home / xSEO
नाखून की बीमारी का इलाज

नाखून की बीमारी का इलाज

क्या आपने हाल ही में अपने किसी नाखून में बदलाव देखा है? रंग, बनावट या आकार में बदलाव हानिरहित हो सकता है, लेकिन यह बीमारी का संकेत भी हो सकता है। नाखून बालों और त्वचा की सतही परतों की तरह ही केराटिन से बनी अनूठी संरचनाएं हैं। नाखून उंगलियों की संवेदनशील युक्तियों को आकस्मिक आघात से बचाते हैं और नाखून मैट्रिक्स नामक जर्मिनल ऊतक की परत से बनते हैं। मैट्रिक्स को नाखून के बिल्कुल आधार पर पाया जा सकता है, जो त्वचा की तह के नीचे छिपा होता है। नाखून मैट्रिक्स नाखून बिस्तर का हिस्सा है जो नाखून प्लेट का समर्थन और पोषण करता है। नेल फोल्ड्स नेल को पोजीशन में रखते हैं और क्यूटिकल (Cuticles Care Tips in Hindi) बनाते हुए इसे त्वचा से जोड़ते हैं। अगर आपको अपने नाखूनों में कोई भी बदलाव नज़र आता है तो वे हाथ के नाखून के रोग के लक्षण हो सकते हैं। नाखूनों को मजबूत रखने के टिप्स तो आप जानते ही हैं। आज हम आपको नाखून की बीमारी का इलाज के बारे में बता रहे हैं। 

नाखून की बीमारी के लक्षण 

Nail Disease Symptoms in Hindi

नाखून हमारे हाथों की खूबसूरती बयां करते हैं। अगर नाखून अच्छे हैं तो आपका हाथ भी खुद बी खुद अच्छा दिखने लगता है। मगर क्या आप जानते हैं आपके यही नाखून आपके शरीर में पल रही बिमारियों का संकेत भी दे देते हैं। जी हां, पहले के ज़माने में घर के बड़े-बुज़ुर्ग या वैद्य सिर्फ हाथ के नाखून देखकर बीमारी का पता कर लिया करते थे। मगर बदलते समय के साथ नाखून की बीमारियां भी बढ़ने लगी हैं। हम यहां कुछ लक्षण दे रहे हैं, जिन्हें देखकर आप हाथ के नाखून के रोग का पता लगा सकते हैं। 

– मलिनकिरण (गहरी धारियां, सफेद धारियां, या नाखून के रंग में परिवर्तन)

– नाखून के आकार में परिवर्तन (कर्लिंग या क्लबिंग)

– नाखून की मोटाई में परिवर्तन (मोटा होना या पतला होना)

– नाखून का भंगुर हो जाना

– नाखून सूज जाना

– नाखूनों के आसपास खून बहना

– नाखूनों के आसपास सूजन या लाली

– नाखूनों के आसपास दर्द

– त्वचा से अलग नाखून के पास कील निकल आना

नाखून की बीमारी के प्रकार

स्वस्थ नाखून चिकने दिखाई देते हैं और उनमें लगातार रंग होता है। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आप खड़ी लकीरें विकसित कर सकते हैं, या आपके नाखून थोड़े अधिक भंगुर हो सकते हैं। हालांकि अगर आपको नाखून चबाने के आदत है तो नाखून चबाने के नुक्सान भी हो सकते हैं। इसके अलावा अगर आपके नाखून के आस-पास की त्वचा काली पड़ गयी है (dark skin around nails in Hindi) तो भी इस और ध्यान दिया जाना बेहद आवश्यक है। नाखून खराब होने के कारण की हो सकते हैं इसी तरह नाखून की बीमारी भी कई तरह की होती है, जो हम आपको यहां बता रहे हैं। 

Types of Nail Disease in Hindi

नाखून सोरायसिस

नेल सोरायसिस के कारण नेल डेंटिंग या क्रम्बलिंग हो सकता है। सोरायसिस से पीड़ित लोगों में इसके लक्षण विकसित हो सकते हैं। यह तब होता है जब सोरायसिस नाखून बिस्तर की त्वचा या नाखून बिस्तरों के पास प्रभावित करता है। अगर आपको सोरायसिस है और अपने नाखूनों पर लक्षणों को नोटिस करते हैं, तो इस बारे में आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। 

