home / Diet
अगर आप भी रोजाना नाश्ते में करते हैं ब्रेड का सेवन तो हो जाइए सावधान!

अगर आप भी रोजाना नाश्ते में करते हैं ब्रेड का सेवन तो हो जाइए सावधान!

ब्रेड आज के समय में पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा खाई भी जाती है और पसंद भी की जाती है। लोगों के बिजी लाइफस्टाइल की वजह से आजकल सुबह के नाश्ते में पराठों की जगह ब्रेड-बटर ने ले ली है। मिनटों में तैयार हो जाने वाले इस नाश्ते को ज्यादातर वर्किंग लोग खाना पसंद करते हैं। ब्रेड का उपयोग मीठे और नमकीन दोनों तरह के डिशेज बनाने के लिए किया जा सकता है। यह खाने का एक आसान विकल्प हो सकता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि रोज-रोज ब्रेड खाना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। ब्रेड मैदा और चीनी से बनाई जाती है जिसका मतलब है कि ब्रेड में कार्बोहाइड्रेट और चीनी की मात्रा अधिक होती है। ब्रेड में कोई भी पोषक तत्व नहीं होते हैं सिर्फ कैलोरी होती है। इसका मतलब है कि ब्रेड से सिर्फ आपका वजन बढ़ता है। 

आपको ब्रेड खाना कितना भी पसंद क्यों न हो, यह आपकी सेहत के लिए हानिकारक होती है। बहुत से लोग सुबह या शाम को नाश्ते में ब्रेड खाना पसंद करते हैं। लेकिन शायद इस बात से अंजान होते हैं कि रोज-रोज वो जो ब्रेड इतने चाव से खा रहे हैं, असल में वो कितनी ज्यादा हानिकारक है उनके शरीर के लिए। आइए आपको इस सच से रूबरू करवाते हैं।

रोज ब्रेड खाने के नुकसान side effects of eating bread everyday in hindi

देखिए ब्रेड चाहे आटे से बनी हो या मैदे से, इसमें ग्लूटेन की मात्रा अधिक होती है। ग्लूटेन वह प्रोटीन है जो ब्रेड को शेप देने में मदद करता है। बहुत से लोगों को इससे एलर्जी होती है, क्योंकि ग्लूटेन को पचाना आसान नहीं होता, जिससे सूजन, डायरिया और पेट दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं। ब्रेड अमूमन मैदे से बनती है, इसलिए शरीर को ब्रेड पचाने में काफी समय लगता है और इसमें कार्बोहाइड्रेट की अधिक मात्रा लीवर को नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसे में आइए जानते हैं ज्यादा ब्रेड ज्यादा खाने से हमारे शरीर को किस तरह से नुकसान पहुंचता है –

मोटापे की शिकायत

ये बात गांठ बांध लीजिए कि जो लोग मोटापे के शिकार है या फिर बॉर्डर लाइन पर उन्हें तो वाइट ब्रेड की तरफ देखना भी नहीं चाहिए। क्योंकि वाइट ब्रेड का सेवन आपका ब्लड शुगर लेवल काफी तेजी से बढ़ता और घटता है। जब ब्लड शुगर लेवल तेजी से कम होता है तो व्यक्ति को भूख अधिक लगती है और वो बार-बार खाता है। इसमें मौजूद नमक, चीनी और प्रिजर्वेटिव वजन बढ़ाने वाले होते हैं। अगर आप इन चीजों का ज्यादा सेवन करते हैं तो आपका वजन तेजी से बढ़ता है। इसलिए अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो ब्रेड का सेवन बिल्कुल भी न करें।

शुगर बढ़ने का खतरा 

रोज ब्रेड खाने से ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है, जिससे डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। रोटी कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होती है इसलिए यह हाई ब्लड प्रेशर और मधुमेह वाले लोगों के लिए फायदेमंद नहीं है। मधुमेह के रोगी का आहार उचित और संतुलित होना चाहिए। क्योंकि कार्बोहाइड्रेट ब्लड शुगर को बढ़ाने का काम करते हैं। मधुमेह अपने साथ और भी कई बीमारियां लेकर आता है। 

कब्ज की शिकायत

जो लोग रोजाना वाइट ब्रेड का सेवन करते हैं उन्हें कब्ज की भयंकर समस्या हो जाती है। सफेद ब्रेड चोकर रहित होती है, इसमें फाइबर की मात्रा न के बराबर होती है, जो भोजन के धीमे पाचन को उत्तेजित करता है। यही वजह है कि ब्रेड के नियमित सेवन से कब्ज की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

ये समस्याएं भी होती हैं –

  • साथ ही जो लोग रोज रोटी खाते हैं उन्हें सीने में जलन की समस्या होने की संभावना अधिक होती है। 
  • रोजाना ब्रेड खाने से पाचन तंत्र भी कमजोर हो जाता है। 
  • ब्रेड में सोडियम भी बहुत अधिक होता है, जो हाई ब्लडप्रेशर और कोलेस्ट्रॉल की समस्याओं में योगदान देता है। 
  • ब्रेड के नियमित सेवन से हृदय रोग का खतरा भी बढ़ जाता है। 
  • रोज ब्रेड खाने से शरीर में सूजन और हार्मोन्स का असंतुलन हो सकता है।

किस तरह की रोटी खाना अच्छा है?

अगर आपको ब्रेड पसंद है, तो आप ब्राउन ब्रेड, होल ग्रेन ब्रेड, होल व्हीट ब्रेड, फ्लैक्स सीड्स वाली ब्रेड और अन्य हेल्दी ब्रेड खा सकते हैं। लेकिन कोशिश करें कि रोज ब्रेड खाने की बजाय कुछ पौष्टिक खाना खाएं और इसे 2-3 दिन के गैप में खाएं।
चेहरे का मोटापा (Facial Fat) कम करने के आसान और असरदार तरीके
#FAQ: क्या शुगर के मरीज को व्रत करना चाहिए? जानिए डायबिटीज और फास्टिंग से जुड़े ऐसे ही सवालों के जवाब

04 Oct 2022

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text