home / पैरेंटिंग
प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर

प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर कराना कितना सुरक्षित, जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें

प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर कराना सुरक्षित होता है या नहीं, हर महिला को इसे लेकर काफी कंफ्यूजन रहता है। ऐसा होना लाजमी भी है, क्योंकि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कई तरह के ब्यूटी ट्रीटमेंट्स की मनाही होती है। वहीं, मैनीक्योर और पेडीक्योर में इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट्स में भी कई केमिकल होते हैं, तो ऐसे में गर्भवती का इस विषय पर चिंता करना स्वाभाविक है।

गर्भावस्था बहुत नाजुक दौर है और इस दौरान गर्भवती किसी तरह की लापरवाही नहीं बरत सकती हैं। ऐसे में आज इस लेख में हम गर्भावस्था में मैनीक्योर और पेडीक्योर करा सकते हैं या नहीं, इसके बारे में जानकारी लेकर आए हैं। तो फिर शुरू करते हैं लेख।

क्या प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर कराना सुरक्षित होता है? (Is it Safe to do Manicure and Pedicure during Pregnancy in Hindi)

प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर
प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर सुरक्षित है या नहीं?

गर्भवती माँ को यह जानकर हैरानी होगी कि प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर कराना सेफ होता है। यह आपके स्ट्रेस को दूर करने के साथ ब्लड सर्कुलेशन बेहतर करने में सहायक हो सकता है। खासकर यदि गर्भवती को तीसरी तिमाही में बेबी वेट की वजह से पैरों में दर्द या सूजन है, तो पेडीक्योर कराना लाभकारी हो सकता है। दरअसल, पेडीक्योर के दौरान फुट मसाज की जाती है, जिससे ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और काफी हद तक सूजन कम होती है। हालांकि, इस दौरान उन्हें शिशु की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ सावधानी बरतने की जरूरत होती, जिसके बारे में लेख में आगे बात करेंगे।

प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर कराते समय बरती जाने वाली सावधानियां (Manicure and Pedicure Precautions During Pregnancy in Hindi)

गर्भावस्था में मैनीक्योर और पेडीक्योर कराते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, नीचे इससे जुड़ी जानकारी शेयर कर रहे हैं:

  • ऐसे सैलून का चयन करें जहां हाइजीन का ध्यान रखा जाता हो। क्योंकि भले ही मैनीक्योर व पेडिक्योर कराना सेफ है, लेकिन इस प्रोसेस के लिए उपयोग किए जाने वाले उपकरण कई लोगों के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। इस वजह से अगर इन उपकरणों को अच्छे से स्टेरलाइज न किया गया हो तो गर्भवती को इंफेक्शन का जोखिम अधिक होता है। यह माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकता है।
  • सैलून में इस्तेमाल किए जाने वाले ब्यूटी प्रोडक्ट्स में कुछ ऐसे केमिकल व परफ्यूम हवा में फैले रहते हैं। इनके संपर्क में आने से बचाव के लिए सैलून का वेंटिलेशन अच्छा होना चाहिए। गर्भवती महिलाओं की सूंघने की क्षमता तेज होती है। सैलून का वेंटिलेशन अच्छा नहीं होता तो, उन्हें मतली, जी मिचलाना आदि की शिकायत हो सकती है।
  • हमेशा ऐसे सैलून का अपॉइंटमेंट लें जो लाइसेंस्ड हो और जिनका रिकॉर्ड अच्छा हो। जहां साफ-सफाई का ध्यान रखा जाता हो। ब्यूटी ट्रीटमेंट्स की प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों को बकायदा स्टेरलाइज किया जाता हो।
  • पेडीक्योर और मैनीक्योर कराते समय किसी चीज का सेवन करें। इससे गलती से रसायनों को शरीर में प्रवेश करने से बचा जा सकता है।
  • सैलून में अपनी प्रेग्नेंसी की जानकारी दें। इससे वे टॉक्सिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल नहीं करेंगे और खास सावधानी बरतेंगे।
  • गर्भवती महिलाएं हमेशा पेडीक्योर और मैनीक्योर के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट्स के इंग्रीडिएंट्स पर एक नजर जरूर डालें। ध्यान दें इसमें ऐसी कोई सामग्री न हो जो आपके लिए हानिकारक साबित हो। 
  • यदि गर्भवती के हाथ या पैर पर किसी तरह की चोट या कट लगा है तो सैलून जाने से परहेज करें। इससे इंफेक्शन होने की संभावना अधिक होती है।

क्या पेडीक्योर कराने से लेबर पेन प्रेरित हो सकता है? (Does Pedicure Induce Labor in Hindi)

कुछ लोगों का कहना है कि पेडीक्योर कराने से लेबर प्रेरित हो सकता है। इसकी वजह पेडीक्योर के दौरान पैरों में होने वाली मसाज को वजह माना जाता है। क्योंकि मसाज करते समय पैरों के नीचे और टखनों में कुछ ऐसे प्रेशर पॉइंट्स होते हैं, जो लेबर को ट्रिगर कर सकते हैं। हालांकि, कोई रिसर्च इस बात की पुष्टि नहीं करती है। इसे सिर्फ मिथक माना जाता है। फिर भी आप जो पेडीक्योर करने वाला है, उसे पैरों के नीचे और टखनों के आस-पास मसाज करने से मना कर सकते हैं। 

प्रेग्नेंसी में घर पर मैनीक्योर और पेडीक्योर के लिए टिप्स

प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर
प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर घर पर भी कर सकते हैं

प्रेग्नेंसी में अगर आप बाहर मैनीक्योर और पेडीक्योर कराने से डर रही हैं, तो नीचे कुछ टिप्स दे रहे हैं, जिनकी मदद से आप घर पर ही इसे कर सकती हैं:

  • ब्राउन शुगर और ऑलिव ऑयल को बराबर मात्रा में मिलाएं।
  • अब अपनी हाथों और पैरों की उंगलियों पर इससे मसाज करें।
  • गुनगुना पानी से भरे टब मे थोड़ा-सा बॉडी वॉश डालें और उसमें अपने हाथों और पैरों को सोक करें।
  • हाथों और पैरों को तौलिए से पोंछ लें।
  • अब हाथों और पैरों के नाखूनों के आस-पास क्यूटिकल सॉफ्टनर क्रीम लगाएं।
  • इसके बाद क्यूटिकल्स पुशर की मदद से धीरे-धीरे क्यूटिकल्स को पुश करें। इस दौरान बिल्कुल भी प्रेशर न बनाएं।
  • हाथों और पैरों के नाखूनों को फाइल करें और लोशन लगाएं। 

तो इस लेख में आपने प्रेग्नेंसी में मैनीक्योर और पेडीक्योर सुरक्षित है या नहीं, इसके बारे में जाना। साथ ही इसे कराते समय गर्भवती को क्या सावधानी बरतनी चाहिए, इसके बारे में भी बताया गया। लेख में घर पर गर्भवती महिला कैसे पेडीक्योर व मैनीक्योर करे, इसका भी तरीका बताया गया है। उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा लेख में दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। हैप्पी एंड सेफ प्रेग्नेंसी।

चित्र स्रोत: फ्रीपिक

06 Jul 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text