भंगुर विभाजन नाखून

भंगुर विभाजन नाखून, या onychoschizia, एक आम समस्या है जिसे त्वचा विशेषज्ञ देखते हैं। स्थिति भंगुर, मुलायम, विभाजन, या पतले नाखून का कारण बन सकती है। भंगुर नाखूनों के सामान्य कारण नाखूनों को बार-बार गीला करना और सुखाना है। हालांकि आयरन की कमी या अंतर्निहित बीमारी भी इसका कारण बन सकती है। इसका सबसे आम लक्षण यह है कि नाखून आसानी से टूट जाते हैं।

ओनिकोग्रिफोसिस

Onychogryphosis एक ऐसी स्थिति है जहां नाखून ऊंचा और मोटा हो जाता है, जो अक्सर बड़े पैर के अंगूठे को प्रभावित करता है। इससे नाखून का एक हिस्सा दूसरे हिस्से की तुलना में लंबा हो सकता है। जब किसी व्यक्ति को ऑनिकोग्रिफोसिस होता है, तो नाखून बहुत मोटा हो जाता है। 

नाखून का फंगल इन्फेक्शन 

नाखून का फंगल इन्फेक्शन एक सामान्य स्थिति है जिसके कारण नाखून मोटे, फीके पड़ जाते हैं और टूटना आसान हो जाता है। उंगलियों की तुलना में पैर की उंगलियों में नाखून का फंगल इन्फेक्शन अधिक आम है। कई अलग-अलग प्रकार के मोल्ड और फंगस नाखूनों को प्रभावित कर सकते हैं। पसीना, एथलीट फुट, और सैलून मैनीक्योर और पेडीक्योर लोगों को नाखून के फंगल इन्फेक्शन के उच्च जोखिम में डाल सकते हैं।

नाखून की बीमारी का घरेलू इलाज

हमारे नाखून हमसे बहुत कुछ कहते हैं। नाखून में बनने वाली धारियों से लेकर नाखून पीले हो जाता और पता नहीं क्या क्या। अगर आपके नाखून जल्दी बढ़ते नहीं हैं तो आप नाखून बढ़ाने के घरेलू उपाय आज़मा सकते हैं। वहीं गर आपके नाखून जल्दी गंदे हो जाते हैं तो भी नेल्स साफ करने का तरीका आपके काम आ सकता है। मगर जब आपको हाथ के नाखून के रोग घेर लें तो ऐसे में नाखून के रोग का इलाज ही काम आता है। कई लोग डॉक्टर के पास जाने से पहले घरेलू उपचार आज़माने में विश्वास करते हैं। अगर आप भी उन्हीं में से एक हैं तो हम यहां आपके लिए नाखून की बीमारी का इलाज लेकर आये हैं।  

Nail Disease Home Remedies in Hindi

टी ट्री ऑयल

टी ट्री ऑयल मेललेका अल्टरनिफोलिया झाड़ी जैसे पेड़ से प्राप्त होता है, जो ऑस्ट्रेलिया का मूल निवासी है। इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल दोनों गुण होते हैं। यह एक लोकप्रिय घरेलू उपचार है जिसका उपयोग नाखून के रोग का इलाज में सफलतापूर्वक किया गया है। स्वास्थ्य खाद्य भंडारों में आसानी से उपलब्ध, टी ट्री ऑयल में क्लोट्रिमेज़ोल की तुलना में परिणाम देखे गए हैं। यह बताया गया है कि जब टी ट्री ऑयल को दिन में दो बार लगाया जाता है, तो यह नाखून के फंगस के इलाज में बेहद कारगर पाया जाता है।

