home / xSEO
शंखपुष्पी के फायदे और नुकसान | Shankhpushpi Syrup Ke Fayde Aur Nuksan

शंखपुष्पी के फायदे और नुकसान | Shankhpushpi Syrup Ke Fayde Aur Nuksan

शंखपुष्पी, स्थानीय भाषा में शंखिनी, कंबुमालिनी, संखपुष्पी, सदाफुली और शंखफुली नामों से आच्छादित एक शक्तिशाली मेमोरी बूस्टर और ब्रेन टॉनिक है, जो सक्रिय रूप से बुद्धि और मस्तिष्क के कामकाज में सुधार करने के लिए काम करता है। शंखपुष्पी एक बारहमासी जड़ी बूटी है जिसका उपयोग इसके औषधीय लाभों के लिए किया जाता है। आयुर्वेद के अनुसार, शंखपुष्पी मस्तिष्क को शांत करने और तनाव के साथ-साथ चिंता को दूर करने में मदद करती है। शंखपुष्पी का सिरप बनाकर पिया जा सकता है। बाजार में कई ब्रांड के शंखपुष्पी सिरप आते हैं। हम आपको यहां शंखपुष्पी सिरप के फायदे और नुकसान के बारे में बता रहे हैं। साथ ही हम बताएंगे कि शंखपुष्पी सिरप का उपयोग और शंखपुष्पी सिरप का सेवन कैसे करे। 

शंखपुष्पी क्या है? | What Is Shankhpushpi in Hindi

What Is Shankhpushpi in Hindi

शंखपुष्पी भारत का मूल निवासी पौधा है। इसे वैज्ञानिक रूप से कॉनवोल्वुलस प्लुरिकौलिस कहा जाता है। शखपुष्पी संस्कृत का शब्द है। यह शब्द मूल रूप से बेल के आकार या शंख के आकार के फूलों वाले पौधे का अर्थ है। ये फूल नीले या सफेद रंग के हो सकते हैं। आयुर्वेद में, इसे “मेध्य रसायन” के रूप में मान्यता प्राप्त है, जिसका अर्थ है एक ऐसी दवा जो बुद्धि और स्मृति को फिर से जीवंत, बनाए रखने और शक्तिशाली बनाती है। इस पौधे का उपयोग इसकी जड़ से लेकर इसके सिरों तक किया जाता है और मनुष्य में इसके संभावित उपयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला है। शंखपुष्पी नाम पौधे को उसके शंख या शंख के आकार के फूलों के कारण दिया गया था। आयुर्वेद का समग्र विज्ञान शंखपुष्पी को संस्कृत नामों श्यामक्रांत, विष्णुक्रांत, वैष्णव, शंखहोली, विष्णुगंधी, विष्णुक्रांति, शंखवल, विष्णुक्रांति, कृष्णनक्रांति, नीलाशंखपुष्पी, क्षीरविष्णुक्रांत, क्षीरपुष्पी, क्षीरपुष्पी, निलाशंखपुष्पी, क्षिरुविष्णुक्रांत, क्षीरपुष्पी को लोकप्रिय बनाता है। यह जड़ी बूटी बेहद फायदेमंद है और इसके चिकित्सीय लाभों की विस्तृत श्रृंखला के लिए जड़ से लेकर युक्तियों तक शंखपुष्पी सिरप का उपयोग किया जाता है। 

शंखपुष्पी सिरप के फायदे की सूची | List Of Benefits Of Shankhapushpi In Hindi

1- पाचन सुधारे 
2- मानसिक थकान को कम करे 
3- कार्डिएक फंक्शनिंग को बढ़ाता है
4- याददाश्त के लिए अच्छा 
5- डिप्रेशन के लिए शंखपुष्पी सिरप 
6- अनिद्रा के लिए शंखपुष्प
7- उच्च रक्तचाप के लिए शंखपुष्पी
8- सिर दर्द से छुटकारा दिलाए 
9- संक्रमण के लिए शंखपुष्पी सिरप 
10- अल्सर के लिए शंखपुष्पी

