home / लाइफस्टाइल
महिलाओं को स्वास्थ्य से जुड़ी इन 5 समस्याओं को बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए नजरअंदाज

महिलाओं को स्वास्थ्य से जुड़ी इन 5 समस्याओं को बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए नजरअंदाज

एक महिला के शरीर में बहुत सारे हार्मोनल बदलाव आते हैं। कुछ बदलाव सामान्य होते हैं लेकिन कुछ बदलाव ऐसे होते हैं जिन पर डॉक्टर से चर्चा करने की आवश्यकता होती है। महिलाओं को अपने स्वास्थ्य की देखभाल करते समय इन पांच महत्वपूर्ण परिवर्तनों के बारे में स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह जरूर लेना चाहिए। नहीं तो ये समस्याएं आपकी मुश्किलें काफी बढ़ा सकती हैं। तो आइए जानते हैं महिलाओं से जुड़ी उन स्वास्थ्य समस्याओं को जिनको कभी नहीं करना चाहिए नजरअंदाज –

महिलाओं को इन स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं को नहीं करना चाहिए अनदेखा Women Dont Ignore These Health problems in Hindi

पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक दर्द होना

यूं तो पीरियड के दौरान हल्का-फुल्का दर्द होना स्वभाविक है। लेकिन ये मासिक धर्म अगर दर्दनाक बन जाये और उसकी वजह से रोजमर्रा के काम करना भी मुश्किल हो रहा है तो यह पता लगाना महत्वपूर्ण है कि ऐसा क्यूं हो रहा है। क्योंकि सामान्य नहीं है। निश्चित उपचार से पहले क्लीनिकल टेस्ट और पैल्विक सोनोग्राफी की आवश्यकता होती है।

योनि में जलन या दर्द होना

कई बार योनि (vagina) में तेज दर्द, खुजली, जलन या बहुत बुरी गंध आने लगती है। यकीनन ऐसा होने से किसी भी महिला को काफी बेचैनी होने लगती है। इसकी वजह से योनि स्त्राव की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में कोई घरेलू दवा काम नहीं करती है और इस समस्या को नजरअंदाज करने से ये और ज्यादा विकराल रूप ले लेती है। अगर आपको इनमें से कोई भी समस्या है तो स्त्री रोग विशेषज्ञ से तुरंत सलाह लें।

संभोग के बाद या दो माहवारी के बीच रक्तस्राव होना

यदि आपको संभोग के बाद या फिर दो मासिक धर्म के बीच रक्तस्राव होता है, तो यह यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) का संकेत हो सकता है। इसे पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज या सर्वाइकल कैंसर या योनि का संक्रमण भी कहा जाता है। इसका निदान करने के लिए, पैप स्मीयर टेस्ट, क्लैमाइडिया टेस्ट जैसे विशिष्ट परीक्षणों के माध्यम से निचले जननांग अंगों के स्पष्ट दृश्य की आवश्यकता होती है। यौन संचारित संक्रमणों (एसटीआई) और गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर (भ्रूण गर्भाशय ग्रीवा) का जल्द से जल्द पता लगाने से ये पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है।

स्तन में गांठ या सूजन

अगर निप्पल के आसपास कोई गांठ या सूजन हो तो उसे नजरअंदाज न करें। डॉक्टर से क्लिनिकल जांच कराएं ताकि आगे की सोनोग्राफी या मैमोग्राफी टेस्ट किए जा सकें। हर महिला के लिए यह भी जरूरी है कि वह हर महीने अपने स्तनों की जांच करवाए। क्योंकि ये समस्या ही आगे चलकर ब्रेस्ट कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को जन्म देती है, इसीलिए इसका समय रहते इलाज होना बहुत जरूरी है।

मूत्र रिसाव या यूरिनरी लीक

यूरिन लीकेज को एक सामाजिक शर्मिंदगी माना जाता है, इसलिए महिलाओं के लिए इस समस्या को व्यक्त करना थोड़ा मुश्किल होता है। यह खांसने, छींकने या व्यायाम करने से होता है। इसके लिए कभी-कभी गैस की समस्या भी जिम्मेदारी हो सकती है। ऐसी समस्याओं का समय रहते इलाज करने की जरूरत है, इसलिए जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें।

ये भी पढ़ें –
इस तरह रखें अपने प्राइवेट पार्ट की हाइजीन का ख्याल
योनि संक्रमण या वैजाइनल यीस्ट इंफेक्शन के घरेलू उपचार
अगर आपको भी होता है वाइट डिस्चार्ज तो जानिए इसे दूर करने के घरेलू उपाय

18 Sep 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text