home / xSEO
Oregano in Hindi

Oregano in Hindi – जानिए ओरेगेनो के फायदे और नुकसान

ओरेगानो (oregano in hindi) यानी अजवायन की पत्ती। अजवायन केवल एक जड़ी बूटी नहीं है जिसका उपयोग खाद्य पदार्थों को स्वाद देने के लिए किया जाता है, यह स्वास्थ्य लाभ के लिए भी जाना जाता है और कई बीमारियों के लिए घरेलू उपचार के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। अजवायन में मौजूद फाइटोन्यूट्रिएंट्स, विशेष रूप से कार्वाक्रोल, इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट और प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुणों के दावों के लिए जिम्मेदार हैं। कुछ अध्ययन बताते हैं कि अजवायन में विभिन्न फाइटोकेमिकल्स खांसी और मांसपेशियों की ऐंठन को दूर करने और संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। जिस तरह अजवायन के अनगिनत फायदे हैं, ठीक उसी तरह अजवायन की पत्ती यानी ओरेगेनो भी फायदों से भरा पड़ा है। 

ओरेगेनो क्या है? – oregano kya hota hai 

Oregano Kya hota Hai

ओरिगैनो के फायदे जानने से पहले हमें यह पता होना बेहद ज़रूरी है कि oregano kya hota hai (what is oregano in hindi)। आम या जंगली अजवायन एक बारहमासी पौधा है जो भूमध्यसागरीय क्षेत्र और एशिया का मूल निवासी है और इसकी खेती संयुक्त राज्य अमेरिका में की जाती है। ओरेगेनो नाम ग्रीक शब्द “ओरोस” से आया है, जिसका अर्थ है पर्वत, और “गानोस”, जिसका अर्थ है आनंद। ओरेगेनो विभिन्न प्रकार के होते हैं, जिसमें सबसे आम प्रकार अजवायन की पत्ती है, जिसे स्पेनिश अजवायन के फूल और जंगली मार्जोरम के रूप में भी जाना जाता है। लोग आहार में अजवायन का उपयोग पूरक और सुगंधित तेल के रूप में करते हैं। अजवायन में जैतून-हरे पत्ते और बैंगनी रंग के फूल होते हैं। यह टकसाल, अजवायन के फूल, मार्जोरम और तुलसी सहित अन्य जड़ी बूटियों से निकटता से संबंधित है। एंटीऑक्सिडेंट थाइमोल, कार्वाक्रोल, लिमोनेन, टेरपीन, ओसिमीन और कैरियोफिलीन जड़ी-बूटी को उसका स्वाद और सुगंध देते हैं। वे ओरेगेनो ऑयल के स्वास्थ्य लाभों में भी योगदान करते हैं। जब लोग आहार में इसका सेवन करते हैं तो ओरेगेनो अन्य एंटीऑक्सीडेंट प्रदान करती है। 

ओरिगैनो में विभिन्न खनिज (जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम, ज़िंक, फास्फोरस, सोडियम, पोटेशियम और सेलेनियम), विटामिन (जैसे विटामिन सी, के, ए और ई, फोलेट, और बी विटामिन) और कई अन्य लाभकारी यौगिक होते हैं, जैसे कि ल्यूटिन, ज़ेक्सैन्थिन, थायमोल और कारवाक्रोल जो एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं।

ओरेगेनो के फायदे

ओरेगेनो (oregano in hindi) में रसायन होते हैं जो खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं।ओरेगेनो पाचन (Acidity Home Remedies in Hindi) और कुछ बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में भी मदद कर सकती है। लोग ओरेगेनो का उपयोग घाव भरने, परजीवी संक्रमण और कई अन्य स्थितियों के लिए करते हैं। कुछ अध्ययनों का मानना है कि ओरेगेनो में विभिन्न फाइटोकेमिकल्स खांसी और मांसपेशियों की ऐंठन को दूर करने और संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। वहीं कुछ का मानना है कि यह आंत के लिए भी अच्छा है, पित्त के प्रवाह को बढ़ाकर पाचन में सहायता करता है (लिवर द्वारा उत्पादित तरल पदार्थ जो वसा पाचन में सहायता करता है)। मगर इसके फायदे यहीं तक सीमित नहीं हैं। हम यहां आपको ओरिगैनो के फायदे के बारे में बता रहे हैं। 

