home / वेलनेस
क्या है येलो फंगस, जाने इसके लक्षण, कारण और रोकथाम के उपाय

क्या है येलो फंगस, जाने इसके लक्षण, कारण और रोकथाम के उपाय

कोरोनावायरस (Coronavirus) की सेकेंड वेव देशभर में फैली हुई है और इस वजह से कई लोगों की मौत हो रही है लेकिन इतना ही नहीं बल्कि कोविड-19 (COVID-19) के कारण हाल ही में दो नए तरह के फंगस- ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस (White Fungus) जैसी बीमारियां भी सामने आ रही हैं। लेकिन ये यहीं खत्म नहीं हो गया है क्योंकि हाल ही में येलो फंगस भी सामने आया है। दरअसल, येलो फंगस (Yellow Fungus) का मामला दिल्ली के नजदीक स्थित गाजियाबाद में सामने आया है। 
यहां आपको बता दें कि येलो फंगस, व्हाइट और ब्लैक फंगस (Black Fungus) से अधिक खतरनाक होता है और इसमें शुरुआत से ही मरीज पर ध्यान देना बहुत ही आवश्यक होता है। इस वजह से आज हम आपको यहां येलो फंगस के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं।

येलो फंगस क्या है? What is Yellow Fungus in Hindi

किसी भी अन्य फंगस की तरह येलो फंगस भी कंटेमिनेशन के जरिए फैलता है। ब्लैक फंगस, व्हाइट फंगस और येलो फंगस के बीच एक बड़ा अंतर यह है कि, ब्लैक और व्हाइट फंगस के लक्षण आपके चेहरे पर नजर आते हैं लेकिन वहीं येलो फंगस आपके बॉडी ऑर्गन और उनके फंक्शन को डिस्टर्ब करता है। इस वजह से डॉक्टरों की माने तो येलो फंगस बाकी दोनों फंगस के मुकाबले काफी अधिक हानिकारक है। इस फंगस में मरीज को पहले दिन से ही डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

येलो फंगस कैसे फैलता है?

येलो फंगस आमतौर पर तब फैलता है, जब एक व्यक्ति वातावरण में मौजूद मायकोमेट्स को श्वास द्वारा अंदर लेता है, तब उसे ये बीमारी होती है। हालांकि, ह्यूमिडिटी, पुराना खाना, खराब हाइजीन आदि भी येलो फंगस होने के कारण हो सकते हैं। लेकिन कोविड-19 की तरह अन्य श्वासप्रणाली में संक्रमण जैसे कि व्हाइट, ब्लैक और येलो फंगस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलते हैं।

किसी व्यक्ति को येलो फंगस का खतरा कब हो सकता है?

जिन लोगों की इम्यूनिटी वीक, होती है और जिन्हे डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल आदि होता है उन्हें येलो फंगस होने का अधिक खतरा है। हालांकि, कोविड-19 से ठीक होने वाले मरीजों में भी फंगल इंफेक्शन देखे जा रहे हैं क्योंकि वो काफी अधिक समय तक ऑक्सीजन सपोर्ट पर होते हैं और उन्हें स्टेरॉइड्स दिए जाते हैं। येलो फंगस आपकी त्वचा पर भी हो सकता है, अगर ये किसी कट या फिर जले हुए वाली जगह या किसी अन्य स्किन प्रॉब्लम के कारण आपके शरीर के संपर्क में आता है।

येलो फंगस के लक्षण

येलो फंगस से पीड़ित व्यक्ति में तीन तरह के लक्षण दिखाई देते हैं- 
बिगड़ा हुआ पाचन
धीमा चयापचय और असामान्य वजन घटाने।
सुस्ती और थकान।
ठीक होने में जरूरत से ज्यादा समय लगना
चूंकि, येलो फंगस ऑर्गन्स को नुकसान पहुंचाता है और इस वजह से यह ब्लैक और व्हाइट फंगस के मुकाबले ज्यादा खतरनाक हो सकता है।

कैसे रखें खुद को सुरक्षित

– अब इंफेक्शन होने का कारण खराब हाइजीन है तो ऐसे में हम यही कहेंगे कि आप अपना हाइजीन बनाए रखें।
– यदि आपको डायबिटीज है तो इसे कंट्रोल करने की कोशिश करें और स्वस्थ लाइफस्टाइल अपनाएं।
– जो लोग ऑक्सीजन थेरेपी ले रहे हैं उन्हें ये ध्यान रखना चाहिए कि ये सही से फिल्टर हो और पानी कंटामिनटेड ना हो। 
POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शानदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!
 

ये भी पढ़ें-

वायरल फीवर सिम्पटम्स और रामबाण इलाज

26 May 2021

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text