Advertisement

xSEO

जानिए यूरिन इन्फेक्शन में घरेलू उपाय, यूरिन इंफेक्शन के लक्षण और कारण – Home Remedies for Urine Infection in Hindi

Supriya SrivastavaSupriya Srivastava  |  Oct 23, 2021
यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय - Home Remedies for Urine Infection in Hindi

Advertisement

यूरिन इन्फेक्शन को UTI (urinary tract infection) भी कहते हैं। यह इन्फेक्शन मूत्र प्रणाली (urinary system) में गुर्दे, यूट्रेस, मूत्राशय और मूत्रमार्ग सहित किसी भी क्षेत्र को प्रभावित कर सकता है। आम तौर पर, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यूटीआई विकसित होने का खतरा अधिक होता है, जब संक्रमण मूत्राशय तक सीमित हो तो यह बहुत तेज और दर्दनाक हो सकता है। अगर यूटीआई गुर्दे में फैलता है तो यह गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकता है। हम यहां आपको यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण (urine infection ke lakshan) से कारण यूरिन इन्फेक्शन के कारण (urine infection ke karan) और यूरिन इन्फेक्शन में घरेलू उपाय (home remedies for urine infection in hindi) बता रहे हैं। 

यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण – Urine Infection Symptoms in Hindi

आम तौर पर, यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण (urine infection symptoms in hindi) इस बात पर निर्भर करते हैं कि मूत्र पथ (urinary tract) का कौन सा हिस्सा संक्रमित है, निचले पथ (lower tract) यूटीआई के कुछ लक्षणों में शामिल हैं-

 यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण - Urine Infection Symptoms in Hindi

– टॉयलेट करते समय जलन महसूस होना

– बार-बार टॉयलेट महसूस होना 

– टॉयलेट रोक न पाना 

– खूनी टॉयलेट

– टॉयलेट में तेज गंध

– महिलाओं में कमर दर्द

– पुरुषों में मलाशय का दर्द 

जबकि ऊपरी पथ (upper tract) यूटीआई में गुर्दे शामिल होते हैं और अगर बैक्टीरिया गुर्दे से खून में चले जाते हैं तो यह जीवन के लिए घातक साबित हो सकते हैं। इस स्थिति को यूरोसेप्सिस कहा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप गंभीर रूप से लो ब्लड प्रेशर, सदमे और मृत्यु हो सकती है। ऊपरी पथ यूटीआई के लक्षणों में शामिल हैं: 

– पीठ के ऊपरी हिस्से और बाजू में तेज दर्द  

– ठंड लगना

– बुखार

– मतली

– उल्टी

यूरिन इन्फेक्शन के कारण – Urine Infection ke Karan

Cause of Urine Infection in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन के कारण (urine infection ke karan) पता होना भी बेहद जरूरी है। दरअसल, यूरिन इन्फेक्शन तब विकसित होते हैं, जब बैक्टीरिया मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्र पथ (urinary tract) में प्रवेश करते हैं और मूत्राशय में बढ़ना शुरू कर देते हैं। भले ही मूत्र प्रणाली को रोगाणुओं को बाहर रखने के लिए संरचित किया गया हो, लेकिन रक्षा तंत्र कभी-कभी विफल हो जाते हैं, जहां बैक्टीरिया पनप सकते हैं और मूत्र मार्ग में पूरी तरह से परिपक्व संक्रमण में विकसित हो सकते हैं। यूरिन इन्फेक्शन तब भी विकसित हो सकता है, जब जीआई बैक्टीरिया गुदा से मूत्रमार्ग तक पहुंचता है। विशेष रूप से महिलाओं में, मूत्रमार्ग योनि के करीब होता है, हरपीज, गोनोरिया, क्लैमाइडिया और माइकोप्लाज्मा जैसे यौन संचारित संक्रमण भी मूत्रमार्ग का कारण बन सकते हैं।

यूरिन इन्फेक्शन कम करने के घरेलू उपाय –  Urine Infection Treatment in Hindi at Home

