत्तियों को पीसकर मंजन करने से आपके दांत साफ, स्वस्थ और चमकदार बनते हैं।

सिर दर्द के लिए

– सिर दर्द के कई घरेलू उपाय है और दालचीनी उनमें से एक है। यदि आपको सिर दर्द की अक्सर शिकायत होती है तो आपको दालचीनी का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा आप चाहें तो दालचीनी की पत्तियों से इसका लेप बना सकते हैं और सिर में दर्द होने पर अपने माथे पर इसे लगाकर आराम कर सकते हैं। इसके बाद जैसे ही आपको लगे कि आपका सिर दर्द ठीक हो गया है तो आप इसे धो सकते हैं। सिर दर्द से छुटकारा पाने का यह बहुत ही असरदार तरीका है।
– आप चाहें तो अपने सिर पर दालचीनी के तेल की मालिश भी कर सकते हैं। दालचीनी के तेल की मालिश करने से सर्दियों के समय में सिर में होने वाले दर्द की समस्या से आराम मिलता है।

खांसी के लिए

खांसी में भी दालचीनी बहुत ही फायदेमंद हो सकती है। यदि आपको खांसी हो रही है तो आप दालचीनी के चूर्ण को शहद के साथ सुबह शाम ले सकते हैं। ऐसा करने से आपको आराम मिलेगा। इसके अलावा खांसी को भगाने के लिए आप दालचीनी का काढ़ा भी पी सकते हैं।

बुखार के लिए

यदि आपको बुखार है तो भी आप दालचीनी के चूर्ण को शहद में मिलाकर दिन में तीन बार ले सकते हैं। इससे सर्दियों के समय होने वाले बुखार में राहत मिलती है।

दालचीनी का उपयोग – Dalchini ka Upyog

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है, दालचीनी एक प्रकार का मसाला है और इसका इस्तेमाल लगभग हर भारतीय घर में अलग-अलग चीजें बनाने के लिए किया जाता है। यहां तक कि औषधियों को बनाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है। दालचीनी का शहद से लेकर दूध तक अलग-अलग चीजों के साथ उपयोग किया जाता है और इनके अलग-अलग फायदे भी होते हैं। तो चलिए आपको दालचीनी के उपयोग के बारे में विस्तार में बताते हैं। 

दालचीनी और शहद के फायदे इन हिंदी

– दालचीनी और शहद (दालचीनी और शहद के फायदे इन हिंदी) का एक साथ सेवन करने से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है। इसके अलावा दोनों का साथ में सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी कम होता है। आप रोज सुबह ब्रेकफास्ट करने से पहले इसका सेवन कर सकते हैं।
– दालचीनी और शहद को रोज खाने से गठिया की बीमारी में भी राहत मिलती है। 
– यदि आपके जोड़ों में अक्सर दर्द रहता है तो भी आप दालचीनी और शहद का सेवन कर सकते हैं। इससे आपके जोड़ों के दर्द की परेशानी कम होगी।
– एसिडिटी होने पर भी आप गर्म पानी में शहद और दालचीनी को मिलाकर पी सकते हैं। इससे आपकी एसिडिटी की समस्या में आराम मिलेगा। 
– यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो आप दालचीनी और शहद की चाय बनाकर भी पी सकते हैं।

दालचीनी और दूध

– दालचीनी और दूध कई तरह से आपके शरीर के लिए फायदेमंद होता है। यदि आपकी पाचन तंत्रिका स्वस्थ नहीं है तो दालचीनी और दूध के सेवन से आपकी पाचन तंत्रिका बेहतर होती है। साथ ही आपकी गैस की परेशानी भी दूर होती है।
– यहां तक कि यह ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में भी मदद करती है। इसकी पुष्टी कई अध्ययनों में हुई है। दालचीनी वाला दूध खासतौर पर टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है। 
– यदि आप अनिद्रा की परेशानी है तो भी दालचीनी वाला दूध पीने से आपकी नींद में सुधार हो सकता है।
– इसके अलावा दालचीनी वाला दूध पीने से आपकी हड्डियां भी मजबूत होती हैं। 

