home / xSEO
Lohri Poems

2023 Lohri Poems in Hindi | पढ़िए एक से बढ़कर एक 10+ लोहड़ी पर कविता

लोहड़ी पंजाब और उत्तर भारत के कई हिस्सों के लिए सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। लोहड़ी अपने साथ बसंत की ताजगी और सभी नई चीजों के प्रति उत्साहपूर्ण जागरूकता लेकर आती है। लोहड़ी सर्दियों के अंत का प्रतीक है। इसका जश्न मनाने के लिए बड़े पैमाने पर भीड़ इकट्ठा होती है, जो अलाव जलाती है। यह इस बात का संकेत है कि रबी की फसल कटाई के लिए तैयार है क्योंकि किसान नए मौसम की प्रतीक्षा कर रहे हैं। देश भर में लोहड़ी 13 जनवरी को मनाई जाती है, आप तो जानते हैं कि पंजाबियों का कोई भी प्रमुख त्योहार पारंपरिक गीतों और नृत्यों के बिना अधूरा है। मगर इस दौरान सब एक दूसरे को लोहड़ी कविता (Lohri Poems in Hindi) भी काफी शेयर करते हैं। हम आपके लिए यहां लोहड़ी पर कविता (Lohri Poems in Hindi) लेकर आये हैं। इस आर्टिकल में आपको पढ़ने को मिलेंगी Poem on Lohri in Hindi और आपको ये बेहद पसंद आने वाली हैं।

ये देखें : Makar Sankranti Daan Items List in Hindi

ADVERTISEMENT

Lohri Poems in Hindi | लोहड़ी पर कविता

वीर ज़ारा के सबसे लोकप्रिय गीतों में से एक ‘लो आ गई लोहड़ी रे’ ने पंजाबी नृत्य और गायन की परंपरा को फिर से लोकप्रिय बना दिया था क्योंकि इस गाने में हर कोई अलाव की परिक्रमा करता है। न केवल पंजाब में, बल्कि उत्तर भारत के अन्य हिस्सों में, लोग लकड़ी जलाकर और रेडियो पर गाने बजाकर जश्न मनाते हैं।लोहड़ी खुशनुमा दिनों की शुरुआत का संकेत देती है। ऐसे में अगर आप लोहड़ी पर गाने सुनने के साथ अपनों को (Lohri Poems in Hindi) शेयर करना चाहते हैं तो हम यहां आपके लिए एक छोटा सा कलेक्शन ले कर आये हैं। 

Poem of Lohri in Hindi - लोहड़ी पर कवित

1- लोहड़ी आई – लोहड़ी आई,

ADVERTISEMENT

सर्दी खत्म होने को आई,

दिन बड़े होने की ख़ुशी में,

ADVERTISEMENT

सब ने मिलकर लोहड़ी मनाई|

13 जनवरी का दिन है आया,

ADVERTISEMENT

खुशियों ने हैं डेरा डाला,

सुंदरी-मुंदरी के गीतों से,

ADVERTISEMENT

हम सब ने लोहड़ी का है त्योहार मनाया|

लोहड़ी आई लोहड़ी आई,

ADVERTISEMENT

मिलकर हम सब,

एक दूजे को दे बधाई,

ADVERTISEMENT

जात-पात का भेद मिटाकर,

मिलकर हम सब ने ढांड जलाई|

ADVERTISEMENT

मूंगफली रेवड़ी अग्नि में डालकर

लोहड़ी के गीतों से,

ADVERTISEMENT

इस त्योहार की शोभा बढाई!

कुछ दिन पहले से बच्चों ने,

ADVERTISEMENT

घर घर जाकर लोहड़ी मांगी,

दे नी माएं लोहड़ी,

ADVERTISEMENT

तेरे द्वारे सारी टोली है आई,

दे नी माएं लोहड़ी,

ADVERTISEMENT

तेरे द्वारे सारी टोली है आई!

लोहड़ी आई- लोहड़ी आई,

ADVERTISEMENT

सबने इसे दिल से मनाई!

