Gudhal ke Fayde in Hindi - गुड़हल ( Hibiscus ) के फायदे और नुकसान | POPxo
Home
मोटापा घटाने से लेकर बालों के झड़ने तक में फायदेमंद है गुड़हल का फूल - Gudhal Ke Fayde in Hindi

मोटापा घटाने से लेकर बालों के झड़ने तक में फायदेमंद है गुड़हल का फूल - Gudhal Ke Fayde in Hindi

आयुर्वेद में गुड़हल के पेड़ को एक संपूर्ण रूप में औषधि के तौर पर दर्ज किया गया है। इसकी जड़ से लेकर फूल तक, हर एक चीज किसी न किसी बीमारी के लिए रामबाण है। देखने में गुड़हल का फूल बहुत ही खूबसूरत होता है। इसे आपने अक्सर अपने घर की बागवानी में या फिर पार्क में लगे देखा होगा। वैसे तो आमतौर पर गुड़हल का फूल लाल रंग का ही देखने को मिलता है लेकिन आपको बता दें कि  इस फूल का रंग गुलाबी, सफेद, पील और बैंगनी भी होता है। गुड़हल का वैज्ञानिक नाम हिबिस्कस सब्दरिफा (Hibiscus Sabdariffa) है। इसको हिबिस्कस फ्लावर के नाम से भी जाना जाता है। इस फूल में कई तरह के पोषक तत्व भी पाये जाते हैं जैसे कि - कैल्शियम, आयरन, वसा, विटामिन सी और फाइबर। गुड़हल के फूलों का इस्तेमाल कई तरह की दवाओं में किया जाता है। भगवान की पूजा में इस्तेमाल होने वाला ये पवित्र फूल बालों के अलावा त्वचा यानि कि स्किन और डेली रुटीन से जुड़ी अनेक परेशानियों व रोगों में भी फायदेमंद होता है।


बाल झड़ने की दवाई (Hibiscus Patanjali Hair Products)


सेहत की लिए फायदेमंद है गुड़हल का फूल (Gudhal for Health in Hindi)


गुड़हल का फूल इस्तेमाल करने के नुकसान (Side Effects of Hibiscus Flower in Hindi) 


 


गुड़हल (हिबिस्कस) के फायदे (Benefits of Gudhal in Hindi)


hibiscus-flower-benefits-for-weight-loss-in-hindi


वजन घटाने (वेट लॉस) में गुड़हल का उपयोग (Gudhal for Weight Loss)


वेट लॉस के लिए गुड़हल का इस्तेमाल उसकी चाय की तौर पर किया जाता है। क्योंकि गुड़हल की चाय में नैचुरल फैट बर्न करने के गुण होते हैं। गुड़हल में भरपूर एंटी-ऑक्सिडेंट पाए जाते है, जो शरीर की मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया में सुधार करता है। साथ ही इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण आपको हाई ब्लडप्रेशर और लीवर से जुड़ी समस्याओं से भी बचाने में मदद करते हैं।


जानिए मोटापा घटाने के लिए बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे...


ऐसे बनाएं गुड़हल की चाय -


2 कप पानी में गुड़हल के फूल लें और उसकी सूखी पत्तियों को डाल दीजिए। पानी को उबालें, जब पानी आधा रह जाए तब इसे उतार कर छान लें। इसके बाद इसमें नींबू के रस की कुछ बूंदें और शहद मिला दीजिए। गुड़हल की स्वादिष्ट चाय तैयार है। इसे रोज दिन में 2 से 3 बार ये चाय पीने से आपको अपने शरीर में फर्क खुद ही नजर आ जायेगा। अगर आपके लिए इस तरीके से चाय बनाना मुश्किल है तो आप किसी भी हर्बल ब्रांड का हिबिस्कस टी का पैकेट बाजार या ऑनलाइन ले सकते हैं।


