home / लाइफस्टाइल
About  Independence Day in Hindi – 15 अगस्त 1947 का इतिहास और महत्व

About Independence Day in Hindi – 15 अगस्त 1947 का इतिहास और महत्व

वर्षों की गुलामी के बाद 15 अगस्त सन् 1947 के दिन भारत को आज़ादी मिली थी। यह दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया है। इस आज़ादी के लिए कई शूरवीरों ने अपने प्राणों का त्याग दे कर शहीद हो गए। इस दिन हमारा देश आजाद हुआ, इसलिए इसे स्वतंत्रता दिवस कहते हैं। इस मौके पर हर भारतवासी अपने सभी जानने वाले रिश्तेदारों और दोस्तों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं (Independence Day Quotes in Hindi) शेयर करते हैं और देश की आज़ादी का जश्न मनाया जाता है। पहले हम अंग्रेजों के गुलाम थे। उनके बढ़ते हुए अत्याचारों से सारे भारतवासी त्रस्त हो गए और तब विद्रोह की ज्वाला भड़की और देश के अनेक वीरों ने प्राणों की बाजी लगाई, गोलियां खाईं और अपने शौर्य बलिदान से स्वतंत्रता का दिन दिखाया। तो चलिए आपको बताते हैं स्वतंत्रता दिवस कब मनाया जाता है, स्वतंत्रता दिवस का महत्व और 15 अगस्त 1947 का इतिहास। इस मौके पर आप भी प्यारी प्यारी देशभक्ति शायरी और देश भावना से जुड़ी कवितायेँ शेयर कर सकते हैं। 

Independence Day kab Manaya Jata Hai – स्वतंत्रता दिवस कब मनाया जाता है

Independence Day Kab Manaya Jata Hai

हर साल स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को मनाया जाता है। इसी दिन भारत अंग्रेज़ों की गुलामी से आज़ाद हुआ था। इस दिन के लिए वल्लभभाई पटेल, गांधीजी, नेहरूजी जैसे कई महापुरुषों ने  सत्य, अहिंसा और बिना हथियारों की लड़ाई लड़ी, सत्याग्रह आंदोलन किए, लाठियां खाईं, कई बार जेल गए और अंग्रेजों को हमारा देश छोड़कर जाने पर मजबूर कर दिया। इस तरह 15 अगस्त 1947 का दिन स्वर्णिम दिन अक्षरों में दर्ज़ किया गया। 

Importance of Independence Day in Hindi – स्वतंत्रता दिवस का महत्व

Importance of Independence Day in Hindi

गुलामी का जीवन कोई भी जीना नहीं चाहता। यही कारण है हर भारतवासी के लिए स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) बहुत महत्वपूर्ण दिन है। आज का ही वह दिन है जब देश को अंग्रेजों के अत्याचारों से आजादी मिली थी। यह दिन देश की आज़ादी के साथ-साथ शूरवीरों के बलिदान और त्याग की भावना को भी याद दिलाता है। यह दिन हर भारतवासी के दिल में देशभक्ति और देश प्रेम की अलख जगाता है।

About Independence Day in Hindi – 15 अगस्त 1947 का इतिहास

भारत की आज़ादी का श्रेय किसी एक को नहीं बल्कि कई महान शूरवीरों को जाता है। जिन्होनें अपनी सूझ बूझ, शौर्य और बलिदान से आज़ादी का चेहरा हर भारतवासी को दिखाया। इतिहास में किसी से भी यह बात छुपी नहीं है की भारत दशकों से ब्रिटिश शासन के अधीन था। उस दौरान अंग्रेजों के अत्याचार समय के साथ बढ़ते चले जा  रहे थे। इन अत्याचारों को रोकने और अंग्रेज़ों की गुलामी से मुक्ति दिलवाने के लिए बाल गंगाधर तिलक, शहीद भगत सिंह,  महात्मा गांधी, सरोजिनी नायडू, रानी लक्ष्मी बाई और सुभाष चंद्र बोस जैसे स्वतंत्रता सेनानियों के नेतृत्व में, भारत के नागरिको ने एकजुट होकर अपनी आजादी के लिए संघर्ष किया। कठोर तपस्या और बलिदान से उन्होनें गुलामी से आज़ादी दिलवाई। स्वतंत्रता सेनानियों के नेतृत्व द्वारा बहुत से आंदोलनों, स्वतंत्रता संग्रामों की शुरुआत की गई। इन आंदोलनों के कारण कई लोगों को अपने प्राणों की आहुती देनी पड़ी तो कईयों को जेल तक जाना पड़ा, हालांकि, फिर भी लोगों ने ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ लड़ने की अपनी इस भावना को नहीं छोड़ा। यही कारण हैं की स्वतंत्रता दिवस हमें उन बलिदानों की याद दिलाता है और सबके लिए विशेष महत्व रखता है। भारत का इतिहास हमेशा से बहुत अनूठा रहा है। स्वतंत्रता दिवस का दिन हर भारतवासी को सादगी और वास्तविकता के करीब रहना सिखाता है। यह हमे ऊंचे उड़ान भरने और स्वतंत्र महसूस करने के बावजूद भी बुनियादी रहने की प्रेरणा देता हैं।

साल 2022 में 15 अगस्त का दिन आप भी अपने परिवार के साथ मनाइए और दोस्तों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं शेयर करें और सबको इस खास दिन का महत्व समझाएं। अगर आप 15 अगस्त के दिन पार्टी कर रहे हैं देशभक्ति गीतों की प्लेलिस्ट जरूर शामिल करें।

03 Aug 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text