लॉकडाउन में दाल, दूध, मक्खन आदि चीज़ें खरीदने की सीमा तय, उससे ज्यादा नहीं खरीद सकेंगे

लॉकडाउन में दाल, दूध, मक्खन आदि चीज़ें खरीदने की सीमा तय, उससे ज्यादा नहीं खरीद सकेंगे

दुनियाभर में फैले कोरोनावायरस (coronavirus) ने लोगों की जीवनशैली को काफी हद तक प्रभावित किया है। इस समय पूरी दुनिया में 12 लाख से अधिक लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हो चुके हैं। सिर्फ भारत की ही बात करें तो यहां भी संक्रमित मामलों की संख्या लगभग 4500 हो चुकी है। ऐसी स्थिति में सरकार के पास देश को लॉकडाउन (lockdown) करने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं था।

क्या है लॉकडाउन?

कोरोनावायरस के कहर की वजह से दुनियाभर के कई देशों को लॉकडाउन कर दिया गया है। संक्रमण को फैलने से बचाने के लिए किसी भी देश के पास इससे बेहतर दूसरा कोई सुझाव नहीं है। भारत में 24 मार्च को 21 दिनों तक के संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था। भारत में कोरोनावायरस अभी अपने दूसरे चरण में है और इसको तीसरे चरण में पहुंचने से बचाने के लिए ही लॉकडाउन का फैसला लिया गया है।

लॉकडाउन की स्थिति में किसी भी तरह की आवाजाही पर रोक लगा दी जाती है। भारत में भी इस समय मेडिकल स्टोर्स व किराने की दुकानों के अलावा सब कुछ बंद है। देश में पहली बार ट्रेन, बस व मेट्रो के चलने पर भी पाबंदी लगा दी गई है।

ख़रीददारी पर तय हुई सीमा

लॉकडाउन की घोषणा के बाद से ही देशवासियों ने अपने घरों में महीने-दो महीने का सामान इकट्ठा कर रखना शुरू कर दिया था, जिसकी वजह से बहुत से लोगों को रोज़मर्रा का सामान खरीदने में भी मुश्किल हो रही है। जमाखोरी की इस आदत से निपटने के लिए रीटेल जगत ने ख़रीददारी की सीमा तय कर दी है। अब लोग ज़बर्दस्ती एक्सट्रा सामान नहीं खरीद सकेंगे।

ईज़ी डे, ग्रोफर्स, स्पेंसर रीटेल, मोर और रिलायंस रीटेल जैसे बड़े और नामी किराना स्टोर्स (retail stores) ने अपने यहां सामान खरीदने की सीमा तय कर दी है। ज़रूरत से ज्यादा सामान मांगने पर स्टोरकीपर ग्राहकों को लौटा सकता है।

जानें, किस मात्रा में क्या मिलेगा

लोगों को लग रहा है कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ सकती है और ऐसा होने पर सामान खरीदने में भी दिक्कतें होने लगेंगी। इसीलिए कई रीटेल स्टोर्स ने अपने यहां ख़रीददारी की सीमा तय की है, जिससे जमाखोरों पर लगाम कसी जा सके। इस स्थिति में ग्राहक 5 किलो दाल, 5 लीटर खाद्य तेल, 20 किलो आटा, मक्खन की 2 टिक्की (100 ग्राम वाले) और 2 लीटर दूध ही खरीद सकेंगे।

इन सबके अलावा चीनी, दही, बिस्किट, हैंड वॉश, सैनिटाइज़र, सीरियल्स और नूडल्स आदि की ख़रीददारी पर भी एक निर्धारित सीमा तय कर दी गई है। ऐसा करने से हर किसी को ज़रूरत का सभी सामान मिल सकेगा और आपूर्ति ठप्प भी नहीं होगी।

POPxo के साथ घर बैठे सीखें नई स्किल्स।