हिचकी रोकने के बेहद आसान और असरदार तरीके, मिनटों में मिलेगा आराम

हिचकी रोकने के बेहद आसान और असरदार तरीके, मिनटों में मिलेगा आराम

हिचकी के बारे में अकसर आपने लोगों को ये कहते हुए सुना ही होगा कि कोई आपको याद कर रहा है। यही नहीं ये भी कहा जाता है कि हिचकी आने पर याद करने वाले व्यक्ति के नाम लेने से वो चली जायेगी। लेकिन ये सिर्फ एक मात्र अंधविश्वास है और मन बहलाने के बहाने। लेकिन मेडिकल की भाषा में ये एक तरह से सांस लेने की दिक्कत का संकेत है। दरअसल, सीने और पेट के बीच एक मांसपेशी होती है, जिसे डायाफ्राम कहते हैं, जोकि सांस लेने की प्रक्रिया में बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कभी-कभी कुछ कारणों की वजह से डायाफ्राम सिकुड़ती है, तो फेफड़े तेजी से हवा अंदर की ओर खींचते हैं और सांस लेने में अवरोध उत्पन्न करने लगते हैं। इसी वजह से हिचकी आना शुरू हो जाती है।

हिचकी आने के कारण - Causes of Hiccups in Hindi

हिचकी कभी भी कहीं भी आना शुरू हो सकती है। इसके कोई शुरूआती लक्षण नहीं दिखते हैं, जिससे ये पता लगाया जा सके कि अब हिचकी शुरू होने वाली है। लेकिन ये तय है कि डायाफ्राम में समस्या होने के कारण हिचकी आती है। तो आइए जानते हैं कि किन कारणों के चलते डायाफ्राम में दिक्कत महसूस होती है, जिससे हिचकी आने लगती है -

- ज्यादा गर्म या मसालेदार भोजन का सेवन करने के कारण।
- ब्लोटिंग या पेट के फूलने के कारण।
- दवाओं का साइड इफेक्ट
- मेटाबॉलिक डिसऑर्डर के चलते।
- जल्दबाजी में भोजन करने के कारण।
- नर्वस सिस्टम से जुड़ी किसी बीमारी के कारण।
- घबराहट और डर महसूस करने के कारण।
- गले में हवा के फंस जाने के कारण।
- बिना रूके पानी पीने की वजह से।
- अत्यधिक शराब और धूम्रपान का सेवन।

हिचकी रोकने के घरेलू उपाय - Home Remedies For Hiccups In Hindi

थोड़ी देर हिचकी आने तक तो सामान्य है लेकिन अगर हिचकी लगातार आ रही है तो ये दिक्कत का विषय है। देर तक हिचकी आने की वजह से असहजता महसूस होने लगती है। लेकिन घबराने की आवश्यकता नहीं है। कुछ तरीकों से इसे तुरंत रोका जा सकता है। यहां हम आपको कुछ आसान से घरेलू नुस्खे बता रहे हैं, जिनका इस्तेमाल कर आप हिचकी की समस्या से तुरंत छुटकारा पा सकते हैं। तो आइए जानते हैं कौन-से हैं वो घरेलू नुस्खे -

  • अगर हिचकी बहुत देर से परेशान कर रही है तो अपना कान रंगड़ना शुरू कर दें। ऐसा करने से हिचकी मिनटों में दूर हो जाती है।
  • ऐसा माना जाता है कि हिचकी आने के दौरान अगर तुरंत ठंडा पानी पी लिया जाये तो वो बंद हो जाती है। ऐसा करते समय अपनी नाक भी बंद कर लें।
  • डायाफ्राम को दुरस्त करने के लिए  एक लंबी गहरी सांस लें और इसे 10 सेकंड तक रोककर रखें। फिर एक और छोटी सांस लें और दूसरे 5 सेकंड तक रोकें। इसे एक बार और दोहराएं और फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ें। ऐसा करने से हिचकी फटाक से बंद हो जायेगी।
  • अगर हिचकी बंद न हो जाए तब तक अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर लाएं और उन्हें थोड़ी देर के लिए रखें जब तक आपकी हिचकी बंद न हो जाए। यह तरीका डायाफ्राम को शांत करने में मदद करता है, जिससे हिचकी आना बंद हो जाती है।
  • जीभ को जितना हो सके बाहर की ओर निकालें। ऐसा करने से गले का वह भाग खुल जाएगा जो नाक के रास्ते वोकल कॉर्ड को जोड़ता है।
  • अगर किसी हिचकी आ रही है तो उससे कोई ऐसी बात करें, जिसे सुनकर वो हैरान रह जायें। जैसे कि आप उससे कह सकते हैं कि आप ने उन्हें ये गलत हरकत करते हुए देखा है।
  • हिचकी के दौरान हाथों की मुठ्ठी को कसकर बांधे, जिससे नर्वस सिस्टम का ध्यान हिचकी से हटकर हथेलियों पर आ जायेगा और आपको आराम मिलेगा।
  • नींबू के इस्तेमाल से भी हिचकी रोकने में फायदा मिलता है। इसके लिए एक चम्मच नींबू के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर चाटें।
  • हिचकी परेशान कर रही है तो ऐसे में सिरका चख लें। सिरके का स्वाद खट्टा होता है, जिससे हिचकी गायब हो जाती है।
  • आप चाहें तो एक चम्मच चीनी मुंह में डाल कर, थोड़ी देर के लिए चुप हो जाएं। ऐसा करने से भी हिचकी बंद हो जाती है।