दालचीनी का तेल – Dalchini ka Tel

– दालचीनी का तेल (दालचीनी के तेल के फायदे) सर्दी – जुकाम को दूर करने के लिए बहुत ही उपयोगी होता है। सर्दी और जुकाम में राहत पाने के लिए आप इस तेल को लगा सकते हैं।
डायबिटीज के लिए भी दालचीनी का तेल बहुत ही लाभकारी है। यह तेल अतिरिक्त शर्करा को कम करने में मदद करता है। इस वजह से यदि आपको डायबिटीज है तो आपको रोज अपने आहार में दालचीनी के तेल की दो-तीन बूंदे लेनी चाहिए। 
– दालचीनी का तेल आपकी त्वचा के लिए भी फायदेमंद होता है। इसे आपके रोम छिद्र आसानी से सोख लेते हैं। ऐसे में यदि आपको त्वचा पर कोई एलर्जी होती है तो आप इस तेल को उस जगह पर लगा सकते हैं। इस तेल में जीवाणुरोधी होता है, जो एलर्जी को ठीक करने में मदद करता है।

दालचीनी के नुकसान – Dalchini Side Effects in Hindi

वैसे तो दालचीनी के कोई नुकसान नहीं होते हैं लेकिन यदि आप जरूरत से ज्यादा इसका सेवन करते हैं तो आपको इसके कुछ नुकसान (दालचीनी के नुकसान) देखने को मिल सकते हैं।
– दालचीनी का नेचर एसिडिक होता है और यदि आप जरूरत से ज्यादा इसका सेवन करते हैं तो आपके दांतों में प्लाक आदि समस्याएं हो सकती हैं।
– इसके अधिक सेवन से पेट की तकलीफ भी हो सकती है।
– एलर्जी।
– लीवर संबंधी परेशानी।
– इससे आपका ग्लूकोज लेवल भी कम हो सकता है।

दालचीनी से जुड़े सवाल और जवाब- FAQ’s

दालचीनी की तासीर कैसी है?

दरअसल, दालचीनी की तासीर गर्म होती है।

क्या दालचीनी को शहद में मिलाकर खाने का फायदा है?

जी हां, दालचीनी को शहद के साथ मिलाकर खाने से कई प्रकार के फायदे होते हैं। यह कैंसर से बचाता है। साथ ही जोड़ों के दर्द को कम करने में भी मदद करता है। इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल, पेट की समस्या, सर्दी आदि के लिए भी शहद के साथ इसका सेवन किया जा सकता है।

क्या दालचीनी में चीनी होती है?

दरअसल, दालचीनी पेड़ की छाल होती है और इस वजह से इसमें कुछ मात्रा में चीनी होती है।

क्या दालचीनी पेट की चर्बी कम करने में मदद करती है?

यदि सही प्रकार से इसका सेवन किया जाए तो यह वजन घटाने में भी आपकी मदद कर सकती है।

दालचीनी के पानी के फायदे?

दालचीनी का पानी (dalchini ke pani ke fayde) पीने से महिलाओं में पीसीओएस की समस्या दूर होती है।

दालचीनी पाउडर कैसे बनाये?

दालचीनी को प्लेट में रख कर धूप में सुखा लें और फिर ड्राई रोस्ट कर लें। अब हाथों से इसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें। मिक्सी में दालचीनी के टुकड़ों को डालें और पीस लेंं। बस दालचीनी का पाउडर तैयार है। आप इसे किसी भी एयर टाइट डिब्बे में रख सकते हैं और इस्तेमाल कर सकते हैं।

दालचीनी की चाय कैसे बनाये?

दालचीनी की चाय बनाने के लिए आपको आधा कप पानी, 1 टीस्पून दालचीनी, 1 टीस्पून अदरक और 1 टीस्पून शहद और 1 नींबू की जरूरत है। इसे बनाने के लिए पानी को उबालते समय ये सभी चीजें इसमें डाल लें और अच्छे से पका लें और बस आपकी दालचीनी की चाय तैयार है।

POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शानदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!