home / पैरेंटिंग
डिलीवरी की तैयारी

गर्भावस्था में फॉलो करें ये 5 बातें, डिलीवरी में नहीं होगी दिक्कत

महिला जब बच्चे को जन्म दे रही होती हैं, तो उस वक्त वह दुनिया के सबसे बड़े दर्द को झेल रही होती हैं। प्रसव के दौरान महिला को होने वाली पीड़ा को शब्दों में बताना मुश्किल है। बताया जाता है कि जब महिला एक बच्चे को जन्म दे रही होती है, तो उसे शरीर की कई हड्डियों के टूटने जितना दर्द होता है। इतनी बातें जानने के बाद पहली बार डिलीवरी को लेकर हर महिला के मन में भय होना लाजमी है। इसलिए पहले से डिलीवरी की तैयारी करना अच्छा प्रैक्टिस होता है।

इसलिए जरूरी है कि डिलीवरी के दौरान महिला तनाव मुक्त हो और खुद को पहले से ही इसके लिए तैयार कर लें। इस लेख में हम आपको उन टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो डिलीवरी का समय आते-आते आपको मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत बनाने में मददगार होंगी। तो चलिए जानते हैं डिलीवरी की तैयारी व आसान प्रसव के लिए इन टिप्स के बारे में।

लेबर व डिलीवरी की तैयारी के लिए टिप्स (Tips to Help You Prepare for Childbirth and Labor in Hindi)

गर्भावस्था का समय एक महिला के जीवन का सबसे नाजुक दौर होता है। कोई महिला कितनी भी मजबूत क्यों न हो, लेकिन जब डिलीवरी का समय पास आता है, हर किसी को चिंता सताने लगती है। सही जानकारी और परिवार का साथ मिले तो उनका यह सफर थोड़ा आसान हो सकता है। नीचे कुछ ऐसे टिप्स दे रहे हैं, जिससे गर्भवती महिला को लेबर व डिलीवरी के लिए मानसिक तौर पर तैयार करने में मदद हो सकती है।

  1.  डिलीवरी क्लास जॉइन करें

गर्भवती महिलाएं दूसरी तिमाही के दौरान चाइल्डबर्थ कोर्स जॉइन कर सकती हैं। इसमें एक्सपर्ट्स लेबर के प्रोसेस के बारे में विस्तार से समझाते हैं। इसमें वीडियो के माध्यम से लेबर पेन से लेकर नॉर्मल और सी-सेक्शन डिलीवरी के बारे में बताया जाता है।

इस सेशन के जरिए माँ को बच्चे के जन्म की पूरी प्रक्रिया समझने में मदद होती है। यही नहीं इन क्लासेस में कुछ महिलाएं अपना लाइव एक्सपीरिएंस शेयर करती हैं। इससे गर्भवतियों को इस सफर को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलती है।

  1. योगा
डिलीवरी की तैयारी
प्रेग्नेंसी योग

प्रेग्नेंसी के दौरान योगा करने के कई फायदे होते हैं। नियमित रूप से योगा करने से गर्भवती महिला को ताकत और फोकस करने में मदद मिलती है। डिलीवरी के समय एक महिला को इन दोनों की जरूरत होती है। इससे गर्भवती के लिए डिलीवरी का प्रोसेस थोड़ा आसान हो सकता है। ध्यान रखें गर्भवतियों को हमेशा एक्‍सपर्ट के मार्गदर्शन में योग का अभ्यास करना चाहिए। क्योंकि इस दौरान जरा सी लापरवाही माँ और बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है।

  1. इमोशन्स पर रखें पूरा कंट्रोल

गर्भवती महिलाओं को अक्सर चिकित्सक स्ट्रेस से खुद को दूर रहने की सलाह देते हैं।  दरअसल, इसका सीधा संबंध डिलीवरी से होता है। इसके लिए आप मेडिटेशन का सहारा ले सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान अपने इमोशन्स पर पूरा कंट्रोल रखने से प्रसव की प्रक्रिया का सामना आराम से कर पाएंगी। यदि डिलीवरी के दौरान आप किसी तनाव में होंगी, तो इससे शरीर कठोर हो सकता है। ऐसे में कई दफा शरीर लेबर के प्रति प्रतिक्रिया देना बंद कर देता है।

  1. अपने सवालों को खुलकर रखें
डिलीवरी की तैयारी
गायनो से कंसल्टेशन

महिलाओं के लिए यह समय काफी परेशानियों भरा होता है। इस दौरान महिला कई सारे शारीरिक और मानसिक बदलावों से गुजरती है। इस दौरान यदि महिला के मन में लेबर व डिलीवरी को लेकर किसी तरह का कोई संशय या डर है, तो उन्हें इसके बारे में खुलकर अपने चिकित्सक से चर्चा करनी चाहिए। इससे चिकित्सक उनके डर व एंग्जायटी को दूर करने का प्रयास करेंगे।

  1. अपने और बच्चे का बैग तैयार कर लें

डिलीवरी का समय नजदीक आने पर अस्पताल जाने के लिए अपना और बेबी का बैग तैयार कर लेना चाहिए। अपने बैग में गर्भवती माँ टूथब्रश, टूथपेस्ट, गाउन, चप्पल, हेयर बैंड, कंघी, शैंपू, बॉडी लोशन, बॉडी वॉश, ढीला गाउन, ब्रा, नर्सिंग ब्रा, अंडरवियर और सैनिटरी पैड रखें। इनमें से कुछ सामान आपको अस्पताल में मिल जाएगा। लेकिन बेहतर होगा आप अपने पास अपनी जरूरत का सारा सामान रखें। वहीं, शिशु के बैग में उसके कपड़े, डायपर, वाइप्स, टॉवल और एक मुलायम ब्लैंकेट रखें। ऐसा करने से किसी भी सामान की जरूरत के समय पर अफरातफरी नहीं होगी।

इस लेख में प्रेग्नेंट महिलाएं डिलीवरी के लिए खुद को कैसे तैयार करें, इससे जुड़ी जानकारी दी गई है। आशा करते हैं यह लेख आपके कई सारे संशय को दूर करने में मदद करेगा। पॉपएक्सो की टीम की तरफ से आपको हैप्पी प्रेग्नेंसी।

चित्र स्रोत: Freepik

13 May 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text