साल का पहला चंद्र ग्रहण: जानिए किस राशि पर पड़ेगा इसका क्या असर | POPxo

साल का पहला चंद्र ग्रहण: जानिए किस राशि पर पड़ेगा इसका क्या असर

साल का पहला चंद्र ग्रहण: जानिए किस राशि पर पड़ेगा इसका क्या असर

आज पड़ने वाला साल 2019 का पहला चंद्र ग्रहण (21 जनवरी) है बहुत अनोखा है। इस दौरान चांद की रौशनी 30 प्रतिशत से भी ज्यादा तेज हो जाएगी। साथ ही चंद्रग्रहण के दौरान चंद्रमा 15 प्रतिशत बड़ा दिखाई देगा। इसका असर धरती पर 3 घंटे मिनट तक रहेगा। बता दें कि ये पूर्ण चंद्र ग्रहण है। हालांकि ये चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, लेकिन इस असर ग्रहों और राशियों और साथ ही भारतीय मौसम और वातावरण पर भी पड़ेगा।


साल के इस पहले चंद्र ग्रहण को वैज्ञानिक सुपर ब्लड मून (Super Blood Moon) बता रहे हैं। ये अमेरिका और यूरोप के कुछ शहरों में ही नजर आयेगा। पश्चिम देशों में इस ग्रहण को सुपर ब्लड वुल्फ मून नाम दिया गया है।


चंद्र ग्रहण शुरू होगा - सुबह 10 बजकर 11 मिनट


ग्रहण अवधि - 3 घंटे 30 मिनट


क्या होता है सुपर ब्लड मून


वैज्ञानिकों का कहना है कि चंद्रग्रहण के दौरान जब चंद्रमा सूर्य की रौशनी से दूर होते हुए पृथ्वी की छाया में होता है तो इसका रंग लाल हो जाता है। पूर्ण चंद्रग्रहण के दौरान यह रक्तिम लाल होता है। इस दौरान इस पर पृथ्वी की छाया से होते हुए कम ही सौर रोशनी पहुंचती है और वायुमंडल के बीच धूल के परत के कारण यह लाल नजर आता है। इसे ही सुपर ब्लड मून कहते हैं।


इन राशियों पर पड़ेगा चंद्रग्रहण का बुरा प्रभाव


मेष - धन हानि होने की आशंका है।


वृषभ - रिश्तों में आ सकती है दरार।


कर्क - शारीरिक कष्ट हो सकता है।


धनु - गलत कामों के प्रति उत्सुकता बढ़ सकती है।


मीन - आरोप- प्रत्यारोप लगने की आशंका है।


जानिए क्यों और कैसे लगता है ग्रहण


इस बारे में वैज्ञानिकों और ज्योतिषियों का कहना है कि सूर्य या चंद्र ग्रहण एक खगोलीय घटना है। दरअसल, जब आकाश में सूर्य और चंदमा अपनी अपनी गति से घूमते रहते हैं तो कई बार दोनों धरती से एक सीध में पड़ जाते हैं जिससे चंद्रमा की छाया पृथ्वी पर पड़ती है और सूर्य का वह भाग धरती वासियों को काला सा दिखने लगता है। इसे ही सूर्य ग्रहण कहा जाता है। ऐसा केवल अमावस्या के दिन ही संभव होता है और चंद्र ग्रहण केवल पूर्णिमा पर ही लग सकता है।


ग्रहण काल में बरतें ये सावधानियां


- प्रेग्नेंट महिलाओं को इस दिन घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। गर्भ पर बुरा असर पड़ता है।


- ग्रहण के समय कुछ खाना- पीना नहीं चाहिए। क्योंकि ग्रहण के समय प्रकाश की किरणों मे विवर्तन (Diffraction) होता है। जिसकी वजह से कई हजार सूक्ष्म जीवाणु मरते है और कई हजार पैदा होते हैं।


- कहते हैं ग्रहण काल में शारीरिक सम्बंध भी नहीं बनाने चाहिए।


- ग्रहण काल के दौरान अगर कोई घर से बाहर रहता है तो उसे ग्रहण खत्म होते ही नहा लेना चाहिए।


- इस दौरान चाकू या तेज धार वाली कोई भी चीज इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए। ग्रहण के समय में इस तरह की वस्तुओं का प्रयोग वर्जित माना जाता है।


ये भी पढ़ें -


इस राशि के लोग होते हैं कुछ ज्यादा ही इमोशनल, लोग इनकी इसी कमजोरी का उठाते हैं फायदा


जानिए किस राशि के लोगों के लिए कौन- सा रत्न पहनना शुभ होता है और कौन- सा नहीं


राशि के अनुसार जानिए कौन-सा रंग आपके लिए है लकी