home / लाइफस्टाइल
जानिए प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

जानिए प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

गर्भावस्था के पहले तीन महीने बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। इस दौरान एक महिला कई मानसिक और शारीरिक परिवर्तनों से गुजरती है इसलिए अधिक देखभाल करना बहुत जरूरी है। क्योंकि इस अवधि के दौरान भ्रूण के विभिन्न अंग भी विकसित होते हैं, इसलिए गर्भवती महिला को पहली तिमाही के दौरान अपना विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। एक छोटी सी कोशिका वाले भ्रूण से आपका बच्चा इन 3 महीनों में बढ़ने लगता है। आंकड़ों की मानें तो प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही में गर्भपात का खतरा 85 प्रतिशत होता है और इसीलिए इस दौरान प्रेग्नेंट महिला को केयरफुल रहने की जरूरत होती है। 

गर्भवती महिलाएं पहली तिमाही में क्या करें First trimester of pregnancy do’s in hindi

– सही और पौष्टिक आहार लें। जिससे आपको पर्याप्त कैलोरी मिलेगी। दालें, सूखे मेवे, साथ ही मांसाहारी खाद्य पदार्थ जैसे अंडे और मछली शरीर को पूरक प्रोटीन प्रदान करते हैं।

– डॉक्टर के निर्देशानुसार आहार में आयरन और फोलिक एसिड का प्रयोग करें। गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में आपको और बढ़ते भ्रूण को इसकी आवश्यकता होती है। यह भ्रूण की रीढ़ की हड्डी और नसों में कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है।

– आपके बच्चे के जीवन के पहले तीन महीनों के दौरान, आपको लगभग 0.5 से 2 किलो वजन बढ़ाने की आवश्यकता होती है।

– हर दो से तीन घंटे में नियमित रूप से थोड़ी-थोड़ी मात्रा में भोजन करते रहें।

– भोजन में पर्याप्त मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड खाएं जो भ्रूण के मस्तिष्क, तंत्रिकाओं और आंखों के विकास में मदद करेगा।

– खाने में कैल्शियम सप्लीमेंट्स शामिल करें। प्रतिदिन 600 मिलीलीटर दूध या दूध से बने पदार्थ नियमित रूप से लें।

– विटामिन डी पाने के लिए अंडे की जर्दी, फिश लिवर ऑयल मिलाएं और यहां तक ​​कि तेज धूप में चलने से भी पर्याप्त विटामिन डी मिलेगा।

– नियमित रूप से वॉक पर जाएं और हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करें जिससे आपकी शारीरिक क्षमता बढ़ेगी, पीठ दर्द से राहत मिलेगी और शारीरिक परिवर्तनों से निपटने में भी मदद मिलेगी।

– इस दौरान पर्याप्त नींद लें। गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन से थकान हो सकती है, इसलिए जितना हो सके आराम करें।

– नियमित व जरूरी जांचे भ्रूण के विकास की निगरानी कर सकती है और भविष्य के जोखिमों को रोकने में मदद कर सकती है। इसीलिए डॉक्टर के पास जांच व परामर्श के लिए जरूर जाएं।

प्रेगनेंसी के पहले तीन महीनों में क्या न करें First trimester of pregnancy don’ts in hindi

– अत्यधिक तनाव और हताशा से बचें। एक गर्भवती महिला के अतिरिक्त तनाव के कारण गर्भपात होने की संभावना अधिक होती है।

– बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवा लेने से बचें। किसी भी दवा का ओवरडोज भ्रूण पर हानिकारक प्रभाव डाल सकता है।

– गर्भावस्था के दौरान डाइटिंग से बचें। यह आपको और आपके बच्चे को विटामिन, आयन (आयरन) और फोलिक एसिड, खनिज जैसे आवश्यक पोषक तत्वों से दूर रखेगा।

– बाहर का खाने-पीने का सेवन न करें, इससे आपको फूड पॉइजनिंग होने का खतरा हो सकता है।

– आधे पके और कच्चे मांस का सेवन न करें।

– ज्यादा गर्म पानी से नहाने से बचें। यह आपको निर्जलित महसूस करा सकता है और इसके परिणामस्वरूप बच्चे को पीड़ित होने की अधिक संभावना है।

– इस दौरान धूम्रपान करने से बचें। शराब का सेवन बच्चे के विकास को प्रभावित करता है और समय से पहले जन्म की संभावना को बढ़ाता है। धूम्रपान को शिशु मृत्यु दर में वृद्धि से जोड़ा गया है।

ये भी पढ़ें –
इन 5 कारणों के चलते आपको प्रेग्नेंसी के दौरान जंक फूड खाने से बचना चाहिए
प्रेग्नेंसी के दौरान भूलकर भी न पिएं ये ड्रिंक्स
प्रेग्नेंसी के दौरान त्वचा पर भूलकर भी ना करें इन चीजों का इस्तेमाल
डिलीवरी के बाद इस तरह करें त्वचा की देखभाल, नहीं होगी स्किन डल
एक्सपर्ट से जानिए प्रेगनेंसी के दौरान योग करना महिला और शिशु के लिए क्यों है फायदेमंद
प्रेगनेंसी के दौरान रखना है खुद को फिट, तो करें ये योगासन
प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए

04 Oct 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text