home / xSEO
पेट में कीड़े होने के लक्षण

Pet me Kide Hone ke Lakshan – जानिए पेट में कीड़े होने के लक्षण, कारण व घरेलू उपाय

पेट में कीड़े होना एक इसी समस्या है, जो बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक किसी को भी हो सकती है। हालांकि बच्चों में यह समस्या अधिक देखी जा सकती है। पेट के कीड़े, जिन्हें परजीवी कीड़े भी कहा जाता है, मनुष्यों में आंतों के परजीवी के मुख्य प्रकारों में से एक हैं। अधिकांश मामलों में पेट के कीड़े केवल हल्की बीमारी का कारण बनते हैं और दवा के साथ इसका इलाज किया जा सकता है। पेट के कीड़े के प्रकारों में टैपवार्म, हुकवर्म, लीवर फ्लूक, थ्रेडवर्म, एस्केरिस, जो एस्कारियासिस का कारण बनता है, और ट्रिचिनेला, जो ट्राइकिनोसिस का कारण बनता है। अन्य आम परजीवी हैं जिआर्डिया लैम्ब्लिया, जो बीवर बुखार का कारण बनता है, और एंटामोइबा हिस्टोलिटिका, जो अमीबिक पेचिश का कारण बनता है। ये कीड़े नहीं हैं, लेकिन ये आंतों के परजीवी हैं। हम यहां आपको pet me kide hone ke lakshan सहित इसे दूर करने के उपाय के बारे में बता रहे हैं। 

पेट में कीड़े होने के लक्षण – pet me kide ke lakshan

पेट साफ करने का तरीका पता हो तो पेट की कई बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है। वैसे पेट के कीड़े कई लक्षण पैदा कर सकते हैं, और इनमें से कुछ आंत की अन्य स्थितियों के लक्षणों से मिलते जुलते हैं। वहीं कुछ लोगों को बिना किसी लक्षण के वर्षों तक आंतों में कीड़े हो सकते हैं। हर व्यक्ति मेंअलग-अलग प्रकार के लक्षण देखने को मिलते हैं। यह ज़्यदातर पेट के कीड़ों के प्रकर पर निर्भर करता है। हालांकि, सामान्य संकेतों और लक्षणों में शामिल हैं:

– भूख में कमी

– थकान

– पेट में दर्द

– सूजन

– जी मिचलाना

– अनजाने में वजन कम होना

– पेट की ख़राबी

– दस्त, मतली, या उल्टी

– गैस और सूजन

पेट के कीड़े वाले व्यक्ति को पेचिश का अनुभव भी हो सकता है। पेचिश तब होती है, जब आंतों के संक्रमण के कारण मल में रक्त और बलगम के साथ दस्त हो जाते हैं। पेट के कीड़े भी मलाशय या योनी के आसपास दाने या खुजली पैदा कर सकते हैं। कुछ मामलों में, आप मल त्याग के दौरान अपने मल में कीड़े देख सकते हैं। 

पेट में कीड़े होने के कारण

कीड़े विभिन्न तरीकों से शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। स्वच्छता संबंधी समस्याएं अक्सर एक भूमिका निभाती हैं, लेकिन पेट के कीड़े (pet ke kide) कैसे भी हो सकते हैं। बकरा, सुअर या मछली का अधपका मांस खाना भी इसकी एक वजह हो सकती है। वासी तो पेट दर्द का घरेलू उपचार भी उपलब्ध है लेकिन इसके लिए पेट मे कीड़े के लक्षण के अलावा कारणों का पता होना भी बेहद ज़रूरी है। फिर भी पेट के कीड़े के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं: 

– कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, उदाहरण के लिए, वृद्धावस्था या एचआईवी के कारण

– गर्म या उष्णकटिबंधीय जलवायु में रहना

– पीने योग्य पानी तक पहुंच न होना

– पढ़ने में असमर्थ होना, जो स्वास्थ्य और सुरक्षा जागरूकता को प्रभावित कर सकता है

– दूषित मिट्टी की खपत

– दूषित मल के संपर्क में आना

– कम स्वच्छता

– खराब स्वच्छता

एक बार जब आप दूषित पदार्थ का सेवन कर लेते हैं, तो परजीवी आपकी आंतों में चला जाता है। फिर वे प्रजनन करते हैं और आंत में बढ़ते हैं। एक बार जब वे प्रजनन करते हैं और मात्रा और आकार में बड़े हो जाते हैं, तो लक्षण प्रकट हो सकते हैं।

पेट में कीड़े से नुकसान – Pet me kide hone ke nuksan

पेट में कीड़े से नुकसान के बारे में जानना भी बेहद ज़रूरी है। बच्चे विशेष रूप से पेट के कीड़ों के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं क्योंकि वे अक्सर दूषित मिट्टी वाले वातावरण में खेलते हैं, जैसे कि सैंडबॉक्स और स्कूल के खेल के मैदान। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण वृद्ध वयस्कों में भी जोखिम बढ़ जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया की आबादी का अनुमानित 24 प्रतिशत मिट्टी से संक्रमित कीड़ों से संक्रमित है। उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में संक्रमण सबसे आम हैं, विशेष रूप से, उप-सहारा अफ्रीका, अमेरिका, चीन और पूर्वी एशिया। विकासशील देशों में रहने और जाने वाले लोगों को दूषित स्रोतों से पीने के पानी और स्वच्छता के स्तर में कमी के कारण सबसे ज्यादा खतरा है।

