home / पैरेंटिंग
प्रेग्नेंसी में कैसे सोना चाहिए

प्रेग्नेंट महिला को सही पोजीशन में सोना चाहिए, वर्ना बढ़ सकती हैं कॉम्प्लीकेशन्स

गर्भावस्था के समय जब महिला को अच्छी नींद लेने की जरूरत होती है, तब उनके लिए सोना उतना ही मुश्किल हो जाता है। बढ़ते पेट की वजह से आरामदायक पोजीशन में सोना उनके लिए काफी चुनौतीपूर्ण होता है। इसके साथ ही सबसे बड़ी टेंशन यह होती है कि अगर आप किसी पोजीशन में कंफर्टेबल महसूस कर भी रही हैं, तो जरूरी नहीं वो अवस्था भ्रूण के लिए सेफ हो। प्रेग्नेंसी में सोने की पोजीशन कैसी होनी चाहिए, लेख में इसके बारे में जानेंगे।

गर्भावस्था के दौरान सोने में तकलीफ क्यों होती है? (Why Is it Difficult to Sleep During Pregnancy in Hindi)

प्रेग्नेंसी में सोने की पोजीशन
गर्भावस्था में नींद

गर्भावस्था के दौरान निम्न कारणों से महिला को सोने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

  • गर्भावस्था के दौरान शरीर में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्‍तर बढ़ने लगता है, जिस वजह से नींद में खलल पड़ता है। 
  • यही नहीं हार्मोनल बदलाव के कारण गर्भवती को स्पाइसी फूड की क्रेविंग होती है। यदि गर्भवती ने सोने से पहले कुछ स्पाइसी व जंक फूड का सेवन किया है, तो यह भी नींद न आने का एक कारण हो सकता है।
  • गर्भवती महिला को बार-बार यूरीन आने की वजह से नींद खराब हो सकती है।
  • पेट व स्तनों का बढ़ते आकार के कारण गर्भवती को सोते समय दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।
  • कुछ महिलाओं को पेट के बल सोने की आदत होती है। भ्रूण की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए प्रेग्नेंसी में पेट के बल सोने की मनाही होती है। ऐसे में ये महिलाएं रात को नींद में पेट के बल न सो जाएं, इस डर से ठीक से सो नहीं पाती हैं।
  • भ्रूण के विकास के साथ मांसपेशियों और हड्डियों पर दबाव पड़ता है। इससे गर्भवती के शरीर में अलग-अलग जगहों पर दर्द होता है। यह भी साउंड स्लीप लेने में दुविधा का कारण बन सकता है।

प्रेग्नेंसी में सोने की पोजीशन कैसी होनी चाहिए? (How to Sleep When Pregnant in Hindi)

प्रेग्नेंसी में सोने की पोजीशन
प्रेग्नेंसी में चाय या कॉफी

प्रेग्नेंसी में कैसे सोना चाहिए, इसका जवाब खोज रहे हैं, तो बता दें गर्भवती के लिए बाईं तरफ करवट लेकर सोना सबसे बेहतर माना जाता है। यह अवस्था माँ और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए अच्छी होती है। इस पोजीशन में सोने से शिशु को पर्याप्त पोषक तत्व के साथ ऑक्सीजन मिलती है। यही नहीं ऐसे सोने से गर्भवती के शरीर में ब्लड सर्कुलेशन भी सामान्य रहता है।

हालांकि, ऐसे समय में एक ही पोजीशन में पूरे समय सोना आसान नहीं है। इसलिए, परेशानी महसूस होने पर गर्भवती कुछ देर के लिए दाईं तरफ करवट लेकर सो सकती हैं। परंतु, ज्यादा देर तक इस अवस्था में न रहें। इससे गर्भाशय का वजन लिवर पर भार डाल सकता है।  

ध्यान दें कि गर्भवती महिला को पेट व पीठ के बल सोने की सख्त मनाही होती है। गर्भावस्था के दौरान लंबे समय तक पीठ के बल सोने से पीठ की मांसपेशियों समेत रीढ़ की हड्डियों व रक्त नलियों पर गर्भाशय का दबाव पड़ता है। इससे मांसपेशियों में सूजन के साथ शिशु तक रक्त का संचार प्रभावित हो सकता है।

सोते समय गर्भवती को आराम मिल सके इसके लिए वे अपने घुटनों के नीचे तकिया रख सकती हैं। घुटनों को मोड़कर सोने से आपको आराम मिलेगा। ध्यान रखें पहली तिमाही से ही यदि आप बाईं तरफ करवट लेकर सोने की आदत डाल लेंगी तो आगे चलकर आपको ज्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

प्रेग्नेंसी में अच्छी नींद के लिए टिप्स (Tips to Sleep Better During Pregnancy in Hindi)

गर्भावस्था में अच्छी नींद के लिए निम्नलिखित उपाय मददगार साबित हो सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

  • सोने से पहले मोबाइल का इस्तेमाल करने से बचें।
  • समय पर बेड पर सोने जाएं।

वैसे तो दिनभर में कम से कम सात घंटे सोना हर किसी के लिए जरूरी होता है। बात करें गर्भवती महिलाओं की तो उन्हें रात को आठ घंटे और दिन में भी करीबन दो घंटे की नींद लेने की सलाह दी जाती है। आशा करते हैं लेख को पढ़ने के बाद प्रेग्नेंसी में सोने की पोजीशन को लेकर आपके मन में कोई संशय नहीं होगा। लेख में बेहतर नींद के लिए भी कुछ टिप्स दिए गए हैं। इस लेख को अपने सर्कल में गर्भवती महिलाओं के साथ जरूर शेयर करें।

चित्र स्रोत: Freepik

01 Jul 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text