home / xSEO
Diphtheria in Hindi

जानें डिप्थीरिया के लक्षण और इसका घरेलू इलाज

डिप्थीरिया (diphtheria in hindi) एक जीवाणु संक्रमण है जो मुख्य रूप से बैक्टीरिया Corynebacterium diphtheriae के कारण होता है। यह एक छूत की बीमारी है जो संक्रमित व्यक्ति द्वारा खांसने या छींकने और कभी-कभी सीधे त्वचा के संपर्क से निकलने वाली हवा की बूंदों से फैलती है। इसके अलावा, संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुओं को साझा करना भी संक्रामक हो सकता है। अप्रतिरक्षित बच्चों में संक्रमण विकसित होने की संभावना अधिक होती है। हम यहां आपको डिप्थीरिया के लक्षण सहित उसके कारण (diphtheria is caused by) और डिप्थीरिया के उपचार (diphtheria treatment) के बारे में बता रहे हैं। लंग्स इन्फेक्शन के लक्षण

डिप्थीरिया क्या है?

डिप्थीरिया एक गंभीर जीवाणु संक्रमण है, जो गले और नाक के श्लेष्म झिल्ली को प्रभावित करता है। यद्यपि यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलता है, डिप्थीरिया को टीकों के उपयोग से रोका जा सकता है। अगर आपको लगता है कि आपको डिप्थीरिया है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। यदि इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो यह आपके गुर्दे, तंत्रिका तंत्र और हृदय को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। जीवाणु आमतौर पर ऊपरी श्वसन पथ जैसे नाक, स्वरयंत्र और गले को लक्षित करता है। यह वायुमार्ग को अवरुद्ध करने और फेफड़ों के संक्रमण का कारण बन सकता है। संक्रमित व्यक्ति को आमतौर पर सांस लेने और निगलने में कठिनाई का अनुभव होता है। यह गले और नाक में गाढ़े भूरे रंग का लेप बनने के कारण होता है।

डिप्थीरिया के लक्षण

डिप्थीरिया के लक्षण

डिप्थीरिया के लक्षण अक्सर संक्रमण होने के दो से पांच दिनों के भीतर दिखाई देते हैं। कुछ लोगों को किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं होता है, जबकि अन्य में हल्के लक्षण होते हैं जो सामान्य सर्दी के समान होते हैं। डिप्थीरिया का सबसे अधिक दिखाई देने वाला और सामान्य लक्षण गले और टॉन्सिल पर एक मोटी, ग्रे कोटिंग है। अन्य सामान्य लक्षणों में शामिल हैं: 

बुखार

ठंड लगना

गर्दन में सूजी हुई ग्रंथियां

एक जोर से, भौंकने वाली खांसी

गले में खराश

नीली त्वचा

लार टपकाना

बेचैनी या बेचैनी की एक सामान्य भावना

संक्रमण बढ़ने पर अतिरिक्त लक्षण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

सांस लेने या निगलने में कठिनाई

दृष्टि में परिवर्तन

बोलने में कठिनाई आदि

त्वचा का डिप्थीरिया आमतौर पर प्रभावित क्षेत्र में अल्सर और लालिमा का कारण बनता है।

डिप्थीरिया के कारण

डिप्थीरिया के कारण

कोरिनेबैक्टीरियम डिप्थीरिया नामक एक प्रकार का बैक्टीरिया डिप्थीरिया का कारण बनता है। यह स्थिति आम तौर पर व्यक्ति-से-व्यक्ति के संपर्क से या उन वस्तुओं के संपर्क के माध्यम से फैलती है जिन पर बैक्टीरिया होते हैं, जैसे कि एक कप या प्रयुक्त ऊतक। यदि आप किसी संक्रमित व्यक्ति के छींकने, खांसने या नाक रगड़ने पर उसके आस-पास हैं तो आपको डिप्थीरिया भी हो सकता है। डिप्थीरिया के बैक्टीरिया आमतौर पर आपकी नाक और गले को संक्रमित करते हैं। एक बार जब आप संक्रमित हो जाते हैं, तो बैक्टीरिया टॉक्सिन्स नामक खतरनाक पदार्थ छोड़ते हैं। ये विषाक्त पदार्थ आपके रक्तप्रवाह से फैलते हैं और अक्सर शरीर के इन क्षेत्रों में एक मोटी, ग्रे कोटिंग निम्न कारणों (diphtheria is caused by) से बनती है:

नाक

गला

जुबान

वायुपथ

कुछ मामलों में, ये विषाक्त पदार्थ हृदय, मस्तिष्क और गुर्दे सहित अन्य अंगों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। मायोकार्डिटिस, या हृदय की मांसपेशियों की सूजन व किडनी खराब होना भी इसके रिजल्ट हैं। 

डिप्थीरिया का घरेलू इलाज

डिप्थीरिया के उपचार (diphtheria treatment) ऊतक के नमूनों की जांच और स्वाब परीक्षण करके किया जाता है। डिप्थीरिया के उपचार में बैक्टीरिया द्वारा उत्पादित विष को लक्षित करने के लिए एंटीबायोटिक्स और एनाटॉक्सिन का उपयोग शामिल है। एरिथ्रोमाइसिन जैसे एंटीबायोटिक वैज्ञानिक रूप से प्रेरक जीवाणु के खिलाफ सबसे प्रभावी साबित हुए हैं। मगर कुछ घरेलू उपचार अपनाकर भी आप डिप्थीरिया का इलाज कर सकते हैं। हम यहां आपके लिए डिप्थीरिया का घरेलू इलाज (diphtheria treatment) लेकर आए हैं। 

