महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे - Shilajit ke Fayde

महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे, Shilajit ke Fayde, Shilajit Benefits in Hindi

शिलाजीत (shilajit ke fayde) एक प्रकार का खनिज है, जो हिमालय क्षेत्रों में पाया जाता है। माना जाता है कि यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है और इस वजह से कई शारीरिक समस्याओं के इलाज के रूप में इसका इस्तेमाल किया जाता है। यहां तक कि ऐसा भी माना जाता है कि शिलाजीत के सेवन से मर्दानगी में सुधार होता है। आज अपने इस लेख में हम आपको शिलाजीत के फायदे, प्रयोग और इसका उपयोग करने के तरीकों के बारे में बताएंगे। इसके अलावा हम आपको शिलाजीत (shilajit ke fayde in hindi) के नुकसान के बारे में भी बताएंगे। तो चलिए बिना कोई देरी किए लेख में आगे बढ़ते हैं।

Table of Contents

    शिलाजीत क्या है? - Shilajit Kya Hai

    जैसा कि हमने आपको बताया, शिलाजीत (शिलाजीत का उपयोग) एक प्रकार का खनिज पदार्थ होता है और इसका निर्माण प्राकृतिक रूप से अपने आप ही होता है लेकिन इसे बनने में हजारों साल लगते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक, यूफोरबिया, रायलियाना और ट्राइफोलिया रेपेंस आदि पौधों के अपघटन के बाद शिलाजीत (Shilajit Kya Hai) का निर्माण होता है। इस वजह से शिलाजीत (What is Shilajit in Hindi) को प्रकृति का एक बहुत ही अमूल्य उत्पाद भी माना जाता है। यह छूने में चिपचिपा होता है और इसकी महक गोमूत्र जैसी होती है।

    महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे - Shilajit Benefits in Hindi

    शिलाजीत (शिलाजीत के फायदे) के कई सारे औषधीय गुण होते हैं और इस वजह से यह स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी होता है। इस वजह से हम यहां आपको महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदों के बारे में बताएंगे। बता दें कि शिलाजीत (महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे) का सेवन करने से दिल से संबंधी परेशानी, हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज आदि समस्याएं दूर रहती हैं। तो चलिए आपको शिलाजीत (silajeet kya hai) के बारे में विस्तार से बताते हैं। 

    ब्लड प्रेशर के लिए

    बढ़े हुए ब्लड प्रेशर की समस्या को दूर करने के लिए शिलाजीत का इस्तेमाल किया जा सकता है। शिलाजीत से संबंधित एक शोध में भी इस बारे में बताया गया है। शोध के मुताबिक, शिलाजीत के औषधीय गुणों में से एक एंटीहाइपरटेन्सिव (ब्लड प्रेशर कम करने में मदद करने वाला) प्रभाव भी होता है। इस वजह से शिलाजीत (shilajit benefits in hindi) के इस्तेमाल से बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। 

    अर्थराइटिस के लिए

    अर्थराइटिस की समस्या को दूर करने के लिए भी आप शिलाजीत का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल, अश्वगंधा और शिलाजीत (shilajit khane ke fayde) को मिलाकर एक आयुर्वेदिक दवा भी बनाई गई है और इस दवा का शोध चूहों पर किया गया है, जिससे इसकी पुष्टि हुई है। इस शोध में पाया गया है कि शिलाजीत में सेलेनियम होता है। सेलेनियम की वजह से इसमें एंटीइंफ्लामेटरी प्रॉपर्टी मौजूद होती हैं। ये एंटीइंफ्लामेटरी प्रॉपर्टी अर्थराइटिस की समस्या में आराम दिलाने में मदद करती हैं। इस वजह से यह कहना गलत नहीं होगा कि अर्थराइटिस की सूजन को कम करने के लिए शिलाजीत का सेवन किया जा सकता है। 

