क्या आप जानती हैं कि कितना असरदार है और कैसे काम करता है फीमेल कंडोम?

क्या आप जानती हैं कि कितना असरदार है और कैसे काम करता है फीमेल कंडोम?

शायद सब महिलाएं जानती भी नहीं होंगी कि बाजार में साधारण कंडोम की ही तरह फीमेल कंडोम भी मिलता है, जिसे खुद इस्तेमाल करके महिलाएं गर्भधारण में अंतर, गर्भपात, यौन स्वतंत्रता के अलावा अपनी रिप्रोडक्टिव हेल्थ को भी सही बनाए रख सकती हैं। दरअसल देश में अब तक गर्भनिरोध पुरुष-केंद्रित रहा है और इसे चुनने की आजादी भी पुरुषों के पास ही रही है। ऐसे में महिलाओं के लिए फीमेल कंडोम का बाजार में आना ठीक उसी तरह है जैसे किसी ने उन्हें बच्चे पैदा करने या न करने का फैसला लेने का अधिकार दे दिया हो। इस तरह यह महिलाओं के सशक्तिकरण में भी बेहतर भूमिका निभा सकता है।


वीडियो के माध्यम से खूबसूरत संदेश


फीमेल कंडोम के बारे में यू-ट्यूब पर डाले गए इस वीडियो में एक खूबसूरत संदेश के माध्यम से यह बताने की कोशिश की गई है कि कंडोम खरीदने में कोई शर्म नहीं है और सुरक्षित शारीरिक संबंध हर महिला का अधिकार है। इस वीडियो में दिखाया गया है कि एक महिला अपने पति की मर्जी के खिलाफ दुकानदार से उसी के सामने बिना किसी शर्म के कंडोम खरीदती है। इस वीडियो को लाखों लोगों ने देखा है। वैसे आप इसे कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं, इसे इस वीडियो में देखें -

Subscribe to POPxoTV

सालों में मिलता है बाजार में फीमेल कंडोम 


फीमेल कंडोम का आविष्कार सबसे पहले 1980 में किया गया था। भारत में व्यावसायिक रूप से इसका निर्माण 'वेलवेट' के नाम से वर्ष 2007 में शुरू किया गया। इसके बावजूद फीमेल कंडोम के बारे में लोग जितना कम जानते हैं, उतनी ही कम भारतीय बाजार में इसकी उपलब्धता भी है। फीमेल कंडोम के फेल होने की वजहों में देश की रूढि़वादी मानसिकता, कम जागरूकता, आसानी से उपलब्ध न हो पाना और संकोच प्रमुख हैं। फीमेल कंडोम सेक्स के दौरान महिलाओं को सुरक्षा पर अधिक नियंत्रण देता है और यह मेल कंडोम के समान ही प्रभावी और विश्वसनीय है। इस वी़डियो में देखें इसके इस्तेमाल से जुड़ी जानकारी -

Subscribe to POPxoTV

सबसे सुरक्षित तरीका बनने की क्षमता


एचएलएफपीपीटी द्वारा कर्नाटक, उड़ीसा और उत्तर प्रदेश में कराई एक स्टडी में पता चला है कि फीमेल कंडोम में पसंदीदा गर्भनिरोधक और प्रजनन क्षमता को नियंत्रित करने के लिए सबसे सुरक्षित तरीकों में से एक बनने की क्षमता है। फीमेल कंडोम का विकास विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा निर्धारित मानदंडों का पालन करते हुए किया गया है। इसे महिला सेक्स वर्करों के अलावा वर्तमान भारतीय महिलाओं और कम उम्र के दम्पतियों को टारगेट करके डेवलप किया गया है और यह सेक्स इंफेक्टेड प्रॉब्लम्स और एचआईवी/एड्स के अलावा अवांछित गर्भधारण और असुरक्षित गर्भपात से तिहरी सुरक्षा प्रदान करने का आसान, सस्ता और सुरक्षित तरीका है।


यह भी पढ़ें - 


कंडोम ब्रांड के लिए इन लोगों ने सुनाई अपनी सेक्स फैंटेसी की दास्तान, देखें वीडियो


क्या आप भी कंडोम का प्रयोग करना पसंद नहीं करते हैं ...क्योंकि वो फील नहीं आता...


राखी सावंत ने कहा कि कंडोम एड प्रसारण पर प्रतिबंध उनकी वजह से लगा, जानें कैसे... 


जब सुहागरात के दिन पैकेट में कंडोम की जगह निकला कुछ और...


कंडोम से जुड़े कुछ सवालों के जवाब


सेक्स के लिए ब्लैकमेल करना


एच.आई.वी/एड्स के अहम लक्षण - HIV/AIDS Symptoms