जैतून का पत्ता

जैतून का पत्ता फंगल इन्फेक्शन के खिलाफ लाभकारी प्रभाव डालता है और रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है। यह यीस्ट इन्फेक्शन के उपचार के खिलाफ सबसे अच्छा काम करता है। जैतून की पत्ती का अर्क सबसे अच्छे नाखून की बीमारी का इलाज में से एक है। जैतून के पत्ते के तेल का उपयोग नाखून इन्फेक्शन के इलाज के लिए एक सुरक्षित और प्राकृतिक तरीका है। जैतून के पत्ते का तेल टिंचर, कैप्सूल या साल्व के रूप में उपलब्ध है। भोजन के साथ दिन में दो बार एक से तीन कैप्सूल की खुराक में जैतून के पत्ते का अर्क भी लिया जा सकता है। इस उपचार को तब तक जारी रखना महत्वपूर्ण है जब तक कि नाखून का संक्रमित हिस्सा पूरी तरह से बाहर न निकल जाए और संक्रमण पूरी तरह से समाप्त न हो जाए।

लहसुन

लहसुन हमेशा से घरेलू उपचार के रूप में लोकप्रिय रहा है। लहसुन अपने एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण नाखून की बीमारी के इलाज के लिए एक बेहतरीन घरेलू उपचार है। लहसुन आपकी रसोई में आसानी से उपलब्ध हो जाता है। पैर के नाखून खराब होना दिख रहा है तो संक्रमण के शुरुआती चरणों को कम करने के लिए लहसुन की कई कलियों को रात में अपने मोज़े में रख सकते हैं। वैकल्पिक उपचार के रूप में, कुछ ताजी लौंग को कुचलकर प्रभावित क्षेत्र पर लगभग 30 मिनट के लिए रखा जाना चाहिए जिसके बाद इसे पानी से धो दिया जाता है। लहसुन का पाउडर भी आसानी से मिल जाता है और इसकी हल्की डस्टिंग से कील फंगस का इलाज किया जा सकता है। लहसुन का तेल घर पर भी तैयार किया जा सकता है, इसमें एक टेबलस्पून ताजी कटी हुई लहसुन की कलियां, तीन टेबलस्पून नारियल का तेल और एक टेबलस्पून जैतून का तेल मिला कर तैयार किया जा सकता है।

नाखून साफ और छोटा रखें

यह हाथ के नाखून के रोग के सभी घरेलू उपचारों में सबसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह दर्द को कम करने के साथ-साथ नाखून की स्वच्छता बनाए रखने में भी काम करता है। यह नाखूनों पर दबाव कम करके काम करता है। अपने नाखूनों को ट्रिम करें और उन्हें फाइल करके पतला करें। नाखून काटने से पहले नेल सॉफ्टनिंग क्रीम लगाएं। यूरिया क्रीम को ट्रिमिंग और थिनिंग के बाद लगाया जा सकता है और फिर एक पट्टी के साथ कवर किया जा सकता है। इसे साबुन और पानी से धोना चाहिए, और इस प्रक्रिया को तब तक दोहराया जाना चाहिए जब तक कि आपके नाखून नरम न हो जाएं। प्रभावित नाखूनों के आसपास की त्वचा पर पेट्रोलियम जेली का प्रयोग करें।

इलाज से बेहतर रोकथाम है

नेल फंगस की तीव्रता को रोकने के लिए सबसे अच्छा इलाज है, उसकी रोकथाम करना। विभिन्न स्वच्छता उपायों का नियमित रूप से पालन किया जाना चाहिए। दिन में ज्यादातर समय पैरों को साफ और सूखा रखें। पैर की उंगलियों और उंगलियों के बीच की त्वचा सूखी होनी चाहिए। हमेशा हल्के मोजे का प्रयोग करें जो नमी को सोख सकें और हवा के प्रवाह में सुधार कर सकें। सिंथेटिक सामग्री से पूरी तरह से बचा जाना चाहिए और खुले सैंडल या जूतों का उपयोग छिद्रपूर्ण तलवों और ऊपरी सतह के साथ करने का प्रयास करना चाहिए।

अगर आपको यहां दिए गए नाखून की बीमारी का इलाज पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें।

26 May 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text