मासिक धर्म ( पीरियड) से जुड़ी समस्याओं में गुड़हल के फायदे


आमतौर पर बहुत सी महिलाओं को पीरियड (Periods) लेट आने की समस्या होती है लेकिन ऐसा बार-बार होना या लंबे समय तक न आना सही नहीं है। हर महिला को पता होता है कि उसके पीरियड्स महीने के किस तारीख को होंगे। क्योंकि अक्सर पीरियड साइकिल 28 दिन का होता है, 28 या 30 दिन के बाद फिर से पीरियड्स आते हैं। वहीं जब 28-30-40 दिन हो जाते हैं और उसके बाद भी पीरियड्स नहीं आते हैं। तो अनियमित पीरियड की इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए अपनी डॉक्टर के पास जाने से पहले आप गुड़हल की पत्तियों की चाय भी ट्राई कर सकती हैं। दरअसल, महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन की कमी होने के कारण हार्मोंस असंतुलित हो जाते हैं जिसकी वजह से पीरियड कभी मिस हो जाते हैं या फिर देरी से आते हैं और कभी-कभी तो इतना हैवी फ्लो होता है कि शरीर में कमजोरी आ जाती है। ऐसे में गुड़हल की चाय पीने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है।


अगर आपके पीरियड भी समय पर नहीं आते तो आजमाएं ये 8 घरेलू नुस्खे


hibiscus-flower-benefits-for-skin-in-hindi


स्किन केयर में गुड़हल का उपयोग (Gudhal for Skin Care in Hindi)


पुराने समय से गुड़हल का इस्तेमाल ब्यूटी प्रोडक्ट्स के तौर पर होता रहा है। ये चेहरे की देखभाल के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। इसे बोटोक्स प्लांट के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमें नेचुरल बोटोक्स इफेक्ट होता है। खासतौर पर जिन लोगों को स्किन से जुड़ी समस्याएं हैं उनके लिए विशेष रूप से गुड़हल काफी लाभदायक है। इसमें आयरन, विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाये जाते हैं। इसका इस्तेमाल करने से कील- मुहांसों, डार्क सर्कल, दाग- धब्बों, झुर्रियां जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। सिर्फ यही नहीं गुड़हल हमारी त्वचा से कालापन दूर कर उसे साफ, चमकती और दमकती बनाता है।


एंटी एंजिग में गुड़हल का उपयोग (Gudhal for Anti Aging)


लंबे समय तक जवां तो हर कोई दिखना चाहता है लेकिन आजकल के खराब लाइफस्टाइल की वजह से झुर्रियां समय से पहले ही चेहरे पर दस्तक दे देती हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि गुड़हल की पत्तियां एंटी- एजिंग (Anti-Ageing) की समस्या के लिए औषधि का काम करती हैं। दरअसल, गुड़हल की पत्तियों में फ्री रेडिकल्स (Free Radicals) को हटाने की क्षमता होती है। जिससे उम्र बढ़ने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है और हमारी स्किन जवां की जवां बनी रहती है।


जानिए एंटी एंजिग हटाने के घरेलू नुस्खों के बारे में ...


अपनी स्किन की देखभाल के लिए ऐसे करें गुड़हल का इस्तेमाल (Gudhal for Skin Care in Hindi)


गुड़हल की पत्तियों को उबाल कर उसे अच्छी तरह पीस लें। अब इसमें थोड़ा शहद मिलाएं और हल्के हाथों से अपने चेहरे पर लेप की तरह लगा लें। फिर 15 से 20 मिनट के बाद चेहरे को ठंडे पानी से अच्छी तरह धो लें। ऐसा करने से चेहरे का रूखापन तो दूर होगा ही साथ ही चेहरे को मिलेगा बेदाग गोरापन।


hibiscus-flower-benefits-for-hair-in-hindi


हेयर केयर में गुड़हल का उपयोग (Gudhal for Hair)


जो लोग बालों से जुड़ी समस्याओं से परेशान हैं उनके लिए गड़हल काफी मददगार साबित होता है। बालों का झड़ना, रूखा होना हो या फिर ग्रोथ की समस्या हो तो ऐसे में गुड़हल की पत्तियां बहुत काम आती हैं। आप चाहे तो गुड़हल के फूल और पत्तियों से बने पेस्ट का नैचुरल हेयर कंडीशनर के तौर पर भी उपयोग कर सकते हैं। इससे बाल मुलायम, चमकदार तो बनेंगे ही साथ हेल्दी भी नजर आयेंगे। आवंला पाउडर और गुड़हल की पत्तियों को मिलाकर पीस लें और इसे बालों पर लगाकर मालिश करें फिर देखिए कैसे आपके बालों का झड़ना एकदम ही बंद हो जाएगा और साथ ही बाल घने भी दिखेंगे।  