Oregano in Hindi

एंटी बैक्टीरियल गुण 

बैक्टीरिया शरीर के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकते हैं और संक्रामक रोगों का कारण बन सकते हैं। अजवायन एक ऐसी जड़ी-बूटी है जिसमें मजबूत एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं और यह बैक्टीरिया के संक्रमण के उपचार में मदद करती है। ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल के मुख्य घटक कार्वैक्रोल और थाइमोल हैं। इनमें एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। एक टेस्ट-ट्यूब अध्ययन ने ओरेगेनो और अजवायन के फूल के एसेंशियल ऑयल की एंटी बैक्टीरियल गतिविधि की तुलना की। अजवायन के फूल के बाद ओरेगेनो, बैक्टीरिया के खिलाफ सबसे कुशल एसेंशियल ऑयल में से एक था। 

किडनी स्टोन का करे इलाज 

अगर आप पारंपरिक रूप से ओरेगेनो का इस्तेमाल करते हैं तो आपको किडनी स्टोन में राहत मिल सकती है। यह एक मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है, जो टॉयलेट की मात्रा को बढ़ाता है और क्रिस्टल और एंटी-स्पास्मोडिक एजेंट के अतिसंतृप्ति को कम करता है या दर्द से राहत देता है। इसके अलावा यह कैल्शियम ऑक्सालेट पथरी के टूटने में मदद करता है और पथरी के गठन को रोकता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो फ्री रेडिकल्स को खत्म करते हैं और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को दूर रखते हैं।

आंत की समस्याओं का करे इलाज

हेलिकोबैक्टर पाइलोरी एक बैक्टीरिया है जो पेट और ग्रहणी संबंधी अल्सर की शुरुआत का कारण बनता है। ओरेगेनो एक मजबूत अवरोधक है और यह अल्सर के उपचार में मदद करता है। अजवायन की एंटीऑक्सीडेंट क्षमता एच.पाइलोरी (H. pylori) के हानिकारक प्रभावों से बचाती है और ऑक्सीडेटिव तनाव से लड़ती है। ओरेगेनो और ओरेगेनो एसेंशियल ऑयल रोगजनकों को रोकता है, जो भोजन की विषाक्तता और पेट की परेशानी का कारण बनते हैं।

कैंसर से बचाव करे 

ओरेगेनो में कुछ कैंसर रोधी गुण भी पाए जाते हैं। यह कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकता है, कैंसर के प्रसार को रोकता है और हानिकारक कैंसर कोशिकाओं को मारता है। वैज्ञानिकों को इस बात के प्रमाण मिले हैं कि अर्क ऑक्सीडेटिव तनाव, विकिरण और माइटोजेन्स के कारण कोशिकाओं में डीएनए की क्षति को रोकने में मदद कर सकता है, एक प्रकार का प्रोटीन जो अवांछित कोशिका विभाजन का कारण बन सकता है। शोधकर्ताओं ने इस बात के प्रमाण भी पाए हैं कि कारवाक्रोल और थाइमोल मेलेनोमा कोशिकाओं को बढ़ने से रोक सकते हैं और त्वचा के कैंसर को फैलने से रोक सकते हैं। 

दांत खराब होने से बचाये 

आजकल की लाइफस्टाइल में दांत खराब होना एक स्वास्थ्य चिंता बन चुकी है। चीनी युक्त खाद्य पदार्थों, शीतल पेय और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के अधिक सेवन से दांत खराब होने की समस्या काफी बढ़ गई है। ओरेगेनो को ख़राब हो रहे दांतों के लिए एक प्रभावी उपाय माना जाता है क्योंकि यह एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-माइक्रोबियल गुणों को प्रदर्शित करता है और यह बैक्टीरिया और कवक से लड़ता है जो समग्र मौखिक स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं। ओरेगेनो की रोगाणुरोधी संपत्ति पॉलीफेनोल्स, फेनोलिक्स, कुनैन, फ्लेवोन, टैनिन और क्वेरसेटिन जैसे स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले यौगिकों की उपस्थिति के कारण होती है। ये यौगिक मौखिक रोगजनकों के विकास को रोकते हैं और दांत खराब होने से बचाते हैं।