वैसे तो यूरिन इन्फेक्शन का इलाज मुख्य रूप से टेस्ट के रिजल्ट्स प्राप्त होने के बाद, डॉक्टर द्वारा सुझाये गए उसके उपचार पर निर्भर करता है। आमतौर पर इसका कारण बैक्टीरिया होता है और इसका इलाज एंटीबायोटिक दवाओं से किया जा सकता है, जो यूटीआई के लिए बेहतर उपचार है। इसके बावजूद अगर आप डॉक्टर के पास जाने से पहले घर पर ही यूरिन इन्फेक्शन का इलाज करना चाहते हैं तो उसके लिए यूरिन इन्फेक्शन में घरेलू उपाय (urine infection ke gharelu upay) भी मौजूद हैं। 

यूरिन इन्फेक्शन कम करने के घरेलू उपाय -  Urine Infection Treatment in Hindi at Home

सफाई का रखें ध्यान

घर पर यूटीआई को रोकने के लिए सबसे अच्छी चीजों में से एक है जितना संभव हो साफ और सूखा रहना। पेशाब करने या मल त्याग करने के बाद आगे से पीछे की ओर पोंछने से बैक्टीरिया को मूत्रमार्ग में प्रवेश करने और मूत्र पथ तक जाने से रोकने में मदद मिलेगी।

क्रेन बेरी का जूस है फायदेमंद

क्रैनबेरी का उपयोग पीढ़ियों से यूटीआई की रोकथाम के रूप में किया जाता रहा है। अध्ययनों से पता चला है कि क्रैनबेरी वास्तव में उन बैक्टीरिया के लिए घातक साबित होता है, जो यूरिन इन्फेक्शन का कारण बनते हैं। इसलिए, अगर आपको बार-बार यूटीआई होता है, क्रेन बेरी का जूस कुछ गिलास बिना चीनी के पियें। 

लहसुन करे इलाज

लहसुन एक ऐसा घरेलू उपाय है, जो हर घर की रसोईं में आसानी से पाया जाता है। लहसुन का अर्क यूटीआई पैदा करने वाले बैक्टीरिया को कम करने में प्रभावी हो सकता है। लहसुन अपने जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुणों के लिए जाना जाता है। लहसुन के यौगिकों में से एक एलिसिन में रोगाणुरोधी गुण होते हैं, जो यूरिन इन्फेक्शन को कम करने में मदद करते हैं। 

चीनी का सेवन कम करें 

यूटीआई की रोकथाम में आहार बहुत बड़ा साधक साबित हो सकता है क्योंकि यह बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण होता है। बैक्टीरिया को चीनी काफी पसंद होती है, इसलिए जितनी अधिक चीनी आप खाते हैं, उतना ही आप इन्फेक्शन को दावत देते हैं। ऐसे में अगर आपको यूरिन इन्फेक्शन से बचना है तो चीनी का सेवन कम कर दें। 

पानी ज्यादा पिएं

यूटीआई के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है ढेर सारा पानी पीना। खूब पानी पीने से शरीर से बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद मिलती है। एक स्वस्थ व्यक्ति को रोजाना कम से कम 6 से 8 ग्लास पानी पीना चाहिए। अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग अपने पानी 1.5 लीटर से 2.2 लीटर प्रतिदिन पानी पीते हैं, उनमें पहले की तुलना में यूटीआई का खतरा कम रहता है। 

पानी ज्यादा पिएं | Benefits of Drinking Water for Urine Infection

विटामिन सी लें

विटामिन सी न केवल आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है, बल्कि यह आपके मूत्र को अम्लीकृत भी कर सकता है, जो बैक्टीरिया के विकास को सीमित करता है और मूत्र पथ के संक्रमण को होने से रोक सकता है। यूटीआई होने पर बहुत अधिक एसिडिक फूड खाने से सावधान रहें, क्योंकि वे संभावित रूप से आपके मूत्राशय में जलन पैदा कर सकते हैं, जो आपके यूटीआई के लक्षणों को और खराब कर सकता है।