2- फिर से नूतन हर्ष 

ADVERTISEMENT

लेकर आयी लोहड़ी, फिर से नूतन हर्ष। 

करते हैं सब कामना, मंगलमय हो वर्ष।। 

ADVERTISEMENT

शीतल-शीतल रात है, शीतल-शीतल भोर। 

उत्सव का माहौल है, पसरा चारों ओर।। 

ADVERTISEMENT

खुश हो करके लोहड़ी, मना रहे हैं लोग। 

ज्वाला में मिष्ठान्न का, लगा रहे हैं भोग।। 

ADVERTISEMENT

मन को बहुत लुभा रहे, त्योहारों के रंग। 

रंग-बिरंगी गगन में, उड़ने लगीं पतंग।।

ADVERTISEMENT

उत्तरायणी आ रही, देने अब सौगात। 

घाट जायेगा देश में, सर्दी का अनुपात।। 

ADVERTISEMENT

मकर राशि में दिवाकर, आने को तैयार। 

वासन्ती परिवेश के, खुल जायेंगे द्वार।। 

ADVERTISEMENT

आहट देख बसन्त की, कुहरा हुआ अपांग। 

फूली सरसों देखकर, मन में उठी उमंग।। 

ADVERTISEMENT

भँवरे गुनगुन कर रहे, तितली करती नृत्य। 

ख़ुश होकर सब कर रहे, अपने-अपने कृत्य।।

ADVERTISEMENT

3- धूप हो चली तीखी-तीखी

आने वाली बसंत बहार,

ADVERTISEMENT

ढेरों खुशियाँ लेकर आया

जीवन में लोहड़ी त्यौहार।

ADVERTISEMENT

मौसम ने ले ली है करवट

सूरज ने बदली है चाल

ADVERTISEMENT

कलरव करते पंछी निकले

हवा बजाती सुरमयी ताल,

ADVERTISEMENT

रहे ठिठुरते जिससे हम सब

सर्दी की अब घटेगी मार

ADVERTISEMENT

ढेरों खुशियाँ लेकर आया

जीवन में लोहड़ी त्यौहार।

ADVERTISEMENT

रंग-बिरंगी उड़ी पतंगे

आसमान में दौड़ लगातीं

ADVERTISEMENT

लड़ती-भिड़ती हैं आपस में

कट कर धरती पर आ जातीं,

ADVERTISEMENT

भाग रहे लेने को बालक

पतंग गिरे जितनी भी बार

ADVERTISEMENT

ढेरों खुशियाँ लेकर आया

जीवन में लोहड़ी त्यौहार।

ADVERTISEMENT

घर-घर जाकर माँगे सबसे

बच्चे बना-बना कर टोली

ADVERTISEMENT

दे रहे रेवड़ी, मूंगफली

सुन सब उनकी मीठी बोली,

ADVERTISEMENT

मिलकर जश्न मनाएंगे अब

सभी बाल हो गए तैयार

ADVERTISEMENT

ढेरों खुशियाँ लेकर आया

जीवन में लोहड़ी त्यौहार।

ADVERTISEMENT
Lohri Poems

4. गिद्धा पाए कुडियां, मुंडे करदे शोर,

मेला सा लगा है देखो जिस ओर

ADVERTISEMENT

मिट्टी पाओ पुरानी बातों पर

देखो आई लोहड़ी की भोर

ADVERTISEMENT

मूंगफली खाइए, खिलाइए और

याद रहे आपको ये खुशनुमा दौर

ADVERTISEMENT

खुशियाँ रहें बलवती सदा आपकी

सब दुःख पड़ें बिल्कुल कमजोर।

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

Short Poems on Lohri in Hindi | लोहड़ी पर छोटी कविता 

लोहड़ी के दौरान पूरा पंजाबी समुदाय एक साथ आता है और एक दूसरे को लोहड़ी की शुभकामनाएं देता है, जो एक नए सत्र की शुरुआत का प्रतीक है। लोहड़ी शब्द दो शब्दों तिल (तिल) और रोड़ी (गुड़) से बना है, जो पारंपरिक रूप से त्योहार के दौरान खाए जाते हैं। इतिहास में पहले तिल और रोड़ी शब्द एक साथ ‘तिलोहरी’ की तरह लगते थे, जो धीरे-धीरे ‘लोहड़ी’ शब्द में बदल गए। इस शुभ अवसर पर पढ़िए लोहड़ी पर छोटी कविता (Short Poems on Lohri in Hindi)।

Short Poem on Lohri in Hindi - लोहड़ी पर छोटी कविता

1- गुड़ हम है और तिल हो आप,

ADVERTISEMENT

मिठाई हम है और मिठास हो आप,

हर दिन हम करते है आपका जाप,

ADVERTISEMENT

लोहड़ी आते और नाम आपके लेते,

हो जाती है गर्मी की शुरुआत

ADVERTISEMENT

हैप्पी लोहड़ी

2- याद रखा करो, दिल वीच हमारी,

ADVERTISEMENT

शादी के बाद ये क्या, ना दोस्ती ना यारी,

इतना जल्दी भूल गये हमें,

ADVERTISEMENT

पत्नी ने तो हमारी दोस्ती कि लुटिया दे मारी 🙂

आप दोनों को हमारी ओर से शादी की पहली लोहड़ी की लख लख बधाईयाँ

ADVERTISEMENT

रब दी मेहर आप दोनों पर सदा बनी रहे ऐसी शुभकामना…

लव यु यारा हैप्पी लोहड़ी

ADVERTISEMENT

3- मक्की दी रोटी ते सरसों दा साग,

नाचेंगे सारे ते बीच लगाके आग,

ADVERTISEMENT

ढोल दी आवाज ते नाचेंगे सारी रात,

मुबारक होवे सबको लोहड़ी की सोहगात…

ADVERTISEMENT

ओ बल्ले… बल्ले…

लोहड़ी की आपको लख-लख बधाईयां…

ADVERTISEMENT

4- आई आई लोहरी आई

सबको हो बहुत बधाई

ADVERTISEMENT

लकड़ी सजा के

आग लगा के

ADVERTISEMENT

फुलले रेवड़ी

खूब खाई

ADVERTISEMENT

सबको लोहरी की

बहुत बधाई

ADVERTISEMENT

5. ओए मक्के दी रोटी ते सरसों का साग,

लोहड़ी आई जल गई मुहल्लों में आग

ADVERTISEMENT

मूंगफली की खुशबु से महके सबके भाग,

गूंजें चार दिशाओं में खुशियों के राग।

ADVERTISEMENT

आप सभी को हैप्पी लोहड़ी…

ADVERTISEMENT

Lohri Kavita in Hindi | लोहड़ी पर कविता 2023

लोहड़ी उत्सव फसल के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है। यह एक भरपूर फसल को संभव बनाने के बाद धन्यवाद देने के लिए मनाया जाता है। लोहड़ी की रात परंपरागत रूप से वर्ष की सबसे लंबी रात को पड़ती है जिसे शीतकालीन संक्रांति के रूप में जाना जाता है। लोहड़ी का त्योहार इस बात का संकेत है कि जाड़े की कड़ाके की ठंड खत्म हो रही है और खुशनुमा दिन आ रहे हैं। इस खास मौके पर अपनों को भेजिए लोहड़ी पर कविता (happy lohri poems in hindi)।

 2023 Lohri Poems in Hindi

1- आज है फिर से लोहरी आयी

ADVERTISEMENT

सभी जनों को खूब बधाई

आज लकड़ी खूब जलेंगी

ADVERTISEMENT

आग संग महफ़िल सजेंगी

खान पान संग होगा गाना बजाना

ADVERTISEMENT

लोहरी के पंजाबी गीत गुनगुनाना

फुल्ले रेवड़ी मूंगफली होगी अग्नि को अर्पित

ADVERTISEMENT

हर्ष और उल्लास को होगा त्यौहार समर्पित।

2- कंडा कंडा नी लकडियो कंडा सी

ADVERTISEMENT

इस कंडे दे नाल कलीरा सी

जुग जीवे नी भाबो तेरा वीरा सी

ADVERTISEMENT

पा माई पा, काले कुत्ते नू वी पा

कला कुत्ता दवे वदायइयाँ

ADVERTISEMENT

तेरियां जीवन मझियाँ गईयाँ

मझियाँ गईयाँ दित्ता दुध

ADVERTISEMENT

तेरे जीवन सके पुत्त

सक्के पुत्तां दी वदाई

ADVERTISEMENT

वोटी छम छम करदी आई।

पढ़ें जरूर : Makar Sankranti Wishes in Hindi

ADVERTISEMENT

3- सुंदर मुंदरिये हो !

