home / xSEO
Rabindranath Tagore Quotes in Hindi

Rabindranath Tagore Quotes in Hindi – पढ़िए रबीन्द्रनाथ टैगोर के कोट्स

रवींद्रनाथ टैगोर (1861-1941) ब्रह्म समाज के नेता देवेंद्रनाथ टैगोर के सबसे छोटे पुत्र थे, जो उन्नीसवीं सदी के बंगाल में एक नया धार्मिक संप्रदाय था और जिसने हिंदू धर्म के अंतिम अद्वैतवादी आधार उपनिषद को पुनर्जीवित करने का प्रयास किया था। उनकी शिक्षा घर पर ही हुई थी; और यद्यपि सत्रह वर्ष की उम्र में उन्हें औपचारिक स्कूली शिक्षा के लिए इंग्लैंड भेज दिया गया था, उन्होंने वहां अपनी पढ़ाई पूरी नहीं की। विवेकानंद (Vivekananda Quotes in Hindi) की तरह रवीन्द्रनाथ टैगोर ने अपने जीवनकाल में कई रबीन्द्रनाथ टैगोर कोट्स (rabindranath tagore quotes in hindi) और रवीन्द्रनाथ टैगोर के शैक्षिक विचार (quotes on education by rabindranath tagore) विचार रखे थे। इन्हीं में से कुछ हम आपके सामने यहां लेकर आये हैं। 

Rabindranath Tagore Quotes in Hindi –  रबीन्द्रनाथ टैगोर के कोट्स

अपने परिपक्व वर्षों में, अपनी बहुपक्षीय साहित्यिक गतिविधियों के अलावा, उन्होंने पारिवारिक सम्पदा का प्रबंधन किया, एक ऐसी परियोजना जिसने उन्हें आम मानवता के साथ निकट संपर्क में लाया और सामाजिक सुधारों में उनकी रुचि को बढ़ाया। उन्होंने शांतिनिकेतन में एक प्रायोगिक स्कूल भी शुरू किया जहां उन्होंने शिक्षा के अपने उपनिषदिक आदर्शों को आजमाया। जिंदगी में सफलता (Success Quotes in Hindi) पाने के लिए पढ़िए रबीन्द्रनाथ टैगोर कोट्स (rabindranath tagore quotes hindi)।

H2: Rabindranath Tagore Quotes in Hindi

1- खुश रहना बहुत सरल है, लेकिन सरल होना बहुत कठिन है।

2- यदि आप सभी त्रुटियों के लिए दरवाजा बंद कर दोगे तो सच अपने आप बाहर बंद हो जाएगा।

3- मनुष्य की सेवा भी ईश्वर की सेवा है।

4- सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाक़ू की तरह है जिसमे सिर्फ ब्लेड है. यह इसका प्रयोग करने वाले के हाथ से खून निकाल देता है.

5- फूल की पंखुड़ियों को तोड़ कर आप उसकी सुंदरता को इकठ्ठा नहीं करते।

6- मित्रता की गहराई परिचय की लम्बाई पर निर्भर नहीं करती।

7- कट्टरता सच को उन हाथों में सुरक्षित रखने की कोशिश करती है जो उसे मारना चाहते हैं

8- जो कुछ हमारा है वो हम तक तभी पहुचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं।

9- आस्था वो पक्षी है जो भोर के अँधेरे में भी उजाले को महसूस करती है।

10- हम महानता के सबसे करीब तब आते हैं जब हम विनम्रता में महान होते हैं।

Rabindranath Tagore ke Vichar – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार

1912 से टैगोर ने भारत से बाहर लंबा समय बिताया, यूरोप, अमेरिका और पूर्वी एशिया में अपने काम से व्याख्यान और पढ़ने और भारतीय स्वतंत्रता के लिए एक वाक्पटु प्रवक्ता बन गए। बंगाली में टैगोर के उपन्यास उनकी कविताओं और लघु कथाओं की तुलना में कम प्रसिद्ध हैं। इनमें गोरा (1910) और घरे-बैरे (1916) शामिल है। टैगोर जी के सुविचार (Suvichar in Hindi) के साथ पढ़िए rabindranath tagore ke vichar. 

H2: Rabindranath Tagore ke Vichar

1- किसी बच्चे की शिक्षा अपने ज्ञान तक सीमित मत रखिये, क्योंकि वह किसी और समय में पैदा हुआ है.

2- कला के माध्यम से व्यक्ति खुद को उजागर करता है अपनी वस्तुओं को नहीं।

3- आपकी मूर्ति जब टूट कर धूल में मिल जाती है तो वो इस को साबित करती है कि इश्वर की धूल आपकी मूर्ती से महान है।

4- यदि आप इसलिए रोते हैं कि कोई सूरज आपके जीवन से बाहर चला गया है, तो आपके आँसू आपको सितारों को देखने से भी रोकेंगे।

5- जब मैं अपने आप पर हँसता हूँ तो मेरे ऊपर से मेरा बोझ बहुत कम हो जाता है।

6- हर एक कठिनाई जिससे आप मुंह मोड़ लेते हैं,एक भूत बन कर आपकी नीद में बाधा डालेगी.

7- मैं एक आशावादी होने का अपना ही संसकरण बन गया हूँ। यदि मैं एक दरवाजे से नहीं जा पाता तो दुसरे से जाऊंगा- या एक नया दरवाजा बनाऊंगा. वर्तमान चाहे जितना भी अंधकारमय हो कुछ शानदार सामने आएगा।

8- मुझे खतरों से बचने की प्रार्थना नहीं करनी चाहिए, बल्कि उनका सामना करने में निडर होना चाहिए। मुझे अपने दर्द को दूर करने के लिए नहीं, बल्कि दिल को जीतने के लिए भीख माँगने दो।

9- मैंने स्वप्न देखा कि जीवन आनंद है. मैं जागा और पाया कि जीवन सेवा है. मैंने सेवा की और पाया कि सेवा में ही आनंद है।

10- जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप में कह नहीं सकता, उसी को क्रोध अधिक आता है।

Rabindranath Tagore ke Shaikshik Vichar – रवीन्द्रनाथ टैगोर के शैक्षिक विचार

टैगोर के शैक्षिक दर्शन में चार मूलभूत सिद्धांत हैं; प्रकृतिवाद, मानवतावाद, अंतर्राष्ट्रीयवाद और आदर्शवाद। शांतिनिकेतन और विश्व भारती दोनों इन्हीं सिद्धांतों पर आधारित हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि शिक्षा एक प्राकृतिक परिवेश में प्रदान की जानी चाहिए। वह बच्चों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देने में विश्वास करते थे। उन्होंने यह भी कहा कि एक शैक्षणिक संस्थान “एक मृत पिंजरा नहीं होना चाहिए जिसमें जीवित दिमाग कृत्रिम रूप से तैयार भोजन से खिलाया जाता है। पढ़िए रवीन्द्रनाथ टैगोर के शैक्षिक विचार (rabindranath tagore quotes in hindi)।

1- बालक की शिक्षा उसकी मातृ भाषा के माध्यम से होनी चाहिए।

2- शिक्षा की धारणा शरीर तथा आत्मा से है, जो प्राकृती की गोद में स्वस्थ एवं प्रशांत प्रसन्नचित होकर विकास करता है।

3- शिक्षक बालक की पवित्रता में विश्वास करते हुए उसके साथ प्रेम तथा सहानुभूति पूर्ण व्यवहार करें।

4- शिक्षक बालक को रचनात्मक कार्य करने के लिए उत्तेजित करते रहें।

5- शिक्षक पुस्तकीय ज्ञान पर ध्यान कम दे तथा ऐसा वातावरण तैयार करें जिसमें क्रियाशील रहते हुए बालक अपने नीति अनुभव द्वारा स्वयं सीखता रहें।

6- शिक्षण विधि को बालक की स्वाभाविक, रूचियों, और आवेगो पर आधारित होना चाहिए। शिक्षण विधि में वाद विवाद और प्रश्नोत्तर का प्रयोग करना चाहिए।

7- शिक्षण विधि में बालक के अनुभव सौर इंद्रियों का प्रयोग करनी चाहिए।

8-  शिक्षा द्वारा बालक की समस्त शक्तियों का सामंजस्य पूर्ण विकास होनी चाहिए।

9- बालक की शिक्षा नगरो से दूर प्रकृति की गोद में होनी चाहिए।

10- बालक को प्राकृतिक वातावरण में स्वतंत्रता पूर्वक स्वयं करके सीखने का अवसर मिलना चाहिए।

अगर आपको यहां दिए गए रवीन्द्रनाथ टैगोर के शैक्षिक विचार व रबीन्द्रनाथ टैगोर कोट्स (rabindranath tagore quotes in hindi) पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें।

ये भी पढ़ें 

Mahatma Gandhi Quotes in Hindi
Success Quotes in Hindi for 2022

सीख लो जिंदगी की ये 10 बेहद जरूरी बातें

10 Apr 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text