इरफान खान की पहली पुण्यतिथि पर बेटे बाबिल ने उन्हें याद करते हुए लिखा इमोशनल नोट

/irrfan khan first death anniversary, son babil wrote an emotional note, इरफान खान की पहली पुण्यतिथि

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता इरफान खान की आज पहली पुण्यतिथि है। उन्होंने 29 अप्रैल साल 2020 में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। उनका निधन न्यूरोइंडोक्राइन ट्यूमर नामक घातक बीमारी के चलते हुआ था। इरफान खान के निधन की जानकारी ने उनके चाहने वालों की आंखों को नम कर दिया था। जो इरफान कभी अपनी बेहतरीन अदाकारी से दर्शकों का दिल जीत लिया करता था उसी इरफान का यूं चले जाना लाखों दिनों को तोड़ गया था। उनके चाहने वालों की और उन्हें याद करने वालों की आज भी कोई कमी नहीं है। इरफान खान का परिवार आज भी उन्हें याद कर आंसू बहाता है। खासतौर पर उनके बड़े बेटे बाबिल। इरफान खान की पहली पुण्यतिथि पर बेटे बाबिल ने उन्हें याद करते हुए अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक इमोशनल नोट लिखा है। इसे पढ़ते हुए हर किसी की आंखें नम हो जाएंगी।

बाबिल ने अपने पिता और अभिनेता इरफान खान को याद करते हुए अपने इमोशनल नोट में लिखा, "कीमो आपको अंदर से जला रहा था इसलिए आपने छोटी-छोटी चीज़ों में खुशियां तलाशना शुरू कर दिया। फिर चाहे वो टूटी मेज खुद ठीक करना हो या फिर खुद के लिखना हो। आपकी इसी पवित्रता का पता मैं आजतक नहीं लगा पाया हूं। एक विरासत है, जिसका निष्कर्ष पहले से ही मेरे बाबा द्वारा निकाला जा चुका है। एक पूर्ण विराम। उनकी जगह कोई कभी नहीं ले सकता और न ही कोई इसके काबिल है।"
 

अपनी पोस्ट को आगे बढ़ाते हुए बाबिल लिखते हैं, "आपके रूप में मेरे पास सबसे अच्छा दोस्त, साथी, भाई और पिता सब थे और हमेशा रहेंगे। मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं और अपनी पूरी ज़िंदगी आपसे प्यार करता रहूंगा। मैं आपको बहुत याद करता हूं, शाहजहां और मुमताज के प्यार से भी ज्यादा। मैं आपके लिए अंतरिक्ष में एक स्मारक बनवाता, जो आपको दूर ब्लैक होल के पास ले जाता, जिसके बारे में आप हमेशा जानने के लिए उत्सुक रहते थे। मगर वहां पर मैं आपके साथ जाता। और हम वहां साथ-साथ चलते, हाथों में हाथ डालकर।"

कुछ दिनों पहले बाबिल ने आखिरी वक्त में कही गई इरफान खान की बातों के बारे में भी बताया था। बाबिल ने बताया कि उन्हें पता था कि 'वह इस दुनिया में कुछ ही दिनों के मेहमान हैं'। एक इंटरव्यू के दौरान बाबिल ने बताया, "हॉस्पिटल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहे बाबा के पास मैं था। वे चेतना शून्य होते जा रहे थे। उन्होंने मेरी की तरफ देखा और कहा कि ‘मैं मरने जा रहा हूं'। इस पर मैंने कहा कि, नहीं ऐसा नहीं है. इसके बाद वे मुस्कुराए और सो गए।"

पिछले साल आज के ही दिन इरफान खान ने मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में आखिरी सांस ली थी। बता दें कि इरफान खान 80 के दशक में मुंबई आ गए थे। उन्होंने 'चाणक्य', 'बनेगी अपनी बात', 'भारत- एक खोज' और 'चंद्रकांता' जैसे टीवी शो से अपने करियर की शुरुआत की। इसके बाद साल 1988 में उन्होंने  मीरा नायर की फिल्म 'सलाम बॉम्बे' के साथ बॉलीवुड में डेब्यू किया था। उसके बाद इरफान खान ने अपनी एक्टिंग का वो इतिहास रचा, जिसके साक्षी आज हम सभी हैं। 

MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

Beauty

Ultimate Germ Defence 35 Sanitizing Wipes + 30 Sanitizing Towels + 4 Moisturizing Hand Sanitizers

INR 999 AT MyGlamm