home / xSEO
जानिए किस विटामिन की कमी से नींद नहीं आती है

जानिए किस विटामिन की कमी से नींद नहीं आती है

आजकल 3 am पर काफी मीम बनते हैं। मगर इनका मतलब काफी गंभीर है। 3 am यानि रात को 3 बजे तक नींद न आने का मतलब है कि आप इंसोमेनिया यानि नींद न आने की समस्या से ग्रस्त हैं। आजकल की दौड़भाग भरी ज़िंदगी में यह समस्या काफी आम है। ऊपर से बची-कुची कसार स्मार्ट गेजेट्स पूरी कर देते हैं। रात को देर तक मोबाइल देखते रहना, OTT प्लेटफॉर्म पर मूवी या वेब सीरीज बिंज वॉच करना। ये सब भी कम नींद के कारण बनते हैं। नींद शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। वैसे तो नींद नहीं आने का कारण कई हो सकते हैं मगर इनमें से एक वजह शरीर में विटामिन की कमी होना भी है। हम आपको यहां बता रहे हैं कि  किस विटामिन की कमी से नींद नहीं आती है (reasons for sleeplessness)। विटामिन ई से भरपूर खाद्य पदार्थ

इन विटामिन्स की कमी से नहीं आती है नींद 

रात में नींद नहीं आना यानि अनिद्रा एक नींद विकार है, जहां लोगों को सोने या सोते रहने में परेशानी होती है। अनिद्रा न केवल तनाव और कई अन्य कारकों के कारण होती है बल्कि विटामिन की कमी के कारण भी होती है। जानिए किस विटामिन की कमी से नींद नहीं आती है और neend na aaye to kya kare. 

Do Vitamins Help You Sleep

विटामिन बी 6  

विटामिन बी 6 हार्मोन सेरोटोनिन और मेलाटोनिन के उत्पादन को बढ़ाता है, जो आरामदायक नींद और मूड के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसलिए, शांति से सोने और अवसाद के जोखिम को कम करने के लिए केले, मूंगफली, जई, और मांसाहार में सूअर का मांस, चिकन, मछली और टर्की शामिल करें।

विटामिन डी

वैज्ञानिक आधार पर विटामिन डी नींद को नियंत्रित करने वाली कोशिकाओं को प्रेरित करके हमें प्राप्त होने वाली नींद की मात्रा और गुणवत्ता को प्रभावित करता है। कम विटामिन डी का स्तर स्लीप एपनिया की गंभीरता से जुड़ा होता है। विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे मशरूम, सैल्मन, सार्डिन, अंडे की जर्दी, डेयरी शामिल करें और अनियमित नींद पैटर्न में मदद करने के लिए सूर्य के प्रकाश के संपर्क में रहें।

विटामिन ई

विटामिन ई एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होता है, जो कोशिकाओं को नुकसान से बचाता है और नींद व नींद से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं में भी मदद कर सकता है। नींद की कमी अक्सर याद्दाश्त कम होने और लंबे समय में संज्ञानात्मक गिरावट की ओर ले जाती है। यह टेस्टोस्टेरोन उत्पादन को नींद की कमी के प्रभाव से भी बचाता है। अपने आहार में बादाम, सूरजमुखी का तेल और बीज, कद्दू, पालक और लाल शिमला मिर्च को शामिल करें, जो नींद की कमी से होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं से सुरक्षा प्रदान करते हैं।

विटामिन बी12

विटामिन बी 12 मस्तिष्क के कार्य के लिए महत्वपूर्ण है। यह लाल रक्त कोशिका निर्माण सहित हृदय स्वास्थ्य को सपोर्ट करता है। साथ ही डीएनए गतिविधि को भी सपोर्ट करता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि यह विटामिन सर्कैडियन लय को सिंक में रखने में मदद करके स्लीप-वेक साइकिल को रेगुलेट करने में शामिल है। विटामिन बी 12 पशु प्रोटीन आहार स्रोतों में पाया जाता है, जिसमें डेयरी, अंडे, मांस, मछली और शेलफिश शामिल हैं।

