Women's Safety

ये तानें बताते हैं कि जमाना भले ही बदल गया है लेकिन महिलाओं के प्रति लोगों की सोच नहीं

Archana ChaturvediArchana Chaturvedi  |  Mar 5, 2020
ये तानें बताते हैं कि जमाना भले ही बदल गया है लेकिन महिलाओं के प्रति लोगों की सोच नहीं

जमाना तेजी से बदल रहा है। टेलीफोन की जगह स्मार्टफोन ने ले ली है। देश तरक्की की राह पर है। पुराने जमाने में लोगों को जो काम करना मुश्किल लगते थे आज टेक्नोलॉजी के आ जाने से वो आसान हो गये है। अगर कुछ नहीं बदला है तो वो है महिलाओं के प्रति समाज के लोगों की सोच। अगर ये मान भी लें कि समाज का नजरिया बदला है लेकिन फिर भी वो आदत नहीं बन पाया। समाज पूरी तरह से इस बात को स्वीकार नहीं कर पाया है कि महिलाएं भी पुरुषों को बराबरी में टक्कर दे रही हैं। आज भी कहीं न कहीं उन्हें समझौता करना ही पड़ता है। महिलाओं को घर से बाहर जाने की छूट तो मिली लेकिन एक सवाल के साथ… ‘वहां क्या कर रही थी तुम ?’ उन्हें सपनों को पूरा करने की हामी तो मिली लेकिन एक सीमा तय कर दी गई… ‘बिटिया पहले शादी कर लो बाद में पढ़ लेना’। वजह कुछ भी हो लेकिन महिलाओं को हमेशा सवालों के घेरे में ही रहना पड़ता है। उसकी मानसिक पीड़ा को शायद उससे बेहतर कोई नहीं समझ पाता। चाहे कॉलेज गोइंग गर्ल हो, वर्किंग वूमन हो या फिर हाउस वाइफ, आज भी कहीं न कहीं महिलाओं को समाज के भद्दे तानें सुनने ही पड़ते हैं – 

‘आजकल की लड़कियों ने शर्म बेच खाई है ….’

आजकल लोगों ने मॉर्डन चीजों को तो अपना लिया है लेकिन सिर्फ और सिर्फ लड़कियों के मॉर्डन कपड़ों को नहीं। उन्हें लगता है कि स्त्री पूरे और ढके कपड़ों में ही अच्छी लगती है। अमूमन लड़कियों को छोटे कपड़े पहने पर समाज के भद्दे कमेंट सुनने पड़ते हैं। यही नहीं देश के कई बुद्धिजीवियों ने तो ये तक कह दिया लड़कियों के छोटे कपड़े पहनने की वजह से ही रेप जैसी घटनाएं होती हैं।

‘पहले शादी कर लो बाद में और पढ़ लेना …’

जहां एक ओर महिलाएं देश का नाम रौशन कर रही हैं वहीं दूसरी तरफ आज भी उन्हें बोझ समझा जाता है। ‘लड़की हुई है’ ये शब्द सुनने के बाद से ही घरवाले उसकी शादी के लिए पूंजी इकट्ठा करना शुरू कर देते हैं। इसकी कटौती वो उसकी पढ़ाई से करने लगते हैं। आज भी पिछड़े जगहों में उन्हें ज्यादा नहीं पढ़ने दिया जाता है क्योंकि उनसे ज्यादा पढ़ा-लिखा लड़का ढूंढने में घरवालों को मुश्किल होती है।

‘अकेली घर से बाहर मत जाना, अपने छोटे भाई को साथ लेती जा ….’

हमारे ही समाज में बहुत से लोगों को लगता है कि लड़की अगर अकेले बाहर जाएगी तो कोई उसका गलत फायदा उठा सकता है। शुरू से ही लड़कियों को कमजोर समझा जाता है और लड़कों को ताकतवर। अधिकांश घरों में पहले और आज भी बहनों की रक्षा के लिए उनके छोटे भाईयों के साथ उन्हें घर से बाहर भेजा जाता है।

‘खाना बनाना सीख, ससुराल में नाक कटाएगी क्या …’

मैदान में बल्ला उठाने से लेकर आसमान में जहाज उड़ाने तक महिलाएं हर काम कर रही हैं। लेकिन उन्हें आज भी घर का काम जैसे – खाना बनाना, साफ-सफाई करना, बच्चों का पालन-पोषण करना जैसे कामों से ही आंका जाता है। ऑफिस का काम करने के साथ-साथ मजबूरन महिलाओं को घर के काम भी करने पड़ते हैं। उसके बावजूद भी उन्हें समाज की ओर से ऐसे तानें मिलना बंद नहीं होते। 

‘बहू, मुझे तो पोता ही चाहिए और वो भी शादी के 1 साल के अंदर ….’

