जानें फास्ट वेट लॉस करने वाले लोगों की ऐसी 10 आदतें, जिनसे वो हमेशा रहते हैं स्लिम- ट्रिम

जानें फास्ट वेट लॉस करने वाले लोगों की ऐसी 10 आदतें, जिनसे वो हमेशा रहते हैं स्लिम- ट्रिम

एक नई स्टडी में पाया गया है कि हेल्दी वेट के लिए आपके अंदर हेल्दी आदतों (healthy habits for weightloss) का होना जरूरी है, क्योंकि डाइटिंग करके वेट लॉस करने वाले ज्यादातर लोग पहले ही साल में अपना 50 फीसदी वेट दोबारा हासिल कर लेते हैं। बाकी का वेट वो अगले तीन सालों में बढ़ा लेते हैं। ज्यादातर लोग जानते हैं कि इन तीन बातों से वो अपने वजन को सही रख सकते हैं- हेल्दी भोजन, कम खाना और एक्टिव रहना। ऐसा करना मुश्किल नहीं है, लेकिन फिर भी बहुत से लोग ऐसा नहीं कर पाते।


हम रोजमर्रा में खाने से संबंधित करीब 200 निर्णय लेते हैं, जो ऑटोमेटिक होते हैं या आदत के अनुसार। हमें पता ही नहीं होता और अनजाने में या जानबूझकर हम बिना जागरूकता के कुछ भी खाते रहते हैं। ऐसे में हम अक्सर अपनी आदत के चलते जो मन आया वो खाते रहते हैं। इसी बात पर की गई एक ताजा स्टडी में पता लगा है कि अगर आप खुद को हेल्दी वेट वाली श्रेणी में रखना चाहते हैं तो आपको अपने अंदर हेल्दी हैबिट्स यानि हेल्दी आदतें डालनी होंगी।


इसे भी पढ़ें - करीना की न्यूट्रीशनिस्ट ने बताया ऐसा वेटलॉस सीक्रेट, जिससे आसान हो जाएगा वजन कम करना


नई स्टडी का कहना है


कल्पना करें कि कोई आदमी जो शाम को घर पहुंचता है, कोई स्नैक खाता ही है। जब वो पहली बार स्नैक को खाता है, तब उसका घर पहुंचने के साथ एक मेंटल लिंक बन जाता है जिसका रेस्पॉन्स स्नैक खाने से होता है। ऐसे में धीरे- धीरे यह लिंक इतना जबरदस्त बन जाता है कि घर पहुंचने के साथ उसे स्नैक खाने की तलब होने लगती है। और यही एक आदत का रूप ले लेती है।


इस नई रिसर्च में पाया गया है कि आदतों के बदलने से वेट लॉस का काफी गहरा संबंध है। पुरानी आदतें छोड़ना और नई आदतें बनाना लोगों को वजन कम करने में मदद कर सकता है और सही वजन बनाए रखने में भी।


इस रिसर्च में 75 काफी ज्यादा वजन वाले और मोटे लोगों को लिया गया और उन्हें तीन अलग कैटेगरीज़ में बांटा गया। इनमें से एक ग्रुप को पुरानी आदतें छोड़ने के लिए कहा गया, एक ग्रुप को नई आदतें डालने के लिए कहा गया और तीसरे ग्रुप को कुछ भी करने के लिए नहीं कहा गया।


रोजमर्रा का रुटीन तोड़ने की कोशिश - Break Routine


आदतें छोड़ने वाले ग्रुप को हर दिन कुछ अलग- अलग ऐसे काम करने के लिए मैसेज भेजे जाते रहे, जिनसे यह सुनिश्चित हो सके कि उनका साधारण रोजमर्रा का रुटीन टूटे। इसमें काम पर जाने के लिए अलग रास्ता लेना, कुछ अलग तरह का म्यूजिक सुनना और एक शॉर्ट स्टोरी लिखने जैसे काम शामिल हैं।


इसी तरह से आदत बनाने वाले ग्रुप को एक ऐसा प्रोग्राम फॉलो करने के लिए कहा गया जो हेल्दी लाइफस्टाइल बदलावों से जुड़ा था। इस ग्रुप के लोगों को अपने डेली रुटीन में 10 हेल्दी टिप्स शामिल करने के लिए प्रोत्साहित किया गया।


बाकी दूसरे वेटलॉस प्रोग्राम से उलट इनकी रिसर्च में कोई एक्सरसाइज़ या खास डाइट प्लान नहीं बताया गया। इसके बजाय उन्होंने सिर्फ रोजमर्रा की आदतों को बदलने के लिए ही कहा।


इसे भी पढ़ें - शादी के दिन अपना वजन कम करने के लिए क्या खाएं और क्या नहीं


दोनों ग्रुप्स के लोगों ने किया वेटलॉस - Weightloss Groups


इसके 12 सप्ताह के बाद पाया गया कि नई आदतें डालने और पुरानी आदतें छोड़ने वाले दोनों ही ग्रुप के लोगों ने करीब 3.1 किलो वजन कम किया। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसके और 12 महीने के बाद बिना किसी तरह की गाइडेंस के भी इन लोगों ने और 2.1 किलो वजन घटाया।


इनमें से 67% लोगों ने अपने कुल वजन का करीब 5% कम किया और साथ ही टाइप टू डायबिटीज़ और दिल की बीमारियों का खतरा भी कम कर लिया। इसी तरह वजन कम करने वाले ज्यादातर प्रतिभागियों ने फल और सब्जियां ज्यादा खानी शुरू करके अपनी मानसिक हेल्थ को भी सुधारा।


इससे यह पता लगा कि आदतें बदलने से हम वेट मैनेजमेंट के प्रति अपनी सोच के साथ अपने व्यवहार को भी बदल सकते हैं।


वजन कम करने के लिए डालें ये 10 हेल्दी आदतें - Healthy Habits for Weightloss


नई आदतें डालने वाले ग्रुप को वजन कम करने के लिए एक चैरिटी वेटलॉस कन्सर्न ने जो आदतें डालने के लिए कहा गया, वो हम यहां आपको बता रहे हैं -  


1. भोजन का फिक्स समय 


रोजाना एक ही समय यानि तय समय पर खाना खाएं।जो लोग अपने वेटलॉस के मिशन में सफल होते हैं, वो आमतौर पर रेगुलर मील रुटीन को फॉलो करते हैं। इसका मतलब यह है कि वो करीब- करीब तय समय पर ही अपना भोजन करते हैं। इसकी खास बात यह भी है कि ऐसे लोग स्नैक्स और बीच-बीच में कुछ भी खाते रहना अवॉयड ही करते हैं। ये लोग पूरे सप्ताह ही नहीं बल्कि हमेशा ही एक निश्चित डाइट चार्ट को फॉलो करते हैं। इसी वजह से वे अपने लॉन्ग टर्म वेटलॉस के लक्ष्य को पाते ही नहीं, बल्कि बनाए भी रख पाते हैं।


2. भोजन में हेल्दी फैट जरूरी 


इसके अलावा यह भी जरूरी है कि अपने भोजन में आप जो भी फैट्स ले रहे हैं वो हेल्दी फैट्स ही हों। इनमें फास्ट फूड की जगह नट्स, ड्राईफ्रूट्स, एवोकैडो और फिश शामिल होने चाहिए, क्योंकि फास्ट फूड में मौजूद ट्रांस फैट्स दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं।.


3. जब समय मिले तब हो वॉक 


आपको इतना पैदल चलना चाहिए, ताकि आपका वजन खुद ही रफूचक्कर हो जाए। इसके लिए अपना एक लक्ष्य बनाएं। जैसे एक दिन में 10,000 कदम चलने का लक्ष्य। जहां- जहां आपको जाना हो, वहां लिफ्ट की जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल करें। इसके साथ-साथ आप ऐसा भी कर सकती हैं कि आपको जिस स्टॉप पर उतरना हो, उससे एक स्टॉप पहले उतरें और अपने डेस्टिनेशन तक पैदल चलकर जाएं। इससे वजन घटाने के साथ-साथ आप अपना हार्ट रेट भी बढ़ाकर दिल को हेल्दी बना सकती हैं।


4. बाहर जाते वक्त साथ हेल्दी स्नैक्स रखना


अगर आप कहीं बाहर जाती हैं तो जरूर चिप्स क्रैकर्स, बिस्कुट और मंचीज़ साथ रखती होंगी। अब आगे से आप इनकी जगह नट्स, फ्रूट्स और मखाने जैसे हेल्दी स्नैक्स को साथ रखें।


5. खाने से पहले प्रोडक्ट का लेबल चेक करना


कोई भी फूड आइटम बाजार से खरीदने से पहले उसका लेबल जरूर चेक करना चाहिए, ताकि आपको यह पता लग सके कि उसमें कितना फैट, कितनी शुगर और कितना सॉल्ट कंटेंट है।


6. भोजन के पोर्शंस का ध्यान रखना


कुछ भी खाते वक्त हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए कि आपको कोई चीज़ कितनी खानी है। आमतौर पर अगर कुछ ज्यादा पसंद आ जाता है तो आप यह भूल जाते हैं कि आपको कितना खाना है। स्वाद के चलते आप अपने पेट को बहुत ज्यादा भर लेते हैं। ध्यान रखें कि ऐसा न हो, इसके लिए आपको छोटी प्लेट लेनी चाहिए और खाते वक्त बीच में पानी पी लेना चाहिए। इसके बाद करीब 5 मिनट इंतजार करने के बाद अपनी भूख को चेक करें कि अभी आपको और भूख है या नहीं। इसके बाद ही आपको अगला पीस लेना चाहिए।


7. लगातार बैठकर काम करना बिलकुल बंद 


जी हां, अगर आपका जॉब एक जगह बैठे रहने का है तो इसे बीच बीच में ब्रेक करना बेहद जरूरी है। एकसाथ बैठे रहना न तो आपके वजन के लिए ठीक है और न ही आपके दिल के लिए। इसलिए किसी न किसी बहाने हर घंटे के बाद उठकर कुछ चल लेना चाहिए। रोजमर्रा में एक्टिविटी बढ़ना हेल्थ के लिए अनेक फायदों से जुड़ा होता है। जबकि एक जगह लगातार बैठे रहना सिर्फ वजन बढ़ने ही नहीं, बल्कि मोटापे के लिए भी जिम्मेदार होता है।


8. अपने ड्रिंक का खास ख्याल रखना


आमतौर पर बहुत से लोगों को यह गलतफहमी होती है कि फ्रूट जूस सेहत के लिए बहुत अच्छे होते हैं, लेकिन वे यह नहीं जानते कि इन फ्रूट जूस में बहुत ज्यादा शुगर होती है। इसलिए हमारा सुझाव यह है कि पूरे दिन में आपको खूब सारा पानी पीना चाहिए, कोल्ड ड्रिंक्स  को एवॉयड करना चाहिए और दिन में एक छोटा ग्लास फ्रूट जूस पीना चाहिए।


9. फूड पर हो पूरा फोकस 


भोजन करते वक्त आपका पूरा ध्यान अपने खाने पर ही होना चाहिए। जल्दी- जल्दी बिना चबाए खाना आपकी सेहत नहीं बल्कि आपके बढ़ते वजन के लिए भी जिम्मेदार होता है। इसलिए टेबल पर बैठकर धीरे-धीरे खूब अच्छी तरह से चबाकर खाना खाना चाहिए और चलते- फिरते खाना नहीं खाना चाहिए। जब आपका ध्यान अपने खाने पर नहीं होता तो आपका भोजन अच्छी तरह से नहीं पचता। इसकी वजह यह है कि अगर आपका ध्यान खाने की बजाय कहीं और होता है तो आपके आंतरिक अंगों को आपकी भूख के संकेत सही तरह से नहीं मिलते।


10. दिन में पांच बार वेजीटेबल्स डाइट


चाहे वो फ्रेश हों, फ्रोज़न हों या फिर टिन्ड हों, वेजीटेबल्स और फ्रूट्स की न्यूट्रीशनल वैल्यू यानि कि पोषकता बहुत ज्यादा और इनर्जी डेंसिटी बहुत कम होती है। अगर आप दिन में पांच बार फ्रूट्स और वेजीटेबल्स खाएंगे तो इससे आपको अनेक हेल्थ बेनिफिट्स होंगे। इसमें कैंसर का खतरा कम होने से लेकर दिल की बीमारियों का कम होना शामिल है।


इसे भी पढ़ें -


मोटापा घटाने के लिए बेस्ट हैं ये बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे 


प्रेगनेंसी के बाद अपने पेट को वापस शेप में लाने के लिए अपनाएं ये तरीके