logo
Logo
User
home / Diet
सेहत के साथ बालों के लिए भी असरकारक है मछली का तेल  – Fish Oil benefits in Hindi

सेहत के साथ बालों के लिए भी असरकारक है मछली का तेल – Fish Oil benefits in Hindi

 

 

आप अपने आहार में मछली होने के स्वास्थ्य लाभ जानते हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि मछली का तेल (fish oil) भी आपके शरीर के लिए आशीर्वाद हो सकता है। जी हां.. जिस तरह मछली के फायदे अनेक हैं उसी तरह मछली का तेल भी कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इस तेल में पोषक तत्व न केवल आपको कई बीमारियों से बचाते हैं बल्कि आपकी त्वचा को भी स्वस्थ बनाते का काम करते हैं। जानिए, मछली के तेल के फायदे (Fish oil benefits in hindi) और मछली के तेल के नुकसान। साथ ही मछली के तेल (fish oil) के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी। रोहू मछली खाने के फायदे 

 

 

क्या है मछली का तेल – What is fish oil

Fish Oil Benefits in Hindi

मछली का तेल (Fish Oil) मछली के ऊतक से बना तेल होता है। इस तेल में ओमेगा -3 (omega 3) फैटी एसिड, इकोसापेंटेनोइक एसिड (ईपीए) और डोकोसाहेक्सैनोइक एसिड (डीएचए) होता है। मछली के तेल को ओमेगा -3 (omega 3) की प्रचुरता के कारण ओमेगा -3 तेल के रूप में भी जाना जाता है। बाजार में आप बोतलबंद या कैप्सूल के रूप में भी मछली का तेल पा सकते हैं।

मछली के तेल के फायदे – Fish Oil Benefits in Hindi

मछली का तेल (Fish Oil) कई स्वास्थवर्धक गुणों से भरपूर होता है। इसके अलावा मछली के तेल के कई ब्यूटी बेनेफिट्स और हेयर बेनेफिट्स भी हैं। जानिए ऐसे ही कुछ फायदों के बारे में।
  • सेहत के लिए
  • गर्भावस्था में भी सहायक
  • मजबूत हड्डियों के लिए
  • वजन कम करने के लिए
  • त्वचा के लिए
  • बालों के लिए

सेहत के लिए – Fish Oil for Health

omega 3 - fish oil

मछली के तेल के शरीर के लिए कई फायदे हैं। आइए मछली के तेल के स्वास्थ्य लाभों के बारे में विस्तार से जानते हैं।
दिल के लिए मछली का तेल
मछली का तेल हृदय रोग को रोकने में मदद करता है। साथ यह भी सुनिश्चित करता है कि कार्डियोवास्कुलर सिस्टम (cardiovascular system) भी ठीक से काम करे। वास्तव में, मछली के तेल ट्राईग्लीसेराइड (Triglyceride) के स्तर को कम करता है, जिससे हृदय रोग का खतरे भी कम होता है। ओमेगा -3 फैटी एसिड रक्त के स्तर को कम करके हृदय रोग को रोकने और ठीक करने में मदद करता है। साथ ही यह हार्ट अटैक के खतरे को भी कम करता है।
प्रोस्टेट कैंसर के लिए
कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों को रोकने के लिए मछली के तेल का सेवन फायदेमंद है। ओमेगा -3 फैटी एसिड होने के नाते, यह शरीर में सामान्य और स्वस्थ कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देता है। इसका सेवन स्तन, कोलोन और प्रोस्टेट कैंसर को रोकने का काम करता है।
मानसिक स्वास्थ्य के लिए
हम शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए हर संभव देखभाल करते हैं, लेकिन कई बार अपने मानसिक स्वास्थ्य को अधिक महत्व नहीं दे पाते। मछली के तेल का सेवन करके अपने मानसिक स्वास्थ्य को भी स्वस्थ बनाए रखा जा सकता हैं। मछली के तेल में मौजूद ओमेगा -3 फैटी एसिड अवसाद और तनाव को कम करता है। यह अन्य मानसिक विकारों को ठीक करने में भी मदद करता है। इसके अलावा मछली का तेल आपकी याददाश्त को बढ़ाने में मदद करता है।

गर्भावस्था में भी सहायक – Fish Oil for pregnancy

Fish Oil for pregnancy in hindi

मछली का तेल गर्भवती महिलाओं के लिए भी फायदेमंद हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड महिलाओं और बच्चे के विकास को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। मछली के तेल में मौजूद डीएचए बच्चे की आंखों और मस्तिष्क को विकसित करने में मदद करता है। यह गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है, क्योंकि यह पहले बच्चे के समय पर जन्म, कम वजन और गर्भावस्था के जोखिम को रोकने में मदद करता है लेकिन इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर सलाह लें।

मजबूत हड्डियों के लिए – Fish Oil for Bones

मछली का तेल हड्डियों को भी मजबूत बनाता है। यह हड्डी से संबंधित बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) और भंगुर हड्डियों को ठीक करने में मददगार है। इसका सेवन आपकी हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने में मदद करता है हम जानते हैं कि मछली के तेल में ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है। यह फैटी एसिड हड्डियों और उनके आसपास के ऊतकों में खनिजों की मात्रा को रेगुलेट करने में मदद करता है, जिससे हड्डियां मजबूत बनाती हैं।