शंखपुष्पी सिरप के फायदे | Benefits Of Shankhpushpi In Hindi

शंखपुष्पी सिरप कई स्वास्थ्य समस्याओं का एक शक्तिशाली समाधान है। यह एकाग्रता, सीखने की क्षमता, मानसिक थकान, अनिद्रा, तनाव, चिंता, अवसाद आदि को दूर करने में भी मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, शंखपुष्पी मस्तिष्क को शांत करने और तनाव के साथ-साथ चिंता को दूर करने में मदद करती है। यह अपने हल्के रेचक गुण के कारण पाचन और कब्ज को प्रबंधित करने में मदद करता है। शंखपुष्पी अपने रसायन (कायाकल्प) गुण के कारण झुर्रियों को प्रबंधित करने और उम्र बढ़ने को रोकने में मदद कर सकती है। स्कैल्प और बालों पर शंखपुष्पी का तेल लगाने से बालों का झड़ना नियंत्रित होता है और इसके रसायन (कायाकल्प) गुण के कारण बालों के विकास को भी बढ़ावा मिलता है। जानिए शंखपुष्पी सिरप के फायदे। 

Benefits Of Shankhpushpi In Hindi

पाचन सुधारे 

जिन लोगों के पेट में अधिक गैस बनने की शिकायत होती है, उन्हें अक्सर शंखपुष्पी सिरप पीने की सलाह दी जाती है। इस पारंपरिक जड़ी बूटी में पाए जाने वाले पाचक गुण पाचन को बेहतर बनाने में बेहद फायदेमंद पाए जाते हैं। यह पाचक रसों के स्राव को उत्तेजित करता है जिससे आवश्यक पोषक तत्वों के अवशोषण में वृद्धि होती है और पाचन में वृद्धि होती है। यह पेट दर्द, अल्सरेटिव कोलाइटिस और इरिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षणों का इलाज करता है।

मानसिक थकान को कम करे 

मानसिक थकान अत्यधिक और लंबे समय तक तनाव में रहने या फिर याददाश्त पर असर पड़ने की वजह से होता है। यह ज्यादातर कंप्यूटर का उपयोग करके अत्यधिक काम करने, घंटों टेलीविजन देखने, सीखने या याद रखने की गतिविधियों आदि के कारण होता है और एक व्यक्ति को एकाग्रता खोने और सुस्ती महसूस करने का कारण बनता है। शंखपुष्पी एक शक्तिशाली मेमोरी बूस्टर है, जो मस्तिष्क की कार्य क्षमता को बढ़ाने और एकाग्रता के नुकसान को कम करने में मदद करता है।

कार्डिएक फंक्शनिंग को बढ़ाता है

शंखपुष्पी अपनी मजबूत एंटीऑक्सीडेंट प्रकृति के कारण विभिन्न हृदय रोगों के उपचार में अत्यंत प्रभावी है। यह हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करता है और रक्त वाहिकाओं में लिपिड के निर्माण को रोकता है। एथेनॉलिक अर्क जैसे बायोएक्टिव घटक गैर-एस्ट्रिफ़ाइड फैटी एसिड यानी एनईएफए के स्तर को कम करते हैं, और इसलिए दिल के दौरे, दिल के ब्लॉक, रक्त के थक्कों आदि के जोखिम को कम करते हैं। यह रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

याददाश्त के लिए अच्छा 

मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को बढ़ाने के लिए शंखपुष्पी एक पारंपरिक उपाय है। इसमें मौजूद शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और फ्लेवोनोइड किसी व्यक्ति की स्मृति क्षमता, ध्यान, एकाग्रता, शांति, सतर्कता में सुधार करते हैं। एक ब्रेन टॉनिक और उत्तेजक होने के नाते, शंखपुष्पी मेमोरी, तर्क, समस्या-समाधान और अन्य संज्ञानात्मक क्षमताओं में सुधार किया है। पौधे में न्यूरोप्रोटेक्टिव तत्व स्मृति हानि को रोकते हैं और मस्तिष्क से तनाव को दूर करते हैं। एक गिलास पानी के साथ एक चम्मच शंखपुष्पी के काढ़े का रोजाना सेवन करने से आपकी याददाश्त बढ़ाने में चमत्कार हो सकता है।

डिप्रेशन के लिए शंखपुष्पी सिरप 

शंखपुष्पी अपने शक्तिशाली एंटी-स्ट्रेस, एंटी-डिप्रेसिव और एंटी-चिंता गुणों के कारण काफी महत्व रखती है, जो विभिन्न प्रकार की मानसिक समस्याओं जैसे अवसाद, मनोभ्रंश, बेचैनी आदि के इलाज के लिए बेहद उपयोगी है। यह मस्तिष्क के रसायनों यानी न्यूरोट्रांसमीटर को संतुलित करता है और स्राव को बढ़ाता है। डोपामाइन का जो बदले में सेरोटोनिन के स्तर को नियंत्रण में रखता है और चिंता के विभिन्न लक्षणों को कम करने में मदद करता है, जिसमें बेचैनी, बेचैनी, ठंडे हाथ और पैर शामिल हैं, और मन और शरीर को आराम देने में मदद करता है।  

