home / xSEO
किस हार्मोन की कमी से बाल झड़ते है

किस हार्मोन की कमी से बाल झड़ते है

पुरुषों और महिलाओं दोनों में ही बालों का झड़ना या फिर पतला होना बहुत ही सामान्य है। ऐसा किसी भी कारण से हो सकता है, जैसे कि खराब लाइफस्टाइल, पोल्यूशन आदि लेकिन जब आपके बाल जरूरत से ज्यादा झड़ने लग जाते हैं तो इसके पीछे आपके हार्मोनल कमी भी एक कारण हो सकता है। इस वजह से आज हम अपने इस लेख में आपको बताएंगे कि किस हार्मोन की कमी से बाल झड़ते हैं। 

इन हार्मोन्स की कमी से झड़ते हैं बाल

यदि आपके थोड़े बहुत बाल झड़ते (Hair Fall Solution in Hindi) हैं तो यह सामान्य है और इसके लिए आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। इसके लिए आपको केवल अपने बालों की सही से देखभाल करने की जरूरत है और इसके लिए आप Hair Oil For Hair Growth in Hindi से अधिक जानकारी ले सकते हैं। हालांकि, यदि आपके बाल एकदम से बहुत अधिक पतले हो गए हैं या फिर गंजापन आने लगा है तो यह कहीं न कहीं परेशान होने वाली बात है और इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। इन्ही में से एक हार्मोन की कमी भी है। 

  • प्रोलैक्टिन
  • कोर्टिसोल
  • डीएचटी
  • एस्ट्रोजन
  • इंसुलिन
  • थायराइड

प्रोलैक्टिन

इस हार्मोन का उत्पादन पिट्यूटरी ग्लैंड से होता है, जो मुख्य रूप से दिमाग के बेस पर स्थित होता है। इस हार्मोन का उत्पादन सेंट्रल नर्व सिस्टम, इम्यून सिस्टम, स्किन, यूट्रस और मैमरी द्वारा होता है। बता दें कि महिलाओं में पीरियड साइकिल की वजह से प्रोलैक्टिन का लेवल 2 से 0.025 मिलीग्राम होता है लेकिन अगर आपका प्रोलैक्टिन लेवल 0.2 से कम है तो इसका मतलब आपको हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया है। ऐसा कई अध्ययन में सामने आया है कि हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया ही पुरुषों में गंजेपन और बाल झड़ने का कारण होता है। वहीं महिलाओं को यदि हाइपोथायराइड के साथ हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया हो जाता है तो उनमें भी इस वजह से गंजेपन की समस्या आती है। 

कोर्टिसोल

तनाव भी बालों के झड़ने का कारण होता है। जब आप बहुत अधिक तनाव लेते हैं तो उससे बालों के रोम प्रभावित होते हैं और इस वजह से बालों का विकास नहीं हो पाता है। यदि आप लंबे समय जैसे कि 4-5 महीनों से तनाव में हैं तो आपको इतने ही समय में एहसास होगा कि आपके बाल झड़ने लग गए हैं। बता दें कि कोर्टिसोल हार्मोन एड्रेनल ग्लैंड से उत्पादित होता है और अगर आप लंबे समय तक तनाव में रहते हैं तो इसका अधिक उत्पादन होता है। यदि आप काफी समय से परेशान हैं, बेरोजगार हैं या फिर आपको दिल से संबंधित बीमारी है तो इसका मतलब है कि आपके शरीर में कोर्टिसोल का लेवल अधिक है और इस वजह से आपको बाल झड़ने की समस्याएं हो सकती हैं। दरअसल, बालों के बढ़ने के लिए प्रोटेयोग्लाइकैन्स और ह्मालूरोनन बहुत ही जरूरी एलिमेंट्स हैं लेकिन यदि आपका कोर्टिसल लेवल बढ़ा हुआ है तो इसका मतलब है कि आपके दोनों स्किन एलिमेंट्स 40 फीसदी तक कम हो गए हैं और इस वजह से आपके बाल काफी धीरे बढ़ते हैं।

