अपने मोबाइल फोन में जरूर रखें ये जरूरी इमरजेंसी एप्स - Emergency Mobile Apps

अपने मोबाइल फोन में जरूर रखें ये जरूरी इमरजेंसी एप्स - Emergency Mobile Apps

इन दिनों हमारा समय परिवार से अधिक अपने फोन के साथ गुजरता है। जितनी जल्दी हम सांसें लेते हैं, उतनी ही जल्दी फोन पर चीजों को स्क्रॉल करते रहते हैं। फोन पर हमारे पास इतने विकल्प हो चुके हैं कि उसके साथ वक्त का कुछ पता भी नहीं चलता। लेकिन अफसोस की बात यह है कि इतना समय बिताने के बावजूद हम उन नयी चीजों को तवज्जो और उनसे जुड़ी जानकारी अपने पास कम रखते हैं, जो कि तकनीकी रूप से हमारी जरूरत के लिए बनाई गयी हैं और कई मुसीबतों में भी अगर आप फंस जायें तो उससे निकलने में वह तकनीक आपकी मदद करती है। खासतौर से इमरजेंसी के वक्त आपको काफी मदद मिलती है।

इन दिनों कई एप कस्टमर की सुविधा को ध्यान में रख कर ही लगातार लॉन्च किये जा रहे हैं, ताकि कई जरूरी परिस्थिति में आप सिर्फ एक चुटकी में अपने फोन के बटन की मदद से उस प्रॉब्लम को सॉल्व कर पायें। सरकारी एप से लेकर आम एप भी किस तरह आपकी जिंदगी में महत्वपूर्ण हैं, यह जानना बेहद जरूरी है। इसलिए हम उन तमाम एप के बारे में आपको आज इस आलेख के माध्यम से जानकारी देने जा रहे हैं, जो आपके फोन में होने ही चाहिए ताकि वक्त आने पर आप उनकी मदद ले सकें। तो आइये विस्तार से जान लेते हैं इनके बारे में।

Table of Contents

    सरकारी एप और उनकी सुविधा - Government Apps & Their Facilities

    भारत सरकार की ओर से डिजिटल इंडिया को लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है और नागरिकों की सुरक्षा और सुविधा में ध्यान में रख कर सरकारी एप लॉन्च किये जा रहे हैं। नागरिकों को इमरजेंसी में भी कौन- कौन से एप इस्तेमाल करने चाहिए, यह जानना बेहद जरूरी है -

    उमंग - Umang

    उमंग एक ऐसा सरकारी एप है, जो आपको अपने फोन में रखना ही चाहिए। इसकी वजह यह है कि इसे इलेक्ट्रॉनिक्स और इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और नेशनल ई- गवर्नेंस डिविजन ने बनाया है। यह एप सरकार के सभी मंत्रालयों और उनकी सेवाओं को एक जगह उपलब्ध कराता है, जिससे लोगों को आसानी से सूचना मिल सके। यह डिजिटल इंडिया, आधार और डिजी लॉकर की तरह कार्य करता है।

    एम कवच - (M-Kavach)

    एम कवच यूं तो बेहद जरूरी एप है लेकिन इसके साथ एक खास बात जानना यह भी जरूरी है कि यह एप केवल एंड्रॉइड डिवाइस पर ही उपलब्ध रहता है। इस एप का उद्देश्य मोबाइल फोन पर मिलने वाली धमकियों के विरुद्ध में काम करना है। इस एप की मदद से ऐसी धमकियों की शिकायत की जा सकती है। साथ ही तुरंत स्पैम एसएमएस को ब्लॉक किया जा सकता है। इसकी यह भी खासियत है कि यह एप मैलवेयर को लेकर आगाह करता है।