    डायबिटीज के लिए

    अर्थराइटिस या हाई ब्लड प्रेशर के अलावा शिलाजीत का इस्तेमाल डायबिटीज से बचने के लिए भी किया जाता है। दरअसल, शिलाजीत में एंटी-डायबिटिक प्रॉपर्टी होती हैं। ये प्रॉपर्टी हाई ब्लड शुगर के स्तर को कुछ हद तक कंट्रोल करने में मदद करती है। इस वजह से ये कहा जा सकता है कि डायबिटीज की समस्या को नियंत्रित करने के लिए भी शिलाजीत का सेवन किया जा सकता है। 

    कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए

    कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने के लिए भी शिलाजीत बेहद ही उपयोगी होता है। शिलाजीत के इस प्रभाव को समझने के लिए भी चूहों पर एक शोध किया गया है। शोध के मुताबिक, शिलाजीत (silajit khane ke fayde) में लिपिड प्रोफाइल जैसे कि कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड और हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन आदि में सुधार करना भी शामिल है। इस वजह से यह बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करता है। ऐसे में कहा जा सकता है कि हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या के लिए शिलाजीत का इस्तेमाल किया जा सकता है। 

    दिल संबंधी बीमारियों के लिए

    जैसा कि हमने आपको बताया कि शिलाजीत हाई बीपी को नियंत्रित रखने में मदद करता है और साथ ही यह संपूर्ण लिपिड प्रोफाइल को भी कंट्रोल करने में उपयोगी है और इन दोनों कारणों को ही दिल संबंधी परेशानियों के लिए अधिक जिम्मेदार माना जाता है। वहीं, शिलाजीत से जुड़े एक शोध में भी इसे हृदय के लिए फायदेमंद और उपयोगी बताया गया है। इस आधार पर शिलाजीत को हृदय संबंधी बीमारियों से दूर रहने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। 

    थकान दूर करने के लिए

    शिलाजीत का एक फायदा यह भी है कि ये थकान दूर करने में मदद करता है। हमने अक्सर ही देखा है कि मोटे लोग बहुत जल्दी थक जाते हैं लेकिन शिलाजीत का सेवन करने से ऐसे लोगों को मोटापे से तो राहत मिलती है बल्कि साथ में उनकी थकान की समस्या भी कम होती है। इस वजह से थकान दूर करने के लिए आप शिलाजीत का उपयोग कर सकते हैं।

    दिमाग की शक्ति बढ़ाए

    दरअसल, शिलाजीत के अंदर फुलविक एसिड पाया जाता है। यह एसिड मनुष्य की याददाश्त को बेहतर करने में मदद करता है। इस आधार पर कहा जा सकता है कि शिलाजीत आपके दिमाग की शक्ति को बढ़ाने या फिर बनाए रखने में मदद करता है।

    बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करें

    शिलाजीत अल्जाइमर और डिमेंशिया जैसी बुढ़ापे में होने वाली दिमाग से जुड़ी बीमारियों में राहत दिलाने में मदद करता है। एक शोध की माने तो इसमें एंटी एजिंग और रिजुवनेटिंग गुण होते हैं। यह दोनों गुण ही शरीर को नई ऊर्जा देते हैं और बढ़ती उम्र के साथ शरीर पर दिखने वाले प्रभाव को कम करते हैं। 

