home / xSEO
उदयपुर टूरिस्ट प्लेस

10 फेसम उदयपुर टूरिस्ट प्लेस – Udaipur Ghumne ki Jagah

अगर आप कभी वेनिस गए हैं तो ये बहुत ही अच्छा है लेकिन अगर आप वहां नहीं भी गए हैं और ये जानना चाहते हैं कि वहां का वातावरण कैसा है तो आप भारत की मशहूर टूरिस्ट प्लेस में से एक उदयपुर जा सकते हैं, जिसे Venice of the East या फिर झीलों के शहर के नाम से जाना जाता है। उदयपुर (उदयपुर कहां है), राजस्थान का एक बहुत ही खूबसूरत शहर है जो अपनी समृद्ध सांस्कृति और इतिहास के साथ-साथ अपनी खूबसूरती के लिए जाना जाता है। महल राजपूतों की अवधि के दौरान प्रचलित स्थापत्य भव्यता को दर्शाते हैं और प्राकृतिक परिदृश्य इस बात का वर्णन करता है कि प्रकृति जहां चाहे वहां उदार हो सकती है। इस वजह से हम उदयपुर की 10 मशहूर टूरिस्ट प्लेस (Udaipur Ghumne ki Jagah) के बारे में बताने वाले हैं।

Udaipur Ghumne ki Jagah – उदयपुर टूरिस्ट प्लेस

  • उदयपुर सिटी पैलेस
  • लेक पैलेस
  • लेक पिचोला
  • लेक गार्डन पैलेस
  • बागौर की हवेली
  • जगदीश मंदिर
  • शिल्प ग्राम
  • मोती माग्री 
  • सहेलियों की बरी
  • विंटेज कार म्यूजियम

उदयपुर सिटी पैलेस – Udaipur City Palace

Udaipur City Palace

सिटी पैलेस का निर्माण 1559 में महाराणा उदय मिर्जा सिंह (उदयपुर में घूमने की जगह) द्वारा किया गया था। यह पैलेस पिचोला झील के किनारे स्थित है। यह यूरोपियन, मेडीवल और चाइनीज स्टाइल के आर्किटेक्चर का मिश्रण है। सिटी पैलेस में 11 खूबसूरत पैलेस हैं और सभी का निर्माण अलग-अलग समय पर अलग-अलग राजाओं द्वारा किया गया था। साथ ही इस पैलेस का साइज भी काफी बड़ा है। यहां पर कोर्टयार्ड्स, छत, पवेलियन, हैंगिंग गार्डन और काफी कुछ है। इस जगह के बारे में सबकुछ ही खूबसूरत है फिर चाहे इसका आर्किटेक्चर हो या फिर इसका इंटीरियर या फिर इसकी पेंटिंग्स।

भानगढ़ के किले का रहस्य क्या है

लेक पैलेस – Lake Palace

उदयपुर पर्यटन का प्रतीक और एक प्रसिद्ध विवाह स्थल, लेक पैलेस या जग निवास एक वास्तुशिल्प चमत्कार है। यह पैलेस, पिचोला झीला में स्थित है, जिसका निर्माण 1746 में महाराणा जगत सिंह द्वितीय द्वारा किया गया था। इसे बाद में 1960 के दशक में एक लग्जरी रिसॉर्ट में बदल दिया गया था और अब ये ताज के लग्जरी रिसॉर्ट का हिस्सा है। यहां तक कि ये खूबसूरत जगह कई हॉलीवुड और बॉलीवुड की फिल्मों का भी हिस्सा रह चुकी है।

लेक पिचोला – Lake Pichola

Lake Pichola

यह भी एक मैन वंडर है जिसका नाम लेक पिचोला है और इसका निर्माण 1362 AD में किया गया था। राणा उदय सिंह द्वितीय ने 16वीं सदी में लेक को एक्सटेंड किया था। ये झील, बड़े पहाड़ों, पैलेस, मंदिरों और घाट के इर्द-गिर्द स्थित है। झील पिचोला आपको बहुत सारे टूरिस्ट अट्रेक्शन देता है और झील में घूमने में भी आपको बहुत ही मजा आएगा। यहां से सनसेट व्यू भी बहुत ही शानदार होता है। बोट क्रूज आपको बहुत ही अच्छा व्यू देता है और खासकर शाम के समय।

लेक गार्डन पैलेस – Lake Garden Palace

Lake Garden Palace

जगमंदिर या फिर लेक गार्डन पैलेस के लिए कहा जाता है कि शाहजहां ने इसे देखकर ही ताज महल बनवाने की इंस्पीरेशन ली थी। इस पैलेस का एक लंबा इतिहास है और इसे मुगल और राजपूतों की दोस्ती की निशानी माना जाता है। इस पैलेस का स्ट्रक्चर काफी दिलचस्प है और ये आपको रीगल फील (उदयपुर टूरिस्ट प्लेस) देता है। 

बागौर की हवेली – Bagore ki haveli

Bagore ki haveli

बागौर की हवेली, पिचोला झील के पास ही स्थित है। 18वीं सदी में इसका निर्माण अमीर चंद बाड़वा द्वारा किया गया था। हवेली, वर्ष 1878 में बागोर के महाराणा शक्ति सिंह का निवास स्थान बन गया और इसलिए इसका नाम बागोर की हवेली पड़ा। इमारत के शाही स्पर्श को बनाए रखते हुए इसे संग्रहालय में बदल दिया गया है। संग्रहालय मेवाड़ की संस्कृति को प्रस्तुत करता है। प्राचीन संग्रह में राजपूतों द्वारा उपयोग किए जाने वाले सामान जैसे आभूषण के बक्से, हाथ के पंखे, तांबे के बर्तन आदि शामिल हैं। विशाल इमारत में 100 से अधिक कमरे हैं और यह अपनी अनूठी स्थापत्य शैली के साथ शानदार दिखता है। जब आप वहां हों, तो सुनिश्चित करें कि आप शाम को यहां आयोजित होने वाले शो के लिए खुद को प्रस्तुत करते हैं।