डीएचटी

डीएचटी का मतलब है कि डीहाइड्रोटेस्टोस्टेरॉन हार्मोन, जिसकी गड़बड़ी पुरुषों में गंजेपन का कारण बन जाती है। मेल पैटर्न बाल्डनेस में टेस्टोस्टेरोन नाम का हार्मोन जिम्मेदार होता है, जो पुरुषों में अधिक मात्रा में पाया जाता है और पुरुषों के प्रजनन अंगों की बढ़ोतरी और विकास के लिए भी जिम्मेदार होता है।

एस्ट्रोजन

वहीं महिलाओं में एस्ट्रोजन हार्मोंन बालों के झड़ने की समस्या के लिए जिम्मेदार होता है। यदि इसका लेवल बढ़ता है तो इससे पुरुषों में भी हेयर ग्रोथ की समस्या हो जाती है। टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजन दोनों ही हार्मोन बालों के विकास में समस्या उत्पन्न करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। महिलाओं को अक्सर बच्चों के जन्म के बाद बाल झड़ने की समस्या होती है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान उनके शरीर में एस्ट्रोजन का लेवल बढ़ जाता है। 

इंसुलिन

कुछ शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययनों में पाया गया है कि गंजेपन का शिकीर होने वाले 35 वर्ष से कम उम्र के लोगों में अक्सर ही उनका इंसुलिन लेवल बढ़ा हुआ पाया गया था, जो मुख्य रूप से मोटापा, हाई बीपी और हाई कोलेस्ट्रॉल जैसी बीमारियों से जुड़ा हुआ है। खराब लाइफस्टाइल के कारण शरीर में इंसुलिन का लेवल बढ़ जाता है और अधिक इंसुलिन का उत्पादन होने की वजह से शरीर में ब्लड शुगर का लेवल भी बढ़ जाता है। जब ब्लड शुगर बढ़ता है तो इससे कोर्टिसोल का लेवल भी बढ़ने लग जाता है और इस कारण भी बाल झड़ने लग जाते हैं। 

थायराइड

बालों का अधिक झड़ना हाइपोथायराइडिज्म का भी एक लक्षण है। थायराइड हार्मोन शरीर में हेयर फॉलिकल के सेल्स के साथ बॉडी के सेल्स को भी प्रभावित करता है। ऐसे में थायराइड हार्मोन का लेवल बढ़ने या फिर कम होने के कारण भी आपको बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है। 

इन विटामिन्स के कारण झड़ते हैं बाल – Hair ke Liye Vitamin

केवल हार्मोन के कारण ही नहीं बल्कि विटामिन्स की कमी के कारण भी बालों के झड़ने (baal jhadne ke karan ) की समस्या या फिर गंजापन हो सकता है। हालांकि, अगर आपको हल्के फुल्के बालों के झड़ने की दिक्कत है तो Hair Fall Solution in Hindi में आपको अधिक जानकारी मिल सकती है। वहीं हम यहां आपको बताने वाले हैं कि कौन से विटामिन की कमी के कारण आपको बालों के झड़ने की समस्या हो रही है और आप बालों के लिए विटामिन ई के फायदे के हमारे इस लेख में इस बारे में ज्यादा डिटेल में जान सकते हैं।

  • विटामिन ए
  • विटामिन ई
  • विटामिन बी9
  • विटामिन डी
  • विटामिन बी3

विटामिन ए

विटामिन ए की मदद से आपके हेयर फॉलिकल स्टेम कोशिका (hair ke liye vitamin) एक्टिव रही हैं। यह सीबम के उत्पादन में भी मदद करता है और सीबम आपकी स्कैप्ल को मॉइश्चराइज करता है और बालों को भी स्वस्थ रखने में मदद करता है। 

विटामिन ई

विटामिन ई में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो ऑक्सीडेटिव टेंशन को कम करने में मदद करते हैं और बालों को रोम कोशिकाओं से होने वाले नुकसान को बचाते हैं। इस वजह से अगर आपकी बॉडी में विटामिन ई की कमी है तो भी आपको बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है। 