    शिलाजीत का उपयोग - Shilajit Use in Hindi

    अब यदि आप सोच रहे हैं कि शिलाजीत (शिलाजीत तेल के फायदे) का उपयोग या फिर सेवन आपको किस तरह से करना चाहिए तो हमने यहां पर आपके लिए कुछ विकल्प दिए हैं। इन तरीकों से आप आसानी से शिलाजीत (Shilajit Use in Hindi) का सेवन कर सकते हैं।
    - आप इलायची के दाने या फिर शहद के साथ शिलाजीत पाउडर का सेवन कर सकते हैं।
    - शिलाजीत का सेवन आप घी या मक्खन के साथ भी कर सकते हैं।
    - शिलाजीत का सेवन दूध में डालकर भी किया जा सकता है।
    - आप नारियल के तेल में डालकर भी शिलाजीत पाउडर का सेवन कर सकते हैं।
    कब खाएं- शिलाजीत का सेवन आपको रात में सोने से पहले या फिर वर्कआउट करने से पहले करना चाहिए।
    कितनी मात्रा में खाएं- बेहतर स्वास्थ्य के लिए आप रोजाना 300 से 500 मिलीग्राम मात्रा में शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं। हालांकि, शिलाजीत की यह मात्रा प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक क्षमता के अनुसार कम या फिर अधिक हो सकती है। इसके लिए आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। 

    शिलाजीत के नुकसान

    शिलाजीत (शिलाजीत के नुकसान) एक प्रकार की आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और इस वजह से इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है लेकिन फिर भी कुछ स्थिति में इसके कुछ नुकसान देखने को मिल सकते हैं, जो इस प्रकार हैं- 
    - शिलाजीत ब्लड प्रेशर कम करने में मदद करता है और इस वजह से यदि आप पहले से ही ब्लड प्रेशर की दवा ले रहे हैं तो इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से राय जरूर ले लें।
    - ब्लड शुगर कम करने में भी शिलाजीत उपयोगी होती है। इस वजह से यदि आप डायबिटीज की दवा ले रहे हैं तो इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लें।
    - शिलाजीत का सेवन यदि सही प्रकार से ना किया जाए तो इससे नशा भी हो सकता है क्योंकि इसमें माइकोटॉक्सिन और फ्री रेडिकल्स आदि होते हैं।
    - शिलाजीत की तासीर गर्म होती है, इस वजह से जरूरत से अधिक सेवन ना करें।

    शिलाजीत के फायदे से जुड़े सवाल जवाब

    पुरुष शिलाजीत का सेवन कैसे करें?

    पुरुष दूध में मिलाकर या फिर नारियल के तेल के साथ शिलाजीत पाउडर का सेवन कर सकते हैं।

    शिलाजीत गोल्ड कैप्सूल क्या काम करता है?

    शिलाजीत गोल्ड (shilajit gold ke fayde) मसल (मांसपेशी) को टाइट करने का काम करता है।

    शिलाजीत कितनी मात्रा में लेना चाहिए?

    जैसा कि हमने आपको लेख में पहले ही बताया है, आपको 300 से 500 मिलीग्राम के बीच शिलाजीत पाउडर का सेवन करना चाहिए। हालांकि, यह व्यक्ति की आयु और उसकी शारीरिक क्षमता के आधार पर भिन्न हो सकती है।

    शिलाजीत कैसे दिखता है?

    आमतौर पर शिलाजीत चिपचिपी और काले-भूरे रंग की दिखाई देती है।

    अश्वगंधा कितने दिन तक खाना चाहिए?

    अश्वगंधा को सर्दियों के दौरान 2 से 4 ग्राम की मात्रा में सुबह शाम खाना चाहिए।

    अश्वगंधा और दूध पीने से क्या होता है?

    एक गिलास गुनगुने दूध में एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर और शहद मिलाकर रोजाना सेवन करने से मेटाबोलिज्म और पाचन बेहतर होता है।

    क्या शिलाजीत में कैल्शियम पाया जाता है?

    जी हां, शिलाजीत में कैल्शियम भी पाया जाता है।

    शिलाजीत खाने से क्या होता है?

    शिलाजीत कई तरीकों से हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है और इसके बारे में हम आपको लेख में विस्तार से बता चुके हैं।

    POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शानदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

    Beauty

    Ultimate Germ Defence 35 Sanitizing Wipes + 30 Sanitizing Towels + 4 Moisturizing Hand Sanitizers

    INR 999 AT MyGlamm