विटामिन सी

विटामिन सी की स्वास्थ्य को बढ़ावा देने की क्षमता नींद की गुणवत्ता में सुधार कर सकती है और दिन की नींद कम कर सकती है। यह स्लीप एपनिया से जुड़े स्वास्थ्य जोखिम को भी कुछ तनाव से राहत देकर कम करता है जो कि यह स्लीप डिसऑर्डर कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर डालता है। अपने आहार में संतरा, जामुन, मिर्च, केल, पालक, ब्रोकली, नींबू और ब्रसेल्स स्प्राउट्स को शामिल करके इस आवश्यक विटामिन का हिस्सा प्राप्त करें।

ये विटामिन शरीर के लिए क्यों जरूरी हैं

Vitamin for Good Sleep

विटामिन हमारे शरीर को ठीक से काम करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं और वे हमारे दैनिक जीवन में आवश्यक आवश्यक प्रक्रियाओं को चलाने में मदद करते हैं। समय बीतने के साथ हमारी कोशिकाएं टूट-फूट का अनुभव करती हैं, लेकिन उचित पोषण इस प्रक्रिया को धीमा कर सकता है। एंटीऑक्सिडेंट जैसे विटामिन, पर्यावरणीय तनाव से कोशिकाओं की रक्षा करने के लिए कार्य करते हैं व स्वस्थ तरीके से उम्र बढ़ने का समर्थन करने में मदद करते हैं। हम स्वस्थ खाने की पूरी कोशिश करते हैं, लेकिन कुछ पोषक तत्व अकेले भोजन से प्राप्त करना कठिन होता है। विटामिन्स यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप सभी आवश्यक विटामिन और खनिजों के लिए अपनी नियमित दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करें। 

नींद न आने के अन्य कारण

इंसोमेनिया एक स्लीप डिसऑर्डर है, जो लगभग 35% वयस्कों को प्रभावित करता है। इसके गंभीर प्रभाव हो सकते हैं, इसमें रात भर नींद नहीं आती, जिस वजह से दिन में अत्यधिक नींद आती है। हमने आपको यहां बताया कि किस विटामिन की कमी से नींद नहीं आती है। अब जानिए कि नींद नहीं आने का कारण (reasons for sleeplessness) क्या है। 

Neend na Aane ke Karan

1- देर रात तक मस्तिष्क को एक्टिव रखना, जैसे देर से काम करना, वीडियो गेम खेलना या अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग करना।

2- दोपहर में देर तक सोने से आपके सोने का समय खराब हो सकता है और रात में सोना मुश्किल हो जाता है।

3- खोई हुई नींद की भरपाई के लिए बाद में सोना आपके शरीर की आंतरिक घड़ी को भ्रमित कर सकता है और एक स्वस्थ नींद कार्यक्रम स्थापित करना मुश्किल बना सकता है।

4- सोने के अलावा  अपने बिस्तर का उपयोग अन्य गतिविधियों के लिए करना आपके बिस्तर और जागने के बीच मानसिक संबंध बना सकता है।

5- कैफीन आपके सिस्टम में घंटों तक रह सकता है, जिससे सोना मुश्किल हो जाता है और दोपहर और शाम में इस्तेमाल होने पर संभावित रूप से अनिद्रा में योगदान देता है। निकोटीन एक और ऐसी वजह है, जो नींद को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

नींद की कमी को लेकर पूछे जाने वाले सवाल-जवाब – FAQ’s  

सवाल- रात को नींद न आये तो क्या करना चाहिए?

जवाब- रात को नींद न आये तो सबसे पहले अपना फोन किनारे रख आंख बंद कर लेट जाएं और मस्तिष्क को खाली रख कुछ भी सोचने की कोशिश न करें। दिमाग शांत रहेगा तो नींद भी जल्दी आएगी।

सवाल- नींद नहीं आना कौन सी बीमारी है?

जवाब- नींद नहीं आना इंसोमेनिया नामक बीमारी है।

सवाल- जल्दी नींद आने के लिए क्या करे?

जवाब- रात को हल्दी-दूध पीकर सोने की कोशिश करें और बेवजह के तनाव को खुद से दूर रखें।

अगर आपको यहां दिए गए नींद नहीं आने का कारण neend na aaye to kya kare पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें। 

ये भी पढ़ें 

Hemoglobin Kaise Badhaye

सावधान! रात में ऊनी कपड़े पहनकर सोना आपके स्वास्थ्य और स्किन दोनों के लिए हो सकता है खतरनाक

वर्क फ्रॉम होम के दौरान न करें ये गलतियां, वरना बढ़ सकता है आपका वजन

प्रोबायोटिक्स और इसके फायदे

21 Feb 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text