अनिद्रा के लिए शंखपुष्पी

आजकल की लाइफस्टाइल में अनिद्रा की शिकायत बढ़ती जा रही है। शंखपुष्पी कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में मदद करता है जो एक तनाव हार्मोन है और इस तरह तनाव को कम करता है और गुणवत्ता, अवधि में सुधार करता है और एक शांतिपूर्ण नींद प्रदान करता है। सोने से पहले एक गिलास दूध और जीरा में एक चम्मच शंखपुष्पी का चूर्ण मिलाकर पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्म नियमित होता है, नींद आती है और अनिद्रा जैसी नींद की बीमारी का इलाज होता है। 

उच्च रक्तचाप के लिए शंखपुष्पी

शंखपुष्पी में सक्रिय घटक इसे उच्च रक्तचाप या उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों के लिए एक उपयुक्त उपाय बनाते हैं। यह धमनियों को सख्त होने से रोकता है यानी एथेरोस्क्लेरोसिस, इस प्रकार स्ट्रोक को कम करता है और हृदय रोगों को रोकता है। उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए शंखपुष्पी एक अद्भुत प्राकृतिक उपचार के रूप में काम करती है। मगर उच्च रक्तचाप में शंखपुष्पी सिरप का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर कर लें। 

सिर दर्द से छुटकारा दिलाए 

तनाव के चलते सिर दर्द की शिकायत आजकल की लाइफस्टाइल में आम हो गई है। पुराने सिरदर्द, तनाव आदि से राहत प्रदान करने में शंखपुष्पी का बहुत महत्व है। आम तौर पर, अत्यधिक काम के बोझ, तनाव, चिंता आदि के कारण सिरदर्द होता है। यह इरिटेटेड नसों को शांत करता है, मस्तिष्क को शांत करता है और तंत्रिका कार्य में सुधार करता है। 

संक्रमण के लिए शंखपुष्पी सिरप 

अगर आप किसी इन्फेक्शन से ग्रसित हैं तो भी शंखपुष्पी सिरप के फायदे आपके लिए बेहतर साबित हो सकते हैं। कई अध्ययनों से पता चलता है कि शंखपुष्पी में शक्तिशाली एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो शरीर से बैक्टीरिया को हटाने के लिए बड़े पैमाने पर उपयोग किए जाते हैं। इस पारंपरिक जड़ी बूटी में मौजूद बायोएक्टिव यौगिक न केवल कृमि संक्रमण को रोकता है बल्कि घावों का इलाज भी करता है और उपचार में सुधार करता है।

अल्सर के लिए शंखपुष्पी

पेट के अल्सर से परेशान हैं तो भी शंखपुष्पी सिरप आपके लिए बेहद फायदेमंद हो सकती है। जड़ी बूटी के ग्लाइकोप्रोटीन स्राव को विभिन्न अध्ययनों में पेप्टिक और अल्सरेटिव कोलाइटिस सहित विभिन्न प्रकार के पेट के अल्सर के इलाज में बेहद प्रभावी पाया गया है। ऐसे में अगर आपको या आपके परिवार में किसी को अल्सर की शिकायत है तो डॉक्टर से सलाह लेकर शंखपुष्पी सिरप का सेवन कर सकते हैं। 

शंखपुष्पी सिरप के नुकसान | Side Effects Of Shankha Pushpi Syrup In Hindi

Side Effects Of Shankha Pushpi Syrup In Hindi

वैसे तो शंखपुष्पी सिरप के नुकसान नहीं है। मगर इसके बावजूद शंखपुष्पी योगों का उपयोग शुरू करने से पहले हमेशा डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। याददाश्त बढ़ाने वाली इस जड़ी-बूटी का कोई सिद्ध साइड इफेक्ट नहीं है। चूंकि शंखपुष्पी का हल्का हाइपोटेंशन प्रभाव होता है, इसलिए निम्न रक्तचाप से पीड़ित लोगों को इसे लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। हालांकि इसे गर्भावस्था के लिए भी सुझाया जाता है, लेकिन प्रेगनेंसी में इसका उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए और किसी भी तरह से स्वयं यह सिरप नहीं लेनी चाहिए। चूंकि यह एक हर्बल फॉर्मूलेशन है, इसमें एक विशिष्ट कड़वा स्वाद होता है, किसी को थोड़ा मतली महसूस हो सकती है या फॉर्मूलेशन के दौरान उल्टी की प्रवृत्ति हो सकती है। 