दर्द से राहत दिलाए 

अगर आपको शरीर में दर्द की शिकायत रहती है तो ओरेगेनो इसमें आपकी काफी मदद कर सकता है। ओरेगेनो में महत्वपूर्ण एनाल्जेसिक गुण होते हैं, जो दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। ओरेगेनो की ऐसी प्रॉपर्टी को ‘कार्वाक्रोल’ के अस्तित्व के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। कार्वाक्रोल उस यौगिक को रोकता है जो दर्द का कारण बनता है। ओरेगेनो में ‘रोसमारिनिक एसिड’ भी होता है, जो एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है जो मस्तिष्क में एनाल्जेसिक प्रभाव पैदा करता है।

सर्दी, खांसी और फ्लू से लड़े 

यह तो हम आपको बता चुके हैं कि ओरेगेनो में ‘कार्वाक्रोल’ होता है। यही यौगिक सर्दी और फ्लू के खिलाफ भी लड़ने में काफी मदद करता है। यह यौगिक बहती नाक और गले की खराश को दूर करने में मदद करता है। आप अपने वेपोराइजर में ओरेगेनो ऑयल की कुछ बूंदें मिला सकते हैं या ओरेगेनो ऑयल की 2 से 3 बूंदों को पानी में मिलाकर पी सकते हैं। ध्यान रहे ओरेगेनो ऑयल की बहुत अधिक खुराक कारवाक्रोल की उपस्थिति के कारण सुरक्षित नहीं है, जो बड़ी मात्रा में उपयोग किए जाने पर साइटोटोक्सिक हो सकता है।

ओरेगेनो के नुकसान

Disadvantages of Oregano in Hindi

जिस तरह हर चीज़ के अपने फायदे और नुकसान होते हैं उसी तरह ओरिगैनो के फायदे हैं तो इसके नुकसान भी हैं। अजवायन एक जड़ी बूटी, तेल या सप्लीमेंट के रूप में ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित होने की संभावना है। हालांकि कोई भी सप्लीमेंट फिर चाहे वो ओरेगेनो ही क्यों न हो, शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें, खासकर यदि वे अन्य दवाएं ले रहे हैं या कोई मेडिकल कंडीशन है। इसके अलावा सर्जरी से पहले 2 सप्ताह तक अजवायन के उत्पादों से बचें, क्योंकि इससे रक्तस्राव का खतरा बढ़ सकता है। ओरेगेनो ज़िंक, आयरन और कॉपर  को अवशोषित करने की शरीर की क्षमता को प्रभावित कर सकती है। यह ब्लड शुगर को भी कम कर सकता है। इन सबके अलावा जिन लोगों लैमियासी परिवार से संबंधित पौधों जैसे तुलसी, लैवेंडर, पुदीना आदि से एलर्जी होती है उन्हें ओरेगेनो का इस्तेमाल करते समय सावधान रहना चाहिए क्योंकि वे अजवायन से एलर्जी की प्रतिक्रिया भी विकसित कर सकते हैं। 

अगर आपको यहां दिए गए ओरिगैनो के फायदे (oregano in hindi) पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें।

ये भी पढ़ें-

पीरियड में पेट में दर्द के लिए घरेलू उपचार

पीरियड्स के 5 दिनों के दौरान हर लड़की मूड स्विंग्स, पेट में ऐंठन, कमर दर्द, चिड़चिड़ापन, पेट दर्द आदि से होकर गुजरना पड़ता है। ऐसे में पीरियड के दर्द को कम करने के लिए जानिए इसके घरेलू उपचार।

हीमोग्लोबिन बढ़ाने के उपाय

जब हीमोग्लोबिन स्तर आवश्यक स्तर से नीचे गिर जाता है, तो शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं कम हो जाती हैं। जो प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता है और बीमारी के खतरे को बढ़ाता है। ऐसे में जानिए हीमोग्लोबिन बढ़ाने के उपाय।

दाद खाज खुजली की दवा

दाद से पीड़ित व्यक्तियों को खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। क्योंकि ये संक्रमण मात्र छूने से भी फ़ैल सकता है। दाद का संक्रमण मानव और जानवरों दोनों को प्रभावित कर सकता है। यहां दिये गये तरीकों से दाद का घरेलू उपचार करें। इससे आप भी हमेशा के लिए इस बीमारी से मुक्ति पा सकते हैं। 

06 Jun 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text