home / Fitness
योगा एक्सपर्ट से जानिए कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए सबसे प्रभावी योगासन कौन सा है

योगा एक्सपर्ट से जानिए कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए सबसे प्रभावी योगासन कौन सा है

कमर दर्द यानि पीठ दर्द को तीव्र, उप-तीव्र या पुराने दर्द के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। पीठ दर्द के कुछ कारणों में गिरने के कारण चोट लगना, लिगामेंट में खिंचाव, भारी वस्तुओं को उठाना, बैठने या खड़े होने की गलत मुद्रा या पीठ का उपयोग करते हुए अचानक तेज गति से होने वाला दर्द शामिल हैं। इन कारणों के अलावा, खराब शारीरिक स्थिति भी आपकी पीठ पर बार-बार दबाव डालती है जिससे मांसपेशियों में ऐंठन होती है। ऐसे में कमर दर्द दूर करने के तरह-तरह के उपाय लोग आजमाने लगते हैं। लेकिन कमर दर्द की समस्या से निपटने के लिए एक योग आसन बहुत कारगर माना जाता है।

कमर दर्द के लिए सबसे प्रभावी योगासन कौन सा है? Most Effective Yoga asanas for Backache

कमर दर्द से राहत पाने में योगासनों का नियमित अभ्यास आपकी मदद कर सकता है। संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए योग आसनों की सहायता से हम अपनी पीठ को सुरक्षित रख सकते हैं। यहां तक ​​कि रोजाना 10-15 मिनट भी काफी हद तक हमारी रीढ़ की हड्डी के स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं और पीठ दर्द के तनाव से बच सकते हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे सरल और कारगर आसन जिसे आप बहुत ही आराम से कर सकते हैं, इसके लिए आपको कोई स्पेशल ट्रेनिंग की भी जरूरत नहीं है। तो आइए जानते हैं अक्षर योग के संस्थापक ग्रैंड मास्टर अक्षर  (Master Akshar) जी से कि कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए कौन-सा योगासान ज्यादा कारगर होते हैं –

अर्ध मत्स्येन्द्रासन

योग तकनीकों के माध्यम से, रीढ़ की हड्डी की ताकत और लचीलेपन में सुधार करना संभव है। चलना, तैरना और हल्की एरोबिक गतिविधियां यदि नियमित रूप से की जाती हैं, तो मांसपेशियों को बेहतर तरीके से काम करने के लिए पीठ को ताकत और सहनशक्ति भी मिलती है। जब हम अपनी पीठ के बल काम कर रहे हों, तो अपने कोर को भी मजबूत करना सुनिश्चित करें। यह कूल्हों में लचीलेपन के साथ-साथ पीठ को भी सहारा देगा। स्वस्थ वजन बनाए रखने से हम पीठ की मांसपेशियों में खिंचाव से बच सकते हैं। कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप अर्ध मत्स्येन्द्रासन करें। तो आइए जानते हैं इसे करने की सही विधि क्या है।

अर्ध मत्स्येन्द्रासन करने की सही विधि –

यह आसन रीढ़ की हड्डी की लोच को बढ़ाती है, नसों को टोन करती है और रीढ़ की हड्डी के कामकाज में सुधार करती है। यह कशेरुकाओं के बीच से पीठ दर्द और जकड़न से राहत देता है। इस आसन को करने के लिए नीचे दिये गये स्टेप्स को फॉलो करें – 

  • दंडासन से शुरू करें
  • बाएं पैर को मोड़ें और बाएं पैर को दाएं घुटने के ऊपर जमीन पर रखें
  • दाहिने पैर को मोड़ें और इसे इस तरह मोड़ें कि यह जमीन पर टिका रहे और दाहिनी एड़ी बाएं श्रोणि के पास रखें।
  • दाहिने हाथ को बाएं पैर के ऊपर ले आएं और बाएं पैर के अंगूठे को पकड़ें
  • जैसे ही साँस छोड़ते हैं, शरीर को जितना हो सके मोड़ें, गर्दन को मोड़ें ताकि टकटकी बाएं कंधे पर हो और कमर को बाएं हाथ से घेर लें, जिसमें हथेली बाहर की ओर हो। सामान्य रूप से सांस लेते हुए आसन को जारी रखें।
  • इस पोजीशन में रीढ़ और पेट पर जोरदार मरोड़ होता है।
  • दाहिना हाथ बाएं घुटने के खिलाफ दबाया जाता है जिससे शरीर पर एक मोड़ बढ़ जाता है। छाती खुली है और रीढ़ सीधी है।
  • पेट का एक भाग संकुचित होता है और दूसरा भाग फैला होता है।
  • दाहिना पैर और घुटना फर्श पर टिका हुआ है। बायां घुटना दाहिनी कांख के करीब होना चाहिए।

नोट – योग आसनों में  सहायता के लिए आप योग ब्लॉक, ईंट, तकिए, कुशन जैसे प्रॉप्स के उपयोग भी होते है।  सलाह दी जाती है कि सावधानी से आगे बढ़ें और किसी भी दर्द या परेशानी के मामले में तुरंत रुकें। शुरुआत में छोटी अवधि के लिए आसन धारण करें और धीरे-धीरे अवधि बढ़ाना है। अभ्यास शुरू करने से पहले एक चिकित्सक या अपने भौतिक चिकित्सक से परामर्श करें। सांस पर जागरूकता के साथ हर बार 10-15 सेकंड के लिए 3 सेट इस आसन के दोहराएं।

ये भी पढ़ें –
डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए बेस्ट हैं ये 5 योगासन
एक्सपर्ट से जानिए फेफड़ों को हेल्दी रखने के लिए कौन-से योगासन करने चाहिए
पेट की चर्बी को कम करने के लिए बेस्ट हैं ये योगासन
क्या देर रात तक आपको भी नहीं आती है नींद? तो सोने से पहले ट्राई करें बस ये एक योगासन

MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

30 Nov 2021

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text