गूंगी अनुष्का और आर्टिस्ट माधवन की क्राइम-सस्पेंस कहानी है ‘निशब्दम’

गूंगी अनुष्का और आर्टिस्ट माधवन की क्राइम-सस्पेंस कहानी है ‘निशब्दम’

‘बाहुबली’ फेम एक्ट्रेस अनुष्का शेट्टी (Anushka Shetty) अब किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। वे अपने करियर में काफी अच्छा काम कर रही हैं और इसका ताज़ा उदाहरण है उनकी अपकमिंग फिल्म ‘निशब्दम’ (Nishabdham) का टीज़र। तमाम लड़कियों के क्रश आर माधवन (R Madhavan) की एक्टिंग और प्रतिभाशाली एक्ट्रेस अनुष्का शेट्टी ने बिना बोले ही ‘निशब्दम’ में जान फूंक दी है।

साइलेंस में गूंजेगी शक की गूंज

बॉलीवुड एक्टर आर माधवन अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा चुके हैं और इस फिल्म में उनका साथ देंगी जानी-मानी एक्ट्रेस अनुष्का शेट्टी। एक्ट्रेस अनुष्का शेट्टी के 38 वें जन्मदिन के खास मौके पर उनकी अपकमिंग फिल्म निशब्दम का टीज़र रिलीज़ किया गया है। यह उनकी मच अवेटेड फिल्म ‘साइलेंस’ का हिन्दी रूपांतरण है। इस टीज़र की शुरुआत होती है आर माधवन और अनुष्का शेट्टी के एक बेहद खूबसूरत सीन से, जो उनकी वेकेशन के तौर पर फिल्माया गया है। 

उनकी छुट्टियों की शुरुआत होती ही है कि वे एक हादसे का शिकार हो जाते हैं, जिसके शक की सुई हर किसी पर घूमती रहती है।

म्यूट अनुष्का के इशारों का सहारा

टीज़र की शुरुआत में ही माधवन और अनुष्का शहर से दूर बसे किसी घर में छुट्टियां मनाते नज़र आ रहे हैं। अगले ही शॉट में हॉस्पिटल का सीन दिखाया जाता है, जहां घायल अवस्था में बैठीं अनुष्का इशारों ही इशारों में पुलिस वालों को अपनी बात समझा रही हैं।

फिल्म का टीज़र उसके किसी हॉरर या क्राइम-सस्पेंस होने की तरफ इशारा कर रहा है। ‘निशब्दम’ में जहां आर माधवन एक आर्टिस्ट का किरदार निभा रहे हैं तो वहीं अनुष्का शर्मा एक म्यूट (गूंगी) लड़की बनी हैं, जो शायद उनके लव इंट्रेस्ट की भूमिका में होंगी। टीज़र देखकर लग रहा है कि उसमें डायलॉग्स से ज्यादा कमाल म्यूज़िक और एक्सप्रेशंस का ही होगा।

टीज़र

‘किल बिल’ और ‘वन्स अपॉन अ टाइम इन हॉलीवुड’ जैसी फिल्मों में नज़र आए एक्टर माइकल मैडसन इस फिल्म में अहम भूमिका निभाएंगे। तमिल और तेलुगू में बनी फिल्म ‘निशब्दम’ को हिन्दी और मलयालम में भी रिलीज़ किया जा रहा है। 2020 की शुरुआत में ‘निशब्दम’ बॉक्स ऑफिस पर दस्तक देगी।

... अब आएगा अपना वाला खास फील क्योंकि POPxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजी, हिन्दी, तमिल, तेलुगू, बांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।