home / एंटरटेनमेंट
‘याद पिया की आने लगी’ ही नहीं, रीमिक्स ट्रेंड ने इन सुरीले गानों को भी किया है बर्बाद

‘याद पिया की आने लगी’ ही नहीं, रीमिक्स ट्रेंड ने इन सुरीले गानों को भी किया है बर्बाद

अगर आप अच्छा संगीत सुनने के शौक़ीन हैं तो आपने ज़रूर गौर किया होगा कि बॉलीवुड में पिछले कुछ सालों से अच्छे गाने इक्का-दुक्का ही सुनने को मिलते हैं। बॉलीवुड में बेहतरीन गीतकारों की कोई कमी नहीं है। ‘पीकू’, ‘कबीर सिंह’, ‘आशिक़ी-2’, ‘सनम तेरी कसम’, ‘एक विलेन’ और ‘ये जवानी है दीवानी’ जैसी कई फिल्में हैं, जिनका संगीत काफी कर्णप्रिय है और चार्ट बस्टर्स के टॉप पर भी रहा है। इसके बावजूद फिल्मकारों का एक वर्ग ऐसा भी है, जो पुराने हिट गानों का रीमिक्स बनाकर दर्शकों को थिएटर तक खींचने की कोशिश में लगा रहता है। 

रीमिक्स ट्रेंड ने इन सुरीले गानों को कर दिया बर्बाद

हाल ही में जब सिंगर फाल्गुनी पाठक के फेमस गाने ‘याद पिया की आने लगी’ का रीमिक्स आया तो यूट्यूब पर उसे धड़ाधड़ 42 मिलियन से भी ज्यादा व्यूज़ मिल गए। नई जेनेरशन को जहां ये गाना बेहद पसंद आ रहा है, वहीं फाल्गुनी पाठक के फैंस का तो जैसे दिल ही टूट गया। लोगों ने जमकर इस गाने की आलोचना की और मेकर्स पर फाल्गुनी पाठक के ओरिजिनल गाने का सत्यानाश करने तक का आरोप लगा दिया, मगर क्या अब तक सिर्फ इसी एक गाने का गला घोंटा गया है। 

Instagram

ADVERTISEMENT
बॉलीवुड में ऐसे कई रीमिक्स बनते हैं, जो पुराने सुरीले गानों को बेसुरा करके रख देते हैं। उन्हीं में से कुछ गानों के रीमिक्स हम यहां लेकर आए हैं। उम्मीद है कि इन रीमिक्स गानों को सुनकर आप भी हमारी बात से इत्तेफ़ाक़ रखेंगे। 

एक चतुर नार बड़ी होशियार

आपको 1968 में आई सायरा बानो, सुनील दत्त और महमूद की फिल्म ‘पड़ोसन’ के बारे में तो ज़रूर पता होगा। इसका फेमस गाना ‘एक चतुर नार बड़ी होशियार’ भी आपने सुन ही रखा होगा। इस गाने की आत्मा को चकनाचूर किया गया है 2 साल पहले आई कियारा आडवाणी की फिल्म ‘मशीन’ में। यकीन नहीं आता तो पहले खुद ही ओरिजिनल गाना सुनकर देख लीजिए। 
 
अब ज़रा इसके रीमिक्स को सुनिए और खुद ही फैसला कीजिए। 
 

आज जाने की ज़िद न करो

आपने मशहूर ग़ज़ल गायिका फ़रीदा ख़ानम का नाम तो सुना ही होगा। अगर नाम नहीं भी सुना है तो भी इनकी ग़ज़ल ‘आज जाने की ज़िद न करो’ के बारे में तो पता ही होगा। फ़रीदा ख़ानम की आवाज़ में इस ग़ज़ल को सुनकर कोई भी पुरानी यादों में खो सकता है। हालांकि बाद में कई सिंगर्स ने इसे गाने की कोशिश भी की, लेकिन उनकी आवाज़ में फ़रीदा ख़ानम जैसा जादू न समा सका। कुछ साल पहले आई फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ में भी इस ग़ज़ल का रीमिक्स बनाकर रीक्रिएट करने की कोशिश की गई थी, जो कुछ खास असर न दिखा पाया। पहले सुनिए फ़रीदा ख़ानम की आवाज़ में इसकी ओरिजिनल कंपोज़िशन।
 
अब सुनिए करण जौहर की फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ का ये रीमिक्स। 
 

एक-दो-तीन

एक ज़माना था, जब माधुरी दीक्षित के लटके-झटकों का सारा देश दीवाना था। उनका हर डांस मूव अपने-आप में आइकॉनिक होता था। इन्हीं में से एक है, तेज़ाब फिल्म का गाना ‘एक-दो-तीन’। ये गाना अपने समय में काफी ज्यादा फेमस हुआ था। इस गाने को बुरी तरह से बिगाड़ा साल 2018 में आई फिल्म ‘बाग़ी-2’ ने। अगर आप माधुरी दीक्षित और उनके डांस के बड़े फैन हैं तो इस रीमिक्स को देखकर आपको गुस्सा भी आ सकता है। एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडिस ने इस गाने पर जो डांस किया है, वह माधुरी दीक्षित के डांस का तिनका भर भी नहीं लगता। ऊपर से सिंगर पलक मुछाल के तो क्या ही कहने। उन्होंने अलका याज्ञनिक के गाए इस गाने के सुरों को बेसुरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। देखिए तेज़ाब मूवी का ये ओरिजिनल सॉन्ग। 
 
अब अपने रिस्क पर फिल्म ‘बाग़ी-2’ का ये रीमिक्स भी सुन लीजिए।
 

रात बाकी-बात बाकी

1982 में अमिताभ बच्चन, शशि कपूर और परवीन बॉबी की एक फिल्म आई थी, ‘नमक हलाल’। वैसे तो इस फिल्म के सभी गाने काफी अच्छे थे, लेकिन ‘रात बाकी-बात बाकी’ गाना इतने सालों बाद भी लोगों की ज़ुबान पर चढ़ा हुआ है। इस गाने को गाया था, मशहूर सिंगर आशा भोंसले ने, मगर गाने की आत्मा को कैसे मारा जाता है, ये कोई नए बॉलीवुड से सीखे। साल 2017 में आई सोनाक्षी सिन्हा, सिद्धार्थ मल्होत्रा और अक्षय खन्ना की फिल्म ‘इत्तेफ़ाक़’ में इस गाने को रीमिक्स किया गया। कुछ नए बोल और ढिंचक संगीत के साथ इस गाने को भी बर्बाद कर दिया गया। अगर आप इसी जेनरेशन के हैं और हमारी बात से इत्तेफ़ाक़ नहीं रखते तो खुद ही सुन लीजिए ‘नमक हलाल’ फिल्म’ का ये ओरिजिनल गाना। 
 
अब सुनिए ‘इत्तेफ़ाक़’ फिल्म का ये रीमिक्स और गाने की क्वालिटी का खुद ही अंदाज़ा लगा लीजिए।  
 
https://hindi.popxo.com/article/longest-running-tv-shows-on-indian-television-in-hindi
 
.. अब आएगा अपना वाला खास फील क्योंकि Popxo आ गया है 6 भाषाओं में … तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा – अंग्रेजीहिन्दीतमिलतेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।
25 Nov 2019

Read More

read more articles like this
good points

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text