home / xSEO
पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे

पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करें – Pregnancy Test Kab Kare

बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है और इसके लिए आपको केवल थोड़ी सी जानकारी की जरुरत है और फिर आप प्रेगनेंसी के पड़ाव को भी सामान्य दिनों की तरह चिंता के बिना बिता सकती हैं। कई दफा पीरियड्स मिस होने पर आपको लग सकता है कि कहीं आप प्रेगनेंट (पीरियड मिस होने के 20 दिन बाद) तो नहीं हो गई हैं। हालांकि, आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि पीरियड्स ना होने के पीछे भी बहुत से कारण होते हैं। लेकिन अगर आप प्रेगनेंट (pregnancy test kitne din bad karna chahie) होने की कोशिश कर रहे हैं तो सकता है कि पीरियड मिस होने का मतलब ये हो कि आप प्रेगनेंट (pregnancy test kab kare) हैं। ऐसे में आपके मन में सवाल आ सकता है कि पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करें या फिर प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए। यहां आप प्रेगनेंसी के दौरान दर्द को दूर करने के टिप्स के बारे में भी जान सकते हैं।

पीरियड्स के कितने दिन बाद करना चाहिए प्रेगनेंसी टेस्ट – Periods ke Kitne din Baad Pregnancy Test Kare

प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए। लेकिन अगर आप ओवुलेशन साइकिल से आठ दिन पहले ही प्रेगनेंसी टेस्ट करती हैं तो हो सकता है कि आपको सही नतीजा ना मिल पाए। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि फर्टिलाइजेशन के बाद ही आपको प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए। प्रेगनेंसी (periods ke kitne din baad pregnancy test kare) के बाद भी ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोफिन हार्मोन तब तक स्रावित नही होता है, जब तक कि आपका अंडा पूरी तरह से फर्टिलाइज (प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है) नहीं हो जाता है। 

यहां बता दें कि ओवुलेशन की प्रकिया शुरू होने के 6 से 12 दिन के बाद एक महिला की गर्भधारण (ओवुलेशन क्या होता है) की संभावना बढ़ती है लेकिन 8 से 10 दिन में इसकी संभावना 85% होती है। गर्भाधारण के बाद 48 घंटों में एचसीजी का स्तर दोगुना बढ़ जाता है। प्रेगनेंसी के शुरुआती दौर में हर महिला में एचसीजी हार्मोन का स्तर अलग-अलग होता है।

7 दिन में आते हैं बेहतर रिजल्ट

पीरियड मिस होने ही आपके प्रेगनेंसी का पहला संकेत या फिर इंडिकेशन होता है। इसके अलावा कुछ और भी लक्षण होते हैं जैसे कि स्तनों को छूने पर दर्द होना, पेट में हल्की ऐंठन होना, थकान महसूस होना, खुशबू से लेकर संवेदनशीलता महसूस होना और सुबह के वक्त जी मिचलाना आदि महसूस होने लगता है। इसके अलावा आप डिटेल में Pregnancy Symptoms in Hindi यहां जान सकते हैं।

आपको पीरियड मिस होने के बाद कम से कम 7 दिनों के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy kitne din me pata chalta hai) कर लेना चाहिए। इससे आपको अपनी प्रेगनेंसी के बारे में सही परिणाम मिलता है। साथ ही कोशिश करें कि आप सुबह में उठने के बाद ही प्रेगनेंसी टेस्ट कर लेना चाहिए क्योंकि इस दौरान उनके यूरिन से उन्हें सही रिजल्ट मिलता है। आमतौर पर घर पर यूरिन सैंपल से किए जाने वाले टेस्ट 99% सही होते हैं लेकिन ब्लड टेस्ट के रिजल्ट यूरिन के मुकाबले ज्यादा सही आते हैं। 

इन आधारों पर निर्भर करता है कि प्रेगनेंसी टेस्ट (प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए) कितना सही है

– प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए इस्तेमाल की जाने वाली किट पर लिखे हुए निर्देशों को सही से फॉलो करें।

– पीरियड में ओवुलेशन होना और कितनी जल्दी आपका अंडा फर्टिलाइज होता है इस पर निर्भर करता है।

– पीरियड मिस होने पर जल्दी टेस्ट करना।

– प्रेगनेंसी टेस्ट में संवेदनशीलता होना आदि।

प्रेगनेंसी टेस्ट कब और कैसे करें

सबसे जरूरी सवाल यही होता है पीरियड मिस होने के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट (गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है) करना चाहिए? आमतौर पर यही कहा जाता है कि पीरियड्स मिस होने के एक हफ्ते के बाद आपको प्रेगनेंसी किट से टेस्ट (ओवुलेशन पीरियड क्या होता है) करना चाहिए। यहां तक कि प्रेगनेंसी किट (प्रेगनेंसी कितने दिन बाद चेक करना चाहिए) बेचने वाली कई कंपनियां ये दावा करती हैं आप पीरियड मिस होने के निर्धारित समय पर टेस्ट कर सकते हैं। अगर आप प्रेगनेंट हैं तो प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए यहां जान सकते हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट के प्रकार

आप दो तरीकों से प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकते हैं। 

यूरिन टेस्ट – यूरिन टेस्ट आप चाहें तो घर पर या फिर डॉक्टर के क्लिनिक पर करवा सकते हैं। आज के समय पर कई महिलाएं अपने पीरियड्स मिस होने पर घर पर ही एक हफ्ते के बाद टेस्ट करती हैं। घर पर भी टेस्ट करना बहुत ही आसान होता है और यह निजी भी है तो पर्सनल स्पेस में महिलाएं अपना टेस्ट कर सकती हैं। 

ब्लड टेस्ट – ब्लड टेस्ट के लिए आपको डॉक्टर के पास जाना पड़ता है, लेकिन आज यूरिन टेस्ट को ही लोग अधिक अहमियत देते हैं। आपको ये टेस्ट ओवुलेशन के 6 से 8 दिन के बाद ही करना चाहिए। लेकिन ब्लड टेस्ट का रिजल्ट यूरिन टेस्ट से अधिक सही आता है।

हम उम्मीद करते हैं इस आर्टिकल से आपको मदद मिली हो और प्रेगनेट होने की कोशिश कर रही हैं तो आप जान सकती हैं कि प्रेगनेंसी कितने दिन बाद चेक करना चाहिए। 

ये भी पढ़ें
प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए – आपको प्रेगनेंसी में किस तरह से सोना चाहिए इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।
Benefits of Eating Mango during Pregnancy in Hindi – क्या आप जानते हैं कि प्रेगनेंसी में आम खाने के कितने फायदे होते हैं, अगर नहीं तो यहां जानें।
प्रेगनेंसी में क्या पढ़ना चाहिए – प्रेगनेंसी में आप क्या पढ़ते हैं यह भी बहुत मायने रखता है और इस वजह से यहां विस्तार से जानें।
प्रेगनेंसी के दौरान दर्द को दूर करने के टिप्स – प्रेगनेंसी में अगर आपको दर्द हो रहा है तो ये टिप्स आपके बहुत काम आएंगी।

23 Jun 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text