home / xSEO
Chicken Pox in Hindi | छोटी माता (चिकन पाॅक्स) के घरेलू उपचार, लक्षण और कारण

Chicken Pox in Hindi | छोटी माता (चिकन पाॅक्स) के घरेलू उपचार, लक्षण और कारण

चिकनपॉक्स (Chicken pox in hindi) एक वायरल संक्रमण है जो खुजली और फ्लू जैसे लक्षणों का कारण बनता है। इस वायरल संक्रमण को वैरीसेला-जोस्टर नाम से भी जाना जाता है। चिकनपॉक्स का कारण बनने वाले वैरीसेला-जोस्टर वायरस का कोई इलाज नहीं है। मगर चिकनपॉक्स को रोकने में वैरिकाला वैक्सीन 90 प्रतिशत तक प्रभावी है। अगर आप भी इसी उधेड़बुन में रहते हैं कि chicken pox kya hai, चिकन पॉक्स में क्या खाना चाहिए, चिकन पॉक्स में क्या करे और छोटी माता के घरेलू उपचार क्या है तो हम आपके लिए यहां चिकन पॉक्स के बारे में विस्तृत जानकारी लेकर आये हैं। 

चिकन पाॅक्स क्या है? – Chicken Pox kya Hai

चिकनपॉक्स एक वायरल संक्रमण है जो वैरिकाला-जोस्टर वायरस के कारण होता है। यह मुख्य रूप से बच्चों को प्रभावित करता है, लेकिन कभी-कभी ये वयस्क लोगों को भी अपनी चपेट में ले सकता है। चिकनपॉक्स का लक्षण संकेत लाल फफोले के साथ बहुत खुजली वाली त्वचा के लाल चकत्ते हैं। कई दिनों के दौरान, छाले फट जाते हैं और रिसने लगते हैं। आखिर में सही इलाज से ये खत्म हो जाते हैं, मगर कुछ मामलों में इनके निशान त्वचा पर ताउम्र भी बने रहते हैं। चिकनपॉक्स का टीका चिकनपॉक्स और इसकी संभावित जटिलताओं को रोकने का एक सुरक्षित, प्रभावी तरीका है। चिकनपॉक्स उन लोगों के लिए अत्यधिक संक्रामक है जिन्हें यह बीमारी नहीं हुई है या इसके खिलाफ टीका नहीं लगाया गया है। इसके लिए, जो वैक्सीन उपलब्ध है, वो बच्चों को चेचक से बचाती है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) द्वारा नियमित टीकाकरण की सलाह दी जाती है।  

चिकन पाॅक्स होने के कारण  – Chicken Pox Kyu hota Hai

चिकनपॉक्स का संक्रमण वैरीसेला-जोस्टर वायरस के कारण होता है। यह दाने के सीधे संपर्क में आने से फैल सकता है। यह तब भी फैल सकता है जब चिकनपॉक्स वाला व्यक्ति खांसता या छींकता है और आप हवा की बूंदों को अंदर लेते हैं। यदि आपको पहले से चिकनपॉक्स नहीं हुआ है या फिर अगर आपके पास चिकनपॉक्स का टीका नहीं है, तो चिकनपॉक्स का कारण बनने वाले वैरिकाला-ज़ोस्टर वायरस से संक्रमित होने का आपका जोखिम अधिक है। चाइल्ड केयर  या फिर स्कूल सेटिंग में काम करने वाले लोगों के लिए टीकाकरण करना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। ज्यादातर लोग जिन्हें चिकनपॉक्स हुआ है या जिन्हें चिकनपॉक्स का टीका लगाया गया है, वे चिकनपॉक्स से इम्यून होते हैं। कुछ लोगों को चिकनपॉक्स एक से अधिक बार हो सकता है, लेकिन यह दुर्लभ है। यदि आपको टीका लगाया गया है और अभी भी चिकनपॉक्स हो गया है, तो लक्षण अक्सर हल्के होते हैं, कम फफोले और हल्के या कोई बुखार नहीं होता है।

चिकन पाॅक्स यानि छोटी माता के लक्षण – Symptoms of chicken pox in Hindi

चिकनपॉक्स के संक्रमण के कारण होने वाला खुजली वाला छाला वायरस के संपर्क में आने के 10 से 21 दिन बाद दिखाई देता है और आमतौर पर लगभग पांच से 10 दिनों तक रहता है। अन्य लक्षण, जो दाने से एक से दो दिन पहले दिखाई दे सकते हैं, उनमें शामिल हैं:

– बुखार

– भूख में कमी

सिरदर्द

– थकान और अस्वस्थ होने की सामान्य भावना

एक बार चेचक के दाने दिखाई देने के बाद, यह तीन चरणों से गुजरते हैं-

1- उभरे हुए गुलाबी या लाल चकत्ते (पपल्स), जो कई दिनों में ब्रेकआउट हो जाते हैं। 

2- द्रव से भरे छोटे-छोटे फफोले, जो लगभग एक दिन में बनते हैं और फिर टूट कर रिसने लगते हैं। 

3- पपड़ी, जो टूटे हुए फफोले को ढंक देती है और ठीक होने में कई और दिन लेती है। 

छोटी माता (चिकन पाॅक्स) के घरेलू उपचार – Chicken Pox Treatment in Hindi

चिकनपॉक्स का संक्रमण आम तौर पर कुछ हफ़्ते में ठीक हो जाता है, और फिर शरीर वायरस के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेता है। हालांकि, संक्रमण सक्रिय होने पर छोटी माता के लक्षण बेहद परेशान करने वाले हो सकते हैं। ऐसे में छोटी माता के घरेलू उपचार इसके लक्षणों को शांत करने में मदद कर सकते हैं। हम आपको यहां home remedies for chickenpox in hindi के बारे में बता रहे हैं। 

कैलामाइन लोशन लगाएं

कैलामाइन लोशन खुजली को कम करने में मदद कर सकता है। इस लोशन में जिंक ऑक्साइड सहित त्वचा को आराम देने वाले गुण होते हैं। चेचक के फफोले पर कैलामाइन लोशन की थपकी लगाने से खुजली कम हो सकती है। बस सावधान रहें कि आपको अपनी आंखों पर चिकनपॉक्स पर या उसके आसपास कैलामाइन लोशन का उपयोग नहीं करना चाहिए।

शुगर-फ्री पॉप्सिकल्स लें

चिकनपॉक्स आपके मुंह के अंदर भी दिखाई दे सकता है। यह विशेष रूप से दर्दनाक हो सकता है। एक बच्चे को शुगर-फ्री पॉप्सिकल्स चूसने के लिए प्रोत्साहित करना मुंह के छालों को शांत करने का एक अच्छा तरीका हो सकता है। बोनस के रूप में, यह आपके बच्चे को अधिक तरल पदार्थ प्राप्त करने और डिहाइड्रेशन  से बचाने की कोशिश भी करता है।  

बेकिंग सोडा बाथ लें

एक और खुजली से राहत देने वाला विकल्प बेकिंग सोडा है। इसे अपने नहाने के पानी में मिलाएं। नहाने के लिए गुनगुने पानी में एक कप बेकिंग सोडा मिलाएं। 15 से 20 मिनट के लिए भिगो दें। व्यस्क या फिर बच्चे दिन में तीन बार तक इस पानी में नहा सकते हैं अगर उन्हें यह तरीका सुखदायक लगता है। 

कैमोमाइल कंप्रेस का प्रयोग करें

आपके किचन कैबिनेट में मौजूद कैमोमाइल चाय चिकनपॉक्स की खुजली वाले क्षेत्रों को भी शांत कर सकती है। कैमोमाइल में एंटीसेप्टिक और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जो छोटी माता के घरेलू उपचार में काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। दो से तीन कैमोमाइल टी बैग्स काढ़ा करें और ठंडा होने दें या गर्म स्नान में रखें। फिर, चाय में मुलायम सूती पैड या वॉशक्लॉथ डुबोएं और त्वचा के खुजली वाले क्षेत्रों पर लगाएं। जब आप कंप्रेस लगाना समाप्त कर लें, तो त्वचा को धीरे से सूखने के लिए थपथपाएं।

दर्द निवारक दवा लें

यदि आपके बच्चे के चेचक के छाले विशेष रूप से दर्दनाक हैं या यदि आपके बच्चे को बुखार है, तो दर्दनिवारक दवा इसके लिए एक बेहतरीन विकल्प है। यह महत्वपूर्ण है कि बच्चे या किशोर को एस्पिरिन न दें, क्योंकि यदि वे चिकनपॉक्स जैसे संक्रमण से ठीक हो रहे हैं या जब वे एस्पिरिन लेते हैं तो उन्हें रेये सिंड्रोम नामक स्थिति के लिए जोखिम बढ़ जाता है। इसके बजाय, एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) जैसी दवाएं दर्दनाक लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकती हैं। यदि संभव हो तो इबुप्रोफेन से बचें, क्योंकि चिकनपॉक्स के संक्रमण के दौरान इसका उपयोग करने से गंभीर त्वचा संक्रमण का खतरा अधिक हो सकता है। 

करें नीम का स्नान

नीम, एक औषधीय पौधा है, जो अपने जीवाणुरोधी, मलेरिया-रोधी, एंटीवायरल और ऐंटिफंगल गुणों के लिए जाना जाता है। इसलिए, नीम के उबले पानी से स्नान करने और नीम की ताजी पत्तियों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। परंपरागत रूप से लोग नीम के पत्तों को अपने बिस्तर पर रखते हैं और उस पर एक नरम बेडशीट बिछाएं और सो जाएं। चकत्ते से अतिरिक्त जलन से बचने के लिए ढीले सूती कपड़े पहनने की भी सिफारिश की जाती है

चिकन पॉक्स में क्या खाना चाहिए – Chicken Pox Mein kya Khana Chahiye

चिकनपॉक्स वायरस के कारण होने वाले दाने न केवल शरीर के बाहरी हिस्से को ढक सकते हैं, बल्कि आंतरिक जीभ, मुंह और गले को भी प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है कि चिकन पॉक्स में क्या खाना चाहिए। दरअसल इस दौरान ऐसे खाद्य पदार्थों से बचना सबसे अच्छा है जो इन मौखिक घावों को और अधिक परेशान कर सकते हैं, जैसे कि मसालेदार, एसिडिक, नमकीन और कुरकुरे खाद्य पदार्थ। चिकनपॉक्स से लड़ने के दौरान हाइड्रेटेड और पोषित रहना काफी जरूरी है। चिकनपॉक्स से लड़ने के दौरान आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन इस जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

चिकन पॉक्स में दूध पीना चाहिए या नहीं 

चिकन पॉक्स होने पर एक सवाल सबसे आम है। चिकन पॉक्स में दूध पीना चाहिए या नहीं? दरअसल, आमतौर पर चिकन पॉक्स होने पर दूध या फिर दूध से बने प्रोडक्ट्स को खाने की सलाह नहीं दी जाती है मगर आप कम वसा वाली भारतीय नस्ल की गाय का दूध ले सकते हैं। इस दौरान संतृप्त वसा युक्त खाद्य पदार्थ, खट्टे फल, मसालेदार और नमकीन खाद्य पदार्थ से बच सकते हैं। 

चिकन पॉक्स कितने दिन तक रहता है 

चिकनपॉक्स के संक्रमण के कारण होने वाली खुजली वाला छाला वायरस के संपर्क में आने के 10 से 21 दिन बाद दिखाई देता है और आमतौर पर लगभग पांच से 10 दिनों तक रहता है। अधिकांश लोग लगभग 2 सप्ताह में ठीक हो जाते हैं। 2 साल से कम उम्र के बच्चों को चिकनपॉक्स होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। वास्तव में, सभी मामलों में से 90% छोटे बच्चों में होते हैं। लेकिन बड़े बच्चे और वयस्क भी इसकी चपेट में आ सकते हैं। 

चिकन पाॅक्स को लेकर पूछे जाने वाले सवाल-जवाब – FAQ’s

सवाल- छोटी माता और बड़ी माता में क्या अंतर है?

जवाब- छोटी माता में पड़ने वाले दाने और फफोले छोटे होते हैं और उनके निशान भी जल्दी चले जाते हैं। वहीं बड़ी माता निकलने पर मरीज को कुछ ज्यादा ख्याल रखना पड़ता है, क्योंकि इसके फफोले बड़े और दर्दनाक होने के साथ अपने निशान भी छोड़ जाते हैं।

सवाल- क्या चिकन पॉक्स में नहाना चाहिए?

जवाब- बिलकुल, चिकन पॉक्स में नीम या बेकिंग सोडा के पानी से नहाना चाहिए।

सवाल- क्या चिकन पॉक्स को चेचक के नाम से भी जाना जाता है?

जवाब- हां, चिकन पॉक्स का दूसरा नाम चेचक भी है। 

सवाल- क्या चिकन पॉक्स खतरनाक बीमारी है?

जवाब- नहीं, चिकन पॉक्स खतरनाक बीमारी नहीं है।

अगर आपको यहां दिए गए Chicken pox in hindi यानि छोटी माता के घरेलू उपचार पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें।  

07 Nov 2022

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text