home / xSEO
Kisi ki Tareef me Shayari

Kisi ki Tareef me Shayari | पढ़िए 50+ किसी की प्रशंसा में शायरी और किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी

शायरी हर किसी को सुनना पसंद है और अगर ये शायरी तारीफ भरी हो तो समझिए जिसकी प्रशंसा हो रही है वो पूरी तरह से खुश। पार्टनर के लिए मिस यू शायरी के अलावा आप उनकी तारीफ करने के लिए भी शायरी का इस्तेमाल कर सकते हैं। किसी की तारीफ में दो शब्द कहना मुश्किल हो सकता है, लेकिन शायरी में किसी की प्रशंसा करना हमेशा आसान लगता है। तारीफ आपकी गर्लफ्रेंड के लिए हो या फिर जीवन साथी पर शायरी और स्टेटस हो, पार्टनर की ओर से शायरी में प्रशंसा सुनना हर किसी को अच्छा लगता है। और जीवनसाथी ही नहीं, किसी भी व्यक्ति की तारीफ में शायरी यूज करना चेहेरे पर भी स्माइल लाने के लिए काफी होता है। इसके लिए बस ये देखना है कि तारीफ सच्ची होनी चाहिए। किसी की प्रशंसा में शायरी और किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी ढूंढ रहे हैं तो यहां पढ़िए-

Kisi ki Tarif me Shayari | किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी

किसी व्यक्ति की तारीफ करते हुए अगर अंदाज शायराना रहे तो तारीफ लेना और देना, दोनों ही यादगार हो जाता है। अगर आप किसी खास या व्यक्ति विशेष की तारीफ करये ने से पीछे नहीं हटते तो आपको ये व्यक्ति विशेष की तारीफ शायरी यूज करनी चाहिए-

ये भी पढ़े-

 Famous Shayari in Hindi– हम आपके लिए लेकर आए हैं 70 से भी ज्यादा हिंदी शायरी कलेक्शन, जो हर मौके पर आपको शेरो शायरी करने में भरपूर मदद करेगा।

1. तस्वीर बना कर तेरी आसमान पर टांग कर आया हूँ,
और लोग पूछते है आज चाँद इतना बेदाग कैसे है।

2. हम तो उनकी तारीफ में लिखते रहे,
वो बस उन्हें पढ़ते रहे, और सुनते रहे,
हाल ए दिल कह दिया अपना हमने,
और वो अंत में वाह वाह करते रहे।

3. मुझको मालूम नहीं हुस्न की तारीफ,
मेरी नज़रो मैं हसीं वो है जो तुम जैसा हो।

4. यूँ ना निकला करो आज कल रात को,
चाँद छुप जायगा देख कर आप को।

5. क्या लिखू तेरी तारीफ़ ए सूरत में यार,
अल्फ़ाज़ काम पड़ जाते है, तेरी मासूमियत देखकर।

6. तुझ सा अगर कोई ज़रा भी खूबसूरत हो जाए,
तो तुझ सा तो नहीं पर वो भी बहुत खूबसूरत हो जाए।

7. ये शायरी खूबसूरत ना होती जो इसमें तेरे चेहरे का ज़िक्र ना होता।

ये भी पढ़े- Aankho par Shayari – हम आपके लिए कुछ बहुत ही शानदार आंखों पर शायरी (aankho par shayari) लेकर आए हैं।

Kisi ki Tareef mein Shayari in Hindi | किसी की तारीफ में कुछ शब्द

किसी की तारीफ में कुछ शब्द कहना हो और प्रशंसा के लिए शब्द न मिल रहे हों तो यहां दिए शायरियां यूज करें-

1. तुम्हारे गालों पर एक तिल का पहरा भी जरूरी है,
डर है की इस चहरे को किसी की नज़र न लग जाए।

2. आसमां में एक अजीब खलबली मची हुई है,
लोग पूछ रहे हैं की ये ज़मीं पे कौन घूम रहा है,
एक चाँद सा खूबसूरत चेहरा लिए हुए।

