home / xSEO
Psoriasis Meaning in Hindi

psoriasis Treatment in hindi – जानिए क्या है सोरायसिस, इसके प्रकार और सोरायसिस का घरेलू उपचार

सोरायसिस (psoriasis in hindi) यह एक पुराना स्किन डिसऑर्डर है, जो अचानक हो सकता है लेकिन ठीक हो जाता है। तनाव, शराब और धूम्रपान कुछ ऐसे ट्रिगर हैं जो इस त्वचा विकार को बढ़ा सकते हैं। इसके उचित चिकित्सा देखभाल के लिए त्वचा विशेषज्ञ की राय लेना हमेशा अच्छा माना जाता है। हालांकि अपने आहार और डाइट मेडन कुछ बदलाव लाकर आप घर पर भी इससे निजात पा सकते हैं। घरेलू उपचार उचित चिकित्सा उपचार के साथ सोरायसिस के लक्षणों को ठीक करने और राहत प्रदान करने में प्रभावी ढंग से काम करते हैं। हम यहां आपको सोरायसिस को जड़ से खत्म करने के उपाय के साथ सोरायसिस के लिए बेस्ट क्रीम के बारे में बता रहे हैं।

सोरायसिस क्या है? Poriasis meaning in Hindi

Poriasis meaning in Hindi

सोरायसिस एक त्वचा रोग है जो लाल, खुजलीदार पपड़ीदार पैच का कारण बनता है, जो आमतौर पर घुटनों, कोहनी, धड़ और स्कैल्प पर होता है। सोरायसिस एक आम, दीर्घकालिक (पुरानी) बीमारी है जिसका कोई इलाज नहीं है। यह चक्रों से गुजरता है, कुछ हफ्तों या महीनों के लिए उभरता है, फिर थोड़ी देर के लिए कम हो जाता है या शांत हो जाता है। हालांकि इसके लक्षणों को प्रबंधित करने में आपकी सहायता के लिए कई घरेलू उपचार उपलब्ध हैं। गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय

ADVERTISEMENT

सोरायसिस के प्रकार

  1. चकत्ते वाला सोरायसिस
  2. नाखून सोरायसिस
  3. गुट्टाट सोरायसिस
  4. उलटा सोरायसिस
  5. पुष्ठीय सोरायसिस
  6. एरिथ्रोडार्मिक सोरायसिस
  7. सोरियाटिक गठिया
Psoriasis Treatment in Hindi

चकत्ते वाला सोरायसिस

यह सोरायसिस का सबसे आम रूप है। इसके कारण सूखी, उभरी हुई, लाल त्वचा के पैच (घाव) हो जाते हैं। वे आमतौर पर कोहनी, घुटनों, पीठ के निचले हिस्से और खोपड़ी पर दिखाई देते हैं।

नाखून सोरायसिस

सोरायसिस हाथ के और पैर के नाखूनों को प्रभावित कर सकता है, जिससे खड़ा होना, असामान्य नाखून वृद्धि और मलिनकिरण हो सकता है। गंभीर मामलों में नाखून उखड़ सकता है।

ADVERTISEMENT

गुट्टाट सोरायसिस

यह प्रकार मुख्य रूप से युवा वयस्कों और बच्चों को प्रभावित करता है। यह आमतौर पर स्ट्रेप थ्रोट जैसे जीवाणु संक्रमण से शुरू होता है। यह ट्रंक, बाहों या पैरों पर छोटे, बूंद के आकार, स्केलिंग घावों द्वारा चिह्नित है।

उल्टा सोरायसिस

यह मुख्य रूप से कमर, नितंबों और स्तनों की त्वचा की परतों को प्रभावित करता है। उलटा सोरायसिस लाल त्वचा के चिकने पैच का कारण बनता है जो घर्षण और पसीने से खराब हो जाता है। फंगल संक्रमण इस प्रकार के सोरायसिस को ट्रिगर कर सकता है।

ADVERTISEMENT

पुष्ठीय सोरायसिस

सोरायसिस का यह दुर्लभ रूप स्पष्ट रूप से परिभाषित मवाद से भरे घावों का कारण बनता है जो व्यापक पैच या हाथों की हथेलियों या पैरों के तलवों पर छोटे क्षेत्रों में होते हैं।

एरिथ्रोडार्मिक सोरायसिस

कम से कम सामान्य प्रकार का सोरायसिस, एरिथ्रोडर्मिक सोरायसिस आपके पूरे शरीर को लाल, छीलने वाले दाने से ढक सकता है, जिसमें तुरंत खुजली या रैशेस हो जाते हैं। 

ADVERTISEMENT

सोरियाटिक गठिया

सोरियाटिक गठिया सूजन, दर्दनाक जोड़ों का कारण बनता है जो गठिया की वजह से होते हैं। इसमें कई बार सिर्फ नाखून में बदलाव देखने को मिलता है। इसके लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक होते हैं, और सोरियाटिक गठिया किसी भी जोड़ को प्रभावित कर सकता है। यह कठोरता और प्रगतिशील संयुक्त क्षति का कारण बन सकता है कि सबसे गंभीर मामलों में स्थायी संयुक्त क्षति हो सकती है।

सोरायसिस के कारण

सोरायसिस को जड़ से खत्म करने के उपाय

सोरायसिस को एक प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्या माना जाता है जो त्वचा को सामान्य दरों की तुलना में तेजी से पुन: उत्पन्न करने का कारण बनती है। सबसे आम प्रकार के सोरायसिस में, जिसे प्लाक सोरायसिस के रूप में जाना जाता है, कोशिकाओं को तेजी से बनाने के परिणामस्वरूप लाल धब्बे हो जाते हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली के खराब होने का क्या कारण है, यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि आनुवंशिकी और पर्यावरणीय कारक दोनों एक भूमिका निभाते हैं।

ADVERTISEMENT

परिवार का इतिहास

माता-पिता में से किसी एक को सोरायसिस होने से आपको बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है, और माता-पिता दोनों को सोरायसिस होने से आपका जोखिम और भी बढ़ जाता है।

तनाव

क्योंकि तनाव आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित कर सकता है, उच्च तनाव का स्तर आपके सोरायसिस के जोखिम को बढ़ा सकता है।

ADVERTISEMENT

धूम्रपान

तम्बाकू धूम्रपान न केवल आपके सोरायसिस के खतरे को बढ़ाता है बल्कि रोग की गंभीरता को भी बढ़ा सकता है। धूम्रपान इस रोग के प्रारंभिक विकास में भी भूमिका निभा सकता है।

सोरायसिस के लक्षण 

सोरायसिस के साइनऔर लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। सामान्य संकेतों और लक्षणों में शामिल हैं:

ADVERTISEMENT

– त्वचा के लाल धब्बे मोटे, चांदी के तराजू से ढके होते हैं। 

– छोटे स्केलिंग स्पॉट (आमतौर पर बच्चों में देखे जाते हैं)

ADVERTISEMENT

– सूखी, फटी त्वचा जिसमें खून या खुजली हो सकती है

– खुजली, जलन या दर्द

ADVERTISEMENT

– मोटा, खड़ा या फटा हुआ नाखून

– सूजे हुए और कड़े जोड़

ADVERTISEMENT

– सोरायसिस पैच डैंड्रफ जैसे स्केलिंग के कुछ स्थानों से लेकर बड़े क्षेत्रों तक हो सकता है। सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र पीठ के निचले हिस्से, कोहनी, घुटने, पैर, पैरों के तलवे, खोपड़ी, चेहरे और हथेलियां हैं।

सोरायसिस के घरेलू उपाय – Psoriasis ka gharelu ilaj

सोरायसिस (psoriasis meaning in hindi) आपकी टी सेल्स से आता है, एक प्रकार की श्वेत रक्त कोशिका। टी कोशिकाओं को शरीर को संक्रमण और बीमारी से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जब ये कोशिकाएं गलती से सक्रिय हो जाती हैं और अन्य प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को बंद कर देती हैं, तो इससे सोरायसिस के लक्षण हो सकते हैं। हालांकि इसका कोई इलाज नहीं है, मगर सोरायसिस के लक्षणों को कम करने के लिए कई घरेलू उपचार मौजूद हैं। हम यहां आपको सोरायसिस को जड़ से खत्म करने के उपाय (psoriasis treatment in hindi) के बारे में बता रहे हैं। 

ADVERTISEMENT
Psoriasis ka gharelu ilaj

एलोवेरा

कई रिसर्च ने दृढ़ता से इस बात का समर्थन किया है कि एलोवेरा आधारित क्रीम सोरायसिस से जुड़े लक्षणों जैसे लालिमा और स्केलिंग को कम करने में प्रभावी हैं। सामयिक क्रीम जिनमें 0.5% एलो जेल होता है, उन्हें प्रभावित त्वचा क्षेत्रों पर लगाया जा सकता है जो स्केलिंग, खुजली, लालिमा और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। सर्वोत्तम परिणाम के लिए एलोवेरा जेल क्रीम का प्रयोग रोजाना तीन बार करें।

एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर का शक्तिशाली एंटीसेप्टिक गुण स्कैल्प सोरायसिस के कारण होने वाली खुजली और जलन को शांत करने में फायदेमंद होता है। ऑर्गेनिक एप्पल साइडर विनेगर को प्राथमिकता दें और इसे गुनगुने पानी में 1:1 के अनुपात में मिलाकर सीधे प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं जो जलन और जलन से बचने में मदद करते हैं। अगर आपके खुले घाव हैं या त्वचा में दरार है या खून बह रहा है तो सिरके से बचें।

ADVERTISEMENT

हल्दी

हल्दी भारतीय व्यंजनों में एक सर्वोत्कृष्ट सामग्री है जो सोरायसिस को ठीक करने में मदद करती है या हल्दी की खुराक लेने से सोरायसिस का इलाज करने और सूजन को कम करने में मदद मिलती है। हल्दी के शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण त्वचा विकारों के इलाज के लिए प्राचीन काल से आयुर्वेदिक चिकित्सा में अत्यधिक बेशकीमती हैं। हल्दी में सक्रिय यौगिक करक्यूमिन सोरायसिस से जुड़े लक्षणों को कम करने में फायदेमंद होता है।

टी ट्री ऑयल

एसेंशियल टी ट्री ऑयल के मजबूत एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल गुण जब त्वचा पर लगाए जाते हैं तो यह स्कैल्प सोरायसिस के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है। टी ट्री ऑयल 100% सान्द्रता के साथ नारियल के तेल के साथ मिलाकर स्कैल्प सोरायसिस से होने वाली खुजली और जलन को कम करने में प्रभावी है। इसके अलावा, टी ट्री बेस्ड शैम्पू भी स्कैल्प सोरायसिस को कम करने में मदद करता है।

ADVERTISEMENT

सेंधा नमक

सेंधा नमक स्केल को दूर करने और खुजली को कम करने के लिए एक अद्भुत प्राकृतिक उपचार के रूप में काम करता है। नहाने के गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाएं और इसमें 15-20 मिनट के लिए भीगने दें। त्वचा की नमी बनाए रखने और त्वचा को रूखा होने से बचाने के लिए नहाने के बाद मॉइस्चराइजिंग क्रीम लगाएं।

फिश ऑयल

कुछ अध्ययनों में यह पाया गया है कि फिश ऑयल प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा दे सकता है। सोरायसिस एक ऑटोइम्यून बीमारी है, इसलिए यह प्राकृतिक सोरायसिस उपचार लक्षणों को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। फिश ऑयल कई खाद्य बाजारों और दवा की दुकानों पर कैप्सूल के रूप में काउंटर पर उपलब्ध है।

ADVERTISEMENT

परफ्यूम लगाना नजरअंदाज करें

अधिकांश साबुन और परफ्यूम में रंग और अन्य रसायन होते हैं जो आपकी त्वचा को परेशान कर सकते हैं। वे आपको बहुत अच्छी गंध दे सकते हैं, लेकिन वे सोरायसिस को भी भड़का सकते हैं। ऐसे उत्पादों से बचें। इसके बजाये आप “संवेदनशील त्वचा” लेबल वाले प्रोडक्ट्स को चुन सकते हैं। 

हेल्दी खाना खाएं

रेड मीट, सैचुरेटेड फैट, रिफाइंड शुगर, कार्बोहाइड्रेट और अल्कोहल को खत्म करने से ऐसे खाद्य पदार्थों से होने वाली जलन को कम करने में मदद मिल सकती है। ठंडे पानी की मछली, बीज, मेवा और ओमेगा-3 फैटी एसिड सूजन को कम करने की अपनी क्षमता के लिए जाने जाते हैं। यह सोरायसिस के लक्षणों के प्रबंधन में मददगार हो सकता है। 

ADVERTISEMENT

शराब से दूरी बनाकर रखें

शराब कई लोगों के लिए एक ट्रिगर है, जिन्हें सोरायसिस है। एक अध्ययन में उन महिलाओं में सोरायसिस का खतरा बढ़ गया जो नॉनलाइट बीयर पीती थीं। जो लोग प्रति सप्ताह कम से कम पांच नॉनलाइट बियर पीते थे, उनमें उन महिलाओं की तुलना में सोरायसिस विकसित होने की संभावना लगभग दोगुनी थी, जो शराब नहीं पीती थीं।

सोरायसिस से जुड़े सवाल-जवाब – FAQ’s 

सवाल- सोरायसिस में कौन सा साबुन लगाना चाहिए?

ADVERTISEMENT

जवाब- सोरायसिस के दौरान त्वचा में नमी बरकरार रहे, इसके लिए न्यूट्रल पीएच लेवल वाला सोप या बॉडी वॉश का इस्तेमाल करना चाहिए।

सवाल- सोरायसिस में क्या क्या नहीं खाना चाहिए?

ADVERTISEMENT

जवाब- अगर आयुर्वेद की मानें तो सोरायसिस होने पर दूध के साथ नमक और मछली का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा भी इन चीजों को सेवन साथ नहीं करना चाहिए। 

सवाल- सोरायसिस में कौन की दवा खाई जाती है?

ADVERTISEMENT

जवाब- सोरायसिस में डाॅक्टर के बताए अनुसार Zyrex Psoriasis Nill टैबलेट खाई जा सकती है।  

अगर आपको यहां बताए गए सोरायसिस के लक्षण और सोरायसिस को जड़ से खत्म करने के उपाय (psoriasis treatment in hindi) पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें। 

ADVERTISEMENT
22 Jan 2022

Read More

read more articles like this
good points

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text