डिप्थीरिया का घरेलू इलाज

लहसुन का रस

लहसुन कई घातक बीमारियों को ठीक करने के लिए जाना जाता है और यह सबसे कठिन परिस्थितियों में भी राहत देने का एक अदभुत अनुभव है। डिप्थीरिया के उपाय के तौर पर एक चम्मच 2-3 कुटी हुई लहसुन की कलियां लें। यह इस बीमारी को ठीक करने के लिए अद्भुत काम करता है। इसे अपने मुंह में डालें और इसे निगल लें। कुछ दिनों तक इसे दोहराते रहें। 

नमक

गले में खराश के लिए सामान्य नमक एक अच्छा विकल्प हो सकता है। बस एक गिलास पानी में नमक मिला कर पियें। नमक और पानी का मिश्रण निश्चित रूप से प्रभाव को कम करने में मदद करेगा। गले में खराश को शांत करने के लिए नमक के पानी से गरारे करना भी एक बेहतरीन तकनीक है। यह सांस लेने की समस्याओं में भी सहायक होता है जो आमतौर पर शरीर में नमक की कमी के कारण होती है।

अनन्नास

अनानास का ताजा रस पीने से गले के जमा को हटाने में मदद मिल सकती है, जिससे इस संक्रमण के लक्षणों में सुधार होता है। चूंकि अनानास के रस में बीटा-कैरोटीन होता है, इसलिए यह डिप्थीरिया को प्रभावी ढंग से ठीक कर सकता है।

तुलसी की पत्तियां

तुलसी प्रकृति का दिया हुआ एक अनमोल तोहफा हो। तुलसी के पत्तों या तुलसी के स्वास्थ्य लाभ सभी तो पता हैं। तुलसी के पत्तों में जीवाणुरोधी गुण श्वसन संक्रमण को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। डिप्थीरिया से राहत पाने के लिए तुलसी के पत्तों का पानी मिलाकर पिएं।

पैशन फ्लार

पैशनफ्लॉवर एक अद्भुत जड़ी बूटी है जो स्वास्थ्य लाभ की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करती है। ऐसा दावा किया जाता है कि पैशनफ्लावर काढ़ा पीने से डिप्थीरिया के लक्षणों को केवल एक हफ्ते में कम करने में मदद मिल सकती है। बस इस पाउडर का एक बड़ा चम्मच एक कप उबलते पानी में मिलाएं। इस काढ़े को छान लें और दिन में दो बार इसका सेवन करें।

अरंडी के पत्ते

अरंडी के पत्तों में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, जो इस स्थिति का प्रभावी ढंग से इलाज करने में मदद कर सकते हैं। बस कुछ अरंडी के पत्ते लें और उन्हें पीस लें। पेस्ट बनाने के लिए आप कुछ सहजन के पत्ते और लहसुन का रस भी मिला सकते हैं। इस पेस्ट की सुगंध को अंदर लेने से आपका नासिका मार्ग साफ हो जाएगा और आपको इस स्थिति से राहत मिलेगी।

शहद और नींबू 

डिप्थीरिया के लिए घरेलू उपाय शहद और नींबू कारगर भूमिका निभा सकते हैं। डिप्थीरिया होने का मुख्य कारण बैक्टीरियल इन्फेक्शन होता है। शहद और नींबू में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो इस समस्या को दूर करने में सहायता पहुंचा सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले एक ग्लास पानी को हल्का गर्म करें। इसमें एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच शहद को मिलाएं। फिर इस मिश्रण को पी लें। इसे दिन में 1 से 2 बार तक पिया जा सकता है।

हर्ब

कुछ अरंडी की पत्तियां, कुछ सहजन की पत्तियां और 2-3 लहसुन की कलियां लेकर पीसकर पेस्ट तैयार कर लें। इस पेस्ट में आवश्यकतानुसार पानी मिलाकर अच्छे से घोल लें। अब पानी को छानकर गरारे के लिए इस्तेमाल करें। इन सभी जड़ी-बूटियों को कई समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें से एक डिप्थीरिया भी होता है। ये तीनों जड़ी-बूटियां एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होती हैं। ये तीनों सामग्रियां बैक्टीरियल इन्फेक्शन को दूर करने का काम करती हैं। 

डिप्थीरिया को लेकर पूछे जाने वाले सवाल–जवाब – FAQ’s

सवाल- डिप्थीरिया में कौन सा टीका लगता है? Diphtheria Vaccine 

जवाब- डिप्थीरिया में डीटीपी और DTwP का टीका लगता है

सवाल- डिप्थीरिया कौन सा रोग है?

जवाब- डिप्थीरिया एक संक्रामक रोग है

सवाल- डिप्थीरिया का टीका नवजात शिशु को कब लगाया जाता है?

जवाब- बच्चों में डिप्थीरिया का टीका 6 सप्ताह से लेकर 6 वर्ष के बच्चों में लगाया जाता है।  

अगर आपको यहां दिए गए डिप्थीरिया के लक्षण व डिप्थीरिया के उपचार समझ आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें। 

15 Jan 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text