शंखपुष्पी सिरप कैसे पीना चाहिए | How To Drink Shankhapushpi Syrup In Hindi

शंखपुष्पी सिरप एक उत्कृष्ट आयुर्वेदिक फार्मूलेशन है, जो मस्तिष्क शक्ति और स्मृति को बढ़ाने में अद्भुत काम करता है। यह मानसिक समस्याओं, विस्मृति और खराब एकाग्रता के इलाज में अत्यधिक फायदेमंद है। जड़ी बूटी मस्तिष्क और तंत्रिका कोशिकाओं पर कार्य करती है जिससे मन को शांत करने में मदद मिलती है, चिंता, मानसिक दबाव, तनाव और अवसाद कम होता है। यह बच्चों में सीखने की क्षमता बढ़ाने और बुद्धि को तेज करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। जबकि यह वृद्ध लोगों में मनोभ्रंश और स्मृति हानि को रोकने में भी मूल्यवान है। सिरप में शंखपुष्पी और ब्राह्मी का शक्तिशाली संयोजन एक अद्भुत मस्तिष्क उत्तेजक के रूप में कार्य करता है। अब सवप यह उठता है कि शंखपुष्पी सिरप कैसे पीना चाहिए? तो हम आपको बता दें कि शंखपुष्पी सिरप को आप बोतल या उसके कवर में बताये गए नियमानुसार ले सकते हैं। इसके अलावा डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं कि शंखपुष्पी सिरप का सेवन कैसे करे। वे आपको इस बारे में उचित सलाह दे देंगे। 

Conclusion | निष्कर्ष

शंखपुष्पी सिरप एकाग्रता, सीखने की क्षमता, मानसिक थकान, अनिद्रा, तनाव, चिंता, अवसाद आदि को दूर करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, शंखपुष्पी मस्तिष्क को शांत करने और तनाव के साथ-साथ चिंता को दूर करने में मदद करती है। यह अपने हल्के रेचक गुण के कारण पाचन और कब्ज को प्रबंधित करने में मदद करता है। हालांकि इसका कोई नुकसान नहीं है लेकिन प्रेगनेंसी में इसका उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। 

शंखपुष्पी सिरप को लेकर पूछे जाने वाले सवाल-जवाब FAQ

सवाल- शंखपुष्पी किसके लिए प्रयोग की जाती है?

जवाब- शंखपुष्पी या श्यामकान्त एक बारहमासी जड़ी बूटी है जिसका उपयोग इसके औषधीय लाभों के लिए किया जाता है। 

सवाल- क्या शंखपुष्पी हानिकारक है?

जवाब- याददाश्त बढ़ाने वाली इस जड़ी-बूटी का कोई सिद्ध साइड इफेक्ट नहीं है, लेकिन शंखपुष्पी फाॅर्मूलेशन का उपयोग शुरू करने से पहले हमेशा डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए

सवाल- क्या शंखपुष्पी से नींद आती है। 

जवाब- शंखपुष्पी दिमाग में शांति की भावना पैदा कर सकती है, तनाव और मानसिक थकान को कम कर सकती है और नींद में सुधार कर सकती है।

सवाल- क्या शंखपुष्पी से याददाश्त बढ़ती है?

जवाब- शंखपुष्पी एक आयुर्वेदिक दवा है, जिसका व्यापक रूप से केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर अपने कार्यों के लिए उपयोग किया जाता है, विशेष रूप से बुद्धि में सुधार और स्मृति को बढ़ावा देने के लिए।

सवाल- शंखपुष्पी लेने का सबसे अच्छा समय क्या है?

जवाब- शंखपुष्पी रस (कशायम) के लिए 2-4 चम्मच पानी में मिलाकर दिन में एक या दो बार लें। सिरप के लिए, भोजन के बाद पानी के साथ 20 मिलीलीटर दिन में दो बार लें।

अगर आपको यहां दिए गए शंखपुष्पी सिरप के फायदे और नुकसान पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें।

ये भी पढ़ें-

शतावरी के फायदे महिलाओं के लिए

18 Aug 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text