पेट के कीड़े दूर करने के घरेलू उपाय – Pet ke kide marne ke gharelu upay

  • कच्चा पपीता जूस
  • कद्दू के बीज
  • लौंग
  • नीम
  • हल्दी
  • नारियल
  • गाजर

अगर आपको कभी पेट में कीड़े हुए हों, तो आपको पता होगा कि उनसे छुटकारा पाना कितना मुश्किल है। हम सोचते रह जाते हैं कि पेट को ठंडा कैसे रखें और ये pet ke kide हमें अंदर से कमजोर बनाते रहते हैं। हालांकि इनको मारने के लिए कई दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन सब किसी न किसी साइड इफेक्ट को साथ लेकर आती हैं। पेट में कीड़े ज्यादातर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में मौजूद होते हैं, मुख्य रूप से आंतों की दीवार पर। आंतों के कीड़े के सबसे आम प्रकार राउंडवॉर्म, पिनवॉर्म, व्हिपवर्म, फ्लूक और टैपवार्म हैं। हम यहां आपके लिए पेट के कीड़े (worm infection in hindi) दूर करने के उपाय लेकर आये हैं। 

कच्चा पपीता जूस

कच्चा पपीता पेट के कीड़ों को मरने के लिए एक बेहतर उपाय साबित हो सकता है। इसके लिए आप कच्चे पपीते का जूस बनाकर भी ले सकते हैं। आपको बस 1 चम्मच कच्चे पपीते के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर सुबह सबसे पहले लेना है। इसके बाद एक गिलास गर्म दूध पीना चाहिए, जिसमें 1 चम्मच अरंडी का तेल मिलाना है। यह उपचार 2 दिन तक करना चाहिए।

कद्दू के बीज

कद्दू के बीज अमीनो एसिड और फैटी एसिड से भरपूर होते हैं। विशेष रूप से, वे बेरबेरीन, कुकुर्बिटिन और पामेटाइन में समृद्ध हैं। ये सभी अमीनो एसिड हैं जो कुछ परजीवियों को नुकसान पहुंचाने के लिए जाने जाते हैं। आप इन्हें खा सकते हैं। हरे रंग के दिखने वाले कद्दू के बीज स्वाद में भी काफी बेहतर होते हैं। आप इन्हें स्नैक्स की तरह कभी भी खा सकते हैं। इसके अलावा आधा कप पानी और नारियल के दूध में एक बड़ा चम्मच भुने हुए कद्दू के बीज मिलाएं। इस मिश्रण को रोजाना सुबह खाली पेट एक हफ्ते तक पिएं। इसमें कुकुर्बिटासिन नामक एक यौगिक होता है जिसमें परजीवी विरोधी गुण होते हैं जो परजीवियों को पंगु बना देते हैं और इस प्रकार शरीर से सभी परजीवियों को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

लौंग 

लौंग में एंटीसेप्टिक और एंटी-पैरासिटिक गुण होते हैं जो आंतों के कीड़े और उनके अंडों को नष्ट कर देते हैं। एक बर्तन में दो से तीन लौंग एक कप पानी के साथ उबालें। 5 मिनट तक उबालें और छान लें। इस घोल को एक हफ्ते तक रोजाना 3 से 4 बार पिएं।

नीम 

नीम को इसके एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल, एंटीपैरासिटिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीडायबिटिक और घाव भरने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। पेट के कीड़ों को मरने के लिए नीम के कुछ पत्तों को पीसकर एक महीन पेस्ट बना लें। इस पेस्ट का आधा चम्मच रोजाना सुबह खाली पेट एक गिलास पानी के साथ सेवन करें। इस उपाय को कुछ दिनों तक करें और आपको शरीर से परजीवियों से छुटकारा मिल जाएगा।

हल्दी 

कई उच्च गुणवत्ता वाले अध्ययनों से पता चलता है कि हल्दी आपके शरीर और मस्तिष्क के लिए प्रमुख लाभ है। इनमें से कई लाभ इसके मुख्य सक्रिय संघटक, करक्यूमिन से आते हैं। यह प्रकृति में एंटीसेप्टिक और एंटी-माइक्रोबियल है और सभी प्रकार के पेट के कीड़े को खत्म करने में मदद करती है। एक गिलास छाछ लें और उसमें एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं। इसे रोजाना पिएं और आपको शरीर से परजीवियों से छुटकारा मिल जाएगा।

नारियल 

पेट के कीड़ों के लिए नारियल एक और उपयोगी उपाय है। पेट के कीड़ों के इलाज के लिए नारियल सबसे कारगर घरेलू उपाय है। अपने नाश्ते में एक बड़ा चम्मच पिसा हुआ नारियल का सेवन करें। 3 घंटे के बाद लगभग एक गिलास गुनगुने दूध में 2 बड़े चम्मच अरंडी का तेल मिलाकर पिएं। इसे एक हफ्ते तक पीने से पेट के सभी तरह के कीड़े खत्म हो जाते हैं। 

गाजर

गाजर आंतों के कीड़ों के इलाज के लिए जानी जाती है, क्योंकि वे फाइबर से भरपूर होती हैं। गाजर बीटा-कैरोटीन का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो पेट के कीड़े के अंडे को नष्ट कर सकता है। एक हफ्ते तक खाली पेट गाजर खाने से पेट के कीड़ों से छुटकारा मिल सकता है। रोजाना करने से न सिर्फ आपको परजीवियों से छुटकारा मिलेगा, बल्कि भविष्य में पैरासाइट अटैक से भी बचा जा सकेगा।

अगर आपको यहां दिए गए पेट मे कीड़े के लक्षण (pet me kide hone ke lakshan) पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें। 

22 Jun 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text