बाल झड़ने की दवाई (Hibiscus Patanjali Hair Products)


पतंजलि केश कांति एंटी डैंड्रफ क्लींजर


ये एक आयुर्वेदिक शैंपू है जो बालों से रूसी नष्ट करके उन्हें मुलायम एवं चमकदार बनाता है। इसके अलावा यह बालों की और सिर यानि स्कैल्प पर जमी  गंदगी को साफ करता है। अगर आप केमिकल हेयर केयर प्रोडक्ट से निराश हो चुके हैं तो गुड़हल से तैयार किये पतंजलि के हेयर केयर प्रोडक्ट का इस्तेमाल कर सकते हैं।


पतंजलि हेयर कंडीशनर कलर प्रोटेक्शन


गुड़हल से तैयार किया गया पतंजलि का ये प्रोडक्ट बेजान बालों में जान डाल देता है। यह बालों को मजबूत, चमकीला, और स्वस्थ भी बनाता है| इसे इस्तेमाल करना भी आसान है, बस बाल धोने के बाद इस हेयर कंडीशनर की 2 से 5 ग्राम की मात्रा लेकर इसे अच्छी तरह बालों पर लगाएं और 1-2 मिनट के लिए लगा रहने दें।  इसके बाद बालों को सादे पानी से अच्छी तरह धो लें।


जानिए पतंजलि वेट लॉस प्रोडक्ट्स के बारे में...


याददाश्त बढ़ाने में गुड़हल का उपयोग


गुड़हल का शर्बत मेमोरी पावर यानि याददाश्त बढ़ाने का सबसे बेस्ट तरीका है। खासतौर पर बच्चों के दिमागी विकास के लिए। ये दिल और दिमाग दोनों के लिए एनर्जी बूस्टर के रूप में काम करता है। अगर बढ़ती उम्र के साथ- साथ अगर आपकी मेमोरी लॉस यानि कि याददाश्त कमजोर हो रही है तो गुड़हल का शर्बत आपके लिए फायदेमंद रहेगा।


कैसे बनाएं गुड़हल का शर्बत


सबसे पहले गुड़हल की 8 या फिर 10 पत्तियां और फूल दोनों को सुखाकर पीस लें और उसका पाउडर बना लें और किसी एयर टाइट डब्बे में बंद करके रख लें। और दिन में कम से कम 2 बार इस पाउडर का शर्बत बनाएं या फिर इसे दूध के साथ लें। दिमाग कंप्यूटर से भी तेज दौड़ने लगेगा।  


hibiscus-tea-benefits-in-hindi


सेहत की लिए फायदेमंद है गुड़हल का फूल (Gudhal for Health in Hindi)


बालों और स्किन के अलावा गुड़हल का फूल और पत्तियां हमारे सेहत के लिए भी काफी फायेदमंद होती है। आइए जानते हैं इसके बारे में ...


हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्त चाप)


अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की एक रिपोर्ट में पता लगा था कि गुड़हल की पत्तियों से बनी चाय हार्ड ब्लड प्रेशर और दिल के मरीजों के लिए औषधि का काम करती है। इसका सेवन करने से दिल की गति सामान्य हो जाती है और शरीर रिलैक्स महसूस करता है। अगर किसी को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो उसे दिन में कम से कम 2 बार गुड़हल की चाय का सेवन जरूर करना चाहिए।


एनीमिया (Anemia)


ज्यादातर महिलाएं ब्लड लॉस और आयरन की कमी से एनीमिया का शिकार हो जाती हैं। लेकिन आपको बता दें कि गुड़हल के फूल से एनीमिया जैसी समस्या ठीक हो जाती है। इसके लिए एक महीने तक रोजाना दूध के साथ एक चम्मच गुड़हल का पाउडर लेना फायदेमंद रहता है।


सर्दी, खांसी और जुकाम (Cough & Cold)


गुड़हल की चाय सर्दी, जुकाम और खांसी से परेशान लोगों को राहत पहुंचाने का काम करती है। दरअसल, इसमें ज्यादा मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है। जोकि सर्दी से शरीर को बचाता है।


कोलेस्ट्रोल (Cholesterol)


गुड़हल की चाय हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल स्तर बनाए रखने में काफी मददगार साबित होती है। इसमें मौजूद पोषक तत्व धमनी में पट्टिका यानि कि पैलेक्यू को जमने से रोकती हैं। इसे हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर नैचुरल तरीके से कम हो जाता है


मधुमेह या डायबिटीज (Diabetes)


एक रिसर्च में सामने आया है कि गुड़हल डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत ही फायदेमंद दवा के रूप में काम करती है। क्योंकि गुड़हल की खट्टी चाय शरीर में पहुंच कर कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसरॉइड्स को कम करती है। जोकि डायबिटीज या मधुमेह जैसी बीमारी को रोकने में मदद करता है


किडनी स्टोन (Kidney Stone)


अगर आपको किडनी स्टोन है तो इसमें भी गुड़हल की चाय फायदेमंद रहेगी। इससे किडनी स्टोन की समस्या में लाभ मिलेगा। इसके लिए रोजाना रात में खाना खाने से 1 घंटा पहले चाय का सेवन करें।


मुंह के छाले (Cold Sores)


मुंह के छाले में गुड़हल के 4- 5 पत्तियां चबाने से फायदा होता है। इससे लार ज्यादा बनती है और पाचन शक्ति बेहतर हो जाती है।


मुंह के छालों से लिए अन्य घरेलू नुस्खे जानने के लिए यहां क्लिक करें ….


गुड़हल का फूल इस्तेमाल करने के नुकसान (Side Effects of Hibiscus Flower in Hindi) 


ऐसा जरूरी नहीं है कि गुड़हल का उपचार हर किसी के लिए फायदेमंद ही साबित हो। इसके सेवन के नुकसान भी हैं। तो आइए जानते है कि गुड़हल का सेवन किन लोगों को किस तरह से नुकसान पहुंचा  सकता है।


hibiscus-tea-avoid-pregnancy


गर्भवती महिलाओं को तो भूलकर भी नहीं करना चाहिए गुड़हल का सेवन


गुड़हल की चाय उन महिलाओं के लिए नुकसानदायक होती है जोकि गर्भवती यानि कि प्रेगनेंट हैं या फिर किसी तरह का फर्टिलिटी ट्रीटमेंट चल रहा है। क्योंकि इससे शरीर में एस्ट्रोजेन का स्तर कम हो जाता है और पीरियड आ सकते हैं। गर्भपात होने की भी आशंका हो सकती है।


‘प्रेगनेंट होने के लिए रोज सेक्स करना चाहिए’ जाने ऐसे ही कुछ मिथ और उनके फैक्ट्स


हार्मोंस ट्रीटमेंट लेने वालों के लिए भी है नुकसानदायक


जी हां जो महिलाएं हार्मोन उपचार करवा रही है या फिर उसकी दवाई ले रही हैं उनके लिए भी गुड़हल का प्रयोग नुकसानदायक ही है। साथ गर्भनिरोधक गोलियां ले रही महिलाओं को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए।


ड्राइव करते समय न करें इसका सेवन


अगर आपको गाड़ी ड्राइव करनी है तो उसके 1 घंटे पहले या उस समय गुड़हल का किसी भी रूप में सेवन न करें। क्योंकि इसका सेवन करने के बाद नींद आने लगती है। इसीलिए इस बात का खासतौर पर ध्यान रखें।


लो ब्लड प्रेशर के मरीज न करें इसका सेवन


निम्न रक्तचाप यानि कि लो ब्लड प्रेशर के लोगों को गुड़हल की चाय नहीं पीनी चाहिए। ये उनके ब्लड प्रेशर को और भी कम कर सकती है। जिससे उनकी तबियत बिगड़ जाने का खतरा रहता है।


भूलकर भी न करें खाली पेट इन चीजों का सेवन

प्रकाशित - नवम्बर 23, 2018
Like button
4 लाइक्स
Save Button सेव करें
Share Button
शेयर
और भी पढ़ें
Trending Products

आपकी फीड