home / Vastu
Vastu के अनुसार जानिए कैसा होना चाहिए आपके घर के बाथरूम का डिजाइन, कलर और दिशा

Vastu के अनुसार जानिए कैसा होना चाहिए आपके घर के बाथरूम का डिजाइन, कलर और दिशा

हमारे और आपके घरों में सकारात्मक ऊर्जा के साथ-साथ नकारात्मक ऊर्जा भी रहती है। एक इंसान को सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंचा देती है तो दूसरी उसके मार्ग में तमाम तरह की समस्याएं पैदा कर देती है। वास्तु शास्त्र में नकारात्मक ऊर्जा को दूर करके सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए (how to increase positive energy at home) कई तरीकें बताये गये हैं। वास्तुशास्त्र में घर के प्रत्येक हिस्से के लिए कुछ नियम है, ताकि आपके घर में हमेशा खुशहाली बने रहे है। बाथरूम घर का अहम हिस्सा होता है। इस स्थान पर राहु ग्रह का सबसे ज्यादा प्रभाव रहता है। इसीलिए घर के दूसरों जरूरी हिस्सों की तरह बाथरूम के भी डिजाइन, दिशा और कलर पर ध्यान देना जरूरी है। 

बाथरूम के लिए वास्तु टिप्स Vastu Tips for Bathroom in Hindi

अगर आपके घर में कोई वास्तु दोष है, कुछ आर्थिक परेशानियां रहती हैं या फिर बाथरूम बनवाने जा रहे हैं तो हम आपको वास्तु शास्त्र के कुछ टिप्स दे रहे हैं, जिससे आप और आपके घर के अन्य सदस्यों के लिए सकारात्मक माहौल तैयार होगा। यहां वास्तु एक्सपर्ट योगेश मिश्र जी बता रहें बाथरूम के लिए कुछ जरूरी वास्तु टिप्स (Vastu Tips for Bathroom), जो हर किसी ध्यान में रखने चाहिए।

  • ध्यान रखें कि कभी भी रसोई घर के सामने या फिर बगल में बाथरूम एरिया नहीं होना चाहिए। 
  • बाथरूम में टॉयलेट सीट पश्चिम में या उत्तर-पश्चिम में होनी चाहिए।
  • बाथरूम में भूल से भी नहाने का टब या शॉवर दक्षिण दिशा की ओर न हो, क्योंकि दक्षिण दिशा अग्नि तत्व से जुड़ी होती है।
  • अगर बाथरूम का कोई हिस्सा पहले से ही दक्षिण दिशा की ओर है और उसकी दिशा नहीं बदली जा सकती है तो इसके पास कोई काली वस्तु रख दें। ये नकारात्मक प्रभाव को कम कर देती है।
  • बाथरूम के दरवाजे उत्तर या पूर्व दिशा में होने चाहिए।
  • कुबेर की दिशा उत्तर होने के कारण वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर दिशा में शौचालय का निर्माण पूरे घर को प्रभावित कर सकता है।
  • बाथरूम एरिया में पानी की टंकियां और ड्रेनेज नॉर्थ ईस्ट या नॉर्थ ईस्ट में होना चाहिए।
  • बाथरूम के कलर की बात करें तो हमेशा हल्के रंग का ही प्रयोग करें। वैसे बाथरूम के लिए ब्राउन और वाइट रंग ज्यादा बेहतर रहता है।
  • बाथरूम में खिड़कियां पूर्व, उत्तर या पश्चिम की ओर खुलनी चाहिए।
  • साफ-सफाई के मद्देनजर भी आप लाइट कलर का इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि आप आसानी से गंदगी देखकर उसे साफ कर सकें। इसके अलावा, सुनिश्चित करें कि खिड़कियां बाहर की ओर खुलती हों।
  • बाथरूम में शीशे को ऊंची जगह पर रखना चाहिए, ताकि उसमें टॉयलेट सीट दिखाई न दें।
  • बाथरूम के दरवाजे हमेशा बंद रहने चाहिए क्योंकि इसे खुला छोड़ने से घर में नकारात्मक ऊर्जा आएगी और आपके निजी रिश्तों को खराब करेगी।
  • बाथरूम के नल से लगातार पानी टपकते नहीं रखना चाहिए। इसे बहुत बड़ा वास्तुदोष माना गया है।
  • टॉयलेट या बाथरूम में लेमनग्रास तेल की कुछ बूंदें डालकर आप बाथरूम को तरो-ताजा कर सकते हैं। इस एरिया को साफ और स्वच्छ रखें।
  • वास्तु के मुताबिक बाथरूम में हमेशा एक नीले रंग की बाल्टी को साफ पानी से भर कर रखना चाहिए। इससे घर में बरक्कत रहती है।
  • इंडोर प्लांट्स जैसे के मनी प्लांट और स्पाइडर प्लांट भी रख सकते हैं क्योंकि उससे नकारात्मकता दूर होती है।

ये भी पढ़ें –
घर में पॉजिटिव एनर्जी के लिए वास्तु के अनुसार करने चाहिए ये बदलाव 
भूलकर भी बेडरूम के पास नहीं रखनी चाहिए ये चीजें
च्छी सेहत के लिए वास्तु टिप्स

POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

22 Nov 2021

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text