home / रिलेशनशिप
इन असरदार तरीकों की मदद से पिता अपने बेटे के साथ बॉन्डिंग को बना सकता है स्ट्रॉन्ग

इन असरदार तरीकों की मदद से पिता अपने बेटे के साथ बॉन्डिंग को बना सकता है स्ट्रॉन्ग

यह हमारी आदत है कि हम उन चीजों में अपनी मेहनत और एनर्जी डालते हैं, जो हमारे लिए जरूरी हैं। फिर चाहे करियर हो या फिर आपका रिलेशनशिप हो। कई पिता इस बात से सहमत होंगे कि जब बच्चे छोटे होते हैं, तब उनके साथ रिश्ता बनाना आसान होता है। हालांकि, जैसे ही बेटा बड़ा होने लगता है तो रिश्ते को आसान बनाए रख पाना मुश्किल हो जाता है और उन्हें अधिक समय की जरूरत होती है। अगर आप भी अपने बेटे के साथ अपने बॉन्ड को स्ट्रॉन्ग करना चाहते हैं तो आपके लिए ये तरीके बहुत काम आ सकते हैं।

अपने बेटे के साथ स्पेशल वन-ऑन-वन टाइम प्लान करें

जैसे-जैसे बच्चा बढ़ा होता है तो वह अपने पेरेंट्स के साथ अधिक समय बिताने के बारे में सोचता है। एक पिता होने के नाते हो सकता है कि आपका बेटा आपके जैसा बनने के बारे में सोचता हो लेकिन आपके बिजी शेड्यूल की वजह से वह आपसे बात नहीं कर पाता हो। इस वजह से अपने बच्चे के साथ वन-ऑन-वन टाइम प्लान करें। इसके लिए आप बेटे के साथ क्रिकेट मैच देखने जा सकते हैं या फिर साथ में फिल्म देख सकते हैं और या फिर आप अपने बेटे के साथ ट्रेक पर जा सकते हैं। एक साथ कुछ एक्टिविटी करने से आपके बीच एक नॉन-वर्बल रिश्ता बनेगा, जो काफी स्ट्रॉन्ग होता है।

जेंडर स्टीरियोटाइप के बारे में करें बात

यह बहुत ही अच्छा है कि आप अपने बेटे के बचपन से ही जेंडर नॉर्म्स को डिफाय करें। आपको अपने बेटे को बताना चाहिए कि वह अपनी भावनाओं को खुलकर व्यक्त कर सकता है, अगर उसे रोना है तो रो सकता है और यह पूरी तरह से सामान्य है। आखिर में एक पुरुष होने का मतलब ये नहीं है कि वह उसे हमेशा स्ट्रॉन्ग ही दिखना होता है। इसके अलावा आपको अपने बेटे को जीने के लिए जरूरी चीजें जैसे कि खाना बनाना, घर साफ करना और घर के छोटे-मोटे अन्य काम करना भी सिखाना चाहिए। यह घर की जिम्मेदारी बांटने का अच्छा तरीका है और साथ ही घर की जिम्मेदारी केवल महिलाओं की नहीं होती है।

उन पाठों के बारे में सोचें जिन्हें आप बताना चाहते हैं

बच्चे, अपने पिता को अन्य लोगों के साथ घुलते-मिलते हुए देखकर काफी कुछ सीखते हैं। इस वजह से आपको हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि आप अपनी पत्नी और अन्य लोगों से कैसे बात कर रहे हैं क्योंकि आपको देखकर ही आपका बेटा महिलाओं से बात करना सीखता है और उनकी इज्जत करना भी। जिस तरह से आप अपने गुस्से को काबू करते हैं और मैनेज करते हैं, उसी तरह से इस तरह की परिस्थितियों में आपका बच्चा रिएक्ट करता है। इस वजह से आप हमेशा सोचें कि आप क्या चाहते हैं कि आपका बच्चा क्या सीखे और उसी हिसाब से आपको पेश आना चाहिए।

पिता और बेटे के बीच के रिश्ते के कॉम्प्लिकेट होने के पीछे एक बड़ा कारण यह है कि समय के साथ बच्चे विद्रोह वाले चरण से गुजरते हैं। वहीं कुछ बच्चे अपने बढ़ने होने के साथ अपने पिता के साथ कॉम्पिटिशन करने का सोचते हैं। ऐसे में बच्चों के साथ बचपन से ही समय बिताना और दोस्ती करना बहुत ही जरूरी है क्योंकि आप दोनों के बीच की अंडरस्टैंडिंग और प्यार जादू की तरह काम कर सकता है।

यह भी पढ़ें:
थायराइड की समस्या को कंट्रोल करने में आपकी मदद करेंगे ये आयुर्वेदिक उपाय
इस आसान रेसिपी से घर पर बनाएं टेस्टी मंचूरियन
इन पैरेंटिंग टिप्स से सुनिश्चित करें कि तलाक के बाद आपके बच्चे को नहीं चुनना पड़े किसी एक को

20 Dec 2021

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text