टाॅयलेट भूलकर भी न रोकें

टॉयलेट करते समय जलन होना या फिर दर्द होना यूरिन इन्फेक्शन के लक्षणों में से एक है। इस कारण से, बाथरूम का उपयोग करने से बचना अच्छा लग सकता है। हालांकि, विशेषज्ञ लोगों को जरूरत पड़ने पर या हर 2-3 घंटे में टॉयलेट करने की सलाह देते हैं। टॉयलेट को अंदर रखने से बैक्टीरिया बढ़ सकते हैं। यूरिन इन्फेक्शन से जूझ रहे लोग भी बार-बार टॉयलेट जाने से बचते हैं क्योंकि अक्सर टॉयलेट नहीं निकलता है, हालांकि उन्हें लगता है कि उन्हें जाने की जरूरत है। बहुत सारे तरल पदार्थ पीने से टॉयलेट की परेशानी को कम करने में मदद मिल सकती है।

एप्पल साइडर वेनेगर

एप्पल साइडर वेनेगर (एसीवी) में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं, जो घाव भरने के अलावा बैक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं। 4 हफ्ते तक रोजाना 100 मिलीलीटर पतला चावल के सिरके का सेवन करने से भी यूरिन इन्फेक्शन का स्तर कम होता दिखाई पद सकता है। 

ग्रीन टी भी है फायदेमंद

यूरिन इन्फेक्शन को कम करने के लिए ग्रीन टी भी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। ग्रीन टी में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, जो बैक्टीरिया को खत्म करने में कारगर साबित हो सकते हैं। इसके लिए एक कप गरम पानी में थोड़ी देर के लिए एक ग्रीन टी बैग डाल दें। फिर बैग को कप से निकाल लें। अब इसमें एक चम्मच शहद मिला कर इसका सेवन करें।

आंवला दिलाए राहत

यूरिन में जलन के घरेलू उपाय में आंवला भी काफी राहत प्रदान करता है। आंवला को विटामिन-सी का अच्छा स्रोत माना गया है। विटामिन-सी में मौजूद एंजाइम इन्फेक्शन से लड़कर टिशू को हो रहे नुकसान से निजात दिलाने में मदद करते हैं। इसके लिए सबसे पहले आंवला के छोटे-छोटे टुकड़े कर लें और मिक्सर में अच्छी से पीस लें। अब छन्नी में निकालकर चम्मच की मदद से दबा कर आंवलें का रस निकाल लें। रस को गिलास में डालकर एक चुटकी नमक डाल कर पिएं।

यूरिन इन्फेक्शन से बचने के उपाय – Urine Infection ka Gharelu Upay

यूरिन इन्फेक्शन से बचाव के लिए कुछ एहतियाती उपायों का पालन करने से इसके जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है जिसमें शामिल हैं:

यूरिन इन्फेक्शन से बचने के उपाय - Urine Infection ka Gharelu Upay

– अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहना, विशेष रूप से बहुत सारा पानी पीने से टॉयलेट को पतला करने में मदद मिलती है और इन्फेक्शन शुरू होने से पहले मूत्र पथ से बैक्टीरिया को भी बाहर निकाल देता है।

– क्रैनबेरी जूस पीने से यूटीआई को रोका जा सकता है, क्योंकि क्रैनबेरी में एक सक्रिय तत्व की उपस्थिति मूत्र प्रणाली में बैक्टीरिया के पालन को रोकती है।

– टॉयलेट करने के बाद और मल त्याग करने के बाद हमेशा आगे से पीछे की ओर पोंछकर सफाई करें। इससे गुदा क्षेत्र में पनपने वाले किसी भी बैक्टीरिया को योनि और मूत्रमार्ग में जाने से रोकने में मदद मिलती है।

– सेक्स के तुरंत बाद टॉयलेट करने जाएं और एक गिलास पानी पीने से बैक्टीरिया से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

– जननांग क्षेत्र में संभावित रूप से परेशान करने वाले उत्पादों जैसे डिओडोरेंट्स और पाउडर का उपयोग करने से बचना चाहिए जो मूत्रमार्ग को परेशान कर सकते हैं।

यूरिन इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए – Urine Infection me Kya Nahi Khana Chahiye

यूरिन इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए - Urine Infection me Kya Nahi Khana Chahiye