3. ममता की तारीफ न पूछिए साहब,
वक्त आने पर चिड़िया सांप से लड़ जाती है।

4. मेरी आँखों को जब उनका दीदार हो जाता है,”
दिन कोई भी हो मेरे लिए त्यौहार हो जाता है।

5. इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा,
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं।

ये भी पढ़े- 

Motivational shayari on teacher in hindi–  यहां बताए टीचर्स के लिए शायरी (teachers ke liye shayari) को यूज करके आप अपने गुरु के साथ सम्मान, प्यार और थोड़े मजेदार एहसास शेयर कर सकते हैं।

Love Shayari Hindi – अगर आपको भी हो गया है किसी से प्यार तो फिर हमारी लव शायरी हिंदी में (love shayari hindi) आपके बहुत काम आने वाली है।

Prashansa Shayari | प्रशंसनीय शायरी

Prashansa Shayari

किसी की तारीफ में कुछ शब्द कहना चाहते हैं तो इन प्रशंसनीय शायरी को यूज करके देखें-

1. ना जाने तू किस कदर मेरे दिल पे छाई है,
मैंने हर तारीफ में सिर्फ तेरी ही बाते सुनाई है।

2. यूं तो हजारों मिल जाते हैं रुलाने वाले,
बस नहीं मिलते हैं तो आप जैसे हंसाने वाले।

3. कुछ इस तरह से वो मुस्कुराते हैं,
कि परेशान लोग उन्हें देख कर खुश हो जाते हैं,
उनकी बातों का अजी क्या कहिये,
अल्फ़ाज़ फूल बनकर होंठों से निकल आते हैं।

4. तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो,
जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो,
किस लिए देखती हो आईना,
तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो।

5. हंसी फूलों को आती है,
जब आप मुस्कुराते हो,
हमारी दुनिया बदल जाती है,
जब आप मुस्कुराते हो,
आपकी मुस्कुराहट के आगे भला,
क्या चाँद की रौनक,
हुज़ूर खुद चाँद भी शरमाता है।

Vyakti ki prashansa shayari | व्यक्ति की प्रशंसा के शब्द

किसी की प्रशंसा करना है या किसी व्यक्ति के प्रशंसा के शब्द तलाश रहे हैं तो यहां लिखे ये शायरी आपके लिए उपयोगी हैं-

1. माना की तेरे शहर में गरीब कम होंगे,
अगर बिकी तेरी दोस्ती तो पहले खरीदार हम होंगे,
तुझे पता ना होगी तेरी क़ीमत पर,
तुझको पाकर सबसे अमीर हम होंगे। 

2. तक़दीर से तब हमे हिस्सा मिलता है,
प्यार भरा कोई जब रिश्ता मिलता है,
रोशन हो जाती है सारी दुनिआ,
जब रिश्तों में आप जैसा फ़रिश्ता मिलता है। 

3. अभी इस तरफ़ न निगाह कर,
मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ,
मेरा लफ़्ज़-लफ़्ज़ हो आईना,
तुझे आईने में उतार लूँ।

4. आपकी तारीफ के लायक बनना यही तो ख्वाहिश है मेरी,
क्योंकी हमसे ज़्यादा खूबसूरत, तो आपकी तारीफों के बोल होते है।

5. मेरी तारीफ़ ही कुछ इस तरह की उसने,
खुद की ही तस्वीर को सो दफा देखा मैंने।

ये भी पढ़े- Positive Attitude Quotes in Hindi – यहां हम आपके साथ शेयर कर रहे हैं कुछ ऐसे बेहतरीन एटीट्यूड शायरी जो कि आपके बारे में लोगों को बताने में आपकी काफी मदद करेंगे।

Acche Kaam ki Tarif Shayari | अच्छे कार्य की तारीफ शायरी 

Acche Kaam ki Tarif Shayari

अगर कोई अच्छे काम करता हो और इसके लिए उसे प्रसंशा मिले तो ये उसे प्रोत्साहित जरूर करती है। किसी इंसान के जज्बे को बनाए रखने और उसके अच्छे कामों की सराहना करने के लिए यदि आप शब्द नहीं चुन पा रहे हैं तो यहां बताए अच्छे कार्य की तारीफ शायरी में से एक चुनें-

1. क्या शब्द चुनूं तुम्हारी आन-बान-शान में,
ये कहना काफी नहीं कि,
तूम सबसे कमाल हो इस जहान में।

2. तारीफों के पुल बांधना तो मुझको आता नहीं,
लेकिन तेरा हर काम मुझे निशब्द कर देता है।

3. तू हर रोज दुनिया की खिदमत कुछ यूं करता है, 
दिल चाहता है तेरे हाथों को चूमकर तूझे सलाम करूं।

4. किसी और की इज्जत करना, खिदमत करना,
ऐ खुदा, किस रोज तू देता हैं लोगों को ये अद्भुत गुण,
तेरे ऐसे बंदे के आगे, हर रोशनी फिकी लगती है।

5. ग़ज़ल या शायरी की चाह नहीं, प्यार भरे तेरे दो बोल ही काफी है,
मुझे क्या लेना है तारीफों से, तेरा इक नज़र भर देखना ही काफी है।

ये भी पढ़े- Funny Shayari in Hindi – यहां आपके लिए मजेदार फनी शायरी की एक लंबी फेहरिस्त है।

Ghuno ki Prashansha mei Shayari | गुणों की प्रशंसा शायरी

Ghuno ki Prashansha mei Shayari

किसी व्यक्ति की तारीफ में कविता या किसी व्यक्ति की तारीफ में लेख लिखने से अच्छा है कि आप उसके लिए कम शब्दों में गुणों की प्रशंसा शायरी यूज करें-

1. इश्क के फूल खिलते हैं,
तेरी खूबसूरत आंखों में,
जहां देखे तू एक नजर,
वहां खुशबू बिखर जाए।

2. चेहरे को नहीं अपने व्यक्तित्व और व्यवहार को खूबसूरत बनाओ,
बिना डरे और बिना रुके बस आगे बढ़ते जाओ।

3. आसान है मासूमियत और शालीनता को बेवकूफी समझना,
पारखी नजरों के समाने ये खूबसूरत व्यक्तित्व है।

4. जो जीवनभर सीखने की इच्छा रखता है,
वही जीवन में आगे जाने की क्षमता रखता है।

5. अपने आप को ही अपना आदर्श बनाएं,
और बिना रुके आगे बढ़ते चले जाएं।

Kisi Vyakti ke kam ki tarif mai shayari | अच्छे कार्य की तारीफ शायरी

किसी व्यक्ति के काम की तारीफ में शायरी बोलना चाहते हैं तो इन अच्छे कार्य की तारीफ शायरी का इस्तेमाल करें-

1. आपकी तारीफ के लायक बनना यही तो ख्वाहिश है मेरी,
क्योंकी हमसे ज़्यादा खूबसूरत, तो आपकी तारीफों के बोल होते है।

2. तारीफ खुशबु से होती है,
इंसान कितना भी बड़ा हो,
कदर उसके गुणों से होती है।

3. ग़ज़ल या शायरी की चाह नहीं, प्यार भरे तेरे दो बोल ही काफी है,
मुझे क्या लेना है तारीफों से, तेरा इक नज़र भर देखना ही काफी है।

4. बिना बताए जिसे पता हो कि तू है उदास, 
ज़िंदगी में वहीं इंसान है सबसे खास।

5. तुम मुझे छवि में नहीं, लेकिन पसीने की महक में पाओ।
योजना के विस्तार की महक में ठहरो
मेरी आवाज की गूंज से पहचानो।
– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Shaks aur Shakisiyat Shayari | शख्स और शख्सियत शायरी

Shaks aur Shakisiyat Shayari

किसी शख्स और उसकी शख्सियत या उस इंसान के अच्छे काम की तारीफ करने के लिए यूज करें ये शख्स और शख्सियत शायरी-