वजन कम करने के लिए – Fish Oil for Weight loss

मछली का तेल वजन घटाने में भी मदद करता है। डीएचए और ईपीए जैसे तत्व महिलाओं और पुरुषों के बढ़ते वजन को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। शोध के अनुसार, रोजाना 6 ग्राम मछली का तेल लेने से शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम करने में मदद मिल सकती है।

त्वचा के लिए – Fish Oil for Skin

Fish Oil for Skin in hindi

मछली के तेल का उपयोग त्वचा के दाने, ड्राईनेस और दाग-धब्बों को दूर करने के लिए किया जाता है। आप सूरज की यूवी किरणों से त्वचा को बचाने के लिए भी मछली के तेल का भी उपयोग कर सकते हैं। इस तेल में मौजूद विटामिन डी आपकी त्वचा को दूषित होने से भी बचाता है। इसके अलावा मछली का तेल आंखों से संबधित बीमारियों से भी बचाता है। यह बुढ़ापे में आंखों की समस्याओं को कम करने में मदद कर सकता है। 

बालों के लिए – Fish Oil for Hair

1- यदि आप बालों के झड़ने की समस्या से परेशान हैं, तो मछली के तेल आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। यह बालों की जड़ों में जाकर उन्हें पोषण देता है और बालों का झड़ना कम करता है।
2- इसके अलावा ड्राई स्कैल्प को मॉइस्चराइज करने के लिए आपने कैस्टर ऑयल, टी ट्री ऑयल, लैवेंडर और नारियल तेल का इस्तेमाल तो पहले भी किया होगा लेकिन मछली का तेल इन सबसे अलग है। यह बालों को आंतरिक रूप से पोषण देता है। मछली का तेल भी बालों को मॉइस्चराइज करके स्कैल्प को पोषित करता है। हालांकि इसकी गंध के कारण ये बालों पर लगाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, इसलिए, मछली के तेल को सीधे बालों में लगाने के बजाय कई लोग कैप्सूल के रूप में भी मछली के तेल का सेवन करते हैं।
3- यदि आपके बाल नहीं बढ़ रहे हैं, तो इसका कारण यह है कि उन्हें उचित पोषण नहीं मिल रहा है। मछली के तेल में बालों के विकास के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। यही वजह है कि मछली के तेल को आहार में शामिल कर बालों की समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। मछली का तेल बालों की जड़ों को उचित पोषण और प्रोटीन देता है। यह बालों के विकास में सुधार करता है और बालों के झड़ने की समस्या को कम करता है और बालों को चमक देता है।
4- मछली के तेल की गंध को रोकने के लिए, आप इसे अरंडी के तेल, टी ट्री ऑयल, लैवेंडर या नारियल के तेल के साथ मिला सकते हैं और फिर मालिश कर सकते हैं।

मछली के तेल के नुकसान – Side Effects of Fish Oil in Hindi

 Side Effects of Fish Oil in Hindi

अति हर चीज़ की बुरी होती है, मछली के तेल भी। जिस तरह मछली के तेल के कई फायदे हैं उसी तरह इसके कई नुकसान भी हैं। जानिए ऐसे ही कुछ नुकसानों के बारे मेंं…।
1- अगर मछली का तेल लगाने या फिर इसकी कैप्सूल खाने के बाद स्किन पर लाल निशान या रैशेज हो सकते हैं। अगर ऐसा कुछ नज़र आता है तो इसका सेवन करना तुरंत बंद कर दें। डॉक्टरी सलाह के बिना इसका सेवन न करें।
2- मछली के तेल की कैप्सूल खाने के बाद अगर पेट में गैस या डकार की शिकायत होती है तो इनका सेवन करना बंद कर दें। 
3- अधिक मात्रा में मछली के तेल का सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
4- अगर मछली के तेल के सेवन से आपको जी मचलाने जैसी समस्या का सामना करना पड़े तो तुरंत इसका सेवन बंद कर डाॅक्टर से सलाह लें। 
5- मछली के तेल का अधिक सेवन बदबूदार पसीने का कारण भी बनता है। 

सवाल-जवाब FAQ’s

सवाल- क्या फिश ऑयल में कोलेस्ट्राॅल होता है?
जवाब- जी हां, फिश ऑयल में कोलेस्ट्राॅल होता है। इसे ऐसे समझ सकते हैं कि 100 ग्राम फिश ऑयल में लगभग 766 मिलीग्राम कोलेस्ट्राॅल होता है। 
सवाल- रोज़ाना कितना मात्रा में मछली के तेल का सेवन करना चाहिए?
सवाल- मछली के तेल का सेवन शुरू करने से पहले एक बार डाॅक्टर की सलाह ज़रूर लें। हालांकि, रोज़ाना 250–500 मिलीग्राम मछली के तेल का सेवन किया सकता है।    
सवाल- क्या मछली का तेल बैली फैट को भी कम करता है?
जवाब- मछली के तेल में ओमेगा -3 फैटी एसिड के कई स्वास्थ्य लाभ हैं मौजूद होते हैं, जिनमें से एक वजन घटाना भी है। इसके अलावा ये शरीर की चर्बी को कम करने के काम भी आता है।  
सवाल- सीधा मछली का तेल फायदेमंद है या इसकी कैप्सूल?
जवाब- मछली का तेल इसकी् कैप्सूल के मुकाबले अधिक तेज़ी से शरीर में समाता है। यही वजह है कि कैप्सूल लेने के बजाए आप इसके तेल का सेवन करेंगे तो ज्यादा फायदा मिलेगा। 
19 Feb 2020

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text