विटामिन बी9

फोलिक एसिड आपके बालों की कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है। साथ ही यह रेड ब्लड सेल्स को भी स्वस्थ रखता है। ऐसे में जरूरी है कि आप अपनी बॉडी में विटामिन बी9 की कमी ना होने दें।

विटामिन डी

यदि आपके शरीर में विटामिन डी (vitamins for healthy hair in hindi ) की कमी होती है तो इससे आपकी स्कैल्प पर गंजापन हो सकता है। विटामिन डी आपकी कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है। इस वजह से अगर आपके शरीर में विटामिन डी की कमी होती है तो इससे आपके बाल पतले हो सकते हैं या फिर झड़ सकते हैं। 

विटामिन बी3

विटामिन बी3 आपके बल्ड फ्लो को बेहतर करने में मदद करता है और साथ ही यह बालों के रोम तक ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुंचाता है। इस वजह से यह आपके बालों को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ही जरूरी है। 

किस मिनरल की कमी से झड़ते हैं बाल

इसके अलावा मिनरल्स की कमी की वजह से भी आपके बाल झड़ सकते हैं। आपके बालों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है कि आपके शरीर में मिनरल्स की मात्रा में भी कमी ना हो। इस वजह से हम यहां आपको बताने वाले हैं कि किन मिनरल्स की कमी की वजह से ऐसा होता है। साथ ही इनकी कमी के कारण आपके बालों का रंग भी हल्का हो सकता है और इस वजह से अगर आ चाहते हैं कि आपके बाल (vitamin list in hindi) वापस काले हो जाएं तो Baal Kale Karne ka Shampoo से आपकी मदद हो सकती है। 

  • आयरन
  • जिंक
  • फैटी एसिड
  • सेलेनियम

आयरन

आयरन की कमी के कारण आपको बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है। दरअसल, आयरन आपके शरीर में हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में मदद करता है। आयरन रेड ब्लड सेल्स की मदद से पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है और इससे आपके बालों को जरूरी पोषक तत्व और ऑक्सीजन मिल पाता है। आयरन की कमी की वजह से आपके पूरी बॉडी में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता है और इस वजह से आपको बालों के झड़ने की समस्या हो जाती है। 

जिंक

बालों को स्वस्थ रखने के लिए जिंक भी बहुत ही जरूरी मिनरल होता है क्योंकि यदि आपके शरीर में जिंक की कमी हो जाती है तो इससे आपके बालों के रोम को सही से प्रोटीन नहीं मिल पाता है और इस वजह से बालों की जड़े कमजोर हो जाती हैं और आपके बाल तेजी से झड़ने लग जाते हैं। 

फैटी एसिड

फैटी एसिड में ओमेगा 3 और ओमेगा 6 शामिल है जो बालों के बढ़ने में मदद करते हैं। यदि आपके शरीर में इनकी कमी होती है तो आपकी स्कैल्प और आइब्रो के बाल झड़ने लग जाते हैं। साथ ही आपके बालों का रंग भी हल्का हो जाता है।

सेलेनियम

सेलेनियम में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो आपके बालों को स्वस्थ रखने और हार्मोनल का संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं। 

हम उम्मीद करते हैं कि आपको अब पता चल गया होगा कि बालों के झड़ने के पीछे कौन से हार्मोन, विटामिन्स (विटामिन की कमी से होने वाले रोग) या फिर मिनरल्स जिम्मेदार होते हैं और हम उम्मीद करते हैं कि इसके बाद आप भी अपने बालों की जरूरी देखभाल करेंगे। 

ये भी पढ़ें 

बालों के लिए सबसे अच्छा तेल – जानें कि आपके बालों के लिए सबसे अच्छा तेल कौन सा है। 

बाल लंबे करने के लिए 10 सबसे अच्छे शैम्पू – अगर आप अपने बालों को लंबा करना चाहते हैं तो यहां आप इसके लिए बेस्ट 10 शैंपू के बारे में जान सकते हैं।

How to Stop Hair Fall in Hindi – अगर आप अपने बालों के झड़ने की समस्या को दूर करना चाहते हैं तो यह टिप्स आपके बहुत काम आएंगी।

06 Jun 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text