अगर आप यूरिन इन्फेक्शन की समस्या से जूझ रहे हैं तो कुछ ऐसी चीज़ें भी हैं जिनका सेवन आपको नहीं करना चाहिए। यूरिन इन्फेक्शन को बढ़ावा देने और मूत्राशय में जलन पैदा करने वाले खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

– कॉफ़ी

– शराब

– खट्टे फल

– टमाटर आधारित खाद्य पदार्थ

– आर्टीफीशियल मिठास

– चटपटा खाना

यूरिन इन्फेक्शन मेडिसिन इन हिंदी – Urine Infection Medicine in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन महिलाओं में एक आम समस्या है। इसके कारण योनि में होने वाली जलन रह-रह कर परेशान करती है और इस वजह से किसी काम में मन नहीं लगता। वैसे तो यूरिन इन्फेक्शन में घरेलू उपाय अपनाकर काफी महिलाओं को इससे आराम मिल जाता है। मगर हर किसी पर घरेलू नुस्खे काम करें ऐसा जरूरी नहीं। इसलिए बेहतर होगा इसके लिए आप समय रहते डॉक्टर से संपर्क कर लें। हम यहां आपको इससे जुड़ी कुछ यूरिन इन्फेक्शन मेडिसिन इन हिंदी, (urine infection medicine in hindi) के नाम बता रहे हैं।   

यूरिन इन्फेक्शन मेडिसिन इन हिंदी - Urine Infection Medicine in Hindi

Ceftriaxone

Ceftriaxone का उपयोग विभिन्न प्रकार के बैक्टीरियल इन्फेक्शन के इलाज के लिए किया जाता है। इसमें यूरिन इन्फेवशन भी शामिल है। Ceftriaxone दवाओं के एक वर्ग से संबंधित है जिसे सेफलोस्पोरिन एंटीबायोटिक्स कहा जाता है। यह बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकने के लिए काम करता है। आप डॉक्टर के सुझाये जाने के बाद इस दवा का सेवन कर सकते हैं। 

नाइट्रोफ्यूरेंटोइन – Nitrofurantoin

नाइट्रोफ्यूरेंटोइन एक एंटीबायोटिक है जो शरीर में बैक्टीरिया से लड़ता है। आमतौर पर Nitrofurantoin यूरिन इन्फेक्शन के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। यदि आप गर्भावस्था के अंतिम 2 से 4 सप्ताह में हैं तो इस दवा को न लें। इसलिए बेहतर होगा डॉक्टर की सलाह के बाद ही इसे लें। 

यूरिन इंफेक्शन को लेकर पूछे जाने वाले सवाल-जवाब – FAQ’s

सवाल- यूरिन इन्फेक्शन बार बार क्यों होता है?

जवाब- शरीर की सफाई न रखना, टाॅयलेट रोके रखना, डायबिटीज, प्रेगनेंसी आदि बार-बार यूरिन इन्फेक्शन होने  के मुख्य कारण है।

सवाल- यूरिन इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए?

जवाब- कॉफ़ी, शराब, खट्टे फल, टमाटर आधारित खाद्य पदार्थ, आर्टीफीशियल मिठास, चटपटा खाना आदि यूरिन इन्फेक्शन में नहीं खाने चाहिए।

सवाल- यूरिन इन्फेक्शन कैसे ठीक होता है?

जवाब- कुछ घरेलू उपाय अपनाकर या फिर डाॅक्टर द्वारा सुझाई गई दवाओं के सेवन से यूरिन इन्फेक्शन ठीक होता है।

सवाल- यूरिन इन्फेक्शन की टेबलेट कौन सी है?

जवाब- एज़ोफ़्लॉक्स यूटीआई टैबलेट एक एंटीबायोटिक है, जिसका इस्तेमाल यूरिन इंफेक्शन की रोकथाम के लिए किया जाता है।

सवाल- यूरिन इन्फेक्शन क्यों होता है?

जवाब- मूत्राशय और इसकी नली के बैक्टीरिया से संक्रमित होने के कारण यूरिन इन्फेक्शन होता है।

अगर आपको यहां दिए गए यूरिन इन्फेक्शन में घरेलू उपाय (home remedies for urine infection in hindi) पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें।