home / लाइफस्टाइल
Flowers For Nine Days In Navratri

Chaitra Navratri 2022- नवरात्र में माता के नौ स्वरूपों को अर्पित करें नौ अलग-अलग तरह के फूल

चैत्र के महीने में प्रतिप्रदा से चैत्र नवरात्रि की शुरुआत होती है और इस बार ये 2 अप्रैल से शुरू होने वाली है। चैत्र नवरात्रि, जिसे वसंत नवरात्रि भी कहते हैं, में भक्त शारदीय नवरात्रि की ही तरह मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा अर्चना करते हैं। देशभर में इस पावन अवसर पर भक्त सुख समृद्धि की लालसा लिए घर और मंदिरों में देवी मां की पूजा करते हैं। माता की पूजा में कई तरह के नियम हैं जिन्हें शास्त्रों के अनुसार विधिवत तरीके से ही करने की कोशिश की जाती है। पूजा में हर रोज देवी को अर्पित किए जाने वाले फूल भी बहुत महत्वपूर्ण हैं और नौ दिन माता के नौ स्वरुपों को उनके पसंदीदा फूल ही चढ़ाने की मान्यता है। 

पहला दिन- सफेद कनेर और लाल गुड़हल

शास्त्रों के अनुसार नवरात्र के पहले दिन मां दुर्गा के स्वरूप माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है। इस दिन देवी को पूजा के दौरान सफेद कनेर और लाल गुड़हल के फूल चढ़ाना शुभ माना जाता है। 

दूसरा दिन- वटवृक्ष और गुलदाउदी के फूल

नवरात्र के दूसरे दिन मां दुर्गा के द्वितीय स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। इस दिन देवी को वटवृक्ष यानि बरगद के पेड़ के फूल या गुलदाउदी के फूल चढ़ाने की मान्यता है।

चैत्र नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

तीसरे दिन- शंखपुष्पी के फूल

नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। इस दिन माता को शंखपुष्पी के फूल चढ़ाने की मान्यता है।

चौथे दिन- पीले रंग के फूल 

नवरात्र के चौथे दिन मां दुर्गा के कुष्मांडा स्वरूप की पूजा की जाती है। इस दिन देवी मां को पीले रंग के फूल चढ़ाने की मान्यता है।

Navratri ke Bhajan

पांचवें दिन- नीले रंग के फूल

नवरात्र के पांचवे दिन मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा होती है। इस दिन माता को नीले रंग के पुष्प चढ़ाने की मान्यता है। 

छठे दिन- बेर के पेड़ के फूल 

नवरात्रि के छठवें दिन कात्यायनी देवी की पूजा की जाती है। इस दिन देवी को बेर के पेड़ के फूल चढ़ाने की मान्यता है।

सातवें दिन- कृष्ण कमल या कोई भी नीले रंग का फूल

नवरात्रि के सातवें दिन मां दुर्गा के स्वरूप कालरात्रि की पूजा की जाती है। इस दिन माता को कृष्ण कमल चढ़ाने की मान्यता है। लेकिन अगर कृष्ण कमल न मिले तो कोई भी नीले रंग का फूल पूजा में रख सकते हैं।

साभार- इंस्टाग्राम

आठवें दिन- मोगरे के फूल

नवरात्रि के आठवें दिन मां दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा होती है। इस दिन, मान्यता के अनुसार, देवी को मोगरे के फूल अर्पित किए जाते हैं। 

नौवां दिन- गुड़हल के फूल

नवरात्रि के नौवें दिन मां दुर्गा के स्वरूप सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना की जाती है। इस दिन देवी को गुड़हल के फूल चढ़ाए जाते हैं।

Also Read –
Gudi Padwa Information In Marathi
Gudi Padwa Wishes In Marathi

01 Apr 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text