शादी होने के कुछ महीनों बाद से महिलाओं पर बच्चा पैदा करने का दबाव डालना शुरू हो जाता है। अगर वो प्रेगनेंट हो जाएं तो दिन-रात उसे यही समझाया जाता है कि बच्चा लड़का ही होना चाहिए। यही नहीं अगर लड़की हो जाती है तो उसका भी दोष महिला को ही दिया जाता है। 

‘क्या जरूरत है प्रोटेक्शन लेने की? दवाई खा लेना …’

महिलाओं की सेक्स इच्छा को लेकर बात करना हमारे समाज में अपराध करने से कम नहीं समझा जाता है। पुरुष उन्हें बस अपनी हवस मिटाने का एक साधन समझते हैं। आज भी कई मामलों में ये पाया गया है कि ज्यादातर पुरुष सेक्स के दौरान कंडोम यूज करना चाहते हैं बल्कि महिलाओं को पिल्स लेने पर मजबूर करते हैं।

‘तुम्हें नौकरी करने की क्या जरूरत है, पति अच्छा-खासा कमाता तो है…’

महिलाओं का इस तरह बराबरी के साथ काम करना पुरुष प्रधान समाज को रास नहीं आता है। उन्हें ये नहीं दिखता है कि इससे उनके घर की आर्थिक स्थिति बेहतर होगी, समाज प्रगति करेगा। बल्कि ये लगता है कि एक लड़की तब ही काम करती है जब उसके घर की हालत ठीक नहीं होती है। वरना ‘अच्छे घर के लोग अपनी बहू-बेटियों से पैसे थोड़ी कमवाते हैं।’ 

‘अगर एक थप्पड़ मार दिया तो क्या हो गया, वो पति है तुम्हारा …’

हिंसा हर तरह से गलत ही होती है, अब वो चाहे घर से बाहर हो या फिर घर के अंदर। लेकिन महिलाओं पर हाथ उठाना लोग मर्दानगी का काम समझते हैं। घरेलू हिंसा को आज भी कई घरों में बड़ी बात नहीं समझा जाता है। महिला को ये कहकर हमेशा चुप करा दिया जाता है कि ‘वो पति है तुम्हारा तुम पर हाथ उठा सकता है’। 

‘औरत हो औरत की तरह रहो, मर्द बनने की कोशिश मत करो ….’

महिलाएं तेजी से हर क्षेत्र में नाम कमा रही हैं। लेकिन समाज उन्हें कभी भी एक मर्द से ऊपर दर्जा नहीं दे सकता है। सदियों से महिलाओं और पुरुषों के काम बटे हुए हैं। कभी भी जब महिलाएं इस परंपरा को तोड़ने की कोशिश करती हैं तो समाज उन्हें उनकी पहचान याद कराने में कोई कसर नहीं छोड़ता है।
कहते हैं कि महिलाएं अगर कोई काम ठान लें तो वो उसे पूरा करके ही रहती हैं। ऐसे में हर एक महिला की जिम्मेदारी बनती हैं कि वो इन तानों को सुनने और कहने से रोकने की शुरुआत अपने घर से करें। बदलाव देर से सही लेकिन आएगा जरूर। 

आपके लिए खुशखबरी! POPxo आपके लिए लेकर आए हैं आकर्षक लैपटॉप कवर, कॉफी मग, बैग्स, होम डेकोर और राशि अनुसार प्रोडक्ट्स और साथ ही ब्यूटी प्रोडक्ट्स भी… और वह भी आपके बजट में! तो फिर देर किस बात की, शुरू कीजिए शॉपिंग हमारे साथ।)