"मालगुडी डेज़" फेम एक्टर और जाने- माने लेखक गिरीश कर्नाड का 81 साल की उम्र में निधन

"मालगुडी डेज़" फेम एक्टर और जाने- माने लेखक गिरीश कर्नाड का 81 साल की उम्र में निधन

जाने- माने एक्टर, नाटककार, फिल्म निर्देशक, लेखक और पद्म श्री व पद्म भूषण से सम्मानित गिरीश कर्नाड का बेंगलुरु में निधन हो गया है। गिरीश काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। इसी वजह से उन्हें कई बार अस्पताल में भर्ती भी कराया गया था। उनकी उम्र 81 वर्ष थी। गिरीश बॉलीवुड में आखिरी बार सलमान खान की फिल्म "टाइगर ज़िन्दा है" में नज़र आए थे।


"मालगुडी डेज़" में भी कर चुके हैं काम


गिरीश कर्नाड 80's के पॉपुलर सीरियल "मालगुडी डेज़" में भी काम कर चुके हैं। इसमें वे स्वामी के पिता के किरदार में नज़र आए थे।


Girish Karnad


"टाइगर ज़िन्दा है" के अलावा "शिवाय", "चॉक एंड डस्टर" जैसी कई बॉलीवुड फिल्मों में नज़र आ चुके गिरीश कर्नाड अपनी लेखनी के लिए ज्ञानपीठ अवॉर्ड से भी नवाज़े जा चुके हैं। उनके लिखे कई नाटक बहुत पॉपुलर हुए थे और उन्हें कई भाषाओं में ट्रांसलेट कर परफॉर्म भी किया जा चुका है। इसके अलावा उन्होंने कई कन्नड़, मलयालम, तमिल व तेलुगू फिल्मों में भी काम किया है।


Girish Karnad4


प्रधानमंत्री समेत बॉलीवुड हस्तियों ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि


गिरीश कर्नाड की उपलब्धियों को उंगलियों में गिना जाना नामुमकिन है। यही वजह है कि उनके निधन पर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति समेत कई बड़ी हस्तियां ट्वीट के ज़रिए अपना शोक व्यक्त कर रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा, "गिरीश कर्नाड हर क्षेत्र में अपने योगदान के लिए याद किये जाएंगे। उनके निधन पर बहुत दुख हुआ, भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।"


Girish Karnad7


वहीं गिरीश कर्नाड के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट किया है।


Girish Karnad8


जानी- मानी अभिनेत्री श्रुति हासन ने ट्वीट कर लिखा, "भगवान आपकी आत्मा को शांति दे। आपकी प्रतिभा, मिज़ाज और तेज़ बुद्धि की कमी खलेगी।"  


Girish Karnad6


बता दें, गिरीश ने 1958 में कर्नाटक विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन किया था। इसके बाद वे एक रोड्स स्कॉलर के रूप में इंग्लैंड चले गए। ऑक्सफोर्ड से कर्नाड ने दर्शनशास्त्र, राजनीति शास्त्र और अर्थशास्त्र में मास्टर्स की डिग्री ली थी। गिरीश 1963 में ऑक्सफोर्ड यूनियन के प्रेसीडेंट भी चुने गए थे। इतना ही नहीं, गिरीश कर्नाड की हिंदी के साथ- साथ कन्नड़ और अंग्रेजी भाषा पर भी अच्छी- खासी पकड़ थी। गिरीश कर्नाड 1974- 75 में एफटीआईआई (FTII) पुणे के डायरेक्टर पद पर भी काम कर चुके थे। साथ ही वे संगीत नाटक अकादमी और नेशनल एकेडमी ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स के चेयरमैन भी रह चुके हैं।


Girish Karnad1


इमेज सोर्सः Twitter


(आपके लिए खुशखबरी! POPxo शॉप आपके लिए लेकर आए हैं आकर्षक लैपटॉप कवर, कॉफी मग, बैग्स और होम डेकोर प्रोडक्ट्स और वो भी आपके बजट में! तो फिर देर किस बात की, शुरू कीजिए शॉपिंग हमारे साथ।)


... अब आयेगा अपना वाला खास फील क्योंकि Popxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजी, हिन्दी, तमिल, तेलुगू, बांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।


ये भी पढ़ें-