    निर्भया - Nirbhaya

    भारत सरकार ने महिलाओं की मदद के लिए कई सारे एप लॉन्च किये हैं, जिससे कि निर्भया कांड दोहराया न जा सके। खासतौर से निर्भया एप को लॉन्च करने का कारण वही है। महिलाओं की सुरक्षा के लिए देश में निर्भया एप एक्टिव हो चुका है। यह एप आमतौर पर एक महिला को आपातकालीन स्थिति में रहने पर मदद करेगा। इसमें आपातकालीन स्थिति आने पर सेट कॉन्टैक्ट नंबर्स पर एक इमरजेंसी कॉल या मैसेज भेजने में मदद मिलती है। इसके लिए एप पर एसओएस (SOS) टैप करना होगा। एप को किसी जगह फोन में रखना होगा, ताकि जहां जरूरत हो, वहां पर तुरंत यूज हो सके। फोन लॉक होने पर भी इमरजेंसी मैसेज भेजने के लिए बस डिवाइस को हिलाना होगा। एसओएस से सेट नंबर पर अपने आप ही मैसेज चला जायेगा और इस तरह यह एप यूजर्स को हमेशा अनसेफ एरिया के बारे में जानकारी मुहैया कराता रहेगा। दरअसल, वर्तमान समय के हिसाब से हर महिला को अपने मोबाइल फोन में यह एप रखना चाहिए ताकि मुसीबत पड़ने पर वे आसानी से इसका इस्तेमाल कर सके।

    ऐसे करें शुगर की क्रेविंग को कम और रहें फिट - How To Stop Sugar Cravings

    जीएसटी रेट फाइंडर - GST Rate Finder

    अगर आप जीएसटी रेट को लेकर संशय में हैं तो यह एप आपकी मदद कर सकता है। यहां वस्तु और सेवा कर के रेट दिये रहते हैं। एप को डाउनलोड करके इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है।

    ई- हॉस्पिटल - (e-Hospital)

    ई हॉस्पिटल भी एक सरकारी एप है। दरअसल, इस एप की मदद से सारे सरकारी हॉस्पिटल की सूची एक साथ उपलब्ध होती है। इसके लिए आपको सबसे पहले अपने एंड्रॉयड फोन में इसे सर्च करके इंस्टॉल करना होगा। इंस्टॉल करने के बाद दो विकल्प मौजूद होंगे कि आप आधार के बिना और आधार के साथ किस तरह से डॉक्टर की अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं। यह एक महत्वपूर्ण एप इसलिए भी हो जाता है क्योंकि कई बार इमरजेंसी में डॉक्टर की जरूरत पड़ती है। लेकिन जानकारी के अभाव में आप अपॉइंटमेंट नहीं ले पाते हैं। इसलिए यह एप भी बेहद जरूरी है।

    इमरजेंसी मोबाइल एप 112 इंडिया - 112 India

    राजनाथ सिंह ने कुछ साल पहले 112 इंडिया एप लांच किया है। यह एक इमरजेंसी मोबाइल एप है, जिसे खासतौर से महिला सुरक्षा को ध्यान में रख कर बनाया गया है। इस एप में मौजूद एक विशेष महिला सुरक्षा फीचर “शाउट” पर क्लिक करते ही परेशानी में फंसी महिला को पूरे देश में कहीं भी तत्काल पुलिस या किसी वॉलेंटियर की मदद मिल जायेगी। इस एप के “शाउट” फीचर को सरकार की तरफ से 4.84 करोड़ रुपये खर्च कर बनाये गये इमरजेंसी रिस्पॉन्स सपोर्ट सिस्टम से जोड़ा गया है। इस सिस्टम के साथ पूरे देश में वॉलेंटियर पंजीकृत किये गये हैं। जैसे ही महिला परेशानी में फंसने पर इस फीचर पर क्लिक करेगी तो यह सिस्टम तत्काल उसके आसपास मौजूद किसी भी वॉलेंटियर को उसकी मदद के लिए सिग्नल भेज देगा। यह एप परेशानी में फंसी महिला को जीपीएस की मदद से ट्रैक कर मदद पहुंचाने में वॉलेंटियर की मदद करेगा। इस एप को सबसे पहले हिमाचल प्रदेश में लॉन्च किया गया था और फिर नागालैंड।

    अन्य जरूरी एप और उनकी सुविधा - Other Important Apps

    सरकारी एप के साथ- साथ कुछ ऐसे गैर सरकारी एप भी हैं, जो काफी बेहतरीन तरीके से काम कर रहे हैं। आइये उनके बारे में भी जान लेते हैं।

    आई ऑन मी एप

    दरअसल यह एप परिवार के सदस्यों और दोस्तों के लिए बेहद फायदेमंद है। खासतौर से अगर आप अकेले रहते हों। यह एप सुनिश्चित करता है कि अगर कोई उपयोगकर्ता एप का जवाब नहीं दे रहा है, तो यह अपने आप ही दूसरे यूजर को सूचित कर देगा, जिसमें किसी प्रकार के बटन प्रेस करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इस एप में आप अपना शेडयूल भी बना सकते हैं और सेटिंग कर देने पर यह एप आपसे हर घंटे में पूछता है कि आप सही हैं या नहीं।

    बीसेफ अलार्म

    बीसेफ अलार्म एक महत्वपूर्ण एप है, जो आपके मोबाइल फोन में होना ही चाहिए। बीसेफ अलार्म के साथ कौन कहां पर है और वह क्या कर रहा है, इस बात का पता लगाया जा सकता है। यह एप ऑटोमैटिक तरीके से आपके लोकेशन के साथ ऑडियो और वीडियो भी भेज देता है। अलार्म एक्टिव होने पर रिकॉर्ड किया गया वीडियो अपने आप ही आपके पेरेंट्स या परिचितों के पास चला जाता है। आपसे जुड़ी सभी जानकारी सुरक्षित रूप से बीसेफ के सर्वर पर स्टोर रहती है, जिसे आप कभी भी प्राप्त कर सकते हैं।

    फॉलो मी एप

    यह एक ऐसा एप है, जो जीपीएस ट्रैकिंग पर काम करता है। जीपीएस ट्रैकिंग पर काम करने वाला ये एप यूजर की लाइव पोजिशन बताता है। इसकी मदद से आपके पेरेंट्स आपकी लाइव लोकेशन देख सकते हैं कि आप इस समय कहां हैं। साथ ही जब आप सुरक्षित रूप से घर पहुंच जाती हैं तो यह एप आपके पेरेंट्स को इसकी सूचना दे देता है।

    टाइमर अलार्म - Tiger Alarm

    यह एक ऐसा एप है, जो किसी काम को करने और उसको याद दिलाने के काम आता है। आप इस एप में अलार्म सेट कर दें, उसके बाद ठीक उस समय पर यह एप आपके पेरेंट्स को मैसेज भेज देता है। अगर आप सुबह जॉगिंग पर जा रहे हैं या शाम को टहलने जाते हैं तो उस समय किसी अनहोनी से बचने के लिए यह एप सबसे मददगार साबित होता है।

    आईसीई (इन केस ऑफ इमरजेंसी)

    अगर आप किसी इमरजेंसी में हैं तो यह एप बचाव दल और डॉक्टरों द्वारा आवश्यक जानकारी को स्टोर करने का एक आसान तरीका है। आईसीई कार्ड एप निकटतम व्यक्तियों के संपर्कों की एक फेहरिस्त के अलावा यूजर को दवाइयों, पिछली बीमारियों, एलर्जी और अन्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारियों को स्टोर रखता है। इसमें एक खास अलार्म बटन होता है, जिससे आप एक ही साथ अपने सभी परिचितों को मैसेज भेज सकते हैं। यह आपके लाइव लोकेशन भी आपके दोस्तों और परिचितों को बता देता है।

    लोकल पुलिस एप

    लोकल पुलिस एप एक महत्वपूर्ण एप है। लोकल पुलिस एप के जरिये कानून और सार्वजनिक सुरक्षा सेवाओं का इस्तेमाल आप अपनी उंगलियों के सहारे कर सकते हैं। यह एप लोगों को उनकी लोकल पुलिस से जोड़ने के लिए बनाया गया है, जिससे कि वे स्मार्टफोन की मदद से पुलिस की सहायता ले सकें।

    ऑल कैब एप

    ऑल कैब एप आज के दौर के लिए महत्वपूर्ण ऐप्स में से एक है, इसकी वजह यह है कि आपको कहीं भी कभी भी गाड़ी की जरूरत पड़ सकती है। ऐसे में परेशान होने के बजाय आप इससे मदद ले सकती हैं। इस एप की मदद से सारे टैक्सी सर्विसिंग एप एक साथ देखे जा सकते हैं। यूजर इस एप का उपयोग करके सभी टैक्सी सर्विस के दाम चेक कर सकते हैं और अपनी जरूरत के अनुसार बुक कर सकते हैं।

    रेड पैनिक बटन एप - Red Panic Button App

    जैसा कि आपको नाम से ही समझ में आ रहा है, यह एक ऐसा एप है, जिसका इस्तेमाल यूजर बुरे हालात में कर सकते हैं। इस एप में यूजर एक पैनिक नंबर पहले से ही सेट कर रखते हैं और जरूरत के समय अपनी लोकेशन उस नंबर पर भेज सकते हैं।

    वॉच ओवर मी एप

    यह आपको मुसीबत से बचा सकता है। यह एप मुश्किल में पड़ने पर आपके परिचितों को आपकी लोकेशन और मैसेज भेज देता है। आपकी मुश्किल के अनुसार यह एप आपको इमरजेंसी सर्विसेज से कनेक्ट भी कर देता है।

    जानें एप डाउनलोड करते समय किन बातों का ख्याल रखें - Things to Remember While Downloading the Apps

    हमने ऊपर सभी महत्वपूर्ण ऐप्स के बारे में जानकारी दे दी है। लेकिन इसके साथ ही साथ यह जानना बेहद जरूरी है कि जब इसे डाउनलोड किया जा रहा हो तो किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

    ध्यान रखें कि कौन सा फोन है

    चूंकि इन दिनों कई तरह के मोबाइल फोन होते हैं, कुछ स्मार्ट, कुछ एंड्रॉयड, कुछ आईफोन तो कुछ विंडोज़ के फोन होते हैं तो सबसे पहले आपको यह जानना जरूरी है कि आपका फोन कौन सा है। आपको उसके अनुसार ही सारे एप्लीकेशन को समझना होगा और फिर उन्हें डाउनलोड करना होगा।

    फर्जी एप न डाउनलोड हो जाये

    साथ ही यह भी ध्यान रखें कि कई फर्जी एप भी इस तरह के वेरीफाइड नामों वाले एप से मेल खाते नामों पर रख दिये जाते हैं। ऐसे में इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आप जो भी एप डाउनलोड कर रहे हैं, वह फ़र्ज़ी न हो और वेरीफाइड ही हो। यह आप आसानी से फोन पर ही प्ले स्टोर में पता लगा सकते हैं। साथ ही नेट पर भी इसकी खूब जानकारी मिल जाती है। इस बात का भी ख्याल रखना जरूरी है कि कहीं ऐसे एप न डाउनलोड हो जायें, जो बाद में आपके लिए परेशानी का सबब बन जाएं। एप हमेशा सोच- समझ कर ही डाउनलोड करें।

    फालतू एप साथ में डाउनलोड

    कई बार ऐसा भी होता है कि आप जब एप डाउनलोड करते हैं तो उसके साथ ही कई अन्य एप की जानकारी भी साथ- साथ चलती रहती है और उनकी जानकारी देख कर आपको लगता है कि शायद यह भी जरूरी एप है तो आप उन सबको भी डाउनलोड करते जाते हैं। तो यह गलती न करें। बेवजह के एप डाउनलोड होंगे तो आपके फोन की स्पेस में ही कमी आयेगी।

    सारे एप की जानकारी रखें याद

    यह भी जरूरी है कि सारे एप से जुड़ी जानकारी आपको पता हो और वक्त पर आप उसका इस्तेमाल कर सकें। ऐसा न हो कि किसी काम के एप की जगह दूसरे एप का इस्तेमाल कर लिया। कई बार यह परेशानी का सबब बन जाता है।

    ये भी पढ़ें - वेट लॉस में आपकी मदद करेंगे ये 5 फिटनेस मोबाइल ऐप

    (आपके लिए खुशखबरी! POPxo शॉप आपके लिए लेकर आए हैं आकर्षक लैपटॉप कवर, कॉफी मग, बैग्स और होम डेकोर प्रोडक्ट्स और वो भी आपके बजट में! तो फिर देर किस बात की, शुरू कीजिए शॉपिंग हमारे साथ।) .. अब आयेगा अपना वाला खास फील क्योंकि Popxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजीहिन्दीतमिलतेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।