गंगा में विसर्जित हुईं ऋषि कपूर की अस्थियां, रणबीर कपूर के साथ आलिया भट्ट भी थीं मौजूद

गंगा में विसर्जित हुईं ऋषि कपूर की अस्थियां, रणबीर कपूर के साथ आलिया भट्ट भी थीं मौजूद

दिवंगत बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर  की अस्थियों को मुंबई में बाणगंगा टैंक में विसर्जित कर दिया गया है। बेटे रणबीर कपूर अस्थियों को विसर्जित करने के लिए मां नीतू सिंह और बहन रिद्धिमा कपूर साहनी के साथ पहुंचे थे। इस दौरान मौके पर एक्ट्रेस आलिया भट्ट भी और ऋषि कपूर के करीबी दोस्त व फिल्म निर्माता अयान मुखर्जी भी मौजूद रहे।
मीडिया से बात करते हुए, ऋषि कपूर के भाई रणधीर कपूर ने बताया कि अस्थि विसर्जन व अनुष्ठान मुंबई में ही किया गया क्योंकि लॉकडाउन के दौरान हरिद्वार की यात्रा करने की अनुमति नहीं दी गई थी और हम 17 मई तक इंतजार नहीं कर सकते थे। बता दें, रणबीर कपूर ने पूरे विधि-विधान के साथ अपने पिता की अस्थियां बाणगंगा में विसर्जित कीं।

मुंबई के बाणगंगा टैंक में रणबीर, नीतू और रिद्धिमा की हाथ जोड़कर प्रार्थना करते हुए तस्वीरें और वीडियो फैन-क्लब में शेयर की गई हैं। बता दें बाणगंगा एक पुरानी पानी का टैंक है, जो मुंबई के मालाबार हिल में वॉकेश्वर मंदिर परिसर के अंदर है। इसे गंगा का प्रतीकात्मक रूप समझकर लोग यहां पूजा-अर्चना करने आते हैं।

इस बीच, 2 मई को, कपूर फैमिली ने अपने बांद्रा के पाली हिल स्थित घर पर ही ऋषि कपूर के लिए एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया। इस सभा में सिर्फ परिवार व करीबी रिश्तेदार, दोस्त ही शामिल हुए। दिल्ली में होने के वजह से ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा कपूर साहनी अपने पिता के अंतिम संस्कार में नहीं पहुंच पाई थीं। लेकिन परमिशन मिलते ही वो दिल्ली से मुंबई वाया रोड़ पहुंचीं और अपने पिता के प्रार्थना सभा में शामिल हुईं। इसके बाद वो अस्थि विसर्जन रस्म में भी अपनी मां और भाई के साथ बाणगंगा टैंक गईं और पिता की आत्मा की शांति के लिए अनुष्ठान किया।

प्रार्थना सभा के दौरान की एक तस्वीर सामने आई थी जिसमें रणबीर कपूर और नीतू कपूर नजर आ रहे हैं। दोनों ऋषि कपूर की फूलों चढ़ी तस्वीर के साथ बैठे हैं। नीतू कपूर ने सफेद रंग का सूट पहना हुआ है वहीं रणबीर ने नारंगी रंग के कुर्ते के साथ पगड़ी पहन रखी है। प्रार्थना सभा का आयोजन बांद्रा के पाली हिल स्थित उनके घर पर हुआ।

बता दें, ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) साहब का निधन 30 अप्रैल की सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर मुंबई के एक अस्पताल में हुआ। 2 साल से कैंसर (ल्यूकेमिया) जैसी बीमारी से जंग लड़ रहे थे। कुछ दिन पहले उन्हें सांस लेने में दिक्कत महसूस हुई, इसीलिए उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। लोगों को यही लगा कि फिर वो स्वस्थ होकर वापस लौट आएंगे, लेकिन वो नहीं आए और दुनिया को अलविदा कह दिया। 

POPxo  की टीम आप सभी से अनुरोध करती है कि भारत सरकार द्वारा दिये गये सभी निर्देशों का पालन करें। जरूरत न हो तो घर से बाहर बिल्कुल भी न निकलें। बाहर निकलने की स्थिति में संक्रमण का खतरा बढ़ जाएगा।