Advertisement

लाइफस्टाइल

प्यार की जीत : LGBT पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, समलैंगिकता अब अपराध नहीं

Deepali PorwalDeepali Porwal  |  Sep 6, 2018
प्यार की जीत : LGBT पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, समलैंगिकता अब अपराध नहीं

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में LGBTQ कम्युनिटी के हित में एक ऐतिहासिक फैसला लिया गया है। इसके तहत देश में अब असल मायने में प्यार की जीत हुई है।

विशेष समुदाय को मिले समान अधिकार

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई में सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की खंडपीठ ने गुरुवार को LGBTQ समुदाय के हित में एक ऐसा फैसला सुनाया है, जिसके बाद वे भी देश में बाकी लोगों की तरह समान अधिकारों के साथ रह सकेंगे। पीठ ने IPC की धारा 377 को अतार्किक और अवैध बताया है। इस केस का फैसला 17 जुलाई को ही कोर्ट में सुरक्षित कर लिया गया था। समलैंगिक संबंधों को अवैध बताने वाली धारा को खत्म करने के फैसले के बाद इस समुदाय से जुड़े लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई है।

shutterstock 715183768

प्यार अब अपराध नहीं

कोर्ट के इस फैसले के बाद LGBT (लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर) समुदाय के लोगों को छिप कर नहीं रहना पड़ेगा। अब वे भी आम नागरिकों की तरह एक सुखी दांपत्य जीवन बिता सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ के मुताबिक, दो बालिगों के बीच सहमति से बने अप्राकृतिक यौन संबंध को नाजायज नहीं ठहराया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ ने आम राय से कहा है कि अंतरंगता और निजता सबकी निजी पसंद है। धारा 377 संविधान के अनुच्छेद 14 के तहत प्राप्त समानता के अधिकार को सीधी चुनौती दे रहा था।

shutterstock 1091954363

नहीं छीन सकते अधिकार

सुप्रीम कोर्ट की न्यायिक पीठ ने कहा कि देश में सभी को समान अधिकार मिले हुए हैं। नैतिकता की आड़ में ज़बर्दस्ती के कानून या नियम बनाकर उन्हें किसी से छीना नहीं जा सकता है। यौन प्राथमिकता जैविक और प्राकृतिक है, ऐसे में किसी को इससे वंचित नहीं किया जा सकता है। हर किसी को अपने हिसाब से जीने का अधिकार है, इसलिए जो जैसा है, उसे वैसे ही स्वीकार किया जाना चाहिए। धारा 377 की वजह से LGBT समुदाय को समाज में जो भेदभाव झेलना पड़ रहा था, अब वे उससे बच सकेंगे।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का सबको बेकरारी से इंतज़ार था और अब इसका तहेदिल से स्वागत किया गया है।

ये भी पढ़ें :

आईएएस टॉपर टीना डाबी को अतहर से पहली नजर में हो गया था प्यार

ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीतने वाली पहली ट्रांससेक्सुअल बनीं नाज जोशी

वर्कप्लेस पर यौन उत्पीड़न : जानें महिला सुरक्षा से जुड़ी ये बातें