home / पैरेंटिंग
डिलीवरी के बाद हेयर फॉल

डिलीवरी के बाद बाल झड़ना कहीं किसी बीमारी का संकेत तो नहीं?

आजकल बाल झड़ने की समस्या बहुत आम हो गई है। क्योंकि लोगों की जीवनशैली और खान-पान ऐसी हो गई है कि किसी भी उम्र में बाल झड़ने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन डिलीवरी के बाद हेयर फॉल, यह समस्या महिलाओं के लिए चिंता का सबब बन जाता है। 

इस पोस्टपार्टम हेयर लॉस को लेकर न्यू मॉम के मन में हजारों सवाल उठते होंगे, कि बाल झड़ना जैसी समस्याएं ठीक होकर, फिर से झड़ते बाल फिर से वापस आएंगे? कहीं ये बाल झड़ना की समस्या उनके सौन्दर्य को कम तो नहीं कर देगी। 

आखिर डिलीवरी के बाद बाल झड़ना, जैसी समस्या होती क्यों है? चिंता न करें, न्यू मॉम के ऐसे ही सवालों का जवाब हम इस लेख में देंगे और साथ में कुछ घरेलू नुस्खें और बचाव के तरीके भी आपसे शेयर करेंगे ताकि आप इस चिंता से मुक्त होकर अपने बच्चे को पूरा समय दे पाएं।

क्या डिलीवरी के बाद हेयर फॉल होना सामान्य है? (Is it Normal to Have Postpartum Hair Loss in Hindi)

डिलीवरी के बाद हेयर फॉल
पोस्टपार्टम हेयरफॉल

हां, डिलीवरी के बाद बालों के झड़ने की समस्या होना आम है। असल में शिशु के जन्म के बाद माँ उनकी देखभाल में इतनी व्यस्त हो जाती हैं कि उनके पास खुद पर ध्यान देने का समय ही नहीं बचता है। वैसे भी माँ बनने के बाद शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। उसके ऊपर से माँ के पास सही तरह से खाने-पीने, सोने-जागने का समय नहीं होता है, उसका असर भी उनके शरीर पर पड़ता है। 

इन सब कारणों से महिलाओं को पोस्टपार्टम हेयर लॉस की समस्या से जुझना पड़ता है। पर खुशी की बात यह है कि जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होता जाएगा, पहले की तरह वापस काले-घने रेशमी बाल आपकी सौन्दर्यता में चार-चाँद लगाने लगेंगे। लेख में आगे डिलीवरी के बाद बाल झड़ने की समस्या होती क्यों है, इसके बारे में विस्तार से जानेंगे।

डिलीवरी के बाद हेयर फॉल के कारण (Causes of Postpartum Hair Loss in Hindi)

आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि किसी-किसी मॉम के बाल गर्भावस्था के दौरान और ज्यादा काले-घने बन जाते हैं। लेकिन दुख की बात तब शुरू होती है जब डिलीवरी के कुछ हफ्तों के बाद से बाल झड़ना शुरू हो जाते हैं और वह पतले होने लगते हैं। असल में गर्भावस्था के दौरान जैसे-जैसे बच्चे का विकास होता है, वैसे-वैसे शरीर में नए हार्मोन का लेवल बढ़ता है और उसका असर बालों पर पड़ता है। इस अवस्था में एस्ट्रोजेन (estrogen) नाम के हार्मोन का लेवल ‍विशेष रूप से बढ़ जाता है, जो माँ के बालों के विकास के चक्र को बदल देता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बालों के विकास का एक चक्र होता है। बाल का विकास कई चरणों से होकर गुजरता है। पहला चरण एनाजेन फेज(anagen phase) होता है, इस स्टेज में बाल स्वाभाविक रूप से बढ़ते हैं। दूसरा चरण कैटाजेन फेज (catagen phase) होता है। इस स्टेज को ट्रांसजिशनल (transitional phase) फेज भी कहते हैं, इस स्टेज में बालों के विकास की गति धीमी पड़ जाती हैं और हेयर फॉलिकल छोटे हो जाते हैं। तीसरा चरण टेलोजेन फेज (telogen phase) है, और इसको रेस्टिंग स्टेज (resting stage) कहते हैं। इस फेज में बालों का विकास नहीं होता है और बाल गिरने लगते हैं। उसके बाद जो बाल गिर जाते हैं, उनके जगह पर नए बाल उगने लगते हैं।

