home / Jewellery
शॉपिग Tips: जानिए असली और नकली मोती में पहचान कैसे करें

शॉपिग Tips: जानिए असली और नकली मोती में पहचान कैसे करें

ज्योतिष में रत्नों का विशेष महत्व है। इतने सारे राशि और ग्रहों के अनुसार कुछ रत्न जैसे मोती पहनने की सलाह देते हैं। मोती की अंगूठी या मामा धारण करना लाभकारी बताया गया है। इसी के साथ पर्ल जूलरी भी आजकल काफी ट्रेंड में हैं और लोग इसे पहनाना पसंद भी करते हैं। अब ऐसे में असली और नकली मोती की पहचान करना काफी मुश्किल हो जाता है और आपके से धोखा हो जाता है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि आपको असली और नकली मोती के एक्सेसीरिज में फर्क पता होना चाहिए।

असली मोती की कैसे करें पहचान How to Identify Real Pearl Tips in Hindi

मोती यानि पर्ल जूलरी (Pearl) की मांग इन दिनों तेजी से बढ़ गई है। असल में मोती की कीमत बहुत ज्यादा होती है। असली मोतियों की दो किस्में होती हैं। प्राकृतिक मोती जो घोंघे से मिलते है और कल्चर्ड मोती जिन्हें फार्म में तैयार किया जाता है। प्राकृति मोती और कल्चर्ड मोती के रंग, आकार, चमक और अन्य लक्षणों में फर्क हो सकता है। यही वजह है सच्चे मोती प्राकृतिक होने की वजह से महंगे मिलते हैं। ज्वैलर्स की दुकानों पर भी मोती आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन, अक्सर कुछ नकली मोती उपभोक्ताओं को असली मोती के रूप में बेचे जाते हैं। तो आइए जानते हैं असली मोती और नकली मोती में क्या अंतर है और आप इसकी पहचान कैसे कर सकते हैं।

तापमान चेक करें

जो सच्चे मोती होते हैं वो हमारे शरीर के तापमान के अनुसार बदलते रहते हैं। अगर आप मोती को पहले छूते हैं, तो उसे ठंडक महसूस होगी। जैसे-जैसे आपके शरीर का तापमान बढ़ेगा, यह धीरे-धीरे गर्म होता जाएगा। इसके विपरीत, यदि मोती नकली या जाली है, तो उसका तापमान कमरे के तापमान के समान होगा। इसके तापमान में कोई बदलाव नहीं होगा।

रंग को ध्यान से देंखे

यदि मोती असली है, तो उसमें प्राकृतिक चमक होती है। इसमें हल्का गुलाबी रंग होता है। लेकिन अगर मोती झूठा है, तो वह एकदम सफेद होगा। यही नहीं चमकदार होने के साथ ये थोड़ा प्लास्टिक सा नजर आता है। 

आकार से पहचानें

प्रत्येक मोती का आकार अलग होता है। कुछ मोती आकार में बड़े होते हैं तो कुछ छोटे। साथ ही हर मोती का रंग भी अलग होता है। अधिकतर मोती पूर्णरूप से गोल नहीं होते है बल्कि थोड़ा सा अण्डाकार होते है। असली मोती गोल होते है किन्तु इनका मिलना थोड़ा दुर्लभ होता है।

वजन का भी होता है अंतर

असली मोती वजन में भारी होते हैं। इसलिए यदि आप जांचना चाहते हैं कि मोती असली है या नहीं, तो इसे हवा में उछाले और इसे अपने हाथ में पकड़ लें। जब आप इस मोती को अपने हाथ में पकड़ते हैं, तो आप इसका वजन महसूस कर सकते हैं। नकली मोती ठोस कांच के मोतियों से बनाए जाते हैं इसलिए वे वजन में हल्के होते हैं।

मोती के छेद को देंखे

नकली मोती में ड्रिल होल होते हैं। लेकिन असली मोतियों में यह छेद बहुत छोटा होता है। अपेक्षाकृत झूठे मोतियों में यह थोड़ा बड़ा होता है। अगर मोती में दिख रहा छेद छोटा है तो ये असली है।

चेक करने के लिए ये नुस्खा आजमाएं

मोती को गौमूत्र में 24 घंटे तक डुबो कर रखें। अगर इस दौरान मोती का रंग बदल जाए या उसकी चमक फीकी पड़ जाए तो समझ लें की मोती नकली है। लेकिन अगर मोती का रंग बरकरार है तो समझ जाएं कि मोती असली है। 

ये भी पढ़ें –
असली लेदर के हैंडबैग की कैसे करें पहचान 
इन Tips की मदद से नेट की साड़ी या सूट की करें देखभाल और रखरखाव
मानसून में किस तरह के फैब्रिक वाले कपड़े नहीं पहनने चाहिए 
ऑक्सिडाइज्ड जूलरी खरीदने की सोच रही हैं तो इन बातों का जरूर से रखें ध्यान

POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शानदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

08 Oct 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text