तेरा कौन विचारा हो !

ADVERTISEMENT

दुल्ला भट्टी वाला हो !

दुल्ले धी व्याही हो !

ADVERTISEMENT

सेर शक्कर पाई हो !

कुड़ी दे जेबे पाई

ADVERTISEMENT

कुड़ी दा लाल पटाका हो !

कुड़ी दा सालू पाटा हो !

ADVERTISEMENT

सालू कौन समेटे हो !

चाचे चूरी कुट्टी हो !

ADVERTISEMENT

ज़मिदारां लुट्टी हो !

ज़मींदार सदाए हो !

ADVERTISEMENT

गिन-गिन पोले लाए हो !

इक पोला रह गया !

ADVERTISEMENT

सिपाही फड के लै गया !

सिपाही ने मारी ईट

ADVERTISEMENT

भावें रो भावें पिट

सानू दे दे लोहड़ी

ADVERTISEMENT

तुहाडी बनी रवे जोड़ी !

Lohri Poems

4. दे माई लोहड़ी, तेरी जीवे जोड़ी , दे माई पाथी तेरा पुत्त चढ़ेगा हाथी
हुल्ले नी माइ हुल्ले
दो बेरी पत्ता झुल्ले
दो झुल्ल पयीं खजूर्राँ
खजूराँ सुट्ट्या मेवा
एस मुंडे कर मगेवा
मुंडे दी वोटी निक्कदी
ओ खान्दी चूरी कुटदी
कुट कुट भरया थाल
वोटी बावे ननदना नाल

ADVERTISEMENT

5. असी गंगा चल्ले – शावा !
सस सौरा चल्ले – शावा !
जेठ जेठाणी चल्ले – शावा !
देयोर दराणी चल्ले – शावा !
पियारी शौक़ण चल्ली – शावा !
असी गंगा न्हाते – शावा !
सस सौरा न्हाते – शावा !
जेठ जठाणी न्हाते – शावा !
देयोर दराणी न्हाते – शावा !
पियारी शौक़ण न्हाती – शावा !
शौक़ण पैली पौड़ी – शावा !
शौक़ण दूजी पौड़ी – शावा !
शौक़ण तीजी पौड़ी – शावा !
मैं ते धिक्का दित्ता – शावा !
शौक़ण विच्चे रूड़ गई – शावा !
सस सौरा रोण – शावा !
जेठ जठाणी रोण – शावा !
देयोर दराणी रोण – शावा !
पियारा ओ वी रोवे – शावा !

लोहड़ी की कविता अभी आपने पढ़ीं जिनमें लोहड़ी की मस्ती है उल्लास है और खूब सारा मीठापन है। आप यहाँ दी गई लोहड़ी की कविताओं (lohri Kavita in Hindi) को आराम से कॉपी भी कर सकते हैं। आपको यहां दी गई लोहड़ी पर कविता (Lohri Poems in Hindi) पसंद आई तो उन्हें अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें। 

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें :

Best Lohri Dress Ideas in Hindi : लोहड़ी पर शानदार कपड़े पहनने का प्लान है तो आपको ये ड्रेस आयडिया जरूर देखने चाहिए और अपने दोस्तों के साथ भी इस कलेक्शन को शेयर करना चाहिए।

ADVERTISEMENT

Lohri Wishes in Hindi : लोहड़ी की शुभकामनाएं भेजनी हैं और कुछ समझ नहीं आ रहा है तो आप लोहड़ी की शुभकामनाएं यहाँ से भी कॉपी कर सकते हैं और अपने चाहने वालो को भेज सकते हैं।

Makar Sankranti Information in Hindi : पढ़ें मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है और इस दिन सूर्य देवता की पूजा को इतना महत्व क्यों दिया गया है ? 

ADVERTISEMENT
04 Jan 2023

Read More

read more articles like this
good points

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text