आम तौर पर बाल एनाजेन फेज में दो से चार महीने तक रहता है। एक बार जब वह टेलोजेन फेज में जाता है तब दो-चार महीने तक बाल एक ही स्थिति में रहता है। उसके बाद बाल झड़ना का फेज, आ जाता हैं। बाल विकास चक्र के दौरान, प्रत्येक दिन 100 या उससे भी अधिक बाल झड़ना स्वाभाविक होता है। डिलीवरी होने के बाद हार्मोन प्रेग्नेंट होने से पहले अवस्था में चला जाता है। यानि एस्ट्रोजेन का स्तर गिरने पर बालों के विकास के सारे चक्र पूरे होते हैं। 

बालों का विकास, आराम और झड़ने का चक्र पूरा करने के बाद आराम के फेज में पहुँचता है। उस फेज में रहने के बाद बाहर निकलना शुरू होने लगता है। पोस्टपार्टम हेयर लॉस अवस्था में 100 से अधिक बाल झड़ते हैं। इस अवस्था को टेलोजेन एफ्लुवियम (telogen effluvium) कहते हैं। डिलीवरी के बाद हार्मोन में उतार-चढ़ाव होने के कारण ज्यादा बाल आराम की अवस्था में चले जाते हैं, और फिर बल झड़न शुरू हो जाते हैं। कभी-कभी बालों के झड़ने का कारण शरीर में खून की कमी यानि एनीमिया भी होता है। इसके बावजूद थाइरॉयड के कारण भी बाल झड़ते हैं, इसको पोस्टपार्टम थाइरोइडटिज (postpartum thyroiditis) कहते हैं।

क्या पोस्टपार्टम हेयर लॉस हमेशा रहता है?

डिलीवरी के बाद बाल झड़ना, एक समस्या बन जाता है, मगर इसका मतलब यह नहीं कि यह स्थायी रूप से चले गए। समय के साथ बाल फिर से वापस आ जाएंगे यानि जब आपका बच्चा लगभग एक साल का हो जाएगा आपके बाल भी वापस अपने घनत्व में आ जाएंगे। इसलिए न्यू माँ डिलीवरी के बाद बाल झड़कर पतले हो जाने पर चिंता न करें। 

डिलीवरी के बाल को झड़ना, समस्या से बचाने के लिए इन आसान उपायों को ट्राई कर सकते हैं। इससे आपके बाल हद से ज्यादा नहीं झड़कर पतले नहीं होंगे। चलिए उन सिंपल ट्रिक्स के बारे में जानते हैं-

  • बालों को टाइट करके न बांधें: शायद आपको पता नहीं कि बालों को टाइट करके बांधना ठीक नहीं होता है। वह जड़ों से कमजोर हो जाती है। कुछ लोग ब‍ालों को टाइट रबर बैंड, रोलर या क्लिप से बांधते हैं, ऐसा करने की गलती न करें।
  • केमिकल युक्त शैंपू का इस्तेमाल न करें: आजकल महिलाएं स्टाइलिश लुक पाने के लिए तरह-तरह के केमिकल युक्त डाई का इस्तेमाल करती हैं। इससे कमजोर अवस्था में बालों को बहुत नुकसान पहुँचता है। हमेशा हर्बल शैंपू से बालों को धोना चाहिए, केमिकल युक्त शैंपू का इस्तेमाल एकदम वर्जित होता है।
  • बालों में हीटिंग उपकरणों का इस्तेमाल न करें: बालों को सीधा या घुंघराला करने के लिए महिलाएं रोलर, हीटिंग उपकरणों का सहारा लेते हैं। इससे बालों की रेशाओं को क्षति पहुँचती है।
  • बार-बार कंघी न करें: कुछ लोगों की आदत होती है कि हर एक- दो घंटे के बाद बालों को जोर-जोर से कंघी करने की। आपको लगता होगा, कि बालों को कंघी करने से दिमाग हल्का जैसा लगता है, लेकिन ऐसा नहीं होता बल्कि जोर से कंघी करने के कारण जड़ों को नुकसान पहुँचता है। इसी प्रकार का नुकसान गीले बालों में कंघी करने से भी होता है। 
  • पौष्टिक आहार का सेवन करें: डिलीवरी के बाद अक्सर महिलाएं खाने-पीने का ध्यान ही नहीं रखती। उनकी यही गलती बालों की क्षति का कारण बन जाते हैं। क्योंकि इससे शरीर में विटामिन, मिनरल आदि की कमी हो जाती है। इसीलिए गर्भावस्था के दौरान जब महिलाएं पौष्टिक आहार का सेवन करती हैं, तब उसका प्रभाव बाल और त्वचा पर कितना पड़ता है। बाल और त्वचा में अलग ही तरह का निखार आ जाता है। ठीक इसके विपरित डिलीवरी के बाद जब वह खान-पान का ध्यान नहीं रखती तब बाल न सिर्फ बेजान हो जाते हैं, साथ ही झड़ने भी लगते हैं। 
  • सप्लीमेंट का सेवन करें: अक्सर डिलीवरी के बाद महिलाएं जो भी खाती हैं, उससे शरीर को जितना विटामिन और मिनरल की जरूरत होती है, उस कमी को पूर्णता नहीं मिल पाती है। इसलिए उस कमी को पूरा करने के लिए डॉक्टर से सलाह लेकर सप्लीमेंट लेना चाहिए। क्योंकि विटामिन, मिनरल आदि की कमी से बालों को बहुत नुकसान का सामना करना पड़ता है।
  • तनाव से दूर रहें: किसी भी उम्र में या किसी भी अवस्था में तनाव का असर शरीर के लिए घातक ही होता है। पोस्टपार्टम डिप्रेशन के कारण बाल झड़ने लगते हैं। इसलिए मेडिटेशन या योगासन द्वारा मन को डिप्रेशन और स्ट्रेस से बाहर निकालने की कोशिश करनी चाहिए, नहीं तो परिणाम भविष्य में सेहत के साथ बालों के लिए भी नुकसानदेह साबित हो सकता है।