जगदीश मंदिर – Jagdish Mandir Udaipur

Jagdish Mandir Udaipur

1651 में बना जगदीश मंदिर उदयपुर का सबसे बड़ा मंदिर है। इस आश्चर्यजनक इंडो-आर्यन वास्तुशिल्प चमत्कार पर अनुमानित 1.5 मिलियन INR खर्च किए गए थे। यह भगवान विष्णु को समर्पित है और इसमें भगवान शिव, गणेश, सूर्य देव और देवी शक्ति को समर्पित अन्य मंदिर भी हैं। न केवल आपकी भक्ति के लिए बल्कि सुंदर दीवार नक्काशी, हाथी की मूर्तियों और आश्चर्यजनक वास्तुकला के लिए भी इस मंदिर का दौरा किया जाना चाहिए।

शिल्प ग्राम – Shilpgram Udaipur

Shilpgram Udaipur

लगभग 70 एकड़ भूमि में स्थापित और अरावली पर्वतमाला की गोद में स्थित, शिल्पग्राम राजस्थान की पारंपरिक कला और शिल्प को बढ़ावा देने के लिए स्थापित एक ग्रामीण कला और शिल्प परिसर है। यह कई ग्रामीण कारीगरों को रोजगार प्रदान करता है और कई सांस्कृतिक उत्सवों का केंद्र है जो यहां नियमित रूप से आयोजित किए जाते हैं। यहां का एक और आकर्षण ओपन एयर एम्फीथिएटर है जो कई कला उत्सवों के लिए केंद्र मंच प्रदान करता है। ग्रामीण जीवन की सादगी का अनुभव करने के लिए शिल्पग्राम जाएँ, कला या नृत्य शो में भाग लें और अपने दिल की सामग्री की खरीदारी करें।

मोती माग्री

महाराणा प्रताप और उनके प्यारे घोड़े चेतक की स्मृति में एक उपयुक्त श्रद्धांजलि, मोती मगरी ने अपने घोड़े चेतक पर महाराणा की एक शानदार कांस्य प्रतिमा की मेजबानी की है। यह फतेह सागर झील की ओर एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और न केवल कुछ वास्तव में सुंदर लुकआउट पॉइंट प्रदान करता है और साथ ही आसपास की झीलों को भी दर्शाता है। महाराणा प्रताप से जुड़ी घटनाओं की आश्चर्यजनक विरासत को जानने के लिए मोती मगरी की यात्रा करें और वास्तव में कुछ आश्चर्यजनक दृश्य देखें।

सहेलियों की बाड़ी – Saheliyo ki Baari

Saheliyo ki Baari

सहेलियों की बाड़ी का निर्माण संग्राम सिंह द्वितीय द्वारा अपनी रानी और उनकी मेड्स के लिए किया गया था। यह एक बहुत ही खूबसूरत गार्डन है। राजा द्वारा इसका निर्माण रानी के आराम करने की एक जगह के रूप में किया गया था, जहां उनके साथ उनकी 48 मेड्स रहती थीं। यहां आज भी लोग भागदौड़ वाली अपनी जिंदगी से कुछ चैन के पल बिताने के लिए आते हैं। 

विंटेज कार म्यूजियम – Vintage Car Museum Udaipur

Vintage Car Museum Udaipur

अगर आपको भी गाड़ियों से प्रेम है तो ये जगह आपको बहुत ही पसंद आने वाली है। रॉयल विंटेज कार म्यूजिम एक ऐसी जगह है जहां आपको एक बार तो जरूर जाना चाहिए। इसका उद्घाटन 2000 में किया गया था और तब से ही ये टूरिस्ट के बीच एक मशहूर जगह है। संग्रहालय में 1934 की रॉल्स-रॉयस फैंटम जैसी कई प्रसिद्ध पुरानी कारें हैं, जिनका उपयोग बॉन्ड फिल्म ऑक्टोपुसी में किया गया था और कुछ के नाम के लिए कई दुर्लभ रोल्स रॉयस मॉडल थे।

उदयपुर घूमने का सही समय – Best Time to Visit Udaipur in Hindi

तो अब अगर आप भी उदयपुर घूमने जाने (उदयपुर घूमने का सही समय) का सोच रहे हैं या फिर उदयपुर जाने का अपना मन बना रहे हैं तो आपको बता दें कि यहां घूमने का सही समय अक्टूबर से मार्च तक का होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि सर्दियों में उदयपुर का मौसम बहुत ही सुहाना होता है और आप इन महीनों में आराम से इन सभी जगहों पर घूम सकते हैं और कुछ यादगार पल बना सकते हैं। 

हम उम्मीद करते हैं कि udaipur ghumne ki jagah, उदयपुर घूमने का सही समय, उदयपुर कहां है, उदयपुर में घूमने की जगह, उदयपुर टूरिस्ट प्लेस के बारे में हमारा ये लेख पसंद आया होगा।

यह भी पढ़ें:
इंडिया के बेस्ट सीक्रेट ट्रैवल डेस्टिनेशन
बेहतरीन वाइल्ड लाइफ डेस्टिनेशंस
जयपुर की ये दुकानें हैं बेहद खास
उत्तराखंड में घूमने के लिए 10 बेस्ट टूरिस्ट स्थान

08 Feb 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text