एंटरटेनमेंट

बिग बॉस के घर में बजने वाली है शहनाई, जानिए किसके साथ होगा शहनाज का स्वयंवर

Archana ChaturvediArchana Chaturvedi  |  Nov 19, 2019
बिग बॉस के घर में बजने वाली है शहनाई, जानिए किसके साथ होगा शहनाज का स्वयंवर
बिग बॉस के घर में कब कौन-सा ट्विस्ट देखने को मिल जाए, इस बात की खबर तो घरवालों को भी नहीं होती है। बिग बॉस टास्क के ज़रिये घर में फूट डालने में माहिर हैं। इस के चलते कौन-सा घरवाला किसके साथ है और किसे पसंद करता है, इसका खुलासा हो जाता है। कुछ टास्क टकराव वाले होते हैं तो वहीं कुछ टास्क बेहद मजेदार, जैसे कि शहनाज का स्वयंवर वाला टास्क।
जी हां, पंजाब की कैटरीना घर में अपने पसंदीदा लड़के के साथ स्वयंवर रचाती नजर आएंगी। इस दौरान घर के सभी लोग होने वाली दुल्हन की जमकर खातिरदारी करते नजर आ रहे हैं। वहीं, सिद्धार्थ और पारस, शहनाज का दुल्हा बनने के लिए उन्हें रिझाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। 

शहनाज जब से बिग बॉस के घर में आई हैं, उनका दिल दो ही लड़कों के लिए धड़कता है। पहला, पारस छाबड़ा और दूसरा, सिद्धार्थ शुक्ला के लिए, लेकिन खुद शहनाज भी कंफ्यूज हैं कि वे किसे ज्यादा चाहती हैं। कभी वे पारस के पास चली जाती हैं तो कभी सिद्धार्थ शुक्ला के पास। ऐसे में बिग बॉस ने इस बात का पता लगाने के लिए घरवालों को शहनाज का स्वयंवर वाला टास्क करने को दिया। इस टास्क में शहनाज अपने पसंदीदा लड़के को चुनकर उनके साथ स्वयंवर रचाएंगी।

 

आपको बता दें कि इस टास्क में हिंदुस्तानी भाऊ, शहनाज के पिता का किरदार निभाते नजर आ रहे हैं और बाकी सदस्य मायके और ससुराल वालों की भूमिका में हैं। इस टास्क के दौरान जहां सारे घर वालों के बीच मस्ती चल रही थी, वहीं सिद्धार्थ और असीम के बीच फिर से लड़ाई होती है। दरअसल, हुआ कुछ यूं कि शहनाज ने सिद्धार्थ से संतरा खाने के लिए फरमाईश की, लेकिन असीम ने उन्हें संतरा लेने से मना कर दिया। इस पर सिद्धार्थ भड़क गए और दोनों की हाथापाई हो जाती है। 
अब देखना ये दिलचस्प होगा कि लड़ाई-झगड़े के बीच शहनाज किसके साथ अपना स्वयंवर रचाती हैं। बिग बॉस सीज़न 13 की चटपटी खबरें जानने के लिए बने रहें हमारे साथ, क्योंकि हम घरवालों की घर के अंदर और बाहर, दोनों से जुड़ी ख़बरें पहुंचाएंगे आप तक ….
… अब आएगा अपना वाला खास फील क्योंकि POPxo आ गया है 6 भाषाओं में … तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा – अंग्रेजीहिन्दीतमिलतेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।