Advertisement

एंटरटेनमेंट

Uri Film Review : अगर आतंकवादी हमलों से आपका भी खून खौलता है तो ज़रूर देखें फिल्म ‘उरी’

Deepali PorwalDeepali Porwal  |  Jan 9, 2019
Uri Film Review : अगर आतंकवादी हमलों से आपका भी खून खौलता है तो ज़रूर देखें फिल्म ‘उरी’

Advertisement

उरी फिल्म रिव्यू (Uri Film Review) : हर दिन बॉर्डर पर ऐसी लड़ाइयां होती हैं, जिनसे हमारे देश के वीर जवान दो- चार होते रहते हैं। उनके बारे में कभी हमें पता चलता है तो कभी नहीं। बॉलीवुड ने कई बार अपनी फिल्मों में आर्मी के लोगों की ज़िंदगी को दिखाने की कोशिश की है, जिनमें अक्सर सफलता भी मिली है। मगर ‘उरी’ (Uri) उन सभी फिल्मों से ज़रा हटकर है। अगर आप सत्य घटना पर आधारित कोई फिल्म देखने का प्लान बना रहे हैं तो पढ़ें बॉलीवुड फिल्म ‘उरी’ का रिव्यू।

सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) की कहानी है ‘उरी’

सितंबर 2016 में जम्मू और कश्मीर के उरी (Uri) सेक्टर में स्थित भारतीय सेना के मुख्यालय पर आतंकवादियों ने हमला बोल दिया था। सुबह के समय हुए इस हमले के लिए जवान तैयार नहीं थे, काफी बहादुरी से लड़ने के बावजूद भारतीय सेना के 19 जवान इस हमले में शहीद हो गए थे। उरी में हुए इस हमले के बाद आर्मी महकमे से लेकर सत्ता तक, सब हिल कर रह गए थे। पाकिस्तान में छिपे आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने प्रधानमंत्री की मंजूरी के बाद पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक (surgical strike) करने का फैसला लिया था। अभी तक के इतिहास में भारत की ओर से यह पहला कदम था, जब किसी जंग के लिए भारत ने पहल की हो। यह सर्जिकल स्ट्राइक सफल रही थी और भारतीय सेना के इसी मिशन को निर्देशक आदित्य धर ने बेहद खूबसूरती से बड़े पर्दे पर फिल्माया है।

Film Uri scene

विक्की कौशल ने फिल्म में फूंकी जान

हम सब अपने घरों में सुरक्षित होकर रहते हैं व बाहर भी खुली हवा में आज़ादी की सांस लेते हैं क्योंकि हमारे देश के जवान अपने कंधों पर हमारी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी लिए हुए हैं और बखूबी उसे निभा भी रहे हैं। उनकी रोज़ की लड़ाई, त्याग व फर्ज़ को आम जन को समझाने के लिए बॉलीवुड में ‘उरी’ (Uri) जैसी फिल्में बनती रहनी चाहिए। फिल्म के लेखक व निर्देशक आदित्य धर ने फिल्म को बेस्ट बनाने में कोई कमी नहीं रखी है। फिल्म ‘उरी’ में विक्की कौशल (Vicky Kaushal) मेजर विहान शेरगिल का किरदार निभा रहे हैं और उनके नेतृत्व में किए गए सभी मिशन सफल होते हैं पर अपनी पारिवारिक ज़िम्मेदारियों को देखते हुए वे अपना ट्रांसफर दिल्ली मुख्यालय में करवा लेते हैं।

Vicky Kaushal in film Uri

तभी उन्हें ‘उरी’ हमले व अपने बहनोई कैप्टन करण कश्यप (मोहित रैना- Mohit Raina) की शहादत की खबर मिलती है।

mohit-raina-in-uri

इसके बाद उनका खून खौल उठता है और वे सैनिकों की शहादत का बदला लेने के लिए आर्मी में वापसी करते हैं।

किरदारों ने दिखाया अपना दमखम

विक्की कौशल (Vicky Kaushal) ने मेजर विहान शेरगिल के किरदार को पर्दे पर बखूबी उतारने के लिए बहुत मेहनत की है, जिसका असर साफ दिख भी रहा है। उनके साथ ही मोहित रैना भी अपने किरदार में खूब जमे हैं। टीम में विक्की कौशल की वापसी होने के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल (Ajit Dobhal) बने परेश रावल (Paresh Rawal) प्रधानमंत्री से बात कर पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक (surgical strike) करने की योजना बनाते हैं।

paresh-rawal-in-uri

योजना बनाने से लेकर उसके कार्यान्वयन तक का सीन दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब रहा है। फिल्म कहीं से भी बोर नहीं करती है, बल्कि जोश और जुनून से भरे डायलॉग लोगों के दिलों में उतरने का काम कर रहे हैं। ‘उरी’ में यामी गौतम (Yami Gautam) एक इंटेलीजेंस ऑफिसर पल्लवी की भूमिका में हैं।

Yami Gautam in Uri

कीर्ति कुल्हारी (Kirti Kulhari) ने वायु सेना की कमांडर के किरदार में रंग भर दिया है। फिल्म को मुख्य तौर पर चार भागों में बांटा गया है। शुरुआती सीन आपको भावविभोर कर देंगे तो वहींं सर्जिकल स्ट्राइक वाले सीन देशभक्ति से ओत- प्रोत कर देंगे।

क्यों देखें ‘उरी’ (Uri)

1. आदित्य धर (Aditya Dhar) का निर्देशन और मितेश मीरचंदानी (Mitesh Mirchandani) का छायांकन काबिलेतारीफ है।
2. विक्की कौशल, यामी गौतम, रजित कपूर (पीएम), परेश रावल, कीर्ति कुल्हरी व अन्य स्टार कास्ट का अभिनय आपका दिल जीत लेगा।
3. बॉर्डर पर तैनात सैनिकों की मुश्किलें व उनका उससे सामना करने का अंदाज़ आपको भी प्रेरित कर देगा।
4. फिल्म के गाने, डायलॉग व बैकग्राउंड म्यूज़िक लंबे समय तक दिलों पर छा जाने का जज़्बा रखते हैं।
शुरुआत से लेकर अंत तक यह फिल्म आपको बांधे रखेगी।

ये भी पढ़ें : 

वीरे दी वेडिंग – लड़कियों के नए संसार की है यह कहानी

बत्ती गुल मीटर चालू रिव्यू : हंसाती- रुलाती पर बोर कर जाती है यह फिल्म

सुई धागा रिव्यू- धागों से बुनी ममता- मौजी की कहानी

अक्टूबर रिव्यू – प्रेम की नई परिभाषा गढ़ती है यह फिल्म

मुल्क रिव्यू – समाज को आईना दिखाएगी इस मुल्क की कहानी

धड़क रिव्यू – ज़रूर सुनें दो दिलों की यह धड़कन