डिलीवरी के बाद बाल झड़ना कम करने के लिए घरेलू उपाय (Home Remedies for Postpartum Hair loss in Hindi)

डिलीवरी के बाद हेयर फॉल
हेयरफॉल होम रेमिडीज

अब तक हमने डिलीवरी के बाद बाल झड़ने के कारण, बचाव आदि के बारे में बात की। असल में 7-8 महीने बाद वैसे ही बाल आने शुरू हो जाते हैं, लेकिन वे अपनी रौनक खो देते हैं। इसलिए, चलिए अब जानते हैं कि ऐसी कौन-सी चीजें है जो घर में आसानी से मिल जाती हैं और जिनका प्रयोग करने से बालों की खोई हुई रौनक को वापस लाया जा सकता है-

  • दही- दही बालों के लिए नेचुरल कंडिशनर का काम करता है। दही को अच्छी तरह से फेंटकर बालों में कम से कम 10 मिनट तक लगाकर रखने के बाद पानी से धो लेना चाहिए। इससे गर्भावस्था के बाद बालों का झड़ना न सिर्फ कम होता है बल्कि बालों में अलग ही चमक आ जाती है। दही को आप अपने आहार में भी शामिल कर सकते हैं।
  • आंवला- आंवला एक ऐसा हर्ब है जिसके फायदे अनगिनत हैं। बालों के लिए आंवला के फायदों को नकारा नहीं जा सकता। यह हेयर के लिए टॉनिक जैसा काम करता है। नारियल के तेल में  आंवला डालकर थोड़ा गर्म कर लें। उसके बाद इस आंवला तेल को स्कैल्प पर अच्छी तरह से मसाज करें। उसके बाद हर्बल शैंपू से बालों को अच्छी तरह से धो लें। 
  • मेथी का बीज- मेथी के बीजों को रात भर भिगोंकर रखें। अगले दिन सुबह इसको बाल में लगाकर 1-2 घंटे तक रखें। यह रूसी के लिए भी औषधी जैसा काम करता है।
  • हेयर मसाज-  जो तेल आप बालों में लगाने के लिए इस्तेमाल करती हैं, उसको गुनगुना गर्म करके 8-10 मिनट तक बालों में लगाते हुए मसाज करें, इससे स्कैल्प में ब्लड का सर्कुलेशन बेहतर तरीके से होगा और बालों की समस्याएं कम हो जाएंगी। अगर तेल लगाना पसंद नहीं तो ऐसे ही उंगलियों के पोरों से स्कैल्प को मसाज करें।
  • भृंगराज तेल- सदियों से इस तेल का इस्तेमाल बालों से संबंधित समस्याओं को कम करने के लिए किया जाता रहा है। भृंगराज तेल को गुनगुना गर्म करके स्कैल्प में अच्छी तरह से मसाज करते हुए लगाएं। 

अब तक आप समझ ही गई होंगी कि डिलीवरी के बाद बाल झड़ने की समस्या को लेकर ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है। न ही ब्रेस्टफीड करवाने से बाल झड़ते हैं और न ही बाल झड़ जाने की घटना स्थाई है। समय के साथ आपका बच्चा भी फूल की तरह खिलने लगेगा और आपके बाल भी अपनी पूर्वावस्था में लौट आएंगे। बस आपको कुछ एहतियात बरतने और खुश रहने की जरूरत है।

चित्र स्रोत: Freepik

31 Mar 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text