home / Festival
नवरात्रि के 9 दिन आपको भी दुर्गा मां के इन मंत्रों का करना चाहिए जाप

नवरात्रि के 9 दिन आपको भी दुर्गा मां के इन मंत्रों का करना चाहिए जाप

मां दुर्गा (Ma Durga) को हिंदू धर्म में शक्तिवाद की देवी माना जाता है। उन्हें शक्ति और समृद्धि की देवी माना जाता है। नवरात्रि के 9 दिनों तक लोग माता दुर्गा की पूजा करते हैं। लोग उनके 9 रूपों की पूजा करते हैं और उनके 9 रूप दुनियाभर में लोगों की रक्षा करते हैं। हिंदू धर्म में माता दुर्गा को सबसे अधिक शक्तिशाली देवी माना जाता है। उन्हें शक्ति का प्रतीक माना जाता है। संस्कृत में माता दुर्गा का मतलब है वो जो अजेय और अपराजेय हो। 
नवरात्रि (Navratri) के 9 दिन माता शक्ति के 9 रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि एकदम सही समय है, जब आप माता रानी की खास पूजा कर सकते हैं और शांति और समृद्धि की दुआ मांग सकते हैं।
सभी भक्त माता रानी की श्रद्धा अर्चना के साथ पूजा करते हैं और विश्वास रखते हैं कि माता रानी उनको बुरी चीजों से सुरक्षित रखेंगी। हालांकि, देशभर में नवरात्रि का त्यौहार अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है। इस दौरान लोग व्रत रखते हैं और भजन गाते हैं और मंत्रों का उच्चारण करते हैं। नवरात्रि (नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं) के दौरान माता रानी के मंत्रों का जाप करना बहुत ही अच्छा माना जाता है। इस साल चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल से शुरू हो रही हैं और इसलिए हम आपके लिए माता रानी के कुछ मंत्र लेकर आए हैं, जिनका आप उच्चारण कर सकते हैं। 

आपको भी मां दुर्गा के इन मंत्रों का करना चाहिए जाप – Ma Durga Mantras to Chant during Navratri in Hindi

1. सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ये त्र्यम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते।।
यह मां दुर्गा का एक बहुत ही शक्तिशाली मंत्र है और कई लोग इस मंत्र का जाप नवरात्रि के दौरान करते हैं। इस मंत्र का अर्थ है- शुभ के बीच में सबसे शुभ करने के लिए, अच्छा करने के लिए, सभी उद्देश्यों को पूरा करने वाले के लिए, शरण के स्रोत के लिए, तीन दुनिया की मां को, देवी को जो स्वयं प्रकाश की किरण है, चेतना के एक्सपोजर, हम नमन करते हैं।
2. या देवी सर्वभूतेषु, शक्ति रूपेण संस्थिता या देवी सर्व भुतेषु, शक्ति रूपेण संस्थिता या देवी सर्वभूतेषु, मातृरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमो नमः!
इस मंत्र का अर्थ है- वह देवी जो सर्वव्यापी माता के रूप में सर्वव्यापी है, शक्ति के अवतार के रूप में जो देवी सर्वव्यापी है, वह देवी जो शांति के प्रतीक के रूप में सर्वव्यापी है, मैं उसे नमन करता हूं, मैं उसे नमन करता हूं, मैं उसे फिर से नमन करता हूं। 
3. दुर्गा स्तुति या देवी सर्व भूतों बुद्धि रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
इस मंत्र का अर्थ- हे देवी जो सभी जीवों में हर जगह बुद्धि और सौंदर्य के रूप में निवास करती हैं, मैं आपको बार-बार नमन करता हूं।
4. जगदम्ब विचित्रमत्र किम परिपूर्णा करुनास्ति चेनमयी अपराधा परमपरा परम ना हि माता समुपेक्षते सुतम्
इस मंत्र का अर्थ- हे दुनिया की माँ, तुम वही हो जो अपने बच्चों की देखभाल करती हो। मेरे प्रति आपका प्यार और दया कोई आश्चर्य की बात नहीं है, देवी माँ। एक माँ होने के नाते आप हमारे सभी पापों को भूल जाते हैं और हमें त्याग दिए बिना हमें सही कर देते हैं, जो आपके बच्चे हैं।
5. ओम शरणागता दीनार्था परित्राणा परायणै सर्व स्यार्थी हरे देवी नारायणी नमोस्तुते
आपको भी नवरात्रि में इन पांचों मंत्रों का जाप करना चाहिए। 
POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!
11 Apr 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text