1. मुख़ालिफ़त से मिरी शख़्सियत सँवरती है,
मैं दुश्मनों का बड़ा एहतिराम करता हूँ 

2. शख्स बनने में नौ महीने लगते हैं, शख्सियत बनाने में एक उम्र लग जाती है।

3. एहसान- ए- मोहब्बत उसपर न कर, 
वो ऐसा शख्सियत हैं जिसकी सादगी पर हजारों मरते हैं।

4. कौन पूरी तरह काबिल है, कौन पूरी तरह पूरा है, 
हर एक शख्स कहीं न कहीं से थोड़ा अधूरा है।

5. वो शख्स मेरे हर किस्से कहानी में आया,
जो मेरा हिस्सा होकर भी मेरे हिस्से न आया।

6. पलट सकूँ ही न आगे ही बढ़ सकूँ जिस पर..
मुझे ये कौन से रस्ते लगा गया इक शख़्स..!

7. क़रीब आने से चलता है शख़्सियत का पता…
ज़मीं से तो चांद जरा सा दिखाई देता है…!!

8. मुसीबत से निखरती है शख्सियत यारो,
जो चट्टानों से न उलझे, वो झरना किस काम का।

9. किताब सी शख्सियत दे ऐ मेरे खुदा,
सब कुछ कह दूं खामोश रहकर।

10. शख्स को तो झुका लोगे, किसी की शख्सियत से कैसे लड़ोगे।

Gayak ki Tarif mei Shayari | गायक की तारीफ में शायरी

अगर किसी गायक की तारीफ में शायरी कहना हो तो आप व्यक्ति विशेष की तारीफ, अच्छे कार्य की तारीफ के साथ-साथ वो जो गायक की तारीफ में शायरी लिखे गए हैं उन्हें यूज कर सकते हैं-

1. कंठ बिराजें सरस्वती, जिह्वा पर बिराजें राम,
युगों-युगों तक अमर रहेगा लता जी आपका नाम ।।

2. सावन की आगाज़ हैं आप, कोयल की सुर साज हैं आप,
बसंत में आप ही बहार है लातीं नौ रस की अल्फ़ाज़ हैं आप ।।

3. कयामत टूट पड़ती है जरा सा गुनगुनाने से, 
ना जाने हश्र क्या होगा जब वो गाएंगे।
हर आह में दबी हुई आह ढूंढ लेता है।

4. हर शायर शायरी का आगाज ढूंढ लेता है।
लय में डूबी हुई मस्ती भरे अंवाज के साथ
छेड़ दे कोई गजल इक नए अंदाज के साथ।

Kisi ki Prashansha mei Kavita | किसी की प्रशंसा में कविता

प्रशंसा में कई बड़े, मशहूर कवियों ने बड़ी खूबसूरती से  किसी की प्रशंसा में कविता लिखी है। यहां पढ़ें कुछ ऐसी ही कविताएं-

1. सौन्दर्य

(१)निस्सीम शक्ति निज को दर्पण में देख रही,
तुम स्वयं शक्ति हो या दर्पण की छाया हो?

(२)तुम्हारी मुस्कुराहट तीर है केवल?
धनुष का काम तो मादक तुम्हारा रूप करता है।

(३)सौन्दर्य रूप ही नहीं, अदृश्य लहर भी है।
उसका सर्वोत्तम अंश न चित्रित हो सकता।

(४)विश्व में सौन्दर्य की महिमा अगम है
हर तरफ हैं खिल रही फुलवारियाँ।
किन्तु मेरे जानते सब से अपर हैं
रूप की प्रतियोगिता में नारियाँ।

(५)तुम्हारी माधुरी, शुचिता, प्रभा, लावण्य की समता
अगर करते कभी तो एक केवल पुष्प करते हैं।
तुम्हें जब देखता हूँ, प्राण, जानें, क्यो विकल होते,
न जानें, कल्पना से क्यों जुही के फूल झरते हैं।

(६)रूप है वह पहला उपहार,
प्रकृति जो रमणी को देती,
और है यही वस्तु वह जिसे,
छीन सबसे पहले लेती।
– रामधारी सिंह दिनकर

2. काबिलियत की प्रशंसा

काबिलियत की प्रशंसा,
ठतो दुश्मन भी  बे हिसाब करते हैं,
मैं तपती जमीं पर जलंधर बांटता हूँ,
पतझड़ के रास्तों पर प्रशंसा बे हिसाब बांटता हूँ ,
ये आग का दरिया हे साहब, जीना बहुत है मुश्किल,
इस नफरत के दौर में, प्रशंसा प्यार की
बे हिसाब बाँटता हूँ ,
ना जाने कौन सी दुश्मनी पर आदमी को है नाज,
ओ खुदा आखिरी सफर में भी मैं प्यार बे हिसाब बाँटता हूँ,
मानव जब असली रूप में आता है,
तो चरित्र के नशे में रहता है,
इस नसे की असलियत में,
मैं प्यार की प्रशंसा बे हिसाब बाँटता हूँ ,
अगर रास्ता खूबसूरत तो पता कीजिये,
तो मैं आँसूओं के मंजर में,
प्रशंसा की दवा बे हिसाब बाँटता हूँ ,
साफ दामन का मंजर, कब तलक चलेगा साहिब,
दामन मे लगे धब्बों पे गुरूर करते लोगों को,
बादशाही का मंजर बे हिसाब उतारता हूँ ,
जिन्दगी में ऐहसासों का बड़ा है काम,
मैं ग़मों के मंजर में प्रशंसा बे हिसाब बाँटता हूँ ,
ना जाने कौन कब रौशनी सा जलता चिराग,
अंधेरों में बदल दे, मैं उसे ढाँढश की प्रशांसा का-चिराग बाँटता हूँ ,
मैं हुस्न की दुनिया में, बुझते दिया को,
इश्क़ की नश्लों का,धुआँ बांटता हूँ ,
में इश्क़ की मंजर की प्रशंसा बाँटता हूँ ,
मैं जिद की उलझी, गाँठ मैं,
उस बसेरा शहरे अदालत में,
सज्दों में उलझे लोगों का,
इस सूनी महफिल के घायलों को,
इस जिन्दगी के मुश्किल हालों में,
मैं जिन्दगी की प्रशंसा बाँटता हूँ /
– कवि भेल बनारसी

3. एक कविता तुम्हारी तारीफ में 

एक कविता तुम्हारी तारीफ में लिख रहा हूं,
लिख तो दूं पर शुरूआत कहां से करूं,
वैसा अब भी ना बना में जैसा दिख रहा हूं,
तुमसे तो होती नही बात किस जहान से करूं,
तुमसे जुड़े सारे अहसास वाकई कमाल है,
एक-दूसरे में लिपटे हुए तुम्हारे सुनहरे बाल हैं,
पसंद नही हाथों की जुल्फों पर दखलअंदाजी
इसलिए कभी हाथ भी ना लगाना चाहा मैंने
पर तुमको जिंदगी मानकर बहुत चाहा है मैंने,
वो काली बिंदी और काजल आज भी कायम है,
तुम्हारी हथेलियों का स्पर्श आज भी कितना मुलायम है,
कसूर आइने का ना निकालना अगर,
तुम्हें तुम्हारी नजर लग जाए,
तुम्हारी मौजूदगी ऐसी है कि,
हर लम्हा मेरा यादगार बन जाए
कुछ हर्फ तुम्हारी ज़ुबान ठीक से नही कह पाती है
तुम्हारी हथेलियां मेरी हथेलियों पर छोटी रह जाती हैं,
तुम्हारी तर्जनी अंगुली में अंगूठी है
जिस पर है अक्षर मेरे नाम का
शायद आज ना हो वो अंगुठी
और वो अक्षर मेरे नाम का,
तुम्हारी पसंद नीला रंग है,
तुम हो तो दिल में कोई ना रंज है,
तुम्हें सजना संवरना अच्छा लगता है,
बात बात पर गुस्सा अच्छा लगता है,
तुम्हें गोलगप्पे खाना मैंने सिखाया है
तू ही है सिर्फ जो मेरे दिल को भाया है,
पास बैठे बैठे तुम हाथ थाम लेते हो,
सारे किस्से तुम्हारे तुम मुझसे ही कहते हो,
तुम जानते हो मेरे बारे में सब कुछ,
मैं जानता हूं तेरे बारे में सब कुछ,
मुंतजिर हूं कब तुम्हारा नाम लिखूं मेरी कविताओं में,
इंतजार है कि कब बताऊं कि सब तुम्हारा है मेरी कविताओं में,
एक बार मैं फिर से सजदा कर रहा हूं,
एक कविता तुम्हारी तारीफ में लिख रहा हूं..-
कविश कुमार.

4. तारीफ़ आप की

ख़ुशनसीब होते है वे,
खुदा जिन्हे खूबसूरत ब़नाता हैं,
संवारता हैं फ़ुरसत भरें लम्हो में
किसी के प्यार की मूरत बनाता हैं
उनमें से एक आप भी है!
सूरज़ सी लाली दमक़ रहीं हो,
जिसकी झ़ील सी आंखों तले,
सुर्खं होठो की मुस्क़ान ऐसी,
देख जिसे गुलाब़ भी जले,
उनकें नाजुक़ पांव पडे जिस पथ
वो अपनें पर ईतराता हैं,
उनमें से एक़ आप भी है
कोरे कंग़ना क़वारे सवारे क़लाई,
जिसकी रूह क़ी महक सें,
ये वादियां गुनग़ुनाई,
घ़नेरी जुल्फो की लहर,
जैंसे गंगा क़ी आरती
मदहोश फिज़ाए भी,
जिसकें रूप को सवारती,
उनमें से एक़ आप भी है!
सच मे,
खुशनसीब़ होते है वो………..! “

5. उनकी तारीफ के कसीदे

क़भी शब़नमी-सी रात क़भी, भीगी-भीग़ी, चांदनीं से होतें है,
मुझ़पे ग़जल वो क़हते है, तो क़भी, मुझें गज़ल-सा क़हते है।
उनक़ी तारीफ़ की अदा..
चांद क़ी मदमाती चांदनी सें, यू मेरें अक्स क़ो छू ज़ाती हैं,
शरारात भ़री नजरो से मेरें दिल क़ो, तार- तार क़र ज़ाती हैं।
उनक़ी तारीफ कें लफ्ज ..
बिख़रे है फ़कत आरजूओ से तो, क़भी जुस्तजू सें ख़िलते है,
दुआ मे फरिश्तो को शामिल क़र, उस दुआ सें फ़लते है।
उनक़ी तारीफ क़ा अन्दाज..
फूलो सा हंसी, चादनी का ग़ुरूर, मुझें चांद-सा मज़हबी,क़हता हैं,
कहते है कि जो तू ग़र देख़ ले दर्पण, तो वो़ भी महक़ उठता हैं।
उनक़ी तारीफ क़ी हंसी..
मेरें लबो से छूक़र फ़िर उनक़ी आंखो से, टपक़ती खिलख़िलाती हैं,
चांद के चांदनीं नूर से सराब़ोर करती, मुझें कोहिनूर ब़ना ज़ाती है।
– निशा माथुर

किसी की तारीफ में कुछ शब्द कहना हो तो आप कुछ लाइनें मेसेज या व्हाट्एप पर लिख कर बेशक भेज सकते हैं, लेकिन अगर इसके लिए आप प्रशंसा शायरी (prashansa shayari) यूज करेंगे तो उसका असर कुछ खास ही होगा। इसके लिए आप गुणों की प्रशंसा शायरी यूज कर सकते हैं या फिर उनके अच्छे काम की तारीफ शायरी चुन सकते हैं।

22 Nov 2022

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text