Advertisement

एस्ट्रो वर्ल्ड

जानिए 24 या फिर 25 किस दिन मनाया जा रहा है करवा चौथ, क्या है पूजा करने का शुभ मुहूर्त

Archana ChaturvediArchana Chaturvedi  |  Oct 22, 2021
जानिए 24 या फिर 25 किस दिन मनाया जा रहा है करवा चौथ, क्या है पूजा करने का शुभ मुहूर्त

Advertisement

करवा चौथ को अखंड सौभाग्य और विजय की कामना का व्रत कहा जाता है। क्योंकि इस दिन सुहागिनें अपने प्यार, रिश्ते की लंबी उम्र के लिए पूरा दिन व्रत करती हैं और चांद की पूजा कर अखंड सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद मांगती हैं। करवा चौथ केवल परंपरा निभाने भर का पर्व नहीं है। बल्कि ये समर्पण की शक्ति का उत्सव और जीवनभर जीवनसाथी से साथ निभाने का वचन लेने का दिन है। कहा जाता है कि चंद्रमा मन का स्वामी है और उसकी पूजा करने से पति-पत्नी के बीच समर्पण, भरोसे औऱ प्यार में वृद्धि होती है। आजकल ज्यादातर कोई तीज-त्योहार दो तिथियों में पड़ जाते हैं, ऐसे में लोगों का कंफ्यूज होना जायज है। इसीलिए यहां हम आप की इस दुविधा को दूर करते हुए करवा चौथ 2021 (karwa chauth wishes in hindi) किस दिन है ? इस बारे में विस्तारपूर्वक बता रहे हैं। 

आखिर किस दिन है करवा चौथ ?

हर किसी को इस बात की दुविधा है कि आखिर करवाचौथ किस दिन पड़ रहा है? 24 या फिर 25 अक्टूबर? दरअसल अगर आप गूगल में सर्च करेंगे तो 24-25 अक्टूबर दोनों ही तिथि दिखेगी। लेकिन आइए जानते हैं इस विषय में पंचाग और एक्सपर्ट्स का क्या कहना है। आचार्य विनोद मिश्र का कहना है कि इस साल यानि कि 2021 करवा चौथ का व्रत 24 अक्टूबर, रविवार को है। हर साल करवा चौथ व्रत कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन रखा जाता है। इस साल 24-25 अक्टूबर दोनों ही दिन यह तिथि पड़ रही है। क्योंकि इस दिन चांद की पूजा की जाती है तो 25 अक्टूबर के दिन चतुर्थी तिथि सुबह 05 बजकर 43 मिनट पर ही समाप्त हो जायेगी। ऐसे में 24 अक्टूबर के दिन ही करवाचौथ की पूजा का शुभ मुहूर्त बन रहा है। 

करवा चौथ व्रत तिथि और समय Karwa Chauth 2021 Date and Time in Hindi

व्रत तिथि – 24 अक्टूबर 2021, दिन रविवार

चतुर्थी तिथि आरंभ – 24 अक्टूबर 2021 रविवार को सुबह 03 बजकर 01 मिनट से होगा शुरू

चतुर्थी तिथि समाप्त – 25 अक्टूबर 2021 सोमवार को सुबह 05 बजकर 43 मिनट पर

चंद्रोदय का समय – 8 बजकर 7 मिनट पर दिखेगा चांद

इस साल बन रहा है खास संयोग

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिस साल करवा चौथ के दिन चंद्रमा रोहिणी नक्षत्र में होता है, उस साल करवा चौथ का पूजन, चंद्र दर्शन और अर्ध्य विशेष फलदायी होता है।  24 अक्टूबर को चंद्रोदय रात 7 बजकर 55 मिनट पर होगा और रोहिणी नक्षत्र रात 11 बजकर 35 मिनट तक रहेगा। इस साल करवा चौथ पर शुभ संयोग बन रहा है। हिन्दू पंचांग के अनुसार, करवा चौथ के दिन चंद्र देव रोहिणी नक्षत्र में उदय होंगे। मान्यता है कि, इस नक्षत्र में व्रत रखना बेहद शुभ होता है। इस नक्षत्र में चंद्र देव के दर्शन से मनवांछित फल प्राप्त होता है। वहीं जो नवविवाहिता है और पहली बार करवा चौथ का व्रत कर रही है उनके लिए ये दिन विशेष शुभ फल देने वाला है। क्योंकि उन्हें उच्च राशि के चंद्रमा का दर्शन